पीआईबी न्यूज आर्थिक

राष्ट्रीय वित्तीय रिपोर्टिंग प्राधिकरण द्वारा कंपनियों के लिए अनंतिम डेटाबेस का प्रकाशन


राष्ट्रीय वित्तीय रिपोर्टिंग प्राधिकरण (NFRA) उन कंपनियों और लेखा परीक्षकों का एक सत्यापित एवं सटीक डेटाबेस तैयार करने की प्रक्रिया में है, जो NFRA के नियामकीय दायरे में आते हैं।

महत्वपूर्ण तथ्य: NFRA का गठन उन कंपनियों द्वारा किए जाने वाले लेखांकन और लेखा परीक्षण मानकों (Accounting and Auditing Standards) के अनुपालन पर करीबी नजर रखने के लिए किया गया है, जिन्हें लोक हितकारी संस्थाओं (Public Interest Entities) के रूप में वर्णित किया जा सकता है। इस समूह में सभी सूचीबद्ध कंपनियां और बड़ी गैर- सूचीबद्ध कंपनियां शामिल हैं।

  • डेटाबेस को तैयार करने में प्राथमिक डेटा स्रोत की पहचान एवं सत्यापन करना और विभिन्न स्रोतों से डेटा (जैसे कि कंपनी पहचान संख्या जो अत्यंत प्रभावकारी है) का मिलान करना शामिल है।
  • NFRA द्वारा 31 मार्च, 2019 तक कंपनियों और उनके लेखा परीक्षकों के अनंतिम डेटा बेस को संकलित किया गया है। इसमें लगभग 6,500 कंपनियां शामिल हैं।
  • राष्ट्रीय वित्तीय रिपोर्टिंग प्राधिकरण कंपनी अधिनियम की धारा 132 के तहत गठित की गई एक नियामकीय संस्था है।

पीआईबी न्यूज आर्थिक

घरेलू अगरबत्ती उद्योग के लिए राष्ट्रीय बांस मिशन का एमआईएस मॉड्यूल


राष्ट्रीय बांस मिशन ने 11 मई, 2021 को प्रबंधन सूचना प्रणाली (एमआईएस) का शुभारंभ किया, जो अगरबत्ती उत्पादन से जुड़ी सभी सूचनाओं का एक मंच होगा।

महत्वपूर्ण तथ्य: इस पर अगरबत्ती उत्पादन इकाइयों के बारे में सूचना के साथ ही अगरबत्ती बनाने के लिए कच्चे माल की उपलब्धता की सूचना, इकाइयों की कार्यप्रणाली, उत्पादन क्षमता, विपणन इत्यादि की जानकारियां भी उपलब्ध रहेंगी।

  • राष्ट्रीय बांस मिशन, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय, खादी और ग्रामोद्योग आयोग योजनाओं के साथ-साथ राज्यों ने उद्योग भागीदारों के साथ मिलकर भारत को अगरबत्ती क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बनाने में सक्षम करने के लिए ध्यान केंद्रित किया है।
  • बांस क्षेत्र के समग्र विकास के लिए राष्ट्रीय बांस मिशन को हब (उद्योग) और स्पोक मॉडल पर क्लस्टर आधारित व्यवस्था के साथ 2018-19 में नए स्वरूप में शुरू किया गया। इसके अंतर्गत सभी पक्षों को किसानों और बाजारों से जोड़ा जाना था।
  • यह मिशन इस समय 21 राज्यों में संचालित किया जा रहा है, जिसमें पूर्वोत्तर भारत के सभी 9 राज्य अपने अपने बांस मिशन के द्वारा इससे जुड़े हैं।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

कोविड-19 में सिविल सोसायटी भूमिका


एसीटी ग्रांट (ACT Grants), स्वस्थ गठबंधन (Swasth Alliance) और फीडिंग इंडिया (Feeding India) की मई 2021 के महीने में राष्ट्रीय स्तर पर 50,000 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स दान करने की योजना है।

महत्वपूर्ण तथ्य: कोविड-19 की दूसरी लहर के बीच में, भारत के अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति को तेजी से बढ़ाने की जरूरत को देखते हुए, एसीटी ग्रांट, स्वस्थ गठबंधन और फीडिंग इंडिया50,000 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स पूरे देश में मुफ्त में उपलब्ध कराएंगे।

  • इन ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स की आपूर्ति, मुख्य रूप से सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए काम कर रहे विभिन्न सार्वजनिक स्वास्थ्य संस्थानों और गैर-सरकारी संगठनों को की जाएगी।

एसीटी ग्रांट: एसीटी ग्रांट, भारतीय स्टार्टअप संस्थापकों और वेंचर कैपिटल फर्मों (Venture Capital Firms) का एक गठबंधन है, जो पहली बार मार्च 2020 में महामारी से लड़ने के लिए एक साथ आए थे।

स्वस्थ गठबंधन: यह देश के 150 से अधिक स्वास्थ्य संगठनों का एक गठबंधन है, जिसमें अस्पताल, ग्रामीण स्वास्थ्य, गैर सरकारी संगठन, बीमाकर्ता, स्वास्थ्य तकनीक, चिकित्सा-तकनीक और अन्य शामिल हैं।

फीडिंग इंडिया: फीडिंग इंडिया, जोमैटो द्वारा एक गैर-लाभकारी संगठन है, जिसका उद्देश्य भारत में वंचित समुदायों के भीतर भूख की समस्या को कम करना है।

सामयिक खबरें अंतर्राष्ट्रीय

दशकों बाद चीन की जनसंख्या में कम बढ़ोतरी


बीजिंग में राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो (एनबीएस) द्वारा 11 मई, 2021 को जारी सातवीं जनगणना के अनुसार 2020 में जनसंख्या पिछले एक दशक में 72 मिलियन बढ़कर 1.411 अरब हो गई।

महत्वपूर्ण तथ्य: पिछले दस वर्षों में औसत वार्षिक वृद्धि दर 0.53% थी, जो साल 2000 से 2010 के बीच 0.57% की दर से नीचे रही। चीन में यह जनसंख्या वृद्धि दर 1953 के बाद से सबसे धीमी है, जब पहली जनगणना की गई थी।

  • पिछले साल 2 मिलियन बच्चे पैदा हुए थे, जो 1961 के बाद सबसे कम संख्या है।
  • 264 मिलियन लोगों की उम्र 60 या 60 से अधिक है, जो कि 2010 की तुलना में 5.44% अधिक है तथा कुल जनसंख्या का 18.70% है।
  • 894 मिलियन लोगों की उम्र 15 से 59 वर्ष के बीच है, जो कि 2010 की तुलना में 6.79% कम है।
  • जनसंख्या दर में गिरावट चीन की विवादास्पद 'एक-बच्चे की नीति' के कारण हुई है, हालांकि 2016 में चीन की सरकार ने इस नीति को समाप्त कर दिया था और जोड़ों को दो बच्चे पैदा करने की अनुमति दे दी थी।
  • नवीनतम आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2025 तक चीन को पीछे छोड़कर भारत के सबसे अधिक जनसंख्या वाले देश होने की संभावना है।
  • संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक मामलों के विभाग द्वारा पिछले साल भारत की जनसंख्या का अनुमान 1.38 बिलियन लगाया गया था, जोकि चीन से 1.5% कम है।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप निधन

केरल की वरिष्ठ कम्युनिस्ट नेता के आर गौरी अम्मा का निधन


वरिष्ठ कम्युनिस्ट नेता और जनतिपथ्य संरक्षण समिति (JSS) की नेता, के.आर. गौरी अम्मा का 11 मई, 2021 को तिरुवनंतपुरम के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। वे 101 वर्ष की थीं।

  • केरल की राजनीति में हमेशा आयरन लेडी (Iron Lady) के नाम से जानी जाने वाली गौरी अम्मा के नाम कई रिकॉर्ड थे। वह केरल विधान सभा में सबसे लंबे समय तक सेवारत महिला विधायक, विधान सभा में सबसे उम्रदराज महिला सदस्य तथा सबसे उम्रदराज महिला मंत्री रही हैं।
  • 1964 में कम्युनिस्ट पार्टी के विभाजन के बाद, के आर गौरी भारत की नवगठित कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) (सीपीआई-एम) में शामिल हो गई थी।
  • सीपीआई-एम से उनके निष्कासन के बाद उन्होंने 1994 में एक विद्रोही संगठन जनतिपथ्य संरक्षण समिति का गठन किया था।
  • वे साल 1957 में केरल में तत्कालीन मुख्यमंत्री ईं. एम. एस. नंबूदरीपाद के नेतृत्व वाली पहली लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई कम्युनिस्ट सरकार में राजस्व मंत्री थीं।
  • गौरी ने ऐतिहासिक केरल कृषि संबंध विधेयक का मसौदा तैयार किया था, जिससे भूमि सुधार का मार्ग प्रशस्त किया था।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप निधन

जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल जगमोहन का निधन


जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल जगमोहन का 3 मई, 2021 को दिल्ली में निधन हो गया। वे 93 वर्ष के थे।

  • 25 सितंबर, 1927 को जन्मे ‘जगमोहन मल्होत्रा’ को ‘जगमोहन’ के नाम से जाना जाता था।
  • जगमोहन दो बार जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल रहे - 1984 से 89 तक, और फिर जनवरी 1990 से मई 1990 तक।
  • वे 1996 में पहली बार लोक सभा के लिए चुने गए थे और उन्होंने केंद्रीय शहरी विकास और पर्यटन मंत्री के रूप में भी काम किया।
  • उन्हें 1971 में पद्म श्री, 1977 में पद्म भूषण और 2016 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

विश्व खाद्य पुरस्कार 2021


11 मई, 2021 को भारतीय मूल की अग्रणी पोषण विशेषज्ञ डॉ. शकुंतला हरकसिंह थिलस्टेड (Dr. Shakuntala Haraksingh Thilsted) को ‘विश्व खाद्य पुरस्कार 2021’ (World Food Prize 2021) से सम्मानित किया गया है।

  • उन्हें दुनिया भर में लाखों लोगों के लिए पोषण, स्वास्थ्य और आजीविका में सुधार करने के लिए मछली आधारित खाद्य प्रणालियों के क्षेत्र में उनकी उपलब्धियों के लिए यह पुरस्कार दिया गया है।
  • डॉ. शंकुतला ने समुद्री भोजन और खाद्य तंत्र के लिए समग्र और पोषण के प्रति संवेदनशील दृष्टिकोण विकसित करने में अनुसंधान को बढ़ावा दिया है।
  • डॉ शकुंतला द्वारा बांग्लादेश की छोटी मछली की प्रजातियों पर किये गए शोध की मदद से एशिया एवं अफ्रीका में रहने वाले लाखों गरीब लोगों को बेहद पोषक आहार मिल सकेगा।
  • डॉ. शंकुतला अंतरराष्ट्रीय कृषि अनुसंधान केंद्र कंसोर्टियम (CGIAR) के अनुसंधान केंद्र ‘वर्ल्डफिश’ (WorldFish) में पोषण और सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए वैश्विक नेतृत्वकर्ता हैं, जिसका मुख्यालय पेनांग, मलेशिया में स्थित है।
  • डॉ. शंकुतला त्रिनिदाद और टोबैगो की मूल निवासी हैं और डेनमार्क की नागरिक हैं, इनका जन्म 1949 में कैरेबियन द्वीप त्रिनिदाद के छोटे से गाँव रिफॉर्म (Reform) में हुआ था। उनके परिवार सहित अधिकांश निवासी भारतीय हिंदू प्रवासियों के वंशज थे।

विश्व खाद्य पुरस्कार: यह पुरस्कार उन व्यक्तियों की उपलब्धियों के लिए दिया जाने वाला एक अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार है, जिन्होंने दुनिया में भोजन की गुणवत्ता, मात्रा या उपलब्धता में सुधार करके मानव विकास में योगदान दिया है।

  • ‘वर्ल्ड फूड प्राइज फाउंडेशन’ द्वारा प्रदान किये जाने वाले इस पुरस्कार में 250,000 डॉलर की राशि प्रदान की जाती है। इस पुरस्कार को 'खाद्य और कृषि का नोबेल पुरस्कार' भी कहा जाता है।
  • एम.एस स्वामीनाथन को भारत में उच्च उपज वाले गेहूं और चावल की किस्मों को पेश करने और विकसित करने के लिए 1987 में पहले विश्व खाद्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व प्रवासी पक्षी दिवस


8 मई

2021 का विषय/अभियान: 'सिंग, फ्लाई, सोर - लाइक ए बर्ड' (Sing, Fly, Soar – Like a Bird)। महत्वपूर्ण तथ्य: विश्व प्रवासी पक्षी दिवस प्रत्येक वर्ष मई और अक्टूबर माह के दूसरे शनिवार को दो बार मनाया जाता है।

विश्व प्रवासी पक्षी दिवस एक वार्षिक जागरूकता बढ़ाने वाला अभियान है, जो प्रवासी पक्षियों और उनके आवासों के संरक्षण की आवश्यकता पर प्रकाश डालता है।

संक्षिप्त खबरें संस्थान-संगठन

इंडियन रिन्यूएबल एनर्जी डेवलपमेंट एजेंसी लिमिटेड


11 मई, 2021 को 'इंडियन रिन्यूएबल एनर्जी डेवलपमेंट एजेंसी लिमिटेड' (Indian Renewable Energy Development Agency- IREDA) को इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स (ICC) द्वारा इस वर्ष नवीकरणीय ऊर्जा के लिए वित्त पोषण संस्थान में अग्रणी सार्वजनिक संस्थान के लिए 'ग्रीन उर्जा अवॉर्ड' (Green Urja Award) से सम्मानित किया गया है।

  • IREDA नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय के प्रशासनिक नियंत्रण के अधीन भारत सरकार का एक मिनी रत्न (श्रेणी - I) प्रतिष्ठान है।
  • वर्ष 1987 में स्थापित IREDA एक गैर-बैंकिंग वित्तीय संस्थान के रूप में एक सार्वजनिक लिमिटेड सरकारी कंपनी है, जो ऊर्जा के नवीन और नवीकरणीय स्रोतों से संबंधित परियोजनाओं की स्थापना के लिए और ऊर्जा दक्षता / ऊर्जा संरक्षण को बढ़ावा देने, विकसित करने और वित्तीय सहायता प्रदान करने में लगी हुई है।
  • IREDA को कंपनी अधिनियम, 1956 की धारा 4 ‘ए’ के तहत ‘सार्वजनिक वित्तीय संस्थान’ के रूप में अधिसूचित किया गया है।
  • IREDA ने बीते वर्षों में कुल मिलाकर 96,601 करोड़ रूपए के ऋण को मंजूरी दी; 63,492 करोड़ रूपए का ऋण वितरित किया और देश में 17,586 मेगावाट से अधिक अक्षय ऊर्जा क्षमता तैयार करने में मदद की।
  • IREDA के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक प्रदीप कुमार दास हैं। IREDA का आदर्श-वाक्य (motto ‘शाश्वत ऊर्जा’ (ENERGY FOR EVER) है।