री-सर्कुलेटरी एक्वाकल्चर सिस्टम तकनीक


जम्मू-कश्मीर में अपनी तरह की पहली परियोजना के रूप में, अवंतीपोरा में 9 अक्टूबर, 2021 को केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी, राज्य मंत्री डॉ. एल मुरुगन ने प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के अंतर्गत निजी क्षेत्र में इंद्रधनुषी मछ्ली पालन के लिए ‘री-सर्कुलेटरी एक्वाकल्चर सिस्टम (आरएएस) तकनीक’ (Re-circulatory Aquaculture Systems: RAS technology) का उद्घाटन किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: रीसर्क्युलेटरी एक्वाकल्चर सिस्टम (आरएएस) एक ऐसी तकनीक है, जहां यांत्रिक और जैविक निस्पंदन तथा निलंबित पदार्थ और मेटाबोलाइट्स को हटाने के बाद पानी का पुनर्नवीनीकरण और पुन: उपयोग किया जाता है।

  • इस पद्धति का उपयोग मछली की विभिन्न प्रजातियों की उच्च घनत्व वाली प्रजाति के लिए किया जाता है, जिसमें न्यूनतम भूमि क्षेत्र और पानी का उपयोग होता है।
  • खुले तालाबों में बाहर मछली उगाने की पारंपरिक पद्धति के बजाय, इस प्रणाली में मछलियों को आमतौर पर नियंत्रित वातावरण में इनडोर/आउटडोर टैंकों में पाला जाता है।
  • रीसर्क्युलेटिंग सिस्टम पानी को वापस फिश कल्चर टैंक (fish culture tanks) में पुनर्चक्रीकृत करके फिल्टर और साफ करता है।