सामयिक खबरें आर्थिकी

राष्ट्रीय परीक्षण शाला


7 सितंबर, 2021 को उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के अनुसार गुणवत्ता परीक्षण के लिए राष्ट्रीय परीक्षण शाला (National Test House) को सालाना लगभग 25,000 नमूने प्राप्त होते हैं।

महत्वपूर्ण तथ्य: केंद्र सरकार खिलौनों, हेलमेट, एयर कंडीशनर और अन्य के गुणवत्ता आश्वासन के लिए व्यापक परीक्षण सुविधा शुरू करने की योजना बना रहा है।

  • राष्ट्रीय परीक्षण शाला का सौंदर्य प्रसाधन, इलेक्ट्रॉनिक उपभोक्ता वस्तुओं और घरों में उपयोग किए जाने वाले डिजिटल उपकरणों जैसे उत्पादों के माध्यम से नैनो-प्रौद्योगिकी में परिचालन शुरू करने का प्रस्ताव है।
  • राष्ट्रीय परीक्षण शाला, एक 109 वर्ष पुरानी गुणवत्ता आश्वासन देने वाली सरकारी प्रयोगशाला है, जो इंजीनियरिंग के सभी क्षेत्रों में उद्योग, उपभोक्ताओं और सरकारी एजेंसियों के लिए सामग्री परीक्षण सुविधाएं प्रदान करती है।
  • राष्ट्रीय परीक्षण शाला की 6 प्रयोगशालाएं हैं, जो औद्योगिक और आर्थिक विकास के लिए गुणवत्ता आश्वासन पर देश को सेवाएं दे रही हैं।
  • राष्ट्रीय परीक्षण शाला (पूर्व में सरकारी परीक्षण शाला के रूप में जाना जाता है) की स्थापना दक्षिण कलकत्ता के अलीपुर में वर्ष 1912 में हुई थी, और इसने वैज्ञानिक सिद्धांत, खोजों और व्यावहारिक उत्पाद विकास में काफी योगदान दिया है।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय

स्कूली शिक्षा पर आपातकालीन रिपोर्ट


अगस्त 2021 में अर्थशास्त्री जीन द्रेज के नेतृत्व में एक टीम द्वारा 15 राज्यों में स्कूल बंद होने के प्रभाव पर 'स्कूल शिक्षा पर आपातकालीन रिपोर्ट' जारी की गई है।

महत्वपूर्ण तथ्य: महामारी के दौरान भारत के ग्रामीण इलाकों के 37 फीसदी छात्रों ने स्कूल छोड़ दिया है।

  • केवल 8% ग्रामीण छात्रों और 24% शहरी छात्रों की डिजिटल शिक्षा तक नियमित पहुँच थी।
  • यह रिपोर्ट असम, बिहार, चंडीगढ़, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, झारखंड, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, पंजाब, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल सहित 15 राज्यों में स्कूली बच्चों के ऑनलाइन और ऑफलाइन लर्निंग (School Children’s Online and Offline Learning: SCHOOL) सर्वेक्षण पर आधारित है।
  • सर्वेक्षण के अनुसार दलित और आदिवासी बच्चे अधिक नुकसान में रहे, इन समूहों के केवल 5% बच्चों की ऑनलाइन कक्षाओं तक पहुंच थी।
  • शहरी क्षेत्रों में 10% अभिभावकों को अपने बच्चों को स्कूल भेजने में कुछ हिचकिचाहट थी, लेकिन कुल मिलाकर 97% अभिभावकों ने स्कूलों को फिर से खोलने का समर्थन किया।

सामयिक खबरें अंतर्राष्ट्रीय

ताइवान ने किया स्वदेशी निर्मित नौसैनिक युद्धपोत कमीशन


ताइवान की राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन ने चीन के साथ बढ़ते तनाव के बीच स्वदेशी रक्षा क्षमता को बढ़ावा देने के लिए अपनी योजना के तहत 9 सितंबर, 2021 को स्वदेशी निर्मित नौसैनिक युद्धपोत को कमीशन किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: 'ता जियांग' (Ta Jiang) के नाम से जाना जाने वाला और "कैरियर किलर" के उपनाम से जाना जाने वाला यह पोत, ताइवान की कंपनी, 'लंग तेह शिपबिल्डिंग कंपनी' द्वारा निर्मित किया गया है।

  • युद्धपोत को वायु रक्षा क्षमताओं के लिए डिजाइन किया गया है और यह जहाज-रोधी मिसाइलों को ले जाने में सक्षम है।
  • इसके अलावा, ताइवान वर्तमान में चार साल के शोध और डिजाइन के बाद अपनी पनडुब्बी का निर्माण कर रहा है।
  • चीन ताइवान पर उसके राष्ट्रीय क्षेत्र का हिस्सा होने का दावा करता है, हालांकि 1949 में गृहयुद्ध के बाद से ताइवान चीन से अलग हो गया था।

सामयिक खबरें विज्ञान-प्रौद्योगिकी

केरल में जंगली गुलमेहंदी की तीन नई प्रजाति की खोज


अगस्त 2021 में शोधकर्ताओं ने केरल में जंगली गुलमेहंदी / बालसम (balsam) पौधे की तीन नई प्रजातियों की पहचान की है, जिनमें से दो का नामकरण कम्युनिस्ट दिग्गज और पूर्व मुख्यमंत्री वी.एस. अच्युतानंदन और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के.के. शैलजा के नाम पर किया गया है।

महत्वपूर्ण तथ्य: बाल्समिनेसी कुल (family Balsaminaceae) की 'इम्पेतिन्स' (Impatiens) वंश की इन गुलमेहंदी की प्रजातियो को दक्षिणी केरल के पश्चिमी घाट क्षेत्र और इडुक्की जिले में खोजा गया।

  • इम्पेतिन्स वंश के पौधे मलयालम में 'काशीथुम्बा' के नाम से लोकप्रिय हैं।
  • तिरुवनंतपुरम जिले के कल्लर जंगल में खोजी गई प्रजाति का नाम अच्युतानंदन के नाम पर 'इम्पेतिन्स अच्युदानंदानी' (Impatiens achudanandanii) रखा गया है।
  • दक्षिण केरल में सांखिली जंगल में खोजी गई प्रजाति का नाम 'इम्पेतिन्स शैलजा' (Impatiens shailajae) रखा गया है।
  • इडुक्की के मन्नार में खोजी गई प्रजाति का नाम जवाहरलाल नेहरू उष्णकटिबंधीय वनस्पति उद्यान और अनुसंधान संस्थान, तिरुवनंतपुरम के पादप आनुवंशिक संसाधन प्रभाग के वैज्ञानिक और प्रमुख मैथ्यू डैन के नाम पर 'इम्पेतिन्स डैनी' (Impatiens danii) रखा गया है।
  • इनकी सीमित आबादी को देखते हुए, सभी तीन प्रजातियों को आईयूसीएन मानदंड के अनुसार 'गंभीर रूप से संकटग्रस्त' के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है।
  • इम्पेतिन्स वंश के भारत में 210 वर्गिकी समूह (taxa) हैं और 106 से अधिक प्रजातियां पश्चिमी घाट में स्थानिक हैं, और उनमें से 80% संकटग्रस्त हैं।

सामयिक खबरें पर्यावरण

2020 में 104 शहरों में वायु गुणवत्ता सुधार


7 सितंबर, 2021 को 'नीले आसमान के लिए अंतरराष्ट्रीय स्वच्छ वायु दिवस' के अवसर पर पर्यावरण मंत्री भूपेन्द्र यादव ने कहा कि केंद्र सरकार की कई पहलों के कारण 2018 की तुलना में 2019 में 86 शहरों ने वायु गुणवत्ता में सुधार किया, जिनकी संख्या 2020 में बढ़कर 104 हो गई।

महत्वपूर्ण तथ्य: हालाँकि, पर्यावरण मंत्रालय ने लोक सभा में एक प्रश्न के जवाब में कहा था कि 2020 में वायु प्रदूषण में कमी मुख्य रूप से लॉकडाउन और क्षणिक के कारण हुई थी।

  • वित्तीय वर्ष 2019-20 और 2020-21 के दौरान 114 शहरों को ‘शहर कार्य योजना’ के अंतर्गत कार्रवाई शुरू करने के लिए अब तक 375.44 करोड़ रुपये जारी किए जा चुके हैं।
  • इसके अलावा, वित्त वर्ष 2020-21 के लिए 15वें वित्त आयोग की रिपोर्ट की सिफारिशों के अनुसार दस लाख से अधिक आबादी वाले 42 शहरों को 4400 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं।
  • इस अवसर पर पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव ने नई दिल्ली में आनंद विहार में स्थित भारत के पहले क्रियाशील ‘स्मॉग टॉवर’ का भी लोकार्पण किया।
  • एक स्मॉग टॉवर को प्रदूषण को कम करने के लिए एक बड़े/मध्यम पैमाने के वायु शोधक के रूप में डिजाइन किया गया है, जो आमतौर पर फिल्टर के माध्यम से हवा को बाहर करता है।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप नियुक्ति

नए राज्यपालों की नियुक्ति


राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 9 सितंबर, 2021 को तमिलनाडु, उत्तराखंड, पंजाब और नागालैंड में नए राज्यपालों की नियुक्ति की।

  • सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह को उत्तराखंड का राज्यपाल नियुक्त किया गया है। ज्ञात हो कि बेबी रानी मौर्य ने 8 सितंबर को उत्तराखंड के राज्यपाल पद से इस्तीफा दे दिया था।
  • नागालैंड के राज्यपाल आर.एन. रवि को तमिलनाडु के अगले राज्यपाल के रूप में स्थानांतरित किया गया है। रवि अगस्त 2014 से चल रही नगा शांति वार्ता में एक वार्ताकार रहे हैं। उन्हें जुलाई 2019 में नागालैंड का राज्यपाल नियुक्त किया गया था।
  • तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित, जो पंजाब के राज्यपाल का अतिरिक्त प्रभार संभाल रहे थे, को पंजाब का नियमित राज्यपाल नियुक्त किया गया है।
  • असम के राज्यपाल प्रो. जगदीश मुखी को नियमित व्यवस्था होने तक अपने स्वयं के प्रभार के अलावा नागालैंड के राज्यपाल के कार्यों का निर्वहन करने के लिए नियुक्त किया गया है।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप अभियान/सम्मेलन/आयोजन

बुजुर्गों की बात - देश के साथ


  • केंद्रीय संस्कृति मंत्री जी.के. रेड्डी ने 7 सितंबर, 2021 को नई दिल्ली स्थित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्द्र में 'बुजुर्गों की बात - देश के साथ' कार्यक्रम का शुभारंभ किया।
  • 'बुजुर्गों की बात-देश के साथ' कार्यक्रम का उद्देश्य युवाओं और उन बुजुर्गों के बीच संवाद को बढ़ाना है, जो 95 वर्ष और उससे अधिक उम्र के हैं और आजादी से पहले भारत में लगभग 18 साल बिता चुके हैं।
  • आदर्श रूप में, बातचीत का वीडियो 60 सेकेंड से कम होना चाहिए और इसे www.rashtragaan.in पर अपलोड किया जा सकता है।
  • केंद्रीय संस्कृति मंत्री ने डॉ. उत्पल के. बनर्जी द्वारा लिखित पुस्तक 'गीत गोविंद: जयदेव डिवाइन ओडिसी' (Gita Govinda :Jaydeva’s Divine Odyssey) का भी विमोचन किया।
  • इसके अलावा ‘गीत गोविन्द' पर एक प्रदर्शनी का शुभारंभ किया गया।
  • गीत गोविन्द मूल रूप से 12वीं शताब्दी के कवि जयदेव की रचना है।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

अंतरराष्ट्रीय परोपकार दिवस (5 सितंबर)


महत्वपूर्ण तथ्य: इस दिवस की स्थापना दुनिया भर के लोगों, गैर सरकारी संगठनों और हितधारकों को स्वयंसेवी और परोपकारी गतिविधियों के माध्यम से दूसरों की मदद करने के लिए संवेदनशील बनाने और एकजुट करने के उद्देश्य से की गई थी।

  • 1979 में नोबेल शांति पुरस्कार प्राप्त करने वाली मदर टेरेसा के निधन की वर्षगांठ मनाने के लिए 5 सितंबर की तारीख को चुना गया था।
  • प्रसिद्ध नन और मिशनरी और भारत रत्न से सम्मानित मदर टेरेसा (असली नाम- एग्नेस गोंक्सा बोजाक्सीहु) का जन्म 1910 में स्कॉप्जे (अब उत्तर मेसीडोनिया में) में हुआ था। 1928 में भारत आने के बाद, उन्होंने निराश्रितों की मदद करने के लिए खुद को समर्पित कर दिया था।
  • 1948 में वह एक भारतीय नागरिक बन गईं और 1950 में कोलकाता (कलकत्ता) में 'मिशनरीज ऑफ चैरिटी' की स्थापना की, जो उस शहर में गरीबों और असहाय के बीच अपने काम के लिए प्रसिद्ध हुई। 5 सितंबर, 1997 को उनका निधन हो गया था।

खेल समाचार चर्चित खेल व्यक्तित्व

प्रसिद्ध क्रिकेट कोच वासुदेव परांजपे का निधन


क्रिकेट के कई महान खिलाड़ियों का मार्गदर्शन करने वाले कोच एवं पूर्व प्रथम श्रेणी क्रिकेटर वासुदेव परांजपे का 30 अगस्त, 2021 को निधन हो गया। वे 82 वर्ष के थे।

  • वे ‘वासु’ के नाम से लोकप्रिय थे। एक क्रिकेटर के रूप में परांजपे ने 1956 से 1970 तक मुंबई के लिए 29 प्रथम श्रेणी मैच खेले।
  • वे सुनील गावस्कर से लेकर रोहित शर्मा जैसे कई क्रिकेटरों के कोच और मार्गदर्शक रहे। वे 1988 में भारतीय अंडर-19 किकेट टीम के कोच भी रहे।
  • वर्ष 2020 में उनके पुत्र और पूर्व भारतीय क्रिकेटर जतिन परांजपे ने आनंद वासु के साथ मिलकर 'द क्रिकेट द्रोण- फॉर द लव ऑफ वासु परांजपे' (Cricket Drona: For the Love of Vasoo Paranjape) नामक पुस्तक का सह-लेखन किया था।