Civil Services Chronicle One Year Subscription With 28 Years UPSC-Civil Services Prelims General Studies 2022 & 22 Years Mains Solve Papers 2022

सामयिक

विज्ञान-प्रौद्योगिकी:

परामर्श विकास केंद्र

केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने 27 अप्रैल, 2022 को वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान विभाग के तहत वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) के साथ परामर्श विकास केंद्र (Consultancy Development Centre: CDC) के कर्मचारियों, चल संपत्ति एवं देनदारियों सहित विलय को मंजूरी दे दी है।

महत्वपूर्ण तथ्य: 'सीएसआईआर' और 'परामर्श विकास केंद्र' वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान विभाग (डीएसआईआर), विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत दो अलग-अलग स्वायत्त निकाय हैं।


कड़ी के रूप में अभिवृद्धि करने वाले नवोदित तारे

भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के तहत एक स्वायत्त संस्थान, ‘आर्यभट्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ ऑब्जर्वेशनल साइंसेज’ (ARIES) के भारतीय खगोलविदों ने 'जीएआईए 20ईएई' (Gaia 20eae) की खोज की है, जो कड़ी के रूप में अभिवृद्धि करने वाले नवोदित तारों के नवीनतम सदस्य हैं।

महत्वपूर्ण तथ्य: वैज्ञानिकों ने नवोदित तारों के अत्यंत दुर्लभ समूह से संबंधित एक नए सदस्य का पता लगाया है, जो कड़ी के रूप में अभिवृद्धि (episodically accreting) प्रदर्शित करता है।


एवीजीसी संवर्धन टास्क फोर्स

केंद्रीय बजट 2022-23 में की गई घोषणा के अनुरूप, सूचना और प्रसारण मंत्रालय के तत्वावधान में 8 अप्रैल, 2022 को देश में एवीजीसी क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए एक ‘एनिमेशन, विजुअल इफेक्ट्स, गेमिंग और कॉमिक्स (एवीजीसी) संवर्धन टास्क फोर्स’ (Animation, Visual Effects, Gaming and Comics (AVGC) Promotion Task Force) का गठन किया गया है।

  • महत्वपूर्ण तथ्य: एवीजीसी प्रमोशन टास्क फोर्स की अध्यक्षता सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के सचिव करेंगे।

डिजिटल इंडिया आरआईएससी-5 कार्यक्रम

इलेक्ट्रानिक्स एवं आईटी मंत्रालय, भारत सरकार ने 27अप्रैल, 2022 को 'डिजिटल इंडिया आरआईएससी-5 माइक्रोप्रोसेसर कार्यक्रम' (Digital India RISC-V Program: DIR-V) की घोषणा की।

महत्वपूर्ण तथ्य: इसका समग्र उद्देश्य आने वाले समय के दौरान भारत में, दुनिया भर के लिये माइक्रोप्रोसेसर की निर्माण क्षमता हासिल करना और दिसंबर 2023 तक कमर्शियल सिलिकॉन और उसके बड़े पैमाने पर उत्पादन समझौतों को हासिल करना है।


क्वांटम कंप्यूटिंग पर इंडो-फिनिश वर्चुअल नेटवर्क सेंटर

भारत और फिनलैंड ने 18 अप्रैल, 2022 को ‘क्वांटम कंप्यूटिंग पर एक इंडो-फिनिश वर्चुअल नेटवर्क सेंटर’ (Indo-Finnish Virtual Network Centre on Quantum Computing) स्थापित करने के निर्णय की घोषणा की।

  • महत्वपूर्ण तथ्य: विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह और फिनलैंड के आर्थिक मामलों के मंत्री मीका लिंटिला ने इस आशय के एक समझौता ज्ञापन (MoU) पर हस्ताक्षर किए।

'सेमीकॉन इंडिया' कार्यक्रम के लिए सलाहकार समिति

केंद्र सरकार ने 6 अप्रैल 2022 को 'सेमीकॉन इंडिया' कार्यक्रम (Semicon India) के लिए एक सलाहकार समिति का गठन किया है।

महत्वपूर्ण तथ्य: सलाहकार समिति में वरिष्ठ सरकारी अधिकारी, शिक्षाविदों के साथ-साथ उद्योग और डोमेन विशेषज्ञ शामिल होंगे।


स्कूल ऑफ एडवांस्ड मैटेरियल्स

जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस्ड रिसर्च (JNCASR) की सभी सामग्री अनुसंधान गतिविधियों को एक साथ लाने के लिए 5 मार्च, 2022 को स्कूल ऑफ एडवांस्ड मैटेरियल्स-समत (School of Advanced Materials: SAMat) की आधारशिला का अनावरण किया गया।

  • महत्वपूर्ण तथ्य: नई भवन सुविधा की स्थापना से नए विचार, नई विचार प्रक्रियाएं, नई सुविधाएं प्राप्त होंगी।

डीआरडीओ ने किया सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलों का परीक्षण

रक्षा अनुसंधान विकास संगठन (डीआरडीओ) ने 27 मार्च, 2022 को ओडिशा के चांदीपुर में एकीकृत परीक्षण रेंज से दो भारतीय सेना-संस्करण की मध्यम दूरी की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलों (MRSAMs) का सफल परीक्षण किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: उड़ान परीक्षण हाई-स्पीड हवाई लक्ष्यों के विरूद्ध लाइव फायरिंग ट्रायल के हिस्से के रूप में किए गए।


अंतरराष्ट्रीय मॉनसून परियोजना कार्यालय

केंद्रीय पृथ्वी विज्ञान राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने 28 फरवरी, 2022 को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के अवसर पर ‘अंतरराष्ट्रीय मॉनसून परियोजना कार्यालय’ (International Monsoons Project Office: IMPO) का शुभारंभ किया।

  • महत्वपूर्ण तथ्य: शुरुआत में 5 साल के लिए 'अंतरराष्ट्रीय मॉनसून परियोजना कार्यालय' भारतीय उष्णदेशीय मौसम विज्ञान संस्थान (आईआईटीएम), पुणे में संचालित होगा, जो भारत सरकार के पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के अंतर्गत एक संस्थान है।

कार्बन कैप्चर एंड यूटिलाइजेशन में राष्ट्रीय उत्कृष्टता केंद्र

10 फरवरी, 2022 को विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अनुसार भारत में ‘कार्बन कैप्चर एंड यूटिलाइजेशन’ (Carbon Capture & Utilization: CCU) में दो राष्ट्रीय उत्कृष्टता केंद्र स्थापित किए जा रहे हैं।

महत्वपूर्ण तथ्य: ये केंद्र 'नेशनल सेंटर ऑफ एक्सीलेंस इन कार्बन कैप्चर एंड यूटिलाइजेशन' (NCoE-CCU) के नाम से भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) बॉम्बे में और 'नेशनल सेंटर इन कार्बन कैप्चर एंड यूटिलाइजेशन' (NCCCU) के नाम से जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस्ड साइंटिफिक रिसर्च (जेएनसीएएसआर), बेंगलुरू में स्थापित किए जा रहे हैं।


Showing 1-10 of 148 items.