गिद्ध संरक्षण

  • हाल ही के एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि संरक्षित क्षेत्रों में रहने वाले गिद्धों को मवेशियों के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दर्द निवारक दवा डाइक्लोफेनाक से खतरा बना हुआ है।
  • बेंगलुरु स्थित 'नेशनल सेंटर फॉर बायोलॉजिकल साइंसेज-टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च' (NCBS-TIFR) का यह शोध हाल ही में नेचर जर्नल में प्रकाशित हुआ।
  • भारत ने ओरिएंटल व्हाइट-बैक्ड वल्चर, लॉन्ग-बिल्ड वल्चर और स्लेंडर-बिल्ड वल्चर की 99 प्रतिशत आबादी खो दी हैं।
  • 1990 और 2000 के दशक की शुरुआत से पूरे दक्षिण एशिया में पशु चिकित्सा पद्धति में डाइक्लोफेनाक का उपयोग किया जाता है।
  • ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

PSC न्यूज बुलेट्स