कोडाइकनाल सौर वेधशाला

  • हाल ही में, कोडईकनाल सौर वेधशाला ने अपनी स्थापना के 125 वर्ष पूरे कर लिये। इसकी स्थापना 1899 में एक सौर भौतिकी वेधशाला के रूप में की गई थी। यह भारतीय राज्य तमिलनाडु में पलानी पर्वत शृंखला में स्थित एक महत्वपूर्ण वैज्ञानिक प्रतिष्ठान है जिसके माध्यम से सूर्य का अवलोकन किया जा रहा है।
  • इसके माध्यम से 18 अगस्त, 1868 को पूर्ण सूर्य ग्रहण के दौरान लिए गए स्पेक्ट्रोस्कोपिक अवलोकन से हीलियम की खोज हुई, जो हाइड्रोजन के बाद ब्रह्मांड का दूसरा सबसे प्रचुर तत्व ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

PSC न्यूज बुलेट्स