गुलाबी हाइड्रोजन

  • भारत में गुलाबी हाइड्रोजन (Pink Hydrogen) उत्पादन की संभावनाओं पर विचार किया जा रहा हैं।
  • हरे रंग के समान, 'गुलाबी' हाइड्रोजन भी इलेक्ट्रोलिसिस के माध्यम से उत्पन्न होता है लेकिन इसके उत्पादन हेतु ऊर्जा आवश्यकता को परमाणु ऊर्जा द्वारा पूरा किया जाता है।परमाणु ऊर्जा, अन्य नवीकरणीय ऊर्जा संसाधनों की अपेक्षा बिजली की निरंतर आपूर्ति प्रदान करता है जिसके कारण यह हाइड्रोजन के उत्पादन के लिए उपयुक्त है।
  • अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) ने दुनिया भर में गुलाबी हाइड्रोजन परियोजनाओं के विकास का समर्थन करने के लिए एक हाइड्रोजन आर्थिक मूल्यांकन कार्यक्रम (एचईईपी) विकसित किया ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

PSC न्यूज बुलेट्स