माइक्रोफाइनेंस उद्योग

  • हाल ही में, सा-धन (Sa-Dhan) द्वारा संकलित नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, माइक्रोफाइनेंस उद्योग का ऋण पोर्टफोलियो दिसंबर 2023 तक 21 प्रतिशत बढ़कर 3.93 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया है।
  • सा-धन (Sa-Dhan), माइक्रोफाइनेंस संस्थानों के लिए आरबीआई द्वारा नियुक्त स्व-नियामक संगठन (SRO) है।
  • सा-धन (Sa-Dhan) रिपोर्ट बाजार में माइक्रोफाइनेंस इंस्टीट्यूशन (MFI), बैंकों, लघु वित्त बैंक (SFB), गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपयों (NBFCs), गैर-लाभकारी माइक्रोफाइनेंस इंस्टीट्यूशन की हिस्सेदारी तथा वंचित क्षेत्रों में माइक्रोफाइनेंस पर प्रकाश डालती है।
  • भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा अनुमोदित स्व-नियामक संगठन (SRO) सा-धन (Sa-Dhan) के अनुसार, माइक्रोफाइनेंस उद्योग के ऋणों में माइक्रोफाइनेंस इंस्टीट्यूशंस (MFIs) ने 40 प्रतिशत के साथ सबसे ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

PSC न्यूज बुलेट्स