Chronicle Hindi Book 2022

आरपीएफ तथा एसोसिएशन फॉर वॉलंटरी एक्शन के मध्य समझौता


रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) ने ‘तस्करी मुक्त राष्ट्र’ के लिए 6 मई, 2022 को एसोसिएशन फॉर वॉलंटरी एक्शन (Association for Voluntary Action) के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए।

  • आरपीएफ और एसोसिएशन फॉर वॉलंटरी एक्शन सूचना साझा करने, मानव तस्करी के खिलाफ काम करने के लिए आरपीएफ कर्मियों और रेलवे कर्मचारियों के क्षमता निर्माण और मानव तस्करी के मामलों की पहचान करने और पता लगाने में एक-दूसरे की मदद करेंगे।

रेलवे सुरक्षा बल: इसे रेलवे संपत्ति, यात्री क्षेत्र और यात्रियों की सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

  • इसने वर्ष 2018 से 'ऑपरेशन नन्हे फरिश्ते' के तहत 50,000 से अधिक बच्चों को बचाया है। इसने हाल ही में 'ऑपरेशन आहट’ (मानव तस्करी के खिलाफ कार्रवाई) शुरू किया है।

एसोसिएशन फॉर वॉलंटरी एक्शन: इसे 'बचपन बचाओ आंदोलन' के रूप में भी जाना जाता है, जिसकी स्थापना नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी के नेतृत्व में 1980 में की गई थी।

  • इसकी स्थापना का उद्देश्य बच्चों के खिलाफ सभी प्रकार की हिंसा को खत्म करना और एक ऐसी दुनिया बनाना है, जहां सभी बच्चे स्वतंत्र, सुरक्षित और स्वस्थ हों और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त करते हों।
  • वर्ष 2014 में कैलाश सत्यार्थी एवं मलाला युसुफजई को बाल शिक्षा के क्षेत्र में उनके अतुलनीय योगदान के लिये संयुक्त रूप से शांति के नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।