ईट राइट इंडिया अभियान के तहत 'विजन 2050'

( 15 October, 2020, , www.pib.gov.in )


केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने ईट राइट इंडिया अभियान के तहत 'विजन 2050' के उद्देश्यों को साकार करने के लिए 'सरकार के समग्र दृष्टिकोण' के अंतर्गत 15 अक्टूबर, 2020 को खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण-एफएसएसएआई के साथ एक अंतर-मंत्रालयी बैठक की अध्यक्षता की।

महत्वपूर्ण तथ्य: भारत में खाद्य जनित बीमारियों से उबरने में प्रति वर्ष लगभग 15 अरब डॉलर खर्च होते हैं।

  • बच्चों में निर्बलता (Wasting)(21%), सामान्य से कम वजन रहना (36%) और अविकसित होना (38%) सामान्य हैं।
  • एनीमिया से पीड़ित 50% महिलाओं और बच्चों के साथ; बीते समय में (2005 से 2015 के दौरान) गैर-संचारी रोगों के कारण होने वाली मौतों में वृद्धि के साथ-साथ मोटापे की व्यापकता पुरुषों के बीच 9.3% से बढ़कर 18.6% और महिलाओं के बीच 12.6% से 20.7% तक पहुंच गई है।
  • यह देखते हुए कि, भारत के 1.3 अरब लोगों में से 50% की पहुंच शरीर के लिए आवश्यक सूक्ष्म पोषक तत्वों के लिए अनुशंसित आहार तक नहीं हो पाती है, 'खाद्य सुरक्षा से पोषण सुरक्षा' की ओर बढ़ने के लिए 'ईट राइट इंडिया' और 'फिट इंडिया' अभियान देश के स्वास्थ्य क्षेत्र में बहुत परिवर्तनकारी साबित होंगे।