Civil Services Chronicle One Year Subscription With 28 Years Solved Paper @ Rs.1290/-

भारतीय अक्षय ऊर्जा विकास एजेंसी लिमिटेड में निवेश


आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने 19 जनवरी, 2022 को भारतीय अक्षय ऊर्जा विकास एजेंसी लिमिटेड (IREDA) में 1500 करोड़ रुपये के इक्विटी निवेश को मंजूरी दी।

(Image Source: https://www.ireda.in/)

महत्वपूर्ण तथ्य: इस इक्विटी निवेश से साल भर में लगभग 10,200 रोजगारों का सृजन होगा तथा लगभग 7.49 मिलियन टन कार्बन डाई-ऑक्साइड / प्रतिवर्ष के बराबर कार्बन डाई-ऑक्साइड के उत्सर्जन में कमी आयेगी।

  • भारत सरकार द्वारा 1500 करोड़ रुपये का अतिरिक्त इक्विटी निवेश IREDA को सक्षम बनाएगा –
    1. अक्षय ऊर्जा (RE) के क्षेत्र में लगभग 12000 करोड़ रुपए का ऋण प्रदान कर 3500-4000 मेगावाट की अतिरिक्त क्षमता को सुविधाजनक बनाने में।
    2. उसकी निवल संपत्ति (नेटवर्थ) को बढ़ाने में मदद मिलेगी, जो अतिरिक्त अक्षय ऊर्जा वित्तपोषण के लिये सहायक होगी।
    3. उसके ऋण देने और लेने की गतिविधियों के संचालन में सुविधा के लिये पूंजी जोखिम आधारित परिसंपत्ति अनुपात (Capital-to-Risk weighted Assets Ratio: CRAR) में सुधार होगा।
  • IREDA, नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय के प्रशासनिक नियंत्रण के अधीन एक मिनी रत्न (श्रेणी-1) कंपनी है, जिसकी स्थापना 1987 में अक्षय ऊर्जा क्षेत्र के लिए एक विशेष गैर-बैंकिंग वित्त एजेंसी के रूप में काम करने के लिए की गई थी।
  • 34 वर्षों से अधिक की तकनीकी-वाणिज्यिक विशेषज्ञता के साथ IREDA अक्षय ऊर्जा परियोजना के वित्तपोषण में उत्प्रेरक की भूमिका निभाता है।