ग्लोबल फॉरेस्ट वॉच

  • ग्लोबल फॉरेस्ट वॉच मॉनिटरिंग प्रोजेक्ट के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, 2000 के बाद से भारत में 2.33 मिलियन हेक्टेयर वृक्ष क्षेत्र कम हो गया है।
  • ग्लोबल फ़ॉरेस्ट वॉच उपग्रह डेटा और अन्य स्रोतों का उपयोग करके वास्तविक समय में वन परिवर्तनों को ट्रैक करता है।
  • भारत में 2002 से 2023 तक 4,14,000 हेक्टेयर आर्द्र प्राथमिक वन समाप्त हो गए है, जो इसी अवधि में कुल वृक्ष आवरण हानि का 18 प्रतिशत है।
  • असम में सबसे अधिक वृक्षों का नुकसान हुआ, इसके बाद मिजोरम, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड और मणिपुर का स्थान ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

PSC न्यूज बुलेट्स