कलवरी श्रेणी की पनडुब्बी 'वागीर'


भारतीय नौसेना की पांचवी स्कॉर्पीन श्रेणी की पनडुब्बी 'वागीर' को 12 नवंबर, 2020 को मुंबई के मझगांव डॉक पर लॉन्च किया गया।

महत्वपूर्ण तथ्य: वागीर भारत में बन रही छ: कलवरी श्रेणी की पनडुब्बियों का हिस्सा है। अन्य आईएनएस कलवरी, आईएनएस खंडेरी, आईएनएस करंज, आईएनएस वेला तथा आईएनएस वागशीर हैं।

  • फ्रांसीसी नौसेना रक्षा और ऊर्जा कंपनी (DCNS) द्वारा डिजाइन की गई पनडुब्बियों को भारतीय नौसेना के 'प्रोजेक्ट -75' के हिस्से के रूप में निर्मित किया जा रहा है। और इसका डिजाइन पनडुब्बियों के स्कॉर्पीन श्रेणी पर आधारित है।
  • छ: कलवरी श्रेणी की पनडुब्बियों में से पहली आईएनएस कलवरी 2017 में तथा आईएनएस खंडेरी 2019 में लॉन्च की गई थी। वेला और करंज समुद्री परीक्षण प्रक्रिया में और वाघशीर निर्माण प्रक्रिया में है।
  • ये पनडुब्बी सतह रोधी युद्ध, पनडुब्बी रोधी युद्ध, खुफिया जानकारी इकट्ठा करने, समुद्री सुरंग बिछाने, और क्षेत्र की निगरानी में माहिर है।
  • कलवरी का अर्थ है टाइगर शार्क, वागीर का नाम एक शिकारी समुद्री प्रजाति 'सैंड फिश' (Sand Fish) के नाम पर रखा गया है। खंडेरी का नाम छत्रपति शिवाजी द्वारा निर्मित एक द्वीप किले के नाम पर रखा गया है, जिसने उनकी नौसेना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। करंज का नाम भी मुंबई के दक्षिण में स्थित एक द्वीप के नाम पर रखा गया है।