लोअर अरुण जल विद्युत परियोजना


केंद्रीय विद्युत मंत्रालय के अंतर्गत केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम ‘सतलुज जल विद्युत निगम’ (एसजेवीएन) और नेपाल के निवेश बोर्ड (आईबीएन) के बीच 11 जुलाई, 2021 को नेपाल में 679 मेगावाट की ‘लोअर अरुण जल विद्युत परियोजना’ (Lower Arun Hydro Electric Project) को पूरा करने के लिये काठमांडू में एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये गए।

महत्वपूर्ण तथ्य: लोअर अरुण जल विद्युत परियोजना, ‘अरुण-3 जल विद्युत परियोजना’ का डाउनस्ट्रीम विस्तार है।

  • लोअर अरुण जल विद्युत परियोजना नेपाल के संखुवासभा और भोजपुर जिलों में स्थित है।
  • इस परियोजना में कोई जलाशय या बांध नहीं होगा और यह 900 मेगावाट की अरुण-3 जल विद्युत परियोजना’ की पनचक्की की जल धारा (tail race) पर विकसित होगी।
  • चार फ्रांसिस टाइप टर्बाइन (francis type turbines) वाली इस परियोजना के पूरा होने पर प्रति वर्ष 2970 मिलियन यूनिट बिजली का उत्पादन होगा। इसे निर्माण शुरू होने के बाद चार साल में पूरा किया जाना है।
  • यह नेपाल में एसजेवीएन को मिलने वाली दूसरी परियोजना है, पहली परियोजना संखुवासभा जिले में अरुण-3 जल विद्युत परियोजना है।

अरुण-3 जल विद्युत परियोजना: यह परियोजना नेपाल में निगमित एसजेवीएन की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी यानी ‘एसजेवीएन अरुण-3 पावर डेवलपमेंट कंपनी लिमिटेड’ (SAPDC) के द्वारा चलाई जा रही है।

  • अरुण-3 परियोजना की आधारशिला 11 मई, 2018 को रखी गई थी। लगभग 7000 करोड़ रुपये की यह परियोजना नेपाल में सबसे बड़ी परियोजना है और नेपाल में भारत द्वारा सबसे बड़ा निवेश भी है।