असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक (CRI)-2020


  • 7 अक्टूबर, 2020 को ऑक्सफेम इंटरनेशनल ने डेवलपमेंट फाइनेंस इंटरनेशनल (DFI) के साथ मिलकर असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक (The Commitment to Reducing Inequality Index- CRI)-2020 को प्रकाशित किया है।
  • असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक का यह तीसरा संस्करण है, पिछले दो संस्करण का प्रकाशन 2017 और 2018 में क्रमशः हुआ था।

असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक (CRI) के बारे में

  • यह एक बहुआयामी सूचकांक है, जो असमानता को कम करने के लिए अपने नीतिगत प्रदर्शन पर 158 देशों को रैंक करता है।
  • यह मुख्य रूप से आर्थिक असमानता से निपटने के लिए प्रगति को मापता है, अर्थात् अमीर और गरीब के बीच की खाई को दर्शाता है।
  • सूचकांक में तीन स्तंभ और 19 अलग-अलग संकेतक हैं, जिनमें से प्रत्येक एक नीति क्षेत्र से संबंधित है जो असमानता को कम करने में महत्वपूर्ण पाया गया है: सार्वजनिक सेवाएं (पहले ख़र्च के रूप में जाना जाता था),कर-निर्धारण और श्रम

मुख्य निष्कर्ष

विश्व विशिष्ट निष्कर्ष

  • असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक (CRI) के शीर्ष के अधिकांश देश आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (Economic Co-operation and Development- OECD) से जुड़े देश हैं।
  • उच्च सकल घरेलू उत्पादों (Gross Domestic Products- GDP) के साथ, उनके पास प्रगतिशील कर राजस्व बढ़ाने के लिए बहुत अधिक गुंजाइश है क्योंकि उनके पास उच्च आय वाले नागरिक और व्यापारी अधिक हैं।
  • इसी तरह, सार्वजनिक सेवाओं और सामाजिक सुरक्षा पर उन राजस्व को ख़र्च करने के लिए उनके पास अधिक गुंजाइश है।
  • नॉर्वे, असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक (CRI)- 2020 में सबसे ऊपर है, विशेष रूप से श्रम अधिकारों पर शीर्ष पर मौजूदगी।
  • सूचकांक में सबसे नीचे दक्षिण सूडान है, जो इस सूचकांक में नया है और तीनों स्तंभों पर टिकने योग्य है।
  • कोरोनावायरस महामारी के लिए वियतनाम की प्रतिक्रिया दुनिया में सबसे अच्छी रही है।
  • निम्न रैंकिंग सरकार द्वारा अपने नागरिकों के लिए नीति निर्धारण की विफलता को भी दर्शाती है: उदाहरण के लिए, दक्षिण सूडान जितना ख़र्च महत्वपूर्ण सार्वजनिक सेवाओं पर करता है उससे छह गुना अधिकख़र्च सैन्य और ऋण सेवा पर करता है। चूँकी यह केवल 15% के आसपास कर (Tax) एकत्र करता है, जिससे यह सबसे बुनियादी सेवाओं कीउपलब्धता सुनिश्चित करने में विफल हो जाता है।

भारत विशिष्ट निष्कर्ष

  • भारत असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक (CRI) में 129वें स्थान पर है औरभारत का स्वास्थ्य बजट दुनिया में चौथा सबसे कम बजट है।
  • भारत में सिर्फ़ इसकी आधी आबादी को सबसे आवश्यक बुनियादी स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध हो पाती हैं, और 70% से अधिक स्वास्थ्य व्यय लोगों द्वारा स्वयं किया जा रहा है, जो दुनिया के उच्चतम स्तरों में से एक है।
  • COVID-19 कोलेकर अब तक भारत किया गया ख़र्च बहुत ही कम है, जिसमें भारी संख्या में मौतें हुईं और लाखों लोग बेकसी का शिकार हुए।

कोविद -19 के दौर में असमानता से लड़ना

  • ¨असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक (CRI) स्पष्ट रूप से दर्शाता है कि दुनिया के अधिकांश देश कोरोनोवायरस महामारी के लिए बुरी तरह से तैयार नहीं थें।
  • ¨कोरोनावायरस महामारी ने दुनिया भर में असमानताओं में और इज़ाफ़ा किया है।
  • ¨सबसे ग़रीब लोग ख़ुद को बचाने के लिए अपने आप को अलग-थलग (Isolate) करने में सबसे कमसक्षम हैं। ग़रीबों के पास पहले से मौजूद ख़राब स्वास्थ्य के बदौलत उनके मरने की अधिक संभावना है।
  • ¨महिलाओं को आर्थिक रूप से सबसे कठिन परिस्थिति का सामना करना पड़ा है, क्योंकि उनके काम में अनिश्चितता की संभावना अत्यधिक है और दुनिया के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं में उनकी 70% भागीदारी भी है।
  • ¨इस संकट ने दुनिया भर में नस्लीय असमानता को भी बढ़ा दिया है।
  • ¨लेकिन, दुनिया भर में स्वास्थ्य और सामाजिक सुरक्षा ख़र्चों में महत्वपूर्ण विस्तार हुआ है।
  • ¨कई देशों ने श्रमिक अधिकारों और सुरक्षा का विस्तार किया है, विशेष रूप से कम समय के काम, बीमार छुट्टी और बेरोजगारी भत्ता के माध्यम से। लेकिन ठेके पर काम और बेरोजगारी की दर में तेज वृद्धि हुई है, इसके साथ-साथ श्रमिकों के अधिकारों पर हमले बढ़े हैं।

महामारी को लेकर अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय संस्थानों (International Financial Institutions) की भूमिका

  • ¨अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund- IMF) ने 80 देशों के समर्थन में 88 बिलियन अमरीकी डालर का वितरण किया है और 251 मिलियन डॉलर की ऋण सेवा भुगतान (Debt Servicing Payments)से 28 देशों को बचाया है।
  • ¨विश्व बैंक ने आपातकालीन वित्त पोषण में 160 बिलियन अमरीकी डालर रखने का वादा किया है तथा COVID-19 हेतुफास्ट ट्रैक सुविधा के लिए 6 बिलियन अमरीकी डालरजुटाया है।

अनुशंसाएँ (सिफ़ारिशें)

असमानता को कम करने के लिए तत्काल सरकारी कार्रवाई

  • कोरोनावायरस महामारी के लिए, सरकारों को राष्ट्रीय असमानता निवारण योजनाओं के हिस्से के रूप में सतत विकास लक्ष्य-10 (SDG-10) के तहतप्रगतिशील ख़र्च (progressive spending), कराधान (taxation) और श्रमिकों के वेतन और संरक्षण पर अपने प्रयासों में सुधार करना चाहिए।
  • सार्वजनिक सेवाओं और सामाजिक संरक्षण पर ख़र्च बढ़ाने की ज़रूरत है और कवरेज़ और असमानता पर इसके प्रभाव में सुधार की आवश्यकता है।
  • बजट व्यय में नागरिकों को शामिल करते हुए सार्वजनिक व्यय पर व्यवस्थित नज़र रखने की भी आवश्यकता है।
  • श्रमिकों को जीवित मजदूरी (निर्वाह-वेतन) प्राप्त करने की आवश्यकता है और उनके श्रम अधिकारों को बेहतर तरीके से संरक्षित किया जाना चाहिए।
  • महिलाओं और लड़कियों को विशेष रूप से यौन उत्पीड़न और बलात्कार के ख़िलाफ़ समान वेतन के संरक्षण के लिए अपने अधिकारों की आवश्यकता होती है, जिसमें कमजोर श्रमिकों को भी शामिल किया जाता है।
  • यौन उत्पीड़न और बलात्कार के ख़िलाफ़ महिलाओं और लड़कियों को विशेष रूप से समान वेतन और सुरक्षा के अपने अधिकारों की आवश्यकता है, इसमें कमज़ोर श्रमिकों भी शामिल है।

असमानता, नीतियों का प्रभाव और विश्लेषण

  • असमानता और संबंधित नीतियों पर डेटा को तेजी से सुधारने के लिए तथा असमानता को कम करने में प्रगति की नियमित निगरानी करने के लिएसरकारों, अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों और अन्य हितधारकों को एक साथ काम करना चाहिए।

असमानता से लड़ने के लिए एक साथ आना

  • कोरोनावायरस महामारी के परिणामस्वरूप बढ़ती असमानता के ख़िलाफ़ लड़ाई में सरकारों और अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों को एक साथ आना चाहिए।
  • सबसे ज़रूरी नीतिगत उपायों में एक वैश्विक प्रतिबद्धता और वित्त पोषण शामिल है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि COVID-19 टीके सभी देशों को मुफ़्त होंगे और कम आय वाले देशों में श्रमिकों की सुरक्षा के लिए सामाजिक सुरक्षा में विस्तार होगा।
  • अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को विशेष आहरण अधिकार (Special Drawing Rights), ऋण राहत (debt relief) और वैश्विक एकजुटता करों (global solidarity taxes) के साथ असमानता वाले देशों का समर्थन करना चाहिए।