पीआईबी न्यूज आर्थिक

कोविड-19 बोझ को कम करने के लिए आरबीआई द्वारा उपाय


भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने 5 मई, 2021 को कोविड-19 संक्रमण की दूसरी लहर के खिलाफ देश की लड़ाई में सहयोग देने के लिए कई उपायों की घोषणा की।

महत्वपूर्ण तथ्य: कोविड से संबंधित स्वास्थ्य अवसंरचना और सेवाओं में तेजी लाने के लिए रेपो दर पर 3 साल की अवधि के साथ 50,000 करोड़ रूपये की सावधि चलनिधि सुविधा 31 मार्च, 2022 तक उपलब्ध रहेगी।

  • लघु वित्त बैंकों को यह अनुमति दी गई है कि वे अब व्यक्तिगत उधारकर्ताओं को आगे उधार देने के लिए सूक्ष्म वित्तीय संस्थान (500 करोड़ रुपये तक की संपत्ति के आकार वाले) को दिये जाने वाले नए ऋण को प्राथमिकता क्षेत्र के ऋण के रूप में मान सकते हैं। यह सुविधा 31 मार्च, 2022 तक उपलब्ध होगी।
  • राज्य सरकारों के लिए एक तिमाही में ओवरड्राफ्ट (ओडी) के दिनों की अधिकतम संख्या 36 से बढ़ाकर 50 दिन कर दी गई है। ओडी के लगातार दिनों की संख्या 14 से बढ़ाकर 21 दिन कर दी गई है। यह सुविधा 30 सितंबर, 2021 तक उपलब्ध है।
  • सूक्ष्म, लघु और अन्य असंगठित क्षेत्र की संस्थाओं को आगे सहायता प्रदान करने के लिए, रेपो दर पर 10,000 करोड़ रुपये का 3 वर्ष की अवधि तक लघु वित्त बैंकों के लिए रेपो संचालन किया जाएगा। इसका उपयोग प्रति उधारकर्ता को 10 लाख रुपये तक के नए ऋण की सुविधा के लिए किया जाएगा। यह सुविधा 31 अक्टूबर, 2021 तक उपलब्ध है।

पीआईबी न्यूज आर्थिक

दलहन उत्पादन के लिए विशेष खरीफ रणनीति 2021


6 मई, 2021 को कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय ने देश में दालों के उत्पादन में आत्मनिर्भरता प्राप्त करने के उद्देश्य से खरीफ 2021 सत्र में कार्यान्वयन के लिए एक विशेष खरीफ रणनीति तैयार की है।

महत्वपूर्ण तथ्य: राज्य सरकारों के साथ परामर्श के माध्यम से, अरहर, मूंग और उड़द की बुआई के लिए रकबा (क्षेत्र) और उत्पादकता दोनों बढ़ाने के लिए एक विस्तृत योजना तैयार की गई है।

  • रणनीति के तहत, सभी उच्च उपज वाली किस्मों के बीजों का उपयोग करना शामिल है। केंद्रीय बीज एजेंसियों या राज्यों में उपलब्ध यह उच्च उपज की किस्म वाले बीज, एक से अधिक फसल और एकल फसल के माध्यम से बुआई का रकबा बढ़ाने वाले क्षेत्र में नि:शुल्क वितरित किए जाएंगे।
  • आगामी खरीफ 2021 सत्र के लिए लगभग 82.01 करोड़ रुपये के कुल मूल्य के 20,27,318 मिनी बीज किट (वर्ष 2020-21 की तुलना में लगभग 10 गुना अधिक) वितरित करने का प्रस्ताव है।
  • अरहर, मूंग और उड़द के उत्पादन और उत्पादकता को बढ़ाने के लिए इन मिनी किट्स की कुल लागत केंद्र सरकार द्वारा वहन की जाएगी।
  • दलहन उत्पादन वर्ष 2007-08 में 14.76 मिलियन टन से वर्ष 2020-2021 (दूसरे अग्रिम अनुमान) में 24.42 मिलियन टन तक पहुंच गया है, जो कि 65% की अभूतपूर्व वृद्धि प्रदर्शित करता है।

सामयिक खबरें आर्थिकी

कोविड-19 वैक्सीन हेतु ‘बौद्धिक संपदा’ छूट


5 मई, 2021 को संयुक्त राज्य अमेरिका ने ‘असाधारण परिस्थितियों के लिए असाधारण उपायों’ की आवश्यकता बताते हुए कोविड-19 टीकों हेतु बौद्धिक संपदा संरक्षण में छूट देने के लिए अपना समर्थन देने की घोषणा की है।

महत्वपूर्ण तथ्य: अमेरिका, विश्व व्यापार संगठन (World Trade Organization- WTO) में ‘पाठ्य-आधारित समझौता वार्ता’ (text-based negotiations) का अनुसरण करेगा।

  • ‘पाठ्य-आधारित समझौता वार्ता’ में वार्ताकार अपने पसंदीदा शब्द के साथ प्रस्ताव लेखों का आदान-प्रदान करते हैं और फिर लंबे समय से चले आ रहे विषय के समाधान पर एक आम सहमति बनाते हैं।

कोविड-19 वैक्सीन हेतु बौद्धिक संपदाछूट का तात्पर्य: ‘बौद्धिक संपदा’ छूट से मध्यम-आय वर्ग के देशों में बड़े स्तर पर, फाइजर, मॉडर्ना, एस्ट्राजेनेका, नोवावैक्स, जॉनसन एंड जॉनसन और भारत बायोटेक द्वारा विकसित किये गए कोविड टीकों के आपातकालीन उपयोग अधिकार के साथ उत्पादन का अवसर मिल सकता है।

  • वर्तमान में, इन टीकों का उत्पादन अधिकांशतः उच्च आय वाले देशों में केंद्रित है; तथा मध्यम आय वाले देशों में लाइसेंसिंग या प्रौद्योगिकी हस्तांतरण समझौतों के माध्यम से इन टीकों का उत्पादन किया जा रहा है।

भारत द्वारा प्रस्ताव: अक्टूबर 2020 में, भारत और दक्षिण अफ्रीका ने विश्व व्यापार संगठन से, कोविड -19 से निपटने हेतु सस्ते चिकित्सा उत्पादों तक समय पर पहुंच को बाधित करने वाले, ‘बौद्धिक संपदा अधिकारों के व्यापार संबंधी पहलुओं’ (Trade Related Aspects of Intellectual Property Rights-TRIPS) से संबंधित समझौते के कुछ प्रावधानों से छूट देने के लिए कहा था।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय

मीडिया रिपोर्टों पर रोक लगाने संबंधी निर्वाचन आयोग की याचिका खारिज


उच्चतम न्यायालय ने 6 मई, 2021 को मद्रास उच्च न्यायालय की खंडपीठ द्वारा की गई मौखिक टिप्पणी पर रिपोर्टिंग करने से मीडिया को प्रतिबंधित करने हेतु भारत के निर्वाचन आयोग द्वारा दायर की गई याचिका को खारिज कर दिया है।

महत्वपूर्ण तथ्य: मद्रास उच्च न्यायालय के न्यायधीशों ने कहा था कि तमिलनाडु विधान सभा चुनाव के दौरान रैलियों और सामूहिक समारोहों की अनुमति देने के लिए मतदान अधिकारियों पर "हत्या" का आरोप लगाया जाना चाहिए। न्यायाधीशों ने टिप्पणी की थी कि भारत का निर्वाचन आयोग पूरी तरह से कोविड-19 के मामलों में वृद्धि के लिए जिम्मेदार है।

उच्चतम न्यायालय की टिप्पणी: न्यायाधीशों और वकीलों के बीच अदालतों में मौखिक आदान-प्रदान सहित अदालती कार्यवाही की रियलटाइम रिपोर्ट, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार का हिस्सा है।

  • नागरिकों को यह जानने का अधिकार है कि न्यायिक कार्यवाहियों के दौरान क्या कार्यवाही होती है।
  • प्रौद्योगिकी के आगमन के साथ, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स के माध्यम से रिपोर्टिंग का प्रसार हो रहा है, जो कि रियलटाइम में व्यापक रूप से लोगों तक अपडेट प्रदान करते हैं। यह वाक् और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का एक विस्तार है, जो मीडिया के पास है।
  • अदालत ने कहा कि बाल यौन शोषण और वैवाहिक मुद्दों के मामलों को छोड़कर, मुक्त प्रेस को अदालती कार्यवाही तक विस्तारित किया जाना चाहिए।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप निधन

वयोवृद्ध संगीतकार वनराज भाटिया का निधन


हिंदुस्तानी और पाश्चात्य शास्त्रीय संगीत पर बराबर की पकड़ रखने वाले प्रसिद्ध संगीतकार वनराज भाटिया का 7 मई, 2021 को मुंबई में निधन हो गया। वे 93 वर्ष के थे।

  • श्याम बेनेगल की फिल्म ‘अंकुर’ से अपने फिल्मी करियर की शुरूआत करने वाले वनराज भाटिया देश के पहले संगीतकार रहे, जिन्होंने विज्ञापन फिल्मों के लिए अलग से संगीत रचने की शुरूआत की।
  • ‘मंथन’, ‘भूमिका’, ‘जाने भी दो यारों’, ’36 चौरंगी लेन’ और ‘द्रोहकाल’ जैसी फिल्मों से वह हिंदी सिनेमा में लोकप्रिय हुए।
  • वनराज भाटिया का नाम घर घर पहुंचाने का काम दूरदर्शन पर प्रसारित धारावाहिक ‘भारत एक खोज’ ने किया। इसके अलावा उन्होंने दर्जनों वृत्तचित्रों का संगीत दिया और ‘खानदान’, ‘वागले की दुनिया’ और ‘बनेगी अपनी बात’ जैसे धारावाहिकों का संगीत भी दिया।
  • भाटिया को 1988 में टेलीविजन पर रिलीज हुई फिल्म ‘तमस’ के लिए सर्वश्रेष्ठ संगीतकार का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार दिया गया था। इसके अलावा सृजनात्मक व प्रयोगात्मक संगीत के लिए 1989 में उन्हें संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया। भारत सरकार ने उन्हें 2012 में पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप निधन

डॉ. फिलिपोज मार क्राइसोस्टोम मार थोमा वलिया का निधन


  • केरल स्थित मलंकरा मार थोमा सीरियन चर्च के पूर्व प्रमुख और भारत में सबसे लंबे समय तक बिशप के रूप में सेवा दे चुके डॉ. फिलिपोज मार क्राइसोस्टोम मार थोमा वालिया का 5 मई, 2021 को निधन हो गया। वे 103 वर्ष के थे।
  • 1944 में उन्हें 'डीकॉन ऑफ चर्च' बनाया गया। नौ साल बाद 1953 में उन्हें बिशप बनाया गया। मार क्राइसोस्टोम 1999 में मलंकरा मार थोमा सीरियन चर्च के 20वें मेट्रोपोलिटन बने। वह 68 साल तक बिशप रहे।
  • उन्हें गरीबों एवं वंचितों की सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक स्थिति में सुधार के लिए कई योजनाओं को लागू करने का श्रेय जाता है।
  • 2018 में उन्हें देश के तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप कला/संस्कृति

बद्रीनाथ धाम को आध्‍यात्मिक स्मार्ट नगरी के रूप में विकसित किया जाएगा


6 मई, 2021 को तेल और गैस क्षेत्र के सार्वजनिक उपक्रमों- इंडियन ऑयल, बीपीसीएल, एचपीसीएल, ओएनजीसी, गेल और बद्रीनाथ उत्थान धर्मार्थ न्यास ने एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। इस समझौते के तहत बद्रीनाथ धाम को आध्यात्मिक स्मार्ट नगरी के रूप में विकसित किया जाएगा।

  • तेल और प्राकृतिक गैस क्षेत्र के के सार्वजनिक उपक्रम पहले चरण की विकास गतिविधियों में 99.60 करोड़ रुपए का योगदान करेंगे।
  • पहले चरण की गतिविधियों में नदी तटबंध का विकास कार्य, हर मौसम के अनुकूल रास्तों का निर्माण, पुलों का निर्माण, मौजूदा पुलों का सौंदर्यीकरण, आवासीय सुविधा के साथ गुरुकुल की स्थापना, शौचालयों का निर्माण, पेयजल सुविधा उपलब्ध कराना, स्ट्रीटलाइट और भित्ति चित्रकारी शामिल है।
  • बद्रीनाथ भारत के उत्तराखंड राज्य में एक पवित्र शहर और चमोली जिले में एक नगर पंचायत है। यह भारत के चार धाम तीर्थयात्रा के चार स्थलों में से एक है और इसका नाम बद्रीनाथ मंदिर से लिया गया है।
  • बद्रीनाथ या बद्रीनारायण मंदिर एक हिंदू मंदिर है, जो विष्णु को समर्पित है। यह अलकनंदा नदी के किनारे स्थित है।
  • बद्रीनाथ को अक्सर बद्री विशाल कहा जाता है, जिसे 8वीं शताब्दी में आदि श्री शंकराचार्य ने पुनः स्थापित किया था।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप विविध

डबल्यूएजी 12बी इंजन


6 मई, 2021 को भारतीय रेलवे ने 100वां 12000 हॉर्स पावर का डबल्यूएजी 12बी इंजन (WAG 12 B Locomotive) अपने बेड़े में शामिल किया।

  • इंजन को ‘डब्लूएजी 12बी’ ((WAG 12 B) नाम दिया गया है और इसका नंबर 60100 है।
  • पहला ‘मेड इन इंडिया’ 12000 हॉर्स पावर का इलेक्ट्रिक इंजन भारत में बिहार स्थित मधेपुरा इलेक्ट्रिक लोको फैक्ट्री में निर्मित हुआ और 18 मई, 2020 को इसे भारतीय रेलवे के पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन स्टेशन पर सेवा में सम्मिलित किया गया।

संक्षिप्त खबरें बैंकिंग, फाइनेंस, सेवा और बीमा

एनपीसीआई भारत बिलपे लिमिटेड का गठन


नेशनल पेमेंट्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने अपनी पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी - एनपीसीआई भारत बिलपे लिमिटेड (NBBL) के गठन की घोषणा की। नई इकाई 1 अप्रैल, 2021 से लागू हो गई है।

  • नई इकाई के तहत ब्रांड 'भारत बिलपे' ग्राहकों को विभिन्न आवर्ती भुगतान सेवाएं प्रदान करता है, जिसमें बिजली, दूरसंचार, डीटीएच, गैस, शिक्षा शुल्क, पानी और नगरपालिका करों, FASTag रिचार्ज, ऋण चुकौती, आदि के लिए बिल भुगतान शामिल हैं।