मानव पूंजी सूचकांक 2020


विश्व बैंक ने 16 सितंबर, 2020 को ‘मानव पूंजी सूचकांक 2020 अपडेट: कोविड-19 के समय में मानव पूंजी' रिपोर्ट जारी की।

महत्वपूर्ण तथ्य: अद्यतन मानव पूंजी सूचकांक 2020 में 174 देशों के लिए स्वास्थ्य और शिक्षा डेटा को शामिल किया गया है। इसमें मार्च 2020 तक दुनिया की 98% आबादी को कवर किया गया है। इससे पूर्व यह सूचकांक वर्ष 2018 में जारी किया गया था।

  • महामारी से पहले अधिकांश देशों ने बच्चों की मानव पूंजी निर्माण में लगातार प्रगति की, जिसमें सबसे ज्यादा प्रगति निम्न-आय वाले देशों में हुई।
  • हालांकि, इस प्रगति के बावजूद एक औसत देश में शिक्षा और स्वास्थ्य मानकों के सापेक्ष कोई बच्चा अपनी संभावित मानव विकास क्षमता का केवल 56% ही हासिल करने की उम्मीद कर सकता है।
  • सूचकांक में सिंगापुर सबसे शीर्ष पर है। इसके बाद हांगकांग दूसरे, जापान तीसरे, दक्षिण कोरिया चौथे तथा कनाडा पांचवें स्थान पर रहा। सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक सूचकांक में सबसे अंतिम 174वें स्थान पर है।

भारत की स्थिति: भारत को मानव पूंजी सूचकांक 2020 में 174 देशों में 116वें स्थान पर रखा गया है। 2018 में भारत की रैंक 157 देशों में 115 थी। हालांकि, 2018 में भारत का स्कोर 0.44 से बढ़कर 0.49 हो गया है।

स्रोत : सिविल सर्विसेज क्रॉनिकल ऑनलाइन. सितंबर 2020