पीआईबी न्यूज आर्थिक

‘भारत के स्‍वास्‍थ्‍य सेवा क्षेत्र में निवेश का अवसर’ रिपोर्ट


नीति आयोग ने 30 मार्च, 2021 को ‘भारत के स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में निवेश के अवसर’ पर रिपोर्ट जारी की।

महत्वपूर्ण तथ्य: रिपोर्ट में भारत के स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र के विभिन्न वर्गों जैसे अस्पतालों, चिकित्सकीय उपकरणों, स्वास्थ्य बीमा, टेली-मेडिसिन, घर पर स्वास्थ्य देखभाल और चिकित्सकीय यात्राओं के क्षेत्र में निवेश के व्यापक अवसरों की रूपरेखा प्रस्तुत की गई है।

  • भारत का स्वास्थ्य देखभाल उद्योग 2016से 22% की वार्षिक चक्रवृद्धि प्रगति दर से बढ़ रहा है। ऐसा अनुमान है कि इस दर से यह 2022तक 372अरब डॉलर तक पहुंच जाएगा।
  • बहुत से तत्व भारतीय स्वास्थ्य देखभाल क्षेत्र की प्रगति को बढ़ा रहे हैं, इनमें बड़ी उम्र की आबादी, बढ़ता हुआ मध्य वर्ग, जीवन-शैली से जुड़ी बीमारियों का बढ़ना, पीपीपी पर बढ़ता जोर और डिजिटल प्रौद्योगिकियों को आत्मसात किया जाना शामिल है।
  • अस्पताल खण्ड में महानगरीय शहरों से परे टियर -2 और टियर -3 स्थानों तक निजी क्षेत्र का विस्तार आकर्षक निवेश अवसर प्रदान करता है।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

‘मदुरै की कहानियां' विषय पर वेबिनार


पर्यटन मंत्रालय ने 30 मार्च, 2021 को ‘देखो अपना देश’ अभियान के तहत 'मदुरै की कहानियां' विषय पर वेबिनार आयोजित किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: तमिलनाडु के सबसे पुराने शहरों में से एक मदुरै को पहले मधुरापुरी और तुंग नगरम (Thoonga Nagaram) के नाम से जाना जाता था, जिसका अर्थ है - शहर जो कभी नहीं सोता है।

  • मदुरै, मीनाक्षी अम्मन मंदिर के आसपास विकसित हुआ, जिसका निर्माण 2,500 साल पहले पांडियन राजा, कुलशेखर द्वारा किया गया था। लोकप्रिय रूप से शहर को ‘पूर्व का एथेंस’ कहा जाता है।
  • तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में यूनान के यात्री, मेगस्थनीज ने इस शहर का भ्रमण किया था। इस प्राचीन दक्षिण भारतीय शहर का भ्रमण करने वाले अन्य प्रसिद्ध यात्री थे - 77ई. में प्लिनी, 140ई.में टॉलमी, 1203ई. में मार्को पोलो और 1333 ई. में इब्न बतूता।
  • भारत में सबसे बड़े मंदिर परिसरों में से एक, श्री मीनाक्षी-सुंदरेश्वर मंदिर (Sri Meenakshi-Sundareswarar Temple) मदुरै का सबसे प्रसिद्ध आध्यात्मिक स्थल है। द्रविड़ वास्तुकला का एक उत्कृष्ट उदाहरण यह मंदिर एक विशाल क्षेत्र में फैला हुआ है।
  • मदुरै अपनी बेहतरीन साड़ियों, लकड़ी के खिलौनों और मूर्तियों के लिए भी जाना जाता है। इसे 'शॉपिंग हब' (hub of shopping) भी कहा जाता है।

सामयिक खबरें आर्थिकी

महाराष्ट्र को मिली भारत की पहली फ्लोटिंग एलएनजी स्टोरेज और रिगैसिफिकेशन यूनिट


8 अप्रैल, 2021 को भारत का पहला ‘फ्लोटिंग स्टोरेज और रीगैसिफिकेशन यूनिट’ (Floating Storage and Regasification Unit- FSRU) महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले में एच-एनर्जी के जयगढ़ टर्मिनल (H-Energy’s Jaigarh Terminal) पर पहुंच गया। एफएसआरयू होएग जायंट (FSRU Höegh Giant) को सिंगापुर के केपेल शिपयार्ड से रवाना किया गया था।

महत्वपूर्ण तथ्य: FSRU एलएनजी ट्रांसफर के लिए इस्तेमाल किए जाने वाला विशेष प्रकार का जहाज होता है। रीगैसिफिकेशन प्रक्रिया के द्वारा तरलीकृत प्राकृतिक गैस (LNG) को उसकी गैसीय अवस्था में वापस लाने के लिए तप्त किया जाता है।

  • यह महाराष्ट्र में तरलीकृत प्राकृतिक गैस (एलएनजी) टर्मिनल का पहला वर्ष भी है। यह एलएनजी टर्मिनल भारत के पश्चिमी तट पर महाराष्ट्र के रत्नागिरि जिले के जेएसडब्ल्यू जयगढ़ बंदरगाह (JSW Jaigarh Port) पर स्थित है।
  • यह बंदरगाह महाराष्ट्र में गहरे समुद्र में सातों दिन चौबीसो घंटे परिचालन करने वाला निजी क्षेत्र का पहला बंदरगाह है।
  • 2017 में निर्मित होएग जायंट में 1,70,000 घन मीटर की भंडारण क्षमता है और प्रति दिन 75 करोड़ घन फुट (प्रति वर्ष लगभग 60 लाख टन के बराबर) की स्थापित रीगैसीफिकेशन क्षमता है। एच-एनर्जी ने इस FSRU को 10 वर्षों के लिए लिया है।
  • होएग जायंट 56 किमी. लंबी जयगढ़-दाभोल प्राकृतिक गैस पाइपलाइन के जरिये रीगैसीफाइड एलएनजी की आपूर्ति करेगी। यह पाइपलाइन इस एलएनजी टर्मिनल को राष्ट्रीय गैस ग्रिड से जोड़ती है।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय

नागालैंड द्वारा स्थानीय निवासियों की सूची हेतु पैनल गठित


नागालैंड सरकार ने 16 अप्रैल, 2021 को राज्य के स्थानीय निवासियों को पंजीकृत करने के लिए सभी पारंपरिक आदिवासी निकायों और नागरिक समाज संगठनों को शामिल करते हुए एक संयुक्त सलाहकार समिति के गठन का निर्णय लिया है।

महत्वपूर्ण तथ्य: संयुक्त सलाहकार समिति का नेतृत्व नागालैंड के गृह आयुक्त अभिजीत सिन्हा करेंगे।

  • जुलाई 2019 में, नागालैंड सरकार ने असम के राष्ट्रीय रजिस्टर की तर्ज पर ‘नागालैंड के स्थानीय निवासियों का रजिस्टर’ (Register of Indigenous Inhabitants of Nagaland- RIIN) लॉन्च किया, जिसमें लगभग 3.3 करोड़ आवेदकों में से 19.06 लाख लोगों को बाहर रखा गया।
  • RIIN का उद्देश्य बाह्य लोगों द्वारा राज्य में नौकरी और सरकारी योजनाओं का लाभ प्राप्त करने हेतु नकली स्वदेशी प्रमाण पत्रों को प्रस्तुत किये जाने पर अंकुश लगाना था।
  • कुछ नागरिक समाज संगठनों और चरमपंथी समूहों द्वारा इसका विरोध करने के बाद RIIN प्रक्रिया को रोक दिया गया था।
  • ज्ञात हो कि RIIN के लिये पहचान प्रक्रिया के तहत 1 दिसंबर, 1963 (नागालैंड को राज्य का दर्जा मिलने की तिथि) को स्थानीय निवासियों के निर्धारण हेतु अंतिम तिथि के रूप में लागू किया जाना है, जिससे इस तिथि के बाद नागालैंड में प्रवेश करने वाले गैर-नागा व अन्य RIIN की सूची से बाहर हो सकते हैं।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप निधन

मराठी फिल्म निर्माता सुमित्रा भावे का निधन


राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता मराठी फिल्म निर्माता सुमित्रा भावे का 19 अप्रैल, 2021 को पुणे में निधन हो गया। वे 78 वर्ष की थीं।

  • 'बाई' और 'पानी' जैसी शुरुआती लघु फिल्मों की लोकप्रियता के बाद उन्होंने 1995 में अपनी पहली फिल्म 'दोघी' बनाई, जिसके बाद उनकी फिल्में 'दाहवी फ', 'वास्तुपुरुष', 'देवराई', 'बाधा', और 'नितल', 'एक कप च्या', 'घो माला असला हवा', 'कसाव' और 'अस्तू' रिलीज हुई।
  • फिल्म निर्माता सुनील सुथंकर के साथ 'स्ट्रेंज प्रोडक्शन' के बैनर तले बनी उनकी फिल्में विभिन्न सामाजिक मुद्दों पर आधारित थीं।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व यकृत दिवस


19 अप्रैल

महत्वपूर्ण तथ्य: इस दिवस का मनाने का उद्देश्य यकृत (लिवर) से संबंधित बीमारियों के बारे में जागरूकता फैलाना है।

राज्य समाचार अरुणाचल प्रदेश

अरुणाचल में सरकारी कर्मचारियों को करना होगा ड्रग्स की लत का खुलासा


अप्रैल 2021 में अरुणाचल प्रदेश सरकार ने प्राकृतिक और सिंथेटिक ड्रग्स के आदी अपने कर्मचारियों पर नकेल कसने का फैसला किया है।

  • 25 जिलों में से 13-15 जिलों में नशा एक खतरनाक अनुपात तक पहुंच गया है। सिंथेटिक ड्रग्स ने खतरे की जांच में चुनौतियों को बढ़ाया है।
  • सरकार जल्द ही एक अधिसूचना जारी करेगी, जिसमें सभी कर्मचारियों को ड्रग्स की लत, यदि कोई हो, के बारे में रिपोर्ट करना अनिवार्य होगा।
  • अधिसूचना "बुरी आदत" (bad habit) का खुलासा करने की समय सीमा के साथ आएगी। समय सीमा के बाद किसी भी कर्मचारी को नशे का आदी पाए जाने पर कानूनी कार्यवाही का सामना करना पड़ेगा। नशे के आदी लोगों में महिलाओं और नाबालिग भी शामिल हैं।
  • भांग और अफीम जैसे मादक पदार्थों की खेती भी प्रवर्तन एजेंसियों के लिए एक बड़ी चुनौती रही है।

राज्य समाचार झारखंड

चुनावी बॉन्ड के जरिेये चंदा देने वालों का नाम घोषित करने वाली पहली पार्टी बनी झारखंड मुक्ति मोर्चा


अप्रैल 2021 में एसोसिएशन आफ डेमोक्रेटिक रिफार्म्स (एडीआर) की रिपोर्ट के अनुसार झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) ऐसी पहली पार्टी बन गई है, जिसने चुनावी बॉन्ड के माध्यम से चंदा देने वालों के नामों की घोषणा की है।

  • वर्ष 2019-20 में पार्टी को योगदान संबंधी रिपोर्ट में एक करोड़ रूपये के चंदे की घोषणा की गई है । झारखंड में सत्तारूढ़ पार्टी को मिले योगदान संबंधी रिपोर्ट के अनुसार, उसे एल्यूमिनियम एवं तांबा विनिर्माता कंपनी ‘हिंडाल्को’ ने यह चंदा दिया।
  • हालांकि पार्टी ने वित्त वर्ष 2019-20 की ऑडिट रिर्पोट में चुनावी बॉन्ड के जरिये इस आय की घोषणा नहीं की।
  • ज्ञात हो कि चुनावी बॉन्ड को राजनीतिक दलों को नकद में चंदा देने के विकल्प के तौर पर पेश किया जा रहा है और इसे राजनीतिक वित्त पोषण में पारदर्शिता लाने के प्रयास के तौर पर देखा जा रहा है।
  • 2017 के केंद्रीय बजट में घोषित, चुनावी बॉन्ड व्यक्तियों, संस्थाओं और संगठनों द्वारा राजनीतिक दलों को चंदा देने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • चुनावी बॉन्ड 1,000 रुपये, 10,000 रुपये, 1 लाख रुपये, 10 लाख रुपये और 1 करोड़ रुपये के गुणकों में बेचे जाते हैं और भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) उन्हें बेचने के लिए अधिकृत एकमात्र बैंक है।