प्लास्टिक का सफाया करने वाली बीटल लार्वा की नई प्रजाति

20 जुलाई, 2020 को जर्नल ‘एप्लाइड एंड एनवायर्नमेंटल माइक्रोबायोलॉजी’ में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार वैज्ञानिकों ने कोरिया में एक नई बीटल लार्वा की प्रजाति को खोज निकला है, जो प्लास्टिक का सफाया कर सकती है। इससे जुड़ा शोध पोहांग यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी द्वारा किया गया है ।

महत्वपूर्ण तथ्य: यह कीट वर्मपंखी कीट समूह ‘कोलिऑप्टेरा’ (Coleoptera) से संबंधित है। प्लेसिओफ्थोथलमस डेविडिस’ (Plesiophthophthalmus davidis) नामक कीट का लार्वा पॉलीस्टायरीन का सफाया करने में सक्षम है।

  • 2017 तक, दुनिया भर में 8.3 बिलियन टन प्लास्टिक कचरे का उत्पादन किया गया था, जिसमें से 9% से कम का पुनर्नवीनीकरण किया गया था। पॉलीस्टायरीन, जो कुल प्लास्टिक उत्पादन का लगभग 6% है, को इसकी अद्वितीय आणविक संरचना के कारण विघटित करना मुश्किल होता है।
  • यह कीट कोरियाई प्रायद्वीप सहित पूर्वी एशिया के कई हिस्सों में पाया जाता है। यह कीट पॉलीस्टायरीन को खत्म करने के साथ-साथ इसके द्रव्यमान और आणविक भार दोनों को कम कर सकता है। ऐसा इसकी आंत में मौजूद बैक्टीरिया ‘सेराटिया’ (Serratia) के कारण होता है।
  • वैज्ञानिकों ने लार्वा के शरीर में 2 सप्ताह तक पॉलीस्टायरीन को रखा, जिसके कारण उसकी आंत में मौजूद सेराटिया में 6 गुना वृद्धि हो गई।

स्रोत : सिविल सर्विसेज क्रॉनिकल ऑनलाइन. जुलाई 2020