Medha IAS

हिम तेंदुआ संरक्षणवादी चारुदत्त मिश्रा ने व्हिटली गोल्ड अवॉर्ड 2022 जीता


भारत के हिम तेंदुआ संरक्षणवादी चारुदत्त मिश्रा को 27 अप्रैल, 2022 को लंदन में रॉयल जियोग्राफिकल सोसाइटी में 'व्हिटली गोल्ड अवॉर्ड 2022' (Whitely Gold Award 2022) से सम्मानित किया गया।

(Image Source: https://www.downtoearth.org.in/)

  • उन्हें एशिया के उच्च पर्वतीय पारिस्थितिक तंत्र में हिम तेंदुआ प्रजातियों के संरक्षण में स्थानीय समुदायों को शामिल करने में उनके योगदान के लिए सम्मानित किया गया है।
  • मिश्रा को अफगानिस्तान, चीन और रूस सहित 12 हिम तेंदुए रेंज देशों में उनके काम के लिए पुरस्कार दिया गया।
  • यह उनका दूसरा व्हिटली फंड फॉर नेचर (Whitley Fund for Nature) अवॉर्ड है। 2005 में उन्हें पहली बार यह अवॉर्ड दिया गया था।
  • वह स्नो लेपर्ड ट्रस्ट (SLT) के पहले अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी निदेशक हैं, जिसकी स्थापना 1981 में इसके मुख्यालय सिएटल में हुई थी।

अन्य विजेता: इमैनुएल अमोआ (घाना - पश्चिम अफ्रीकी पतले-थूथन वाले मगरमच्छ पर काम के लिए);

  • मीकैला कैमिनो (अर्जेंटीना - समुदायों को उनके मानवाधिकारों की रक्षा करने के लिए सशक्त बनाने और अर्जेंटीना के ड्राई चाको के संरक्षण के लिए);
  • पाब्लो हॉफमैन (ब्राजील- अरौकेरिया वन क्षेत्र में जंगली पौधों की विविधता के पोषण के लिए);
  • सोनम लामा (नेपाल- लाल पांडा पर किए गए काम के लिए);
  • एस्ट्रेला मटिल्डे (साओ टोमे और प्रिंसिप - समुद्री कछुओं को बचाने के प्रयासों के लिए);
  • डेडी यान्स्याह (इंडोनेशिया-सुमात्रा गैंडे पर काम के लिए)।

व्हिटली अवॉर्ड: इसे ‘ग्रीन ऑस्कर’ (Green Oscar) के नाम से भी जाना जाता है। विजेताओं को 40,000 पाउंड पुरस्कार राशि प्रदान की जाती है।

  • व्हिटली अवॉर्ड की स्थापना 1993 में एडवर्ड व्हिटली द्वारा की गई थी, 1994 में पहली बार यह अवॉर्ड दिया गया।