सामयिक

उत्तराखंड:

उत्तराखंड में 'रोजगार प्रयाग पोर्टल' लॉन्च

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने 9 अक्टूबर, 2023 को राज्य में युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करने के लिए 'रोजगार प्रयाग पोर्टल' लॉन्च किया।

  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने देहरादून में आयोजित उत्तराखण्ड युवा महोत्सव-2023 कार्यक्रम में रोजगार प्रयाग पोर्टल का शुभारंभ किया।
  • रोजगार के अवसरों को एक ही पोर्टल पर उपलब्ध कराये जाने के उद्देश्य से इस पोर्टल को विकसित किया गया।
  • इस महोत्सव में सरकारी योजनाओं को युवाओं तक आसानी से पहुंचाने के लिए 'युवा उत्तराखंड ऐप' भी लॉन्च किया गया।
  • पोर्टल से विभिन्न सरकारी विभागों में आउटसोर्सिंग के माध्यम से भरे जाने वाले पदों की जानकारी और आवेदन करने की प्रक्रिया सरल होगी।

पर्यटन के क्षेत्र में उत्तराखंड और गोवा में समझौता

23 मई, 2023 को पर्यटन के विभिन्न आयामों में आपसी सहयोग को बढ़ावा देने के संबंध में उत्तराखंड तथा गोवा समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये।

  • द्विपक्षीय सहयोग के माध्यम से दोनों राज्य पर्यटन के क्षेत्र में संयुक्त कार्य योजना के आधार पर पर्यटकों की संख्या बढ़ाने तथा पर्यटन सुविधाओं के विकास के लिए कार्य करेंगे।
  • पर्यटकों की सुविधा के लिये गोवा से उत्तराखंड के लिये एक से अधिक सीधी उड़ान कनेक्टिविटी सुविधायें बढ़ाए जाएंगे।
  • गोवा तथा देहरादून के बीच यह सीधी उड़ान दोनों राज्यों के लोगों को यात्रा के लिये प्रेरित करेगी, सागर से हिमालय के दर्शन का अवसर पर्यटकों को मिलेगा।

गंगा समग्र ‘अविरल गंगा निर्मल गंगा’ कार्यक्रम

16 अप्रैल, 2023 को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने परमार्थ निकेतन में आयोजित गंगा समग्र अविरल गंगा निर्मल गंगा कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

  • अविरल गंगा निर्मल गंगा अभियान के तहत गंगा को स्वच्छ रखने के लिये कार्य किये जा रहे हैं जिसमें गंगा को साफ सुथरा रखने के साथ-साथ जल स्रोतों का संरक्षण एवं संवर्धन भी शामिल है।
  • गंगा के मूल स्वरूप को बचाए रखने के लिये केंद्र व राज्य सरकार निरंतर कार्य कर रही है। गंगा के साथ साथ उसकी सहायक नदियों पर भी कार्य किया जा रहा है।
  • प्रथम चरण के तहत गंगा में मिलने वाले 132 गंदे नालों के पानी को एसटीपी के माध्यम से स्वच्छ किया गया है।

पुष्कर सिंह धामी दूसरी बार उत्तराखंड के मुख्यमंत्री

पुष्कर सिंह धामी ने 23 मार्च, 2022 को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। उन्होंने लगातार दूसरी बार उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली।

(Image Source: https:// twitter.com/pushkardhami)

  • हालांकि हाल में हुये विधान सभा चुनाव में धामी खटीमा सीट से हार गए थे। खटीमा सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी भुवन चंद्र कापड़ी ने पुष्कर सिंह धामी को 6,579 मतों के अंतर से हराया।
  • विधान सभा चुनाव में भाजपा ने 70 में से 47 सीटों पर जीत हासिल की थी। कांग्रेस ने 19 सीटों पर जीत हासिल की।
  • भाजपा राज्य में सत्ता में वापस आने वाली पहली सत्ताधारी पार्टी बन गई है।
  • कोटद्वार से भाजपा विधायक रितु खंडूरी भूषण 5वीं उत्तराखंड विधान सभा की पहली महिला स्पीकर चुनी गई। रितु पूर्व मुख्यमंत्री मे. जनरल (सेवानिवृत्त) भुवन चंद्र खंडूरी की पुत्री हैं।
जीके फैक्ट: भारतीय संविधान के अनुसार, विधान सभा का गैर-सदस्य भी 6 माह के लिए मुख्यमंत्री या मंत्री बन सकता है। उन्हें पद पर बने रहने के लिए उन 6 महीनों के भीतर निर्वाचित होना होता है। संविधान के अनुच्छेद 164(4) के अनुसार “कोई मंत्री या मुख्यमंत्री अगर लगातार 6 महीने की अवधि तक राज्य के विधानमंडल का सदस्य नहीं बन पाता है तो उस अवधि की समाप्ति पर मंत्री का कार्यकाल भी समाप्त हो जाएगा”।

दुग्ध मूल्य प्रोत्साहन योजना

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने 8 दिसंबर, 2021 को आई.आर.डी.टी ऑडिटोरियम, सर्वे चैक, देहरादून में दुग्ध विकास विभाग के अंतर्गत संचालित 'दुग्ध मूल्य प्रोत्साहन योजना' (Milk Price Incentive Scheme) का शुभारंभ किया।

(Image Source: https://www.loksanhita.com/)

  • उन्होंने मैदानी क्षेत्रों के दुग्ध समितियों के सचिव हेतु 50 पैसा प्रति लीटर दूध में प्रोत्साहन राशि एवं पर्वतीय क्षेत्रों में दुग्ध समितियों के सचिवों हेतु 1 रुपए प्रति लीटर दूध में प्रोत्साहन राशि बढ़ाए जाने की घोषणा की।
  • दुग्ध मूल्य प्रोत्साहन राशि को 4 रुपए प्रति लीटर से बढ़ाकर 5 रुपए प्रति लीटर किए जाने की घोषणा की गई।
  • इसके साथ ही हल्द्वानी में दुग्ध विकास विभाग के निदेशालय हेतु जल्द से जल्द धनराशि जारी करने की घोषणा की।
  • इस दुग्ध मूल्य प्रोत्साहन योजना से करीब 53,000 लोगों को सीधे-सीधे लाभ होगा। उन्होंने कहा यह राशि डीबीटी के माध्यम से सीधे लाभार्थियों के खातों में जाएगी।

मुख्यमंत्री आँचल अमृत योजना

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने 28 अक्टूबर, 2021 को देहरादून में आयोजित कार्यक्रम में‘मुख्यमंत्री आँचल अमृत योजना’ का पुनः शुभारंभ किया।

(Image Source: https://hillmail.in/)

  • आंचल अमृत योजना बच्चों में कुपोषण को दूर करने में सहायक होगा।
  • कोरोना महामारी से यह योजना भी कुछ समय तक प्रभावित रही, जिसे पुनः शुरू किया गया है।
  • मुख्यमंत्री आंचल अमृत योजना के अंतर्गत आंगनबाड़ी केंद्रों में 3 से 6 वर्ष के बच्चों को सप्ताह में 4 दिन नि:शुल्क फोर्टीफाइड (पोषण संवर्धित) मीठा एवं सुगंधित दूध दिया जाएगा।
  • इस योजना से प्रदेश के 1 लाख 70 बच्चों को लाभ मिलेगा, साथ ही बच्चों के पोषण एवं स्वास्थ्य में सुधार होगा।

उत्तराखंड के 7 स्थानीय उत्पादों के लिए जीआई टैग

27 सितंबर, 2021 को उत्तराखंड के सात स्थानीय उत्पादों को भौगोलिक संकेतक (जीआई) टैग प्रदान किया गया है।

(Source: @CIPAM_India Twitter)

  • ऐपण: यह विशेष अवसरों पर बनाई जाने वाली एक तरह की अल्पना, आलेखन या रंगोली की पारंपरिक कला है। इसमें विशेषकर महिलाओं द्वारा खाली दीवारों और जमीन पर कलात्मक रूप से ऐपण बनाया जाता है।
  • भोटिया दन: ये भोटिया समुदाय द्वारा निर्मित गर्म, टिकाऊ हाथ से बुने हुए कालीन हैं, जो पारंपरिक डिजाइन पैटर्न के साथ शुद्ध ऊन से बने होते हैं।
  • रिंगाल शिल्प: रिंगाल बांस की तरह की ही एक झाड़ी है। इससे टोकरियां, चटाईयां आदि बनाई जाती हैं।
  • टम्टा उत्पाद (ताम्र उत्पाद): यह अपने औषधीय और उपचारात्मक गुणों के लिए प्रसिद्ध है।
  • मुनस्यारी राजमा: यह उत्तराखंड की ऊंचाई वाली, खनिज समृद्ध भूमि पिथौरागढ़ जिले के मुनस्यारी में उगाई जाती है, जो अपने पौष्टिक और औषधीय गुणों के लिए प्रसिद्ध है।
  • कुमाऊं का च्यूरा तेल (chyura oil): इस बहुउद्देशीय पौष्टिक और स्वास्थ्यवर्धक तेल का उपयोग खाद्य प्रयोजनों के लिए और विभिन्न प्रकार के खाद्य उत्पाद बनाने के लिए किया जाता है।
  • थुलमा (thulma): यह पारंपरिक कंबल अपनी बेहतरीन गुणवत्ता के लिए जाना जाता है, जिसे मुख्य रूप से भोटिया समुदाय की महिला बुनकरों द्वारा विशेष रूप से हाथ से बुना जाता है।

उत्तराखंड के माणा गांव में किया गया भारत के सबसे ऊंचाई वाले हर्बल पार्क का उद्घाटन

21 अगस्त, 2021 को उत्तराखंड के चमोली जिले में भारत-चीन सीमा के पास स्थितमाणा गांव में 11,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित भारत के सबसे ऊंचाई वाले हर्बल पार्क का उद्घाटन किया गया।

  • माणा चीन की सीमा से लगे चमोली में अंतिम भारतीय गाँव है और बद्रीनाथ के प्रसिद्ध हिमालयी मंदिर से सटा हुआ है।
  • उत्तराखंड के वन विभाग की अनुसंधान शाखा ने तीन एकड़ भूमि में यह पार्क विकसित किया है। पार्क को चार खंडों में बांटा गया है।
  • हिमालयी क्षेत्र में ऊंचाई वाले अल्पाइन क्षेत्रों में पाए जाने वाले हर्बल पार्क में लगभग 40 प्रजातियां हैं।
  • इनमें से कई प्रजातियां प्रकृति के संरक्षण के लिए अंतरराष्ट्रीय संघ (आईयूसीएन) की रेड लिस्ट के साथ-साथ राज्य जैव विविधता बोर्ड के अनुसार लुप्तप्राय (endangered)और संकटग्रस्त (threatened) हैं। इसमें कई महत्वपूर्ण औषधीय जड़ी-बूटियां भी शामिल हैं।

गड़तांग गली लकड़ी का पुल

भारत-चीन सीमा के पास उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में नेलोंग घाटी में 11,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित 150 साल से अधिक पुराने 'गड़तांग गली लकड़ी के पुल' (Gartang Gali wooden bridge) को नवीनीकरण के बाद 18 अगस्त, 2021को59 साल बाद पर्यटकों के लिए फिर से खोल दिया गया

  • माना जाता है कि तिब्बत के लिए एक प्राचीन व्यापार मार्ग पर गड़तांग गली पुल का निर्माण पेशावर पठानों द्वारा किया गया था।
  • इस लकड़ी से निर्मित सीढ़ीदार ट्रैक को खड़ी चट्टानों को काटकर बनाया गया है।
  • कई वर्षों से क्षतिग्रस्त गड़तांग गली का 1962 में भारत-चीन युद्ध के बाद उपयोग नहीं किया गया था।
  • पुल ‘गंगोत्री राष्ट्रीय उद्यान’ के अंदर स्थित है और उत्तरकाशी जिला मुख्यालय से 90 किमी. की दूरी पर है। यह पुल 136 मीटर लंबा और 1.8 मीटर चौड़ा है।

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना

22 मई, 2021 को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कोविड -19 के कारण अपने माता-पिता को खो चुके अनाथ बच्चों के लिए 'मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना' (Chief Minister Vatsalya Yojana) की घोषणा की है।

  • योजना के अंतर्गत राज्य सरकार 21 वर्ष की आयु तक इनके भरण-पोषण, शिक्षा और रोजगार हेतु प्रशिक्षण की व्यवस्था करेगी।
  • राज्य के ऐसे अनाथ बच्चों को 3000 रुपये प्रतिमाह गुजारा भत्ता दिया जाएगा।
  • राज्य सरकार इन अनाथों की पैतृक संपत्ति के लिए कानून बनाएगी, जिसमें किसी को भी इनके वयस्क होने तक इनकी पैतृक संपत्ति को बेचने का अधिकार नहीं होगा। इसकी जिम्मेदारी संबंधित जिले के जिलाधिकारी के पास होगी।
  • इन अनाथ हुए बच्चों को राज्य सरकार की सरकारी नौकरियों में 5% क्षैतिज आरक्षण दिया जाएगा।
Showing 1-10 of 18 items.