डेयरी इन्वेस्टमेंट ऐक्सेलरेटर


जुलाई 2021 में भारत सरकार के पशुपालन एवं डेयरी विभाग ने डेयरी क्षेत्र में निवेश को बढ़ावा देने और उसे सुगम बनाने को ध्यान में रखते हुए, अपने ‘निवेश सुविधा प्रकोष्ठ’ के अंतर्गत ‘डेयरी इन्वेस्टमेंट ऐक्सेलरेटर’ (Dairy Investment Accelerator) की स्थापना की है।

महत्वपूर्ण तथ्य: यह इन्वेस्टमेंट ऐक्सेलरेटर निवेशकों के साथ इंटरफेस के रूप में काम करने के लिए गठित की गई एक क्रॉस फंक्शनल टीम है, जो निवेश चक्र में निम्न तरीके से सहायता प्रदान करेगी-

    • निवेश अवसरों के मूल्यांकन के लिए विशिष्ट जानकारी प्रदान करना;
    • सरकारी योजनाओं के लिए आवेदन संबंधित सवालों का जवाब देना;
    • रणनीतिक साझीदारों के साथ जुड़ना;
    • राज्य के विभागों और संबंधित प्राधिकरणों के साथ जमीनी रूप से सहायता प्रदान करना।
  • डेयरी इन्वेस्टमेंट ऐक्सेलरेटर द्वारा निवेशकों के बीच पशुपालन अवसंरचना विकास कोष ((Animal Husbandry Infrastructure Development fund- AHIDF) के बारे में जागरूकता फैलाने का भी काम किया जाता है।
  • पशुपालन अवसंरचना विकास कोष भारत सरकार के पशुपालन एवं डेयरी विभाग की प्रमुख योजनाओं में से एक है, जिसके अंतर्गत उद्यमियों, निजी कंपनियों, एमएसएमई, किसान उत्पादक संगठनों (FPO) और संभाग 8 कंपनियों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए 15,000 करोड़ रुपये का कोष स्थापित किया गया है।
  • डेयरी क्षेत्र देश की अर्थव्यवस्था में 5% का योगदान करने वाला एकमात्र सबसे बड़ा कृषि उत्पाद है और 80 करोड़ से ज्यादा किसानों को सीधे रोजगार प्रदान करता है।