चौथा ‘भारत ऊर्जा फोरम –सेरावीक’

( 26 October, 2020, , www.pib.gov.in )


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 26 अक्टूबर, 2020 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चौथे ‘भारत ऊर्जा फोरम- सेरावीक’ (India Energy Forum- CERAWeek) के उद्घाटन मौके पर संबोधन दिया।

  • फोरम के चौथे संस्करण का विषय: ‘बदलती दुनिया में भारत का ऊर्जा भविष्य’ (India's Energy Future in a world of Change)
  • महत्वपूर्ण तथ्य: प्रधानमंत्री ने कहा कि घरेलू विमानन के मामले में भारत तीसरा सबसे बड़ा और सबसे तेजी से आगे बढ़ता विमानन बाजार है और 2024 तक भारतीय जहाजी बेड़े का आकार 600 से 1200 तक किए जाने का अनुमान है।
    • रिफाइनिंग की क्षमता (refining capacities) को 2025 तक 250 से 400 मिलियन मीट्रिक टन प्रति वर्ष तक बढ़ाने की योजना है।
  • भारत के ऊर्जा मैप के सात प्रमुख संचालक: गैस आधारित अर्थव्यवस्था की ओर बढ़ने के लिए प्रयासो में तेजी लाना; जीवाश्म ईंधन विशेष रूप से पेट्रोलियम और कोयले का स्वच्छ उपयोग; जैव-ईंधन हेतु घरेलू स्रोतों पर निर्भरता; 2030 तक 450 गीगावाट की नवीकरणीय ऊर्जा का लक्ष्य प्राप्त करना।
    • कार्बन- मुक्त परिवहन (de-carbonize mobility) के लिए बिजली के योगदान को बढ़ाना; हाइड्रोजन सहित उभरते ईंधनों की ओर जोर देना; तथा सभी ऊर्जा प्रणालियों में डिजिटल नवाचार बढ़ाना।