Sure Success Civil Services Classes

सामयिक

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

बांग्लादेश को 250 मिलियन वित्तपोषण को मंजूरी


2 दिसंबर, 2022 को विश्व बैंक द्वारा बांग्लादेश को ‘पर्यावरण प्रबंधन’ को मजबूत करने और हरित निवेश में निजी क्षेत्र की भागीदारी को बढ़ावा देने के लिए 25 करोड़ डॉलर के वित्तपोषण को मंजूरी प्रदान की है।

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • इस सहायता से बांग्लादेश पर्यावरणीय संधारणीयता और परिवर्तन परियोजना के सफल कार्यान्वयन से देश को प्रदूषण के प्रमुख मुद्दों से निपटने में मदद मिलेगी।
  • वार्षिक 3,500 मीट्रिक टन ई-कचरा संसाधित हेतु एक ‘ई-कचरा प्रबंधन सुविधा’ स्थापित की जाएगी।
  • 1 मिलियन मीट्रिक टन से अधिक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करने में मदद करेगी।
  • परियोजना के अंतर्गत वास्तविक समय में बांग्लादेश की नदियों और लक्षित अंतरराष्ट्रीय नदियों की जल गुणवत्ता की निगरानी शुरू करने के लिए 22 निरंतर सतही जल गुणवत्ता निगरानी स्टेशनों का पहला नेटवर्क भी स्थापित किया जाएगा।
  • यह परियोजना प्रदूषण को बेहतर ढंग से नियंत्रित करने और सतत विकास को बढ़ावा देने के लिए देश के पर्यावरण संस्थानों को मजबूत करेगी।

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

वासेनार अरेंजमेंट बैठक


30 नवंबर से 1 दिसंबर, 2022 को आस्ट्रिया की राजधानी वियना में ‘वासेनार अरेंजमेंट’ (डब्ल्यूए) की 26वीं वार्षिक बैठक आयोजित की गई|

उद्देश्य- अपने सदस्य देशों को उन देशों के पारंपरिक हथियारों और दोहरे उपयोग वाली वस्तुओं और प्रौद्योगिकियों के निर्यात से हतोत्साहित करना है, जो वैश्विक शांति के लिए खतरा है।

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • भारत को 1 जनवरी, 2023 को एक वर्ष की अवधि के लिए वासेनार अरेंजमेंट (डब्ल्यूए) की अध्यक्षता ग्रहण करेगा। इस बैठक में भारत को अध्यक्षता सौंपी गई|
  • वर्ष 2017 में भारत अपने 42वें सहभागी राज्य के रूप में वासेनार व्यवस्था (डब्ल्यूए) में शामिल हुआ था।
  • वासेनार व्यवस्था- वासेनार व्यवस्था की स्थापना जुलाई 1996 में वासेनार, नीदरलैंड में हुई थी।
  • यह 42 सदस्य देशों की एक स्वैच्छिक निर्यात नियंत्रण व्यवस्था है।
  • सदस्य देश पारंपरिक हथियारों और दोहरे उपयोग वाली वस्तुओं और प्रौद्योगिकियों के हस्तांतरण पर सूचनाओं का आदान-प्रदान करते हैं।

पीआईबी न्यूज योजना एवं कार्यक्रम

बागवानी क्लस्टर विकास कार्यक्रम


30 नवंबर, 2022 को केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा ‘बागवानी क्लस्टर विकास कार्यक्रम’ (सीडीपी) तैयार किया गया है, जिसके समुचित क्रियान्वयन के लिए केन्द्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की अध्यक्षता में बैठक हुई।

उद्देश्य- देश में कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देना और किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य देकर उनकी आय में वृद्धि करना है।

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • इस कार्यक्रम की बैठक में देश में बागवानी के समग्र विकास पर ध्यान केंद्रित किया गया।
  • बागवानी कृषि में ऐसी शाखाएं शामिल हैं, जो बगीचे की फसलों, आम तौर पर फलों, सब्जियों और सजावटी पौधों से संबंधित है।
  • सीडीपी का लक्ष्य लक्षित फसलों के निर्यात में लगभग 20% तक सुधार करना और क्लस्टर फसलों की प्रतिस्पर्धात्मकता बढ़ाने के लिए क्लस्टर-विशिष्ट ब्रांड बनाना है।

पीआईबी न्यूज विज्ञान-प्रौद्योगिकी

ALH Mk-III हेलीकॉप्टर


30 नवंबर, 2022 को भारतीय तटरक्षक उन्नत लाइट हेलीकॉप्टर (ALH) Mk-III स्क्वाड्रन को ICG एयर स्टेशन, चेन्नई में डीजी वीएस पठानिया द्वारा कमीशन किया गया।

महत्वपूर्ण तथ्य

  • यह तमिलनाडु और आंध्र क्षेत्र के सुरक्षा संवेदनशील जल क्षेत्र में भारतीय तट रक्षक की क्षमताओं को एक बल प्रदान करेगा।
  • ALH Mk-III हेलीकॉप्टर, स्वदेशी रूप से हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) द्वारा विकसित किया गया है।
  • इसमें उन्नत रडार के साथ-साथ इलेक्ट्रो ऑप्टिकल सेंसर, शक्ति इंजन, फुल ग्लास कॉकपिट, उच्च तीव्रता वाली सर्च लाइट, उन्नत संचार प्रणाली, स्वचालित पहचान प्रणाली के साथ-साथ खोज और बचाव होमर सहित अत्याधुनिक उपकरणों से सुसज्जित किया गया हैं।
  • इस सुविधा से स्क्वाड्रन को समुद्री टोह लेने में मदद करेंगी, और जहाजों से दिन और रात संचालन करते हुए विस्तारित सीमाओं पर खोज और बचाव का संचालन करेंगी।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

हॉर्नबिल महोत्सव


1 दिसंबर, 2022 को उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने नागालैंड की राजधानी कोहिमा के निकट नागा विरासत गांव किसामा में ‘हॉर्नबिल महोत्सव’ के 23वें संस्करण का उद्घाटन किया।

महत्वपूर्ण तथ्य -

  • उपराष्ट्रपति के रूप मेंधनखड़ की यह पहली नागालैंड यात्रा है, इस यात्रा के दौरान सिफी (पारंपरिक नागा टोपी) और अमुला कक्सा (नागा शॉल) देकर इन्हें सम्मानित किया गया।
  • इस मौके पर उपराष्ट्रपति ने हॉर्नबिल महोत्सव के उपलक्ष्य में एक डाक टिकट भी जारी किया।

हॉर्नबिल फेस्टिवल- प्रत्येक वर्ष नागालैंड राज्य के स्थापना दिवस (1 दिसंबर, 1963) के अवसरपर इसका आयोजन किया जाता है।

  • इस महोत्सव की शुरूआत वर्ष 2000 में नागालैंड सरकार द्वारा की गई थी| इसका आयोजन राज्य पर्यटन, कला एवं संस्कृति विभाग, नागालैंड द्वारा किया जाता है|
  • इसका उद्देश्य नागा जनजातियों को आपस में एक दूसरे से परिचित कराना व देश दुनिया को नागा समाज की संस्कृति से रूबरू कराना है।
  • हार्नबिल त्यौहार का यह नाम एक हार्नबिल चिड़िया के नाम पर रखा गया है।
  • इस चिडि़या को नागा जनजाति में पवित्र माना जाता है तथा नागाओं की पौराणिक कथाओं में इसका जिक्र भी मिलता है।
  • हॉर्नबिल उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय अफ्रीका, एशिया और मेलनेशिया (Melanesia) में पाया जाने वाला एक पक्षी है।
  • इस चिड़िया को भारत में ‘धनेश’ के नाम से भी जाना जाता है।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

डिजी यात्रा का शुभारंभ


1 दिसंबर, 2022 को केंद्रीय नागरिक विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने नई दिल्ली में इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से देश के तीन हवाई अड्डों, नई दिल्ली, वाराणसी और बेंगलुरु के लिए डिजी यात्रा का शुभारंभ किया।

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • डिजी यात्रा की परिकल्पना हवाई अड्डों पर चेहरे की पहचान प्रौद्योगिकी पर आधारित यात्रियों के संपर्क रहित और निर्बाध आवागमन की सुविधा प्रदान करने के लिए की गई है।
  • इस सुविधा का उपयोग करने के लिए, आधार कार्ड के माध्यम से सत्यापन और एक स्व-छवि कैप्चर का उपयोग करके डिजी यात्रा ऐप पर एक बार पंजीकरण आवश्यक है।
  • पहले चरण में डिजी यात्रा 7 हवाई अड्डों पर शुरू की जाएगी। प्रारंभ में 3 हवाई अड्डों दिल्ली, बेंगलुरु और वाराणसी में शुरू किया गया है, इसके बाद मार्च 2023 तक हैदराबाद, कोलकाता, पुणे और विजयवाड़ा जैसे 4 हवाई अड्डों पर इसकी शुरुआत की जाएगी।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

विश्व की पहले इंट्रा-नेसल वैक्सीन


हाल ही में भारत द्वारा कोविड के लिए विकसित विश्वकीपहली‘इंट्रा-नेसल वैक्सीन’ को 18 वर्ष और उससे अधिक आयु वर्ग में आपातकालीन स्थितियों में प्रतिबंधित उपयोग के लिए ‘केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन’ (’Central Drugs Standard Control Organization') से स्वीकृति प्रदान की गई है।

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • इस वैक्सीन को प्राथमिक 2 खुराक कार्यक्रम और सजातीय उचित बूस्टर खुराक के लिए 18 वर्ष और उससे अधिक आयु के आपातकालीन स्थितियों में प्रतिबंधित उपयोग के अंतर्गत अनुमोदन प्राप्त हो गया है ।
  • यह वैक्सीन प्री-फ्यूजन स्टेबलाइज्ड स्पाइक प्रोटीन के साथ एक पुनः संयोजक की प्रतिकृति न हो सकने वाली एडेनोवायरस वेक्टरेड वैक्सीन है।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

दिव्य कला मेला 2022’


2 से 7 दिसंबर, 2022 तक सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय देश भर के दिव्यांग उद्यमियों/कारीगरों के उत्पादों और शिल्प कौशल का प्रदर्शन करने के लिए इंडिया गेट, नई दिल्ली में 'दिव्य कला मेला' का आयोजन कर रहा है।

  • यह कार्यक्रम आगंतुकों को जम्मू और कश्मीर एवं पूर्वोत्तर राज्यों सहित देश के विभिन्न भागों के जीवंत उत्पादों, हस्तशिल्प, हथकरघा, एम्ब्रोएडरी के काम और डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ आदि को एक साथ देखने का अनुभव प्रदान करेगा।
  • यह मेला सभी के लिए 'वोकल फॉर लोकल' और दिव्यांग शिल्पकारों द्वारा अपने अतिरिक्त संकल्प के से बनाए गए उत्पादों को देखने और खरीदने का अवसर प्रदान करेगा।

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

चौथी भारत-फ्रांस वार्षिक रक्षा वार्ता


26 से 28 नवंबर, 2022 को फ्रांसीसी गणराज्य के सशस्त्र बल मंत्री सेबेस्टियन लेकोर्नू भारत यात्रा पर रहे, दोनों देशों ने चौथी भारत-फ्रांस वार्षिक रक्षा वार्ता की सह-अध्यक्षता की।

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • यह फ्रांस के मंत्री के रूप में सेबेस्टियन लेकोर्नू की पहली भारत यात्रा है।
  • उन्होंने कोच्चि में दक्षिणी नौसेना कमान मुख्यालय जाकर भारत के पहले स्वदेशी विमान वाहक आईएनएस विक्रांत को देखा।
  • भारत और फ्रांस के बीच घनिष्ठ और मैत्रीपूर्ण संबंध हैं। वर्ष 1998 में दोनों देशों ने करीबी और बढ़ते द्विपक्षीय संबधों के अलावा अनेक अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर अपने वैचारिक मेल-मिलाप के मद्देनज़र रणनीतिक साझेदारी की।
  • भारत और फ्रांस रक्षा एवं आयुध क्षेत्र में भागीदार हैं, जो दोनों देशों के बीच विभिन्न प्रकार के औद्योगिक सहयोग के ज़रिए भारत की रक्षा क्षेत्र में रणनीतिक स्वायत्तता प्राप्त करने की नीति में योगदान दे रहा है।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

भारत का सारस रेडियो टेलीस्कोप


28 नवंबर, 2022 को ‘नेचर एस्ट्रोनॉमी’ पत्रिका में प्रकाशित पेपर के परिणामों ने दिखाया है कि कैसे शुरुआती ब्रह्मांड से लाइन डिटेक्शन न होने पर भी खगोलशास्त्री असाधारण संवेदनशीलता के साथ शुरुआती आकाशगंगाओं के गुणों का अध्ययन कर सकते हैं।

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • भारत का ‘सारस’ रेडियो टेलीस्कोप खगोलशास्त्रियों को ब्रह्मांड के पहले सितारों और आकाशगंगाओं की प्रकृति के बारे में जानकारी देता है|
  • वैज्ञानिकों ने ‘बिग बैंग’ के सिर्फ 20 करोड़ वर्ष, एक अवधि जिसे अंतरिक्षीय प्रभात के रूप में जाना जाता है,के बाद बनी चमकदार रेडियो आकाशगंगाओं के गुणों का निर्धारण किया है|
  • इससे सबसे शुरुआती रेडियो लाउड आकाशगंगाओं जो आमतौर पर बेहद विशाल ब्लैक होल द्वारा संचालित होती हैं, के गुणों के बारे में जानकारी मिली है ।
  • "सारस 3 टेलीस्कोप से मिले परिणाम में पहली बार ऐसा हुआ है कि औसत 21 सेंटीमीटर लाइन का रेडियो ऑब्जर्वेशन सबसे शुरुआती रेडियो लाउड आकाशगंगाओं के गुणों के बारे में जानकारी प्रदान कर सकता है जो आमतौर पर बेहद विशाल ब्लैक होल द्वारा संचालित होती हैं"
  • वैज्ञानिक बेहद पुरानी आकाशगंगाओं के गुणों का अध्ययन इन आकाशगंगाओं के अंदर और उसके आसपास हाइड्रोजन परमाणुओं से विकिरण को देखकर करते हैं, जो कि लगभग 1,420 मेगाहर्ट्ज की आवृत्ति पर उत्सर्जित होती है।
  • मार्च 2020 में अपनी अंतिम तैनाती के बाद से, सारस 3 को अपग्रेड की एक श्रृंखला से गुजारा गया है। इन सुधारों से 21-सेमी सिग्नल का पता लगाने की दिशा में और भी अधिक संवेदनशीलता प्राप्त होने की उम्मीद है। वर्तमान में, सारस टीम अपनी अगली तैनाती के लिए भारत में कई जगहों का आकलन कर रही है।

पीआईबी न्यूज योजना एवं कार्यक्रम

हर घर गंगाजल योजना


27 नवंबर, 2022 को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा राजगीर और गया में ‘हर घर गंगाजल परियोजना’ का शुभारंभ किया गया| यह राज्य के सूखे क्षेत्रों में नल से गंगा जल उपलब्ध कराने की एक अनूठी और महत्वाकांक्षी पहल है, जो नदी के किनारे नहीं हैं।

उद्देश्य- राज्य के शुष्क क्षेत्रों में नलों पर पवित्र नदी का पानी उपलब्ध कराना ।

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • यह योजना मानसून बाढ़ के मौसम के दौरान गंगा में अतिरिक्त पानी का संचयन करेगी, जिसे राजगीर, गया और बोधगया क्षेत्रों में उपचारित, संग्रहीत और पाइप लाइन शुरू किया जाएगा, जो लंबे समय से आसपास के जिलों के पीने के पानी के टैंकरों पर निर्भर हैं।
  • नालंदा जिले के राजगीर में 4,000 करोड़ रुपये की 'हर घर गंगाजल' योजना का उद्घाटन किया, यहाँ सभी धर्मों के धार्मिक स्थलों के लिए अपनी सरकार के कार्य को भी सूचीबद्ध किया: जिसमें हिंदू, मुस्लिम, जैन और बौद्ध है।
  • इस गंगा जल आपूर्ति योजना (GWSS) के तहत, राजगीर, गया और बोधगया के लगभग 7.5 लाख घरों को 28 नवंबर से पाइप के माध्यम से नदी का उपचारित पानी मिलेगा।
  • परियोजना के हिस्से के रूप में, गंगा नदी के बाढ़ के पानी को राजगीर, गया और बोधगया में संग्रहीत, उपचारित और आपूर्ति की जाएगी।
  • जीडब्ल्यूएसएस उपचारित पानी की आपूर्ति करके इन क्षेत्रों में पीने के पानी की मांग को पूरा करेगा।

पीआईबी न्यूज विज्ञान-प्रौद्योगिकी

PSLV-C54 रॉकेट


26 नवंबर,2022 को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी) ने आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से C-54 और 8 नैनो उपग्रहों को सफलतापूर्वक लॉन्च किया।

उद्देश्य- परिचालन अनुप्रयोगों को बनाए रखने के लिए समुद्र के रंग और पवन वेक्टर डेटा की निरंतरता सुनिश्चित करना।

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने अपने विश्वसनीय रॉकेट पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (PSLV) की सहायता से ओशियन-सैट-3 सहित 9 उपग्रहों को प्रक्षेपित कर अपनी-अपनी कक्षाओं में सफलता से स्थापित किया। वर्ष 2022 के लिए यह इसरो का 5वां और अंतिम मिशन था।
  • यह इसरो के ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान की 56वीं और PSLV-XL संस्करण की 24वीं उड़ान है।
  • ओशियन-सैट को 742 किमी ऊंचाई पर पहुंचाने के बाद रॉकेट नीचे की ओर लाया गया और बाकी 8 उपग्रह 513 से 528 किमी पर स्थापित किए गए।
  • ISRO ने PSLV C54/EOS06 लॉन्च किया, इसे ओशनसैट-3 के नाम से भी जाना जाता है।
  • पहली बार दो कक्षाओं में उपग्रह प्रक्षेपित किए गए। इसमें ऑर्बिट चेंज थ्रस्टर्स (ओसीटी) उपयोग हुए।
  • इस उपग्रह से प्राप्त विशिष्ट डेटा सरकारी विभागों द्वारा उपयोग किया जाएगा।
  • 4 अमेरिकी उपग्रह- एस्ट्रोकास्ट के रूप में तकनीकी के प्रदर्शन के लिए अमेरिका की स्पेसफ्लाइट की ओर से चार उपग्रह भेजे गए। यह इंटरनेट ऑफ थिंग्स तकनीक में उपयोग होंगे। कुल वजन 17.92 किलोग्राम था।
  • भूटान का उपग्रह : मिशन में भूटान का नैनो सैटेलाइट INS-2B शामिल है, यह 18.28 किलोग्राम वजनी था।
  • इसमें दो उपकरण नैनो एमएक्स और APRS-डिजिपीटर हैं।
  • इन्हें भूटान और बंगलूरू के यूआर राव उपग्रह केंद्र द्वारा तैयार किया गया है।

दैनिक समसामयिकी

पुराने करंट अफेयर्स देखने के लिए, कृपया नीचे तिथि चुनें