पीआईबी न्यूज आर्थिक

रेलवे की दो लंबी मालगाड़ियां 'त्रिशूल' और 'गरुड़'


भारतीय रेलवे ने अक्टूबर 2021 में दक्षिण मध्य रेलवे पर पहली बार दो लंबी मालगाड़ियों (two long haul freight trains) ‘त्रिशूल’ और ‘गरुड़’ का सफलतापूर्वक संचालन किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: मालगाड़ियों की सामान्य संरचना से दोगुनी या कई गुना बड़ी, लंबी ये मालगाड़ीमहत्वपूर्ण सैक्शनों में मालगाड़ी क्षमता की कमी की समस्या का प्रभावी समाधान प्रदान करती हैं।

  • दोनों ही लंबी ट्रेनों में मुख्य रूप से थर्मल पावर स्टेशनों के लिए कोयले की लदान के लिए खाली खुले डिब्बे (empty open wagons) हैं।

त्रिशूल: यह दक्षिण मध्य रेलवे की पहली लंबी रेल है, जिसमें तीन मालगाड़ियां, यानी 177 डिब्बे शामिल हैं।

इस मालगाड़ी को 7 अक्टूबर को विजयवाड़ा मंडल के ‘कोंडापल्ली’ (Kondapalli) स्टेशन से पूर्वी तट रेलवे के ‘खुर्दा’ (Khurda) मंडल के लिए रवाना किया गया था।

गरुड़: दक्षिण मध्य रेलवे ने इसके बाद 8 अक्टूबर को गुंतकल मंडल के ‘रायचूर’ (Raichur) से सिकंदराबाद मंडल के ‘मनुगुरु’ (Manuguru) तक इसी तरह की एक और मालगाड़ी गरुड़ को रवाना किया ।

पीआईबी न्यूज विज्ञान और तकनीक

क्वांटम कम्युनिकेशन लैब


दूरसंचार सचिव के. राजारमन ने 10 अक्टूबर, 2021 को सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स (C-DOT), दिल्ली में क्वांटम कम्युनिकेशन लैब (Quantum Communication Lab) का उद्घाटन किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: उन्होंने C-DOT द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित क्वांटम कुंजी वितरण (Quantum Key Distribution: QKD) समाधान का भी अनावरण किया।

  • क्वांटम कुंजी वितरण मानक ऑप्टिकल फाइबर पर 100 किलोमीटर से अधिक की दूरी पर संचार स्थापित कर सकता है।
  • सी-डॉट भारत में दूरसंचार सेवा प्रदाताओं के साथ-साथ सामरिक और रक्षा क्षेत्र की आवश्यकताओं के व्यापक रूप से समाधान के लिए स्वदेशी क्वांटम सुरक्षित दूरसंचार उत्पादों और समाधानों के पूर्ण पोर्टफोलियो की पेशकश करने वाला भारत का पहला संगठन बन गया है।

क्वांटम प्रौद्योगिकी: क्वांटम प्रौद्योगिकी को मोटे तौर पर चार क्षेत्रों में विभाजित किया जा सकता है। क्वांटम कंप्यूटिंग, क्वांटम संचार, क्वांटम सेंसर और क्वांटम मैटेरियल (Quantum Materials)।

  • क्वांटम प्रौद्योगिकियां सूक्ष्म कणों (जैसे फोटॉन, इलेक्ट्रॉन, परमाणु आदि) द्वारा प्रदर्शित परिघटनाओं पर आधारित होती हैं।

अन्य तथ्य: भारत ने क्वांटम प्रौद्योगिकी और अनुप्रयोगों पर राष्ट्रीय मिशन (NM-QTA) लॉन्च किया है। आठ वर्षों से अधिक की अवधि वाली एक अरब डॉलर से अधिक के बजट वाली इस पहल का नेतृत्व विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST) द्वारा किया जाएगा।

  • C-DOT दूरसंचार विभाग, भारत सरकार के तहत एक प्रमुख दूरसंचार अनुसंधान एवं विकास संगठन है।

सामयिक खबरें पर्यावरण

भारतीय चिड़ियाघरों के लिए विजन प्लान 2021-2031


पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने 11 अक्टूबर, 2021 को 'भारतीय चिड़ियाघरों के लिए विजन प्लान 2021-2031' (Vision Plan 2021-2031 for Indian zoos) जारी किया है।

विजन प्लान का उद्देश्य: स्थानीय पक्षियों और जानवरों के संरक्षण पर ध्यान केंद्रित करते हुए भारतीय चिड़ियाघरों को वैश्विक मानकों पर अपग्रेड करना और केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण को मजबूत करना।

विजन प्लान 2021-2031: भारत दुनिया के भू-भाग का केवल 2.4% है, फिर भी यहाँ सभी दर्ज प्रजातियों का 7-8% हिस्सा है, जिसमें पौधों की 45,000 से अधिक प्रजातियां और जानवरों की 91,000 प्रजातियां शामिल हैं। इसलिए सतत विकास के लिए जैव विविधता को संरक्षित किया जाना चाहिए।

  • विजन प्लान का उद्देश्य भारत में बाह्य स्थाने संरक्षण (ex-situ conservation) दृष्टिकोण को एक दिशा देना है।
  • विजन प्लान में केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण और भारतीय चिड़ियाघरों के लिए परिवर्तन के 10 स्तंभों का भी उल्लेख है। इन स्तंभों में संकटग्रस्त देशी प्रजातियों के बाह्य स्थाने संरक्षण को मजबूत करना, पशु कल्याण को अनुकूलित करना, बचाए गए जानवरों का प्रबंधन आदि शामिल हैं।

अन्य तथ्य: केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण की स्थापना वर्ष 1992 में भारत सरकार द्वारा पर्यावरण और वन मंत्रालय के तहत एक सांविधिक निकाय के रूप में की गई थी। प्राधिकरण में एक अध्यक्ष, दस सदस्य और एक सदस्य सचिव शामिल हैं।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप निधन

पूर्व राजनयिक वी.एम.एम. नायर का निधन


भारत के सबसे वयोवृद्ध पूर्व राजनयिक वी.एम.एम.नायर का उनके 103वें जन्मदिन से दो दिन पहले 6 अक्टूबर, 2021 को निधन हो गया।

(Image Source: www.manoramaonline.com/)

  • नायर 1942 के बिहार कैडर के भारतीय सिविल सेवा (आईसीएस) के अधिकारी थे।
  • नायर ने अगस्त 1946 से सितंबर1948 तक विदेश विभाग में अवर सचिव के रूप में कार्य किया। बाद में वे राष्ट्रमंडल संबंधों के वरिष्ठ अवर सचिव भी रहे।
  • उन्होंने 1957-58 के दौरान कुआलालंपुर में भारत के उच्चायुक्त के रूप में कार्य किया।उन्होंने कंबोडिया और पोलैंड में भारत के राजदूत के रूप में भी काम किया था।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

नोबेल शांति पुरस्कार 2021


नॉर्वेजियन नोबेल समिति ने 8 अक्टूबर, 2021 को नोबेल शांति पुरस्कार 2021 की घोषणा की।

(Image Source: Nobel Prize Twitter)

  • फिलीपींस की मारिया रेसा (Maria Ressa) और रूस के दिमित्री मुराटोव (Dmitry Muratov) को अभिव्यक्ति की आजादी की रक्षा के प्रयासों के लिए यह पुरस्कार दिया गया है, जो लोकतंत्र और स्थायी शांति के लिए एक पूर्व शर्त है।
  • मारिया रेसा: वह अपने मूल देश फिलीपींस में सत्ता के दुरुपयोग, हिंसा के इस्तेमाल और बढ़ते अधिनायकवाद को उजागर करने के लिए अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का उपयोग करती हैं।
  • 2012 में, उन्होंने खोजी पत्रकारिता के लिए एक डिजिटल मीडिया कंपनी रैपलर (Rappler) की सह-स्थापना की, जिसकी वह अभी भी प्रमुख हैं। एक पत्रकार और रैपलर के सीईओ के रूप में, रेसा ने खुद को अभिव्यक्ति की आजादी के एक निर्भीक रक्षक के रूप में पेश किया है।
  • रैपलर ने राष्ट्रपति रोड्रिगो दुतेर्ते शासन के विवादास्पद, जानलेवा ड्रग-विरोधी अभियान पर आलोचनात्मक दृष्टि से ध्यान केंद्रित किया है।
  • रेसा और रैपलर ने इस बात को भी उजागर किया कि कैसे फेक न्यूज फैलाने, विरोधियों को परेशान करने और सार्वजनिक संवाद में हेरफेर करने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया जा रहा है।
  • दिमित्री आंद्रेयेविच मुराटोव:मुराटोव रूस में चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों के बावजूद दशकों तक अभिव्यक्ति की आजादी के पैरोकार रहे हैं।
  • 1993 में, वह स्वतंत्र समाचार पत्र 'नोवाजा गजेटा' (Novaja Gazeta) के सह-संस्थापकों में से एक थे। 1995 से वे 24 वर्षों तक इसके प्रधान संपादक रहे हैं। सत्ता के प्रति मौलिक रूप से आलोचनात्मक रवैये के साथ नोवाजा गजेटा आज भी रूस में सबसे स्वतंत्र समाचार पत्र है।
  • 1993 में अपनी शुरुआत के बाद से, नोवाजा गजेटा ने भ्रष्टाचार, पुलिस हिंसा, गैरकानूनी गिरफ्तारी, चुनावी धोखाधड़ी से लेकर रूस के भीतर और बाहर रूसी सैन्य बलों के उपयोग तक के विषयों पर महत्वपूर्ण लेख प्रकाशित किए हैं।
  • अन्य तथ्य: आज तक, सबसे कम उम्र की नोबेल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई हैं, जो 2014 के नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित होने के समय 17 वर्ष की थीं। कैलाश सत्यार्थी और मलाला यूसुफजई को संयुक्त रूप से नोबेल शांति पुरस्कार 2014 प्रदान किया गया था।
  • अब तक के सबसे वयोवृद्ध नोबेल शांति पुरस्कार विजेता जोसेफ रोटब्लैट हैं, जो 1995 के नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित होने के समय 87 वर्ष के थे।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस (11 अक्टूबर)


2021 का विषय: 'डिजिटल पीढ़ी। हमारी पीढ़ी' (Digital Generation. Our Generation)

महत्वपूर्ण तथ्य: संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 19 दिसंबर, 2011 को लड़कियों के अधिकारों और दुनिया भर में लड़कियों के सामने आने वाली चुनौतियों को पहचानने के लिए 11 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय बालिका के दिवस के रूप में घोषित किया था।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व गठिया दिवस (12 अक्टूबर)


2021 का विषय: 'देर न करें, आज ही संपर्क करें: टाइमटूवर्क' ( Don’t Delay, Connect Today: Time 2 Work)

महत्वपूर्ण तथ्य: इस दिवस का उद्देश्य आमवाती विकारों (rheumatic disorders) के बारे में लोगों के बीच जागरूकता पैदा करने के साथ-साथ सरकार और नीति निर्माताओं को बीमारी के बारे में जागरूक करना है।

  • इस दिवस की स्थापना वर्ष 1996 में अर्थराइटिस और रूमेटिजम इंटरनेशनल (ARI) द्वारा की गई थी।

राज्य समाचार मेघालय

मेघालय के मंत्री को पेटा इंडिया पुरस्कार


13 अक्टूबर, 2021 को ‘पीपुल फॉर द एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स’ (पेटा इंडिया) (People for the Ethical Treatment of Animals: PETA India) ने मेघालय के पर्यावरण और वन मंत्री जेम्स संगमा को अनानास के 'वेगन लेदर' (vegan leather) को बढ़ावा देने के लिए 'प्रोग्रेसिव बिजनेस कॉन्सेप्ट अवार्ड' (Progressive Business Concept Award) के विजेता नामित किया है।

(Image Source: www.republicworld.com/)

  • राज्य में किसानों को अनानास के 'वेगन लेदर' के उत्पादन के लिए प्रोत्साहित करने के अलावा, संगमा की एक जलवायु परिवर्तन संग्रहालय खोलने और स्कूल पाठ्यक्रम में जलवायु परिवर्तन को पेश करने की भी योजना है।
  • 'वेगन लेदर' एक ऐसी सामग्री है जो चमड़े की तरह होती है, लेकिन जानवरों की खाल के बजाय कृत्रिम या पादप उत्पादों से बनाई जाती है।
  • अनानस 'वेगन लेदर', एक बिल्कुल नया उत्पाद है, जिसे दुनिया भर में कुछ फैशन डिजाइन कंपनियां जानवरों की पीड़ा को कम करने के लिए अपना रही हैं।
  • 'इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर हॉर्टिकल्चरल साइंस' (International Society for Horticultural Science) के अनुसार, मेघालय ने भारत में उत्पादित कुल अनानास में लगभग 8% का योगदान दिया है।

खेल समाचार विविध

विश्व कुश्ती चैंपियनशिप 2021: भारत की अंशु मलिक ने जीता ऐतिहासिक रजत


भारत की अंशु मलिक ने 7 अक्टूबर, 2021 को नॉर्वे के ओस्लो में विश्व कुश्ती चैंपियनशिप 2021 के फाइनल में अमेरिका की हेलेन मारौलिस से हार के बाद महिलाओं के 57 किग्रा. वर्ग में रजत पदक जीता।

(Image Source: Anshu Malik twitter)

  • वे विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में रजत पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बन गई हैं।
  • इससे पहले 6 अक्टूबर को अंशु मलिक यूक्रेन की सोलोमिया विंक को हराकर विश्व कुश्ती चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बनी थी।
  • अंशु के रजत के अलावा, दो बार की एशियाई चैंपियन, भारत की सरिता मोर ने प्लेऑफ में स्वीडन की सारा लिंडबोर्ग को 8-2 से हराकर महिलाओं के 59 कि.ग्रा. में कांस्य पदक जीता।
  • इससे पहले, केवल पांच भारतीय महिलाओं अलका तोमर (2006), गीता फोगट (2012), बबीता फोगट (2012), पूजा ढांडा (2018) और विनेश फोगट (2019) ने विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता था।
  • सुशील कुमार (2010) आज तक भारत के एकमात्र विश्व चैंपियन पहलवान हैं।
  • विश्व कुश्ती चैंपियनशिप 2021 का आयोजन 2 से 10 अक्टूबर, 2021 तक ओस्लो, नॉर्वे में किया गया था।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

38वीं प्रगति बैठक


हाल ही में भारतीय प्रधानमंत्री ने 38वीं प्रगति बैठक (38th PRAGATI meeting) की अध्यक्षता की। प्रगति, आईसीटी आधारित मल्टी-मोडल प्लेटफॉर्म है, जो सक्रिय प्रशासन और समय पर कार्यान्वयन में सहायक है। इस प्लेटफॉर्म में केंद्र और राज्य सरकारों को शामिल किया गया है। बैठक में 8 योजनाओं की समीक्षा की गई। इनमें से चार परियोजनाएं रेल मंत्रालय की, दो विद्युत मंत्रालय की और एक-एक क्रमशः सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय तथा नागरिक उड्डयन मंत्रालय की थीं। लगभग 50,000 करोड़ रुपये की कुल लागत वाली ये परियोजनाएं सात राज्यों- ओडिशा, आंध्र प्रदेश, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और हरियाणा से संबंधित हैं।