इन्सेफेलाइटिस प्रभावित पांच राज्यों में नल के पानी की आपूर्ति


जल जीवन मिशन ने इन्सेफेलाइटिस से प्रभावित प्राथमिकता वाले 61 जिलों में सिर्फ 22 महीनों में 97 लाख से ज्यादा परिवारों को नल के पानी की आपूर्ति की है।

महत्वपूर्ण तथ्य: जल जीवन मिशन ने असम, बिहार, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल के प्रभावित जिलों में आर्थिक रूप से गरीब परिवारों को स्वच्छ नल के पानी की आपूर्ति प्रदान करके इस बीमारी के प्रसार को कम करने के लिए निवारक उपायों को काफी मजबूत किया है।

  • पांच राज्यों में, बिहार ने अपने 15 बीमारी प्रभावित प्राथमिकता वाले जिलों में ग्रामीण परिवारों को नल के पानी की आपूर्ति प्रदान करने में अच्छा प्रदर्शन किया है।
  • 15 अगस्त, 2019 को, जल जीवन मिशन की घोषणा के समय, पांच राज्यों के इन 61 जापानी इन्सेफेलाइटिस - एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम (Japanese Encephalitis – Acute Encephalitis Syndrome- JE-AES) प्रभावित जिलों में केवल 8.02 लाख (2.67%) घरों में नल के पानी की आपूर्ति थी।
  • अब बीमारी से प्रभावित इन जिलों में 1.05 करोड़ (35%) परिवारों को नल के पानी की आपूर्ति मिल रही है।
  • जल जीवन मिशन ने इन्सेफेलाइटिस निवारक उपायों को काफी मजबूत करते हुए 2021-22 के लिए JE-AES घटक के रूप में पांच राज्यों को 463.81 करोड़ रुपए आवंटित किए हैं।

जापानी इन्सेफेलाइटिस- एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम: यह एक गंभीर स्वास्थ्य खतरा है। यह रोग ज्यादातर बच्चों और युवा वयस्कों को प्रभावित करता है, जिससे रुग्णता और मौत हो सकती है। ये संक्रमण विशेष रूप से गरीब आर्थिक पृष्ठभूमि के कुपोषित बच्चों को प्रभावित करते हैं।