हिमाचल प्रदेश के 'लाहौली बुने हुए मोजे और दस्ताने' और 'चंबा चप्पल' को जीआई टैग


सितंबर 2021 में हिमाचल प्रदेश के 'लाहौली बुने हुए मोजे और दस्ताने' (Lahauli Knitted Socks & Gloves) और 'चंबा चप्पल' (Chamba Chappal) को जीआई टैग प्रदान किया गया है।

(Image Source: https://www.tv9hindi.com/ & Amazon.in)

लाहौली बुने हुए मोजे और दस्ताने: ये बुने हुए मोजे और दस्ताने स्थानीय भेड़ की ऊन से बने होते हैं।

  • ये अद्वितीय शिल्प, केवल आदिवासी जिले लाहौल और स्पीति में निर्मित किए जाते हैं।
  • ये प्राकृतिक सफेद, काले, धूसर और भूरे रंग में उपलब्ध होते हैं। रंगीन पैटर्न डिजाइन करने के लिए लोग सफेद ऊन को प्राकृतिक पौधों के अर्क के प्राकृतिक रंग से रंगते हैं।

चंबा चप्पल: इसकी परंपरा राजा चरत सिंह (नौवीं शताब्दी की शुरुआत में) के समय की है।

  • पारंपरिक चंबा चप्पल को स्थानीय रूप से बने चमड़े से तैयार किया जाता है।
  • इन चप्पलों के डिजाइन में पत्ते और फूल होते हैं। चंबा चप्पलों में चमड़े/रबड़ के तलवे होते हैं, जो कठिन पहाड़ी इलाकों पर चलते समय सहायता प्रदान करते हैं।