बूंदी

( 24 October, 2020, , www.pib.gov.in )


पर्यटन मंत्रालय ने 24 अक्टूबर 2020 को ‘देखो अपना देश’ वेबिनार श्रृंखला के तहत ‘बूंदी: एक भूली हुई राजपूत राजधानी की स्थापत्य विरासत’ पर वेबिनार का आयोजन किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: दक्षिण-पूर्वी राजस्थान में स्थित बूंदी, जो पहले हाड़ा राजपूत राज्य की राजधानी थी, हाडौती के नाम से जाना जाता है।

  • बूंदी को सीढ़ीदार बावड़ी के शहर, नीले शहर के रूप में जाना जाता है। हाड़ा राजधानी के भीतर और आसपास सौ से अधिक मंदिरों की उपस्थिति के कारण बूंदी को ‘छोटी काशी’ के रूप में भी जाना जाता है।
  • बूंदी के विकास के शुरुआती चरण में बने मंदिरों में शास्त्रीय नागर शैली थी, जबकि बाद के चरणों में मंदिरों का नया स्थापत्य शास्त्रीय नागर शैली के साथ पारंपरिक हवेली का मिश्रण उभरकर आया।
  • जैन मंदिरों ने एक अंतर्मुखी रूप में मंदिर स्थापत्य के तीसरी शैली को विकसित किया, जिसमें विशिष्ट जैन मंदिर की विशेषताओं जैसे प्रवेश द्वार पर सर्पीय तोरण द्वार, बड़े घनाकार अपारदर्शी पत्थर और गर्भगृह पर नागर शैली के शिकारे के साथ केंद्रीय प्रांगण को जोड़ा गया।
  • ऊंचे स्थान वाले मंदिरों के रूप में मंदिर स्थापत्य की एक चौथी शैली भी उभरी।