वन, एक राष्ट्रीय संपत्ति है: उच्चतम न्यायालय

  • हाल ही में, भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने एक फैसले में इस बात पर जोर दिया कि वन एक महत्वपूर्ण राष्ट्रीय संपत्ति हैं और देश की वित्तीय संपदा में महत्वपूर्ण योगदानकर्ता हैं।
  • वन (संरक्षण) संशोधन अधिनियम (FCAA) 2023 पर चिंताओं के बीच, एक निजी व्यक्ति को वन भूमि उपहार में देने के उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ तेलंगाना राज्य द्वारा सर्वोच्च न्यायालय में अपील दायर की गई थी।
  • अदालत ने निजी व्यक्तियों को वन भूमि देने के कृत्य की निंदा की और विरोधाभासी जानकारी प्रदान करने के लिए वन अधिकारियों के खिलाफ जांच का आदेश दिया। सर्वोच्च न्यायालय ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

PSC न्यूज बुलेट्स