पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

भूविज्ञान के क्षेत्र में रूस-भारत समझौता


हाल ही में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भूविज्ञान के क्षेत्र में सहयोग पर भारत और रूस के बीच समझौता ज्ञापन (MoU) को मंजूरी दी। इससे पूर्व रूस की ज्वाइंट स्टॉक कंपनी रोसजियोलोजिया और खनन मंत्रालय के भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण (Geological Survey fo India - GSI) के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया था। गहरे और छिपे हुए खनिज भंडार, भौतिकीय डेटा का विश्लेषण, रूसी सूचना प्रौद्योगिकी के साथ भारतीय भूविज्ञान डेटा भंडार का संयुक्त विकास आदि क्षेत्रों में सहयोग के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया है। दोनों देश एक दूसरे के वैज्ञानिकों का प्रशिक्षण एवं क्षमता निर्माण में भी सहयोग करेंगे।

पीआईबी न्यूज आर्थिक

बाजार आधारित आर्थिक प्रेषण - चरण 1


विद्युत मंत्रालय ने 8 अक्टूबर, 2021 को उपभोक्ताओं को बिजली खरीद की लागत कम करने के लिए केंद्रीय विद्युत विनियामक आयोग (CERC) द्वारा शुरू किए गए 'बाजार आधारित आर्थिक प्रेषण - चरण 1' (Market Based Economic Despatch (MBED) – Phase1) के कार्यान्वयन के लिए रूपरेखा जारी की है।

महत्वपूर्ण तथ्य: MBED को लागू करना बिजली बाजार के संचालन में सुधार और "एक राष्ट्र, एक ग्रिड, एक फ्रीक्वेन्सी, एक मूल्य" (One Nation, One Grid, One Frequency, One Price) ढांचे की ओर बढ़ने में एक आवश्यक अगला कदम है।

  • MBED यह सुनिश्चित करेगा कि देश भर में सबसे सस्ता उत्पादन संसाधन समग्र प्रणाली की मांग को पूरा करने के लिए भेजा जाए और इस प्रकार वितरण कंपनियों और और बिजली उत्पादकों दोनों के लिए लाभप्रद होगा।
  • MBED के चरण 1 का कार्यान्वयन 1 अप्रैल, 2022 से शुरू करने की योजना है। इससे पहले CERC अपने नियमों को संरेखित करेगा और इस व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए मॉक ड्रिल किया जाएगा।

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

भारत - डेनमार्क संबंध


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और डेनमार्क की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्सन के बीच 9 अक्टूबर, 2021 को नई दिल्ली में एक बैठक में भारत और डेनमार्क ने चार समझौतों पर हस्ताक्षर किए।

(Image Source: The Hindu.com)

महत्वपूर्ण तथ्य: कौशल विकास और उद्यमिता, पारंपरिक ज्ञान डिजिटल लाइब्रेरी, संभावित अनुप्रयोगों के साथ उष्णकटिबंधीय जलवायु के लिए प्राकृतिक प्रशीतकों (रेफ्रिजरेंट) के लिए उत्कृष्टता केंद्र की स्थापना और भूजल संसाधनों और एक्वीफर्स (aquifers) के मानचित्रण के क्षेत्र में समझौते पर हस्ताक्षर किए गए।

  • दोनों प्रधानमंत्रियों ने 28 सितंबर, 2020 को अपने आभासी शिखर सम्मेलन के दौरान हरित रणनीतिक साझेदारी की शुरुआत करने के बाद से द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति पर संतोष व्यक्त किया। उन्होंने 2021 से 2026 तक की अवधि के लिए विस्तृत 5 वर्षीय कार्य योजना का स्वागत किया।
इसके अलावा रिलायंस इंडस्ट्रीज और डेनिश कंपनी 'स्टिस्डल फ्यूल टेक्नोलॉजीज' (Stiesdal Fuel Technologies) के बीच "हाइड्रोजन" इलेक्ट्रोलाइजर प्लांट स्थापित करने के लिए वाणिज्यिक समझौते की भी घोषणा की गई।

सामयिक खबरें आर्थिकी

मौद्रिक नीति


भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की मौद्रिक नीति समिति (MPC) ने 8 अक्टूबर, 2021 को प्रमुख ब्याज दरों को अपरिवर्तित रखा और वर्ष 2021-22 के लिए मुद्रास्फीति लक्ष्य को कम किया है।

(Image Source: https://www.business-standard.com/)

महत्वपूर्ण तथ्य: रेपो दर को लगातार 8वीं बार 4% पर अपरिवर्तित रखा गया है। रिवर्स रेपो दर भी 3.35% और सीमांत स्थायी सुविधा (MSF) दर और बैंक दर 4.25% पर अपरिवर्तित रखी गई है।

  • मौद्रिक नीति समिति ने टिकाऊ आधार पर संवृद्धि को बनाए रखने और अर्थव्यवस्था पर कोविड -19 के प्रभाव को कम करने के लिए जब तक आवश्यक हो, तब तक उदार रुख को जारी रखने का निर्णय लिया है।
  • RBI ने 2021-22 के लिए मुद्रास्फीति का अनुमान पहले के 5.7% से घटाकर 5.3% कर दिया है।
  • RBI ने 2021-22 में वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि के अनुमान को 9.5% पर बरकरार रखा है, जिसमें चालू वर्ष की दूसरी तिमाही में 7.9% की वृद्धि शामिल है।

अन्य घोषणा: तत्काल भुगतान सेवा लेनदेन (IMPS) की सीमा 2 लाख रुपये से बढ़ा कर 5 लाख रुपये की जाएगी।

  • आंतरिक शिकायत निवारण तंत्र को मजबूत करने के लिए एनबीएफसी के लिए उच्च ग्राहक इंटरफेस वाली आंतरिक लोकपाल योजना।
  • कम या दुर्लभ इंटरनेट एक्सेस वाले क्षेत्रों के लिए ऑफलाइन मोड में खुदरा डिजिटल भुगतान समाधान के लिए अखिल भारतीय रूपरेखा की शुरुआत।

सामयिक खबरें विज्ञान-प्रौद्योगिकी

भारतीय चावल और काबुली चना की आनुवंशिक किस्म


केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने 8 अक्टूबर, 2021 को राष्ट्र की खाद्य सुरक्षा और पोषण में प्रभावी योगदान देने के लिए भारतीय चावल और काबुली चने (Chickpea) की आनुवंशिक किस्में जारी कीं।

(Image Source: PIB)

महत्वपूर्ण तथ्य: भारतीय चावल और काबुली चने की किस्मों को राष्ट्रीय पादप जीनोम अनुसंधान संस्थान (NIPGR) द्वारा आनुवंशिक रूप से विकसित किया गया है।

  • चावल और काबुली चने के लिए दो डीएनए चिप्स- 'इंद्रा' (IndRA) और 'इंडिका' (IndiCA) इन दो फसलों में पहले पैन-जीनोम जीनोटाइपिंग सरणियां (Pan-Genome genotyping arrays) हैं और यह राष्ट्र की खाद्य तथा पोषण सुरक्षा के लिए भारतीय पौधों की जैव विविधता और जीनोमिक विविधता की विशाल क्षमता का पूर्ण उपयोग करने में सक्षम होंगे।
  • केंद्रीय मंत्री ने बुलंदशहर स्थित 'भारत इम्यूनोलॉजिकल एंड बायोलॉजिकल कॉर्पोरेशन लिमिटेड’ (BIBCOL) के परिसर में 'स्पीड ब्रीडिंग और हाई थ्रूपुट (HTP) फील्ड फेनोटाइपिंग के लिए NIPGR के पहले ट्रांसलेशनल फैसिलिटी नेटवर्क' का भी उद्घाटन किया।
  • मंत्री ने कहा कि भारत वर्ष 2025 तक विश्व के शीर्ष 5 देशों में से एक होगा और यह वैश्विक जैव विनिर्माण का केंद्र बन जाएगा।
  • भारत की जैव-अर्थव्यवस्था 2024-25 तक 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था के प्रधानमंत्री के लक्ष्य में प्रभावी योगदान देने के लिए मौजूदा 70 बिलियन डॉलर से 150 बिलियन डॉलर के लक्ष्य को प्राप्त करने की राह पर है।

सामयिक खबरें पर्यावरण

हिमाचल प्रदेश में कम हो रही बर्फबारी


हिमाचल प्रदेश के पहाड़ी राज्य में पिछले एक दशक में धीरे-धीरे कम बर्फ देखी जा रही है और बर्फ के नीचे का क्षेत्र भी कम हो रहा है।

महत्वपूर्ण तथ्य: पारिस्थितिक रूप से संवेदनशील राज्य हिमाचल में नदी घाटियों के जल विज्ञान को नियंत्रित करने में एक प्रमुख इनपुट के रूप में मौसमी हिम आवरण के महत्व पर विचार करते हुए, जलवायु परिवर्तन से उत्पन्न प्रवृत्ति ने पर्यावरणविदों को चिंतित कर दिया है।

  • उन्नत वाइड फील्ड सेंसर (AWiFS) उपग्रह डेटा का उपयोग करते हुए स्टेट सेंटर ऑन क्लाइमेट चेंज और स्पेस एप्लीकेशन सेंटर, अहमदाबाद द्वारा संयुक्त रूप से किए गए एक हालिया अध्ययन के अनुसार सतलुज, रावी, चिनाब और ब्यास सहित सभी प्रमुख नदी घाटियों में 2019-20 की तुलना में 2020-21 की शीतकालीन बर्फ के क्षेत्र में कुल मिलाकर 18.5% की कमी देखी गई।
  • अत्यधिक सर्दियों में बर्फबारी थोड़ी कम हो रही है, और यह सर्दियों के बाद के महीनों या गर्मियों के शुरुआती महीनों की ओर अधिक हो रही है।
  • यह घटना बढ़ते तापमान के कारण हुई है। तेजी से वनों की कटाई, व्यापक निर्माण और अनियमित गतिविधियां इसमें योगदान के प्रमुख कारक हैं।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण प्राणि मित्र पुरस्कार 2021


सरदार पटेल प्राणी उद्यान,केवडिया (गुजरात) की मेजबानी में केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण द्वारा 10 - 11 अक्टूबर, 2021 को आयोजित 'चिड़ियाघर निदेशकों और पशु चिकित्सकों के दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन’ के दौरान केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण द्वारा स्थापित ‘प्राणि मित्र पुरस्कार 2021’ भी प्रदान किए गए।

(Image Source: @CZA_Delhi Twitter)

  • प्राणि मित्र पुरस्कार हर साल 4 श्रेणियों के तहत दिए जाते हैं। ये 4 श्रेणी हैं- चिड़ियाघर के निदेशक/क्यूरेटर, जीवविज्ञानी/ शिक्षाविद, पशु चिकित्सक और पशु रक्षक/चिड़ियाघर की अग्रिम पंक्ति द्वारा उत्कृष्ट योगदान।

वर्ष 201 के विजेता -

  • उत्कृष्ट पशु रक्षक – लखी देवी (भगवान बिरसा प्राणी उद्यान, रांची, झारखंड)।
  • उत्कृष्ट शिक्षाविद्/जीवविज्ञानी -- हरपाल सिंह (शिक्षाविद) (महेंद्र चौधरी प्राणी उद्यान, चटबीर पंजाब)।
  • उत्कृष्ट पशु चिकित्सक -- डॉ. इलियाराजा (आगरा भालू बचाव सुविधा केंद्र, उत्तर प्रदेश)।
  • उत्कृष्ट निदेशक – डॉ. विभु प्रकाश माथुर (निदेशक, गिद्ध संरक्षण प्रजनन केंद्र, पिंजौर, हरियाणा)।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

अंतरराष्ट्रीय आपदा जोखिम न्यूनीकरण दिवस


2021 का विषय: 'विकासशील देशों के लिए उनके आपदा जोखिम और आपदा नुकसान को कम करने के लिए अंतरराष्ट्रीय सहयोग' (International cooperation for developing countries to reduce their disaster risk and disaster losses)

महत्वपूर्ण तथ्य: संयुक्त राष्ट्र महासभा ने वर्ष 1989 में इस दिवस की स्थापना की थी, इसका उद्देश्य वैश्विक स्तर पर आपदा न्यूनीकरण तथा आपदा जोखिम के बारे में जागरूकता फैलाना है।

संक्षिप्त खबरें संस्थान-संगठन

केंद्रीय नींबू वर्गीय फल अनुसंधान संस्थान


साइट्रस (नींबू वर्गीय फल) और इसके मूल्य वर्धित उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने के लिए, कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (APEDA) ने 11 अक्टूबर, 2021 को केंद्रीय नींबू वर्गीय फल अनुसंधान संस्थान, नागपुर (Central Citrus Research Institute: ICAR-CCRI) के साथ एक समझौता ज्ञापन (MoU) पर हस्ताक्षर किए हैं।

(Image Source: ICAR-CCRI Twitter)

  • केंद्रीय नींबू वर्गीय फल अनुसंधान संस्थान भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) के तहत एक शोध संस्थान है।
  • 29 जुलाई, 1985 को तत्कालीन रक्षा मंत्री पी.वी. नरसिम्हा राव द्वारा औपचारिक रूप से केंद्रीय साइट्रस अनुसंधान स्टेशन की आधारशिला रखी गई थी। इस केंद्र की शुरुआत 29 नवंबर, 1985 को भारतीय बागवानी अनुसंधान संस्थान, बैंगलोर के एक उप-केंद्र के रूप में की गई थी।
  • अप्रैल 1986 में केंद्रीय साइट्रस अनुसंधान स्टेशन को स्वतंत्र 'केंद्रीय नींबू वर्गीय फल अनुसंधान संस्थान' के रूप में अपग्रेड किया गया था। यह नागपुर में स्थित है।
  • इसका मुख्य कार्य फसल सुधार, सतत उत्पादकता, फसल संरक्षण और साइट्रस के उपयोग पर बुनियादी, रणनीतिक और अनुप्रयुक्त अनुसंधान करना तथा साइट्रस पर आनुवंशिक संसाधनों और वैज्ञानिक जानकारी का संग्रह करना है।

संक्षिप्त खबरें इन्हें भी जानें

निहंग


15 अक्टूबर, 2021 को हरियाणा के सोनीपत में सिंघु बार्डर पर एक पवित्र सिख ग्रंथ की बेअदबी के आरोप में एक व्यक्ति की हत्या के बाद निहंग (सिख योद्धा) फिर से सुर्खियों में आए।

  • सिखों के 10वें गुरु गोविंद सिंह ने जब खालसा पंथ की स्थापना की, उसी के साथ ही निहंगों की भी शुरुआत हुई थी।
  • सिख समुदाय के बीच नीले कपड़े पहने और हथियार रखने वाले सिखों को निहंग सिख कहा जाता है। निहंग सिखों को योद्धाओं के रूप में जाना जाता है।
  • निहंगों की जो विशेषताएं हैं, वे संस्कृत भाषा के ‘निशंक’ शब्द के अर्थ से मिलती हैं। निशंक का अर्थ होता है, निर्भय, निष्कलंक, शुद्ध, सांसारिक सुखों और आराम से दूर रहने वाला।
  • इनके सिर पर योद्धा शैली की पगड़ी जिसमें अर्धचंद्राकार, दोधारी तलवार बैज होता है। वे हमेशा आधुनिक और पारंपरिक दोनों तरह के हथियारों से लैस होते हैं, जिनमें आमतौर पर तलवार, खंजर, भाले, राइफल, बन्दूक और पिस्तौल आदि शामिल हैं।
  • ये मुख्य रूप से दो "दल" (बलों) में संगठित हैं - बुड्ढा दल (बुजुर्ग दल) और तरुण दल (युवा दल)।