Civil Services Chronicle One Year Subscription With 28 Years Solved Paper @ Rs.1290/-

पेट्रोलियम के उप-उत्पादों का उपयोग करने के लिए संयुक्त कार्य बल


केंद्रीय उर्वरक और रसायन मंत्री मनसुख मांडविया ने 4 मई, 2022 को फार्मा और कृषि-रासायनिक उद्योगों के लिए महत्वपूर्ण मध्यवर्ती उत्पादन के लिए पेट्रोलियम और पेट्रोकेमिकल उद्योगों के उप-उत्पादों के उपयोग की संभावनाओं का पता लगाने हेतु एक संयुक्त कार्य बल गठित करने का निर्णय लिया है।

महत्वपूर्ण तथ्य: संयुक्त कार्य बल फार्मास्युटिकल और कृषि-रसायन उद्योगों सहित विशेष रसायनों में कई मूल्य शृंखला अनुप्रयोगों वाले महत्वपूर्ण मध्यवर्ती और कच्चे माल की पहचान करने के लिए जिम्मेदार होगा।

  • ऐसे कच्चे/शुरुआती सामग्री/मध्यवर्ती उच्च मूल्यों में आयात किए जाते हैं।
  • संयुक्त कार्य बल सामूहिक रूप से अनुसंधान और विकास के माध्यम से सॉल्यूशन्स की पहचान करके और सरकार को सुझाव देकर व्यापार सुगमता को बढ़ावा देने के लिए काम करेगी।
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST) संयुक्त कार्य बल की गतिविधियों को अंजाम देने के लिए नोडल विभाग होगा।
  • संयुक्त कार्यबल प्रौद्योगिकी के विकास को भी सुगम बनाएगा और इसे उद्योग को हस्तांतरित करेगा।