लॉन्गिट्यूडिनल एजिंग स्टडी ऑफ इंडिया

( 06 January, 2021, , www.pib.gov.in )


स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने 6 जनवरी, 2021 को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से ‘लॉन्गिट्यूडिनल एजिंग स्टडी ऑफ इंडिया’ (Longitudinal Ageing Study of India- LASI) वेव-1 रिपोर्ट जारी की।

महत्वपूर्ण तथ्य: इसमें स्वास्थ्य, आर्थिक तथा सामाजिक निर्धारकों और भारत में बढ़ती उम्र की जनसंख्या के परिणामों की वैज्ञानिक जांच का व्यापक राष्ट्रीय सर्वेक्षण किया गया है।

  • 2011 की जनगणना में 60 वर्ष से अधिक उम्र की आबादी का आंकड़ा भारत की जनसंख्या का 8.6% है।
  • लगभग 3% वार्षिक की वृद्धि के साथ, बुजुर्गों की आबादी 2050 में 31 करोड़ 90 लाख हो जाएगी।
  • 75% बुजुर्ग कुछ पुरानी बीमारियों से पीड़ित हैं। 40% बुजुर्ग किसी न किसी दिव्यांगता से ग्रसित हैं और 20% बुजुर्गों में मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित समस्याएं हैं।
  • यह अध्ययन स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के ‘बुजुर्गों के स्वास्थ्य की देखभाल के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम’ (National Programme for Health Care of Elderly) ने हार्वर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ, यूनिवर्सिटी ऑफ सदर्न कैलिफोर्निया, संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष तथा नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एजिंग के सहयोग से मुंबई स्थित इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर पॉपुलेशन साइंसेज के माध्यम से किया है।