विज्ञान एवं तकनीकी सहयोग के लिए भारत- यूएई समझौता


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने 13 जनवरी, 2021 को भारत के पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के नेशनल सेंटर ऑफ मेट्रोलॉजी (National Centre of Meteorology- NCM) के बीच विज्ञान एवं तकनीकी सहयोग के लिए समझौता ज्ञापन को मंजूरी प्रदान की।

समझौता ज्ञापन के तहत प्रस्ताव: जलवायु सूचना सेवाओं और उष्णकटिबंधीय चक्रवातों के पूर्वानुमान के लिए उपग्रह डेटा उपयोग पर केंद्रित अनुसंधान, प्रशिक्षण, परामर्श के उद्देश्य से वैज्ञानिकों, अनुसंधानकर्ताओं और विशेषज्ञों के अनुभव / यात्राओं का आदान-प्रदान।

  • आपसी सहमति से समुद्री जल पर ‘मौसम संबंधी पर्यवेक्षण नेटवर्क’ (Meteorological observation networks) स्थापित करना।
  • ‘सुनामी पूर्व चेतावनी केन्द्रों में’ सुनामी पूर्वानुमान कार्य के लिए विशेष रूप से डिजाइन किया गया पूर्वानुमान संबंधी सॉफ्टवेयर स्थापित करने के लिए सहयोग।
  • अरब सागर और ओमान सागर में सुनामी पैदा करने में सक्षम भूकंप संबंधी गतिविधियों के अध्ययन हेतु ‘भूकंप विज्ञान’ के क्षेत्र में सहयोग।
  • ‘रेत और धूल भरी आंधी के संबंध में पूर्व चेतावनी प्रणाली’ के क्षेत्र में जानकारी का आदान-प्रदान।