पीआईबी न्यूज आर्थिक

भारत ऊर्जा डैशबोर्ड का 2.0 संस्करण


नीति आयोग ने 12 अप्रैल, 2021 को ‘भारत ऊर्जा डैशबोर्ड के 2.0 संस्करण’ (India Energy Dashboards Version 2.0) का शुभारंभ किया।

उद्देश्य: देश के ऊर्जा से जुड़े आंकड़ों का एक केंद्रीय डाटाबेस तैयार करना।

महत्वपूर्ण तथ्य: भारत ऊर्जा डैशबोर्ड (आईईडी) देश के ऊर्जा से जुड़े आंकड़ों के लिए एकल खिड़की का उद्यम है।

  • केंद्रीय ऊर्जा प्राधिकरण, कोयला नियंत्रक संगठन और पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय द्वारा प्रकाशित/उपलब्ध कराये गए ऊर्जा से जुड़े आंकड़ों को इस डैशबोर्ड में संकलित किया जाता है।
  • आईईडी, वित्त वर्ष 2005-06 से वित्त वर्ष 2019-20 के आंकड़े उपलब्ध कराता है; आईईडी अर्ध- वार्षिक अनुक्रम में भी डाटा उपलब्ध कराता है।
  • नीति आयोग ने इसके पहले संस्करण की शुरुआत मई 2017 में की थी।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

ई-कोर्ट परियोजना द्वारा विकसित पहल


सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश एवं सर्वोच्च न्यायालय की ई-समिति के अध्यक्ष न्यायमूर्ति धनंजय वाई. चंद्रचूड़ ने 9 अप्रैल, 2021 को पुणे स्थित ई-कोर्ट परियोजना टीम द्वारा विकसित पहल ‘जजमेन्ट्स एंड ऑर्डर्स पोर्टल’ (Judgments & Orders portal) और ‘ई-फाइलिंग 3.0 मॉड्यूल’(e-filing 3.0 module) का उद्घाटन किया।

उद्देश्य: कानूनी प्रणाली को मजबूत करना।

महत्वपूर्ण तथ्य: ‘जजमेन्ट्स एंड ऑर्डर्स सर्च पोर्टल’ देश के विभिन्न उच्च न्यायालयों द्वारा सुनाए गए निर्णयों का एक भंडार (रिपॉजिटरी) है। यह पोर्टल खोज के विभिन्न मानदंडों के आधार पर निर्णयों और अंतिम आदेशों को खोजने की सुविधा प्रदान करता है।

  • सर्वोच्च न्यायालय की ई-समिति द्वारा पेश किया गया ई-फाइलिंग 3.0 मॉड्यूल, अदालत के दस्तावेजों को इलेक्ट्रॉनिक तरीके से दाखिल करने की सुविधा देता है। इस नए मॉड्यूल की शुरुआत से वकीलों या मुवक्किल को मुकदमा दायर करने के लिए अदालत परिसर में जाने की जरूरत नहीं होगी।
  • ई-कोर्ट परियोजना ने नागरिक केंद्रित न्याय सुनिश्चित करने में एक निरंतर भूमिका निभाई है और इस अनुकरणीय कार्य को मान्यता देते हुए इस परियोजना को भारत सरकार द्वारा 2020 में डिजिटल गवर्नेंस उत्कृष्टता पुरस्कार प्रदान किया गया।

सामयिक खबरें अंतर्राष्ट्रीय

खाद्य बाजारों में जीवित जंगली स्तनधारियों की बिक्री रोकने का आह्वान


विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 13 अप्रैल, 2021 को विश्व पशु स्वास्थ्य संगठन (OIE) और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) के साथ मिलकर कोविड जैसे नए रोगों के उद्भव को रोकने के लिए खाद्य बाजारों में जीवित जंगली स्तनधारियों की बिक्री को रोकने का आह्वान किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: जीवित जंगली स्तनधारियों की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने से बाजार के श्रमिकों और ग्राहकों के स्वास्थ्य की रक्षा हो सकती है।

  • पशु, विशेष रूप से जंगली जानवर, मनुष्यों में सभी उभरते संक्रामक रोगों के 70% से अधिक का स्रोत हैं, जिनमें से कई नये वायरस के कारण होते हैं। जंगली स्तनधारी, विशेष रूप से, नई बीमारियों के उद्भव का जोखिम पैदा करते हैं।

विश्व पशु स्वास्थ्य संगठन: वैश्विक स्तर पर पशु रोगों से लड़ने की आवश्यकता के चलते 25 जनवरी, 1924 को हस्ताक्षरित अंतरराष्ट्रीय समझौते के माध्यम से 'कार्यालय इंटरनेशनल डेस एपीजूटीज' (Office International des Epizooties- OIE) का गठन हुआ। मई 2003 में यह कार्यालय 'विश्व पशु स्वास्थ्य संगठन' बन गया।

  • OIE दुनिया भर में पशु स्वास्थ्य में सुधार के लिए जिम्मेदार अंतर-सरकारी संगठन है।
  • OIEको विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) द्वारा एक संदर्भ संगठन के रूप में मान्यता प्राप्त है। OIE का मुख्यालय पेरिस, फ्रांस में स्थित है।

सामयिक खबरें विज्ञान-पर्यावरण

वायनाड अभयारण्य एशियाई जंगली कुत्ते का निवास स्थल


अप्रैल 2021 में मांसाहारी 'एशियाई जंगली कुत्ते' या ढोल (dhole), पर किए गए एक अध्ययन के अनुसार हाथियों और बाघों के प्रमुख निवास स्थान ‘वायनाड वन्यजीव अभयारण्य’ में काफी संख्या में एशियाई जंगली कुत्ते हैं।

महत्वपूर्ण तथ्य: वाइल्डलाइफ कंजर्वेशन सोसाइटी-इंडिया, नेशनल सेंटर फॉर बायोलॉजिकल साइंसेज, केरल वेटनरी एंड एनिमल साइंसेज यूनिवर्सिटी, फ्लोरिडा विश्वविद्यालय और स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा इस मांसाहारी पर किए गए पहले अध्ययन में पाया गया कि अभयारण्य में करीब 50 ढोल हैं।

  • हाल ही में हुए एक बाघ सर्वेक्षण में पता चला है कि 11 से 13 बाघ प्रति 100 वर्ग किमी. के साथ अभयारण्य में बाघों की आबादी भी अपेक्षाकृत अधिक है।
  • दो बड़े मांसाहारी का इस तरह के उच्च घनत्व में सह-अस्तित्व, एक प्रचुर शिकार आधार और उच्च गुणवत्ता के निवास स्थल का संकेत देता है।
  • ढोल (Cuon alpinus) मध्य एशिया, दक्षिण एशिया, पूर्व एशिया और दक्षिण पूर्व एशिया का एक मूल निवासी है। इसे भारतीय जंगली कुत्ता, एशियाई जंगली कुत्ता, लाल कुत्ता जैसे अन्य नामों से भी जाना जाता है।
  • एशियाई जंगली कुत्ते को आईयूसीएन द्वारा ‘संकटग्रस्त’ श्रेणी में सूचीबद्ध किया गया है। एशियाई जंगली कुत्ता प्रजाति वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 की अनुसूची- 2 के तहत संरक्षित है।

सामयिक खबरें विज्ञान-पर्यावरण

रिस्टोर फंड


15 अप्रैल 2021 को, एप्पल कंपनी (Apple) ने अपनी तरह की पहली कार्बन हटाने की पहल हेतु ‘रिस्टोर फंड’ (Restore Fund) की घोषणा की।

महत्वपूर्ण तथ्य: यह फंड निवेशकों के लिए वित्तीय रिटर्न उत्पन्न करते हुए वायुमंडल से कार्बन को हटाने के लिए वानिकी परियोजनाओं में निवेश करेगा।

  • इसे अमेरिकी गैर-लाभकारी संगठन कंजर्वेशन इंटरनेशनल और बहु-राष्ट्रीय निवेश कंपनी गोल्डमैन सैश (Goldman Sachs) के साथ लॉन्च किया गया।
  • एप्पल के 200 मिलियन डॉलर फंड का उद्देश्य वातावरण से सालाना कम से कम दस लाख मीट्रिक टन कार्बन डाइ-ऑक्साइड को हटाना है, जो कि 2,00,000 से अधिक यात्री वाहनों द्वारा उपयोग किए गए ईंधन के बराबर है।
  • एप्पल की यह पहल 2030 तक अपनी संपूर्ण मूल्य शृंखला में कार्बन तटस्थ बनने के व्यापक लक्ष्य का हिस्सा है।
  • कंपनी 2030 तक अपनी आपूर्ति शृंखला और उत्पादों के लिए 75% उत्सर्जन को सीधे हटा देगी तथा फंड वातावरण से कार्बन को हटाकर शेष 25% एप्पल के उत्सर्जन का समाधान करने में मदद करेगा।
  • 2018 में, Apple ने कोलंबिया के कैरिबियन तट पर Cispatá Bay में 27,000 एकड़ के मैंग्रोव वनों की सुरक्षा और पुनर्बहाली के लिए कंजर्वेशन इंटरनेशनल, स्थानीय सरकार और कोलंबिया के संरक्षण संगठनों के साथ भागीदारी की थी।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप निधन

प्रख्यात इतिहासकार योगेश प्रवीण का निधन


प्रख्यात इतिहासकार और अवध क्षेत्र खासतौर से लखनऊ के विशेषज्ञ योगेश प्रवीण का 12 अप्रैल, 2021 को लखनऊ में निधन हो गया। वे 82 वर्ष के थे।

  • 2019 में पद्म श्री से सम्मानित योगेश ऑल इंडिया रेडियो लखनऊ से भी जुड़े रहे। उन्होंने श्याम बेनेगल द्वारा निर्देशित फिल्म 'जुनून' के लिए गीत भी लिखे हैं।
  • पुस्तकों के अलावा उन्होंने कविता भी प्रकाशित की। उन्हें उनकी पुस्तक 'लखनऊनामा' के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार मिला था। उन्हें उत्तर प्रदेश रत्न पुरस्कार (2000), राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार (1999), यश भारती पुरस्कार (2006), और उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार (1998) सहित कई अन्य पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व चगास रोग दिवस


14 अप्रैल

महत्वपूर्ण तथ्य: चगास रोग या 'अमेरिकी ट्रिपैनोसोमियासिस' (American trypanosomiasis) को 'साइलेंट डिजीज' भी कहा जाता है।

  • यह रोग ट्रायटोमाइन कीट के मल में पाए जाने वाले परजीवी ‘ट्रायपैनोसोमा क्रूजी’ (Trypansosoma cruzi) के संक्रमण के कारण होता है। इसमें हृदय संबंधी परेशानी होती है।
  • रोग का नाम डॉक्टर कार्लोस रिबेरो जस्टिनियानो चगास के नाम पर रखा गया है, जिन्होंने पहली बार इस रोग की पहचान की थी।

सामयिक खबरें संस्थान-संगठन

राष्ट्रीय पर्यावरण इंजीनियरिंग और अनुसंधान संस्थान


अप्रैल 2021 में वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR) ने 'राष्ट्रीय पर्यावरण इंजीनियरिंग और अनुसंधान संस्थान (National Environment Engineering and Research Institute- NEERI) के निदेशक को उनके पद से हटा दिया है और उन्हें दिल्ली में अपने मुख्यालय में स्थानांतरित कर दिया है।

  • NEERI 'पर्यावरण विज्ञान और इंजीनियरिंग' के क्षेत्र में एक अग्रणी प्रयोगशाला है और वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR) की घटक प्रयोगशाला है। NEERI की चेन्नई, दिल्ली, हैदराबाद, कोलकाता और मुंबई में पाँच क्षेत्रीय प्रयोगशालाएँ हैं। NEERI केंद्र सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अंतर्गत आता है।
  • NEERI सरकार के साथ मिलकर पर्यावरण से संबंधित कई परियोजनाओं के सलाहकार के रूप में काम करता है और वायु, जल और भूमि प्रदूषण के मामलों पर सरकारी और निजी कंपनियों से जुड़े कई विवादों में विशेषज्ञ राय देता है।
  • नीरी की स्थापना 1958 में की गई थी। इसका मुख्यालय नागपुर में स्थित है।