सामयिक खबरें सार-संक्षेप अभियान/सम्मेलन/आयोजन

सीआईआई हरित भवन कांग्रेस 2020


भारत के उपराष्ट्रपति एम.वेंकैया नायडू ने 29 अक्टूबर, 2020 को ‘सीआईआई हरित भवन कांग्रेस (Green Building Congress) 2020’ का उद्घाटन किया।

विषय: हरित आधारित पर्यावरण में 'स्वच्छता, स्वास्थ्य और कल्याण' ('Hygiene, Health and Wellbeing' in Green Built Environment)

  • ‘सीआईआई हरित भवन कांग्रेस’ हरित आधारित पर्यावरण पर भारत का प्रमुख वार्षिक कार्यक्रम है। यह इस कांग्रेस का 18वां संस्करण था।
  • इसके तहत 29 से 31 अक्टूबर, 2020 तक भारतीय हरित भवन परिषद (Indian Green Building Council- IGBC) द्वारा ‘वर्चुअल हरित भवन सम्मेलन’ (Green building conference) का आयोजन किया गया तथा 27 नवंबर, 2020 तक वर्चुअल एक्स्पो का आयोजन किया जा रहा है।
  • उपराष्ट्रपति ने इस अवसर पर 'भारतीय हरित भवन परिषद' को 'शुद्ध शून्य कार्बन भवन' (Net Zero Carbon Buildings) को बढ़ावा देने के लिए एक अभियान शुरू करने सुझाव दिया।
  • ‘विश्व हरित भवन परिषद’ की परिभाषा के अनुसार एक 'शुद्ध शून्य कार्बन भवन' वह भवन है, जो अत्यधिक ऊर्जा कुशल है और पूरी तरह से ऑन-साइट और / या ऑफ-साइट अक्षय ऊर्जा स्रोतों से संचालित होता है।
  • भारतीय हरित भवन परिषद (IGBC), भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) का हिस्सा है, इसकी स्थापना वर्ष 2001 में की गई थी।

सामयिक खबरें राज्य उत्तराखंड

मुख्यमंत्री सौर स्वरोजगार योजना


8 अक्टूबर, 2020 को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने ‘मुख्यमंत्री सौर स्वरोजगार योजना’ की शुरुआत की।

उद्देश्य: राज्य के लगभग 10,000 युवाओं के लिए स्वरोजगार उपलब्ध कराना।

  • प्रत्येक लाभार्थी को 25 किलोवॉट के सौर संयंत्र आवंटित किए जाएंगे। लाभार्थियों में कोविड-19 महामारी के कारण देश के विभिन्न हिस्सों से नौकरी छोड़कर घर लौट चुके युवाओं और प्रवासियों को शामिल किया गया है।
  • प्रत्येक सौर संयंत्र को स्थापित करने के लिए भूमि की कुल 1.5-2 नाली (भूमि माप इकाई) और 10 लाख रुपये की आवश्यकता है। संयंत्र में पूरे वर्ष में लगभग कुल 38000 यूनिट प्रतिवर्ष विद्युत उत्पादन हो सकता है।
  • उत्तराखण्ड राज्य/जिला सहकारी बैंक निजी भूमि पर या पट्टे पर ली गई भूमि पर सौर संयंत्र स्थापित करने के लिए 15 वर्षों के लिए प्रति वर्ष 8% की ब्याज दर पर ऋण देंगे।
  • यह बिजली उत्तराखंड पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड द्वारा 25 वर्षों के लिए खरीदी जाएगी।

सामयिक खबरें खेल विविध

पुर्तगाली ग्रैंड प्रिक्स 2020


  • 23 से 25 अक्टूबर, 2020 तक पुर्तगाल के अल्गार्वे इंटरनेशनल सर्किट में आयोजित पुर्तगाली ग्रैंड प्रिक्स 2020 लुईस हैमिल्टन (मर्सिडीज-ग्रेट ब्रिटेन) ने जीत हासिल की। यह 2020 फॉर्मूला वन विश्व चैम्पियनशिप का 12वां राउंड था। यह हैमिल्टन के करियर की 92वीं जीत है।
  • इस जीत के साथ, उन्होंने फॉर्मूला वन के इतिहास में जर्मनी के महान माइकल शूमाकर के 91 जीत के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया।
  • वाल्टेरी बोटास (मर्सिडीज- फिनलैंड) दूसरे स्थान पर, मैक्स वर्सटाप्पेन (रेड बुल - नीदरलैंड) तीसरे स्थान पर रहे।

सामयिक खबरें खेल विविध

एनबीए चैम्पियनशिप 2020


  • लॉस एंजिल्स लेकर्स ने 12 अक्टूबर, 2020 को मियामी हीट को हराकर नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन (एनबीए) चैम्पियनशिप 2020 का खिताब जीता। यह लेकर्स के लिए 17वीं एनबीए खिताब जीत है और 2010 में कोबे ब्रायंट के पांचवें और अंतिम खिताब के बाद पहली खिताबी जीत है।
  • लेकर्स के 'लेब्रॉन जेम्स' को उनके करियर में चौथी बार 'एनबीए फाइनल मोस्ट वैल्यूएबल प्लेयर' चुना गया।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप विविध

'मेरी सहेली' पहल


  • महिला यात्रियों की सुरक्षा पर ध्यान केंद्रित करने के लिए भारतीय रेलवे ने 29 अक्टूबर, 2020 को मूल स्टेशन से गंतव्य स्टेशन तक की यात्रा के लिए सभी मंडल (Zone) में 'मेरी सहेली' पहल शुरू की।
  • रेल सुरक्षा बल (आरपीएफ) की इस पहल में युवा महिला आरपीएफ कर्मियों की एक टीम विशेषकर उन महिला यात्रियों को जागरूक करेंगी तथा उन्हें यात्रा के दौरान बरती जाने वाली सभी सावधानियों से अवगत कराएंगी, जो विशेषकर अकेले यात्रा कर रही हों।
  • किसी भी तरह की परेशानी होने पर वो वह तत्काल रेल सुरक्षा बल की हेल्पलाइन नं.182 डायल कर अपनी समस्याएं बता सकती हैं।
  • 'मेरी सहेली' पहल की शुरुआत सितंबर 2020 में दक्षिण पूर्वी रेलवे में एक पायलट परियोजना के रूप में की गई थी।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप विविध

मैकेफी इंडिया की 'सबसे खतरनाक हस्तियों' की सूची 2020


  • एंटीवायरस बनाने वाली कंपनी मैकेफी ने 5 अक्टूबर, 2020 को 'मैकेफी इंडिया सबसे खतरनाक हस्तियों' की सूची 2020 जारी की।
  • इस सूची में उन हस्तियों को शामिल किया गया, जिन्हें इंटरनेट पर सर्च करने के परिणामस्वरूप उनके प्रशंसकों के वायरस के संपर्क से व्यक्तिगत जानकारी के उजागर होने का खतरा होता है।
  • बॉलीवुड अभिनेत्री तब्बू, तापसी पन्नू, अनुष्का शर्मा और सोनाक्षी सिन्हा उन 10 शीर्ष शख्सियतों में शामिल हैं।
  • मैकेफी की सबसे खतरनाक हस्तियों की 2020 की इस सूची में फुटबॉलर क्रिस्टियानो रोनाल्डो पहले स्थान पर हैं।
  • अभिनेत्री तब्बू दूसरे स्थान पर, अभिनेत्री तापसी पन्नू तीसरे, फिल्म निर्माता-अभिनेत्री अनुष्का शर्मा चौथे और अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा पांचवें स्थान पर हैं।
  • अगले पांच पायदानों पर भी मनोरंजन जगत से जुड़े लोग हैं, जिनमें गायक अरमान मलिक छठे, अभिनेत्री सारा अली खान सातवें, अभिनेत्री कंगना रणौत आठवें, टीवी अभिनेत्री दिव्यांका त्रिपाठी नौवें, अभिनेता शाहरुख खान 10वें स्थान पर हैं।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

पैदल सेना दिवस (इन्फैंट्री डे)


27 अक्टूबर

महत्वपूर्ण तथ्य: 1947 में इस दिन पहली भारतीय पैदल सेना के सैनिकों ने जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान समर्थित घुसपैठियों के आक्रमण से भारतीय क्षेत्र की रक्षा के लिए कार्रवाई की थी। 26 अक्टूबर, 1947 को जम्मू और कश्मीर के तत्कालीन महाराजा हरि सिंह ने अपने राज्य को भारत में मिलाने का फैसला किया था। इस आशय के समझौते पर हस्ताक्षर होते ही भारतीय सेना ने जम्मू-कश्मीर पहुंचकर हमलावर पड़ोसी की सेना के खिलाफ मोर्चा खोल दिया।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व शहर दिवस


31 अक्टूबर

2020 का विषय: 'हमारे समुदायों और शहरों की कदर करना' (Valuing Our Communities and Cities)

महत्वपूर्ण तथ्य: यूएन-हैबिटेट द्वारा 'अर्बन अक्टूबर' (Urban October) को दुनिया की शहरी चुनौतियों पर जोर देने और नए शहरी एजेंडा के प्रति अंतरराष्ट्रीय समुदाय को जोड़ने के लिए 2014 में लॉन्च किया गया था।

सामयिक खबरें खेल चर्चित खेल व्यक्तित्व

एलिसा हिली द्वारा विकेटकीपिंग में सर्वाधिक शिकार


  • ऑस्ट्रेलिया महिला क्रिकेट टीम की विकेटकीपर एलिसा हिली ने 27 सितंबर, 2020 को अंतरराष्ट्रीय टी20 क्रिकेट में विकेटकीपिंग में सबसे ज्यादा शिकार करने के मामले में महेंद्र सिंह धोनी को पीछे छोड़ दिया है। हिली टी-20 में पुरुष और महिला क्रिकेट दोनों में सबसे ज्यादा शिकार करने वाली विकेटकीपर बन गई हैं।

  • हिली ने यह मुकाम (92वां शिकार) न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले गए दूसरे टी-20 मैच में हासिल किया। हिली के अब 95 शिकार हो गए हैं, जबकि धोनी के नाम 91 शिकार हैं।

पीआईबी न्यूज आर्थिक

तटीय नौवहन विधेयक - 2020 मसौदा जारी


जहारानी मंत्रालय ने 29 अक्टूबर, 2020 को सार्वजनिक परामर्श के लिए ‘तटीय नौवहन विधेयक - 2020 का मसौदा जारी किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: जहारानी मंत्रालय ने व्यापार नौवहन अधिनियम-1958 के भाग XIV के स्थान पर तटीय नौवहन विधेयक-2020 का मसौदा तैयार किया है।

विधेयक के प्रावधान: तटीय नौवहन और तटीय जल सीमा की परिभाषा का विस्तार किया गया है।

  • तटीय व्यापार के लिए भारतीय ध्वजवाहक जहाजों के लिए व्यापारिक लाइसेंस की आवश्यकता को दूर करने का प्रस्ताव है।
  • यह तटीय जहाजों के नौवहन में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए भारतीय जहाजों को प्रोत्साहित करते हुए एक प्रतिस्पर्धी माहौल बनाने और परिवहन लागत को कम करने का प्रयास करता है।
  • अंतर्देशीय जलमार्ग के साथ ‘तटीय समुद्री परिवहन’ (coastal maritime transport) के एकीकरण का भी प्रस्ताव है।
  • ‘राष्ट्रीय तटीय और अंतर्देशीय नौवहन सामरिक योजना’ (National Coastal and Inland Shipping Strategic Plan) के लिए भी प्रावधान किया गया है।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

केवड़िया समन्वित विकास कार्यक्रम


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 30 अक्टूबर, 2020 को गुजरात के केवड़िया में समन्वित विकास कार्यक्रम के तहत विभिन्न परियोजनाओं का उद्घाटन किया है। इनमें आरोग्य वन, आरोग्य कुटीर, एकता मॉल और बाल पोषण पार्क शामिल हैं।

आरोग्य वन एवं आरोग्य कुटीर: आरोग्य वन 17 एकड़ क्षेत्र में फैला है और यहां 380 विभिन्न प्रजातियों के 5 लाख पेड़ है।

  • आरोग्य कुटीर में एक ‘संथीगिरी वेलनेस सेंटर’ (Santhigiri wellness centre) नामक पारम्परिक उपचार सुविधा है, जिसमें आयुर्वेद, सिद्ध, योग एवं पंचकर्म आधारित स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध होगी।

एकता मॉल: यह मॉल 35,000 वर्ग फीट क्षेत्र में फैला है और इसमें विभिन्न प्रकार के हस्तशिल्पों और पारम्परिक वस्तुओं की विस्तृत श्रृंखला है, जो देशभर के विभिन्न राज्यों से जुड़ी हैं।

बाल पोषण पार्क :यह विश्व का अब तक का सबसे पहला तकनीकोन्मुखी बाल पोषण पार्क है, जो 35000 वर्ग फीट क्षेत्र में फैला है।

  • इस पार्क में एक न्यूट्री ट्रेन चलती है, जो विभिन्न आकर्षक थीम वाले स्टेशनों पर आधारित है, जिसमें ‘फालशका गृहम’, ‘पायोनगरी’, ‘अन्नपूर्णा’, ‘पोषण पुराण’ और ‘स्वस्थ भारतम्’ शामिल हैं।
  • यह दर्पण भूल-भूलैया (Mirror Maze), 5डी वर्चुअल रियलिटी थिएटर और संवर्धित रियलिटी गेम्स (Augmented reality games) जैसी विभिन्न शैक्षिक गतिविधियों के जरिए पोषण जागरूकता को प्रेरित करेगा।

पीआईबी न्यूज विज्ञान और तकनीक

'एसईआरबी-पावर' योजना


केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने 29 अक्टूबर, 2020 को महिला वैज्ञानिकों के लिए विशेष रूप से गठित योजना 'एसईआरबी-पावर' (महिलाओं के लिए अनुसंधान में अवसरों को प्रोत्साहन) SERB-POWER (Promoting Opportunities for Women in Exploratory Research) की शुरुआत की।

उद्देश्य: भारतीय शैक्षणिक संस्थानों और आर एंड डी प्रयोगशालाओं में विभिन्न विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी कार्यक्रमों में विज्ञान और इंजीनियरिंग शोध के वित्तपोषण में लैंगिक असमानता को घटाना।

महत्वपूर्ण तथ्य: साइंस एंड इंजीनियरिंग रिसर्च बोर्ड (एसईआरबी), विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी), भारत सरकार के अंतर्गत एक सांविधिक निकाय है।

  • एसईआरबी-पावर योजना के दो घटक होंगे (i) एसईआरबी-पावर फैलोशिप (छात्रवृत्ति) (ii) एईआरबी- पावर रिसर्च ग्रांट (शोध अनुदान)।

एसईआरबी-पावर फैलोशिप की मुख्य विशेषताएं

  • लक्ष्य: 35-55 वर्ष आयु वर्ग की महिला शोधकर्ता। प्रति वर्ष 25 से अधिक फैलोशिप और किसी भी समय 75 से अधिक नहीं।
  • सहायता घटक: नियमित आय के अलावा प्रत्येक माह 15,000 रुपये की फैलोशिप; प्रति वर्ष 10 लाख रुपये शोध अनुदान; और अतिरिक्त खर्च 90,000 रुपये/प्रति वर्ष।
  • अवधि: तीन साल, बगैर किसी विस्तार की संभावना के। प्रत्येक वैज्ञानिक को उसके करियर में एक बार।

एसईआरबी-पावर शोध अनुदान की मुख्य विशेषताएं

पावर शोध अनुदान महिला शोधकर्ताओं को निम्न दो श्रेणियों के माध्यम से वित्तपोषण कर उन्हें सशक्त बनाएगा।

  • स्तर I (आईआईटी, आईआईएसईआर, आईआईएससी, एनआईटी, केंद्रीय विश्वविद्यालयों और केंद्र सरकार के संस्थानों के राष्ट्रीय प्रयोगशालाओं के आवेदक): वित्तपोषण तीन साल के लिए 60 लाख रुपये तक है।
  • स्तरII (राज्य विश्वविद्यालयों/कॉलेजों और निजी शैक्षणिक संस्थानों के आवेदक): वित्तपोषण तीन साल के लिए 30 लाख रुपये तक है।

सामयिक खबरें अंतर्राष्ट्रीय

जापान का 2050 तक शून्य कार्बन उत्सर्जन का लक्ष्य


जापान के प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा ने जलवायु परिवर्तन प्रतिबद्धताओं को मजबूती प्रदान करते हुए 26 अक्टूबर, 2020 को दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के लिए वर्ष 2050 तक शून्य कार्बन उत्सर्जन का लक्ष्य निर्धारित किया है।

महत्वपूर्ण तथ्य: जापान, जो पेरिस जलवायु परिवर्तन समझौते का एक हस्ताक्षरकर्ता है, अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी के अनुसार, 2018 में वैश्विक ग्रीनहाउस उत्सर्जन में छठा सबसे बड़ा योगदानकर्ता था।

  • जापान ने विनाशकारी भूकंप और सूनामी द्वारा 2011 फुकुशिमा परमाणु संयंत्र आपदा के बाद परमाणु रिएक्टरों को बंद करने के बाद कार्बन उत्सर्जन में कटौती करने के लिए काफी चुनौती का सामना किया है। आपदा के बाद कोयले जैसे जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता बढ़ गई।
  • जापान की 2018 की वर्तमान ऊर्जा योजना में अपनी ऊर्जा का 22-24% नवीकरणीय ऊर्जा से, 20-22% परमाणु ऊर्जा से और 56% जीवाश्म ईंधन से प्राप्त करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।
  • ज्ञात हो कि यूरोपीय संघ ने 2019 में अपने लिए जापान के समान लक्ष्य निर्धारित किया था, जबकि चीन ने हाल ही में घोषणा की है, कि वह 2060 तक कार्बन-मुक्त हो जाएगा।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

अर्थशॉट पुरस्कार


ब्रिटेन के प्रिंस विलियम ने 8 अक्टूबर, 2020 को एक नया 50 मिलियन पाउंड का 'अर्थशॉट पुरस्कार' (Earthshot Prize) लॉन्च किया।

उद्देश्य: दुनिया की कुछ सबसे अधिक दबाव वाली पर्यावरणीय चुनौतियों के लिए सबसे नवीन समाधानों का वित्तपोषण करना।

  • प्रत्येक 1 मिलियन पाउंड के पांच पुरस्कार अगले 10 वर्षों के लिए प्रत्येक वर्ष प्रदान किए जाएंगे, जो 2030 तक दुनिया की सबसे बड़ी पर्यावरणीय समस्याओं के लिए लगभग 50 समाधान प्रदान करेगा।
  • यह पुरस्कार पांच अर्थशॉट्स’ (Earthshot) चुनौतियों पर केंद्रित है- प्रकृति की रक्षा एवं पुनर्स्थापना;

स्वच्छ वायु; महासागरों को पुनर्जीवित करना; अपशिष्ट मुक्त दुनिया का निर्माण तथा जलवायु को ठीक करना।

  • यह पुरस्कार अर्थशॉट्स समाधान में महत्त्वपूर्ण योगदान देने वाले व्यक्तियों, वैज्ञानिकों, कार्यकर्त्ताओं, अर्थशास्त्रियों, सामुदायिक परियोजनाओं, नेताओं, सरकारों, बैंकों, व्यवसायों, शहरों एवं देशों को प्रदान किया जा सकता है। पुरस्कार राशि का उपयोग परियोजनाओं को मदद करने के लिए किया जाएगा।

पीआईबी न्यूज आर्थिक

जूट सामग्री पैकिंग अनिवार्यता संबंधी नियम


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में 29 अक्टूबर, 2020 को आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति ने जूट सामग्री पैकिंग अनिवार्यता संबंधी नियमों के विस्तार को मंजूरी प्रदान की।

उद्देश्य: देश में कच्चे जूट के घरेलू इस्तेमाल और जूट पैकिंग सामग्री को बढ़ावा देना।

महत्वपूर्ण तथ्य: इसके तहत शत-प्रतिशत खाद्यान्नों और 20% चीनी अनिवार्य रूप से विविध जूट बोरों में पैक किए जाने को मंजूरी दी गई है।

  • खाद्यान्नों की पैकिंग के लिए शुरू में 10% जूट बोरों की खरीद जीईएम पोर्टल पर रिवर्स ऑक्शन (reverse auction) के जरिए किए जाने को भी अनिवार्य किया गया है।
  • जूट पैकिंग सामग्री की आपूर्ति में कोई कमी अथवा व्यवधान आने पर कपड़ा मंत्रालय अन्य संबद्ध मंत्रालयों के साथ मिलकर उपबंधों में छूट दे सकता है और खाद्यान्नों की अधिकतम 30% पैकिंग किए जाने का निर्णय ले सकता है।
  • सरकार ने जूट पैकिंग सामग्री अधिनियम, 1987 के तहत अनिवार्य रूप से पैकिंग किए जाने के इस मानक को विस्तारित किया है।

जूट क्षेत्र को अन्य सहायता: कच्चे जूट की उत्पादकता और गुणवत्ता में सुधार हेतु एक विशेष कार्यक्रम ‘जूट आईसीएआरई’ (Jute ICARE) का डिजाइन;

  • वाणिज्यिक आधार पर 10,000 क्विंटल प्रमाणित बीजों के वितरण के लिए भारत जूट निगम द्वारा राष्ट्रीय बीज निगम के साथ समझौता;
  • जूट सेक्टर के विविधीकरण को बढ़ावा देने के लिए ‘गांधी नगर’ में एक ‘जूट डिजाइन प्रकोष्ठ’ (Jute Design Cell) खोला गया;
  • बांग्लादेश और नेपाल से जूट वस्तुओं के आयात पर एंटी-डंपिंग ड्यूटी।

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

स्वास्थ्य क्षेत्र में सहयोग पर भारत - कम्बोडिया समझौता


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने 29 अक्टूबर, 2020 को स्वास्थ्य एवं दवा के क्षेत्र में सहयोग पर भारत और कम्बोडिया के बीच हुए समझौता ज्ञापन (एमओयू) को स्वीकृति प्रदान की।

उद्देश्य: स्वास्थ्य क्षेत्र में संयुक्त पहलों और प्रौद्योगिकी विकास के माध्यम से दोनों देशों के बीच सहयोग को प्रोत्साहन देना।

  • एमओयू उसी दिन से प्रभावी होगा, जिस दिन उस पर हस्ताक्षर हुए और यह पांच साल की अवधि के लिए लागू रहेगा।
  • दोनों देशों के बीच भागीदारी वाले प्रमुख क्षेत्र हैं- मातृ और बाल स्वास्थ्य; परिवार नियोजन; एचआईवी/एड्स और टीबी; दवा और औषधियां; प्रौद्योगिकी हस्तांतरण; सार्वजनिक स्वास्थ्य और महामारी विज्ञान; रोग नियंत्रण (संक्रामक और गैर-संक्रामक) तथा चिकित्सा शिक्षा।

सामयिक खबरें आर्थिकी

बांध पुनर्वास और सुधार परियोजना दूसरा व तीसरा चरण


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने 29 अक्टूबर, 2020 को विश्व बैंक और एशियाई अवसंरचना निवेश बैंक की वित्तीय सहायता प्राप्त ‘बांध पुनर्वास और सुधार परियोजना’ (Dam Rehabilitation and Improvement Project- DRIP) चरण-II और चरण III को मंजूरी प्रदान की।

उद्देश्य: पूरे देश के कुछ चयनित बांधों की सुरक्षा और परिचालन में सुधार करना तथा ‘प्रणाली के व्यापक प्रबंधन दृष्टिकोण’ के साथ ‘संस्थागत सुदृढ़ीकरण’ करना।

महत्वपूर्ण तथ्य: परियोजना की लागत 10,211 करोड़ रुपये है। परियोजना लागू करने की अवधि 10 वर्ष है और इसमें दो चरण शामिल हैं। प्रत्येक चरण छ: वर्षों का होगा तथा इसमें अप्रैल, 2021 से मार्च, 2031 तक, दो वर्षों की पुनरावृति (overlapping) अवधि शामिल है।

  • जल संसाधन, नदी विकास और गंगा कायाकल्प मंत्रालय द्वारा केंद्रीय जल आयोग (सीडब्ल्यूसी) के माध्यम से विश्व बैंक की सहायता से अप्रैल 2012 में बांध पुनर्वास और सुधार परियोजना शुरू की गई थी।
  • इस योजना के पहले चरण को 2100 करोड़ रुपये की कुल मूल लागत के साथ छ: साल के लिए (जून 2018) तक निर्धारित किया गया था। बाद में इसे 2020 तक विस्तारित किया गया था।
  • ज्ञात हो कि बड़े बांधों की संख्या के मामले में चीन और अमेरिका के बाद भारत तीसरे नंबर पर है और यहां 5,334 बड़े बांध हैं।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप निधन

गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का निधन


  • गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री और गुजरात में बीजेपी के संगठन में अहम भूमिका निभाने वाले केशुभाई पटेल का 29 अक्टूबर को निधन हो गया। वे 92 वर्ष के थे।
  • वे पहली बार 1995 में तथा दूसरी बार 1998-2001 तक गुजरात के मुख्यमंत्री रहे।
  • 2012 में विधानसभा चुनावों के लिए, उन्होंने एक क्षेत्रीय पार्टी 'गुजरात परिवर्तन पार्टी' का गठन किया था, जिसका उन्होंने बाद में भारतीय जनता पार्टी में विलय कर दिया था।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित स्थल

न्यू कैलेडोनिया ने फ्रांस से अपनी स्वतंत्रता को किया अस्वीकार


  • न्यू कैलेडोनिया के दक्षिण प्रशांत क्षेत्र ने एक जनमत संग्रह के माध्यम से 4 अक्टूबर, 2020 को फ्रांस से अपनी स्वतंत्रता को अस्वीकार करने का निर्णय लिया है।

  • अंतिम परिणामों के अनुसार, लगभग 170 वर्षों के पश्चात फ्रांस से पृथक्करण को अस्वीकार करने के पक्ष में 53.26% मतदान हुआ, जो कि दो वर्ष पूर्व हुए जनमत संग्रह के मतदान प्रतिशत (56.7%) से कम था।
  • जनमत संग्रह नौमेया समझौते का हिस्सा था, जो 1998 में यूरोपीय उपनिवेशवादियों के वंशजों और ज्यादातर स्वतंत्रता-समर्थक स्वदेशी 'कनक' आबादी के बीच एक घातक संघर्ष को समाप्त करने के लिए किया गया था।
  • न्यू कैलेडोनिया, जो ऑस्ट्रेलिया और फिजी के बीच स्थित है, सम्राट नेपोलियन III के शासन में 1853 में एक फ्रांसीसी उपनिवेश बन गया था।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार 2020


सितंबर 2020 में वैज्ञानिक एवं अनुसंधान परिषद (CSIR) द्वारा शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार की घोषणा की गई।

    • इस पुरस्कार हेतु 7 श्रेणियों में घोषित वैज्ञानिकों के नाम इस प्रकार हैं।
  • जैव विज्ञान: डॉ. शुभादीप चटर्जी एवं डॉ. वत्सला थिरूमलाई
  • रसायन विज्ञान: डॉ. ज्योर्तिमयी दास एवं डॉ. सुबी जैकब जॉर्ज
  • पृथ्वी, वायुमंडल, महासागर तथा ग्रहीय विज्ञान: डॉ. अभिजीत मुखर्जी एवं डॉ. सूर्येन्दु दत्ता
  • इंजीनियरिंग विज्ञान: डॉ. अमोल अरविंद राव कुलकर्णी एवं डॉ. किंशुक दास गुप्ता
  • गणित विज्ञान: डॉ. रजत शुभ्रा हजरा एवं डॉ. यू.के. आनंदवर्धनन
  • चिकित्सा विज्ञान: डॉ. बुशरा अतीक एवं डॉ. रितेश अग्रवाल
  • भौतिक विज्ञान: डॉ. राजेश गनपथी एवं डॉ. सुरजीत धारा
    • यह पुरस्कार विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया जाता है। पहली बार यह पुरस्कार 1958 में दिया गया था।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप विविध

टाइम मैगजीन 100 सबसे प्रभावशाली व्यक्तियों की सूची 2020


22 सितंबर, 2020 को प्रतिष्ठित टाइम मैगजीन द्वारा वर्ष 2020 के विश्व के 100 सबसे प्रभावशाली व्यक्तियों की सूची (Time: The Most Influential People of 2020) जारी की गई।

  • मैगजीन द्वारा सूची को पायनियर्स, आर्टिस्ट, लीडर्स, टाइटन्स, एवं आइकॉन्स श्रेणी में विभाजित किया गया है।
  • इस वर्ष ‘लीडर्स’ श्रेणी में भारत के प्रधामनंत्री नरेंद्र मोदी भारतीय मूल की अमेरिकी सीनेटर एवं डेमोक्रेटिक पार्टी से उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवार कमला हैरिस, डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बिडेन, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो, जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल तथा चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग शामिल हैं।
  • अल्फाबेट इंक एवं गूगल के सीईओ भारतीय मूल के सुंदर पिचाई को ‘टाइटन्स’ श्रेणी में शामिल किया गया है।
  • प्रसिद्ध बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना को ‘आर्टिस्ट’ श्रेणी में शामिल किया गया है।
  • भारतीय मूल के माइक्रोबॉयोलॉजिस्ट रवींद्र गुप्ता को ‘पायनियर्स’ श्रेणी में शामिल किया गया है। प्रोफेसर रवींद्र गुप्ता के नेतृत्व में एक अध्ययन के परिणामस्वरूप पिछले साल लंदन में दुनिया के दूसरे व्यक्ति का एचआईवी का सफलतापूर्वक इलाज किया गया।
  • दिल्ली के शाहीन बाग में सीएए (CAA) और एनआरसी जैसे मुद्दों पर प्रदर्शनों को लेकर चर्चा में आई 82 वर्षीय वृद्ध महिला बिलकिस को ‘आइकॉन्स’ (ICONS) की श्रेणी में शामिल किया गया है।

सामयिक खबरें खेल चर्चित खेल व्यक्तित्व

युवराज सिंह आकाश एजुकेशनल के ब्रांड एंबेसडर


  • 24 सितंबर, 2020 को प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराने वाले संस्थान आकाश एजुकेशनल सर्विसेज लिमिटेड (एईएसएल) ने क्रिकेटर युवराज सिंह को अपना ब्रांड एंबेसडर नियुक्त करने की घोषणा की।
  • युवराज सिंह आकाश डिजिटल के नवीनतम ओम्नी चैनल अभियान 'सक्सेस इज वेटिंग’ की अगुवाई करेंगे, जो उन छात्रों के लिये है, जो मेडिकल एवं इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं में एक बार फिर से भाग लेना चाहते हैं।

सामयिक खबरें खेल चर्चित खेल व्यक्तित्व

कर्टनी वाल्श वेस्टइंडीज महिला क्रिकेट टीम के मुख्य कोच


  • वेस्टइंडीज के पूर्व तेज गेंदबाज कर्टनी वाल्श को 1 अक्टूबर, 2020 को वेस्टइंडीज महिला क्रिकेट टीम का मुख्य कोच बनाया गया है।
  • वाल्श टेस्ट क्रिकेट में वेस्ट इंडीज के सर्वाधिक विकेट (132 मैचों में 519 विकेट) लेने वाले गेंदबाज हैं। उन्हें 2010 में ‘आईसीसी हॉल ऑफ फेम’ में शामिल किया गया था।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

जनजातीय कल्‍याण हेतु दो उत्‍कृष्‍टता केन्‍द्र


  • केन्द्रीय जनजातीय कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा ने 27 अक्टूबर, 2020 को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से जनजातीय समुदाय के कल्याण के लिए दो उत्कृष्टता केंद्रों का शुभारंभ किया।
  • ये उत्कृष्टता केंद्र जनजातीय कार्य मंत्रालय और ‘आर्ट ऑफ लिविंग’ के बीच सहयोग से शुरू किये जा रहे हैं।
  • पहली पहल के तहत झारखंड के 5 जिलों, 30 ग्राम पंचायतों और 150 गांवों में पंचायती राज संस्थाओं को मजबूत करने की दिशा में प्रयास किए जाएंगे, ताकि इन संस्थाओं के निर्वाचित प्रतिनिधियों को जनजातीय कानूनों और नियमों के बारे में जागरूक बनाया जा सके।
    • दूसरी पहल के तहत महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में 10,000 जनजातीय किसानों को ‘गौ-आधारित कृषि तकनीकों’ (Go-Adharith farming techniques) पर आधारित सतत प्राकृतिक खेती का प्रशिक्षण दिया जाएगा।
    • किसानों को जैविक प्रमाणन दिलाने में मदद की जाएगी और उनमें से प्रत्येक जनजातीय किसान को आत्मनिर्भर बनाने के लिए विपणन के अवसर उपलब्ध कराए जाएंगे।

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

भारत- ऑस्ट्रेलिया सर्कुलर इकोनॉमी हैकथॉन


नीति आयोग का ‘अटल नवाचार मिशन’ (AIM), ऑस्ट्रेलिया के ‘कॉमनवेल्थ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन’(Commonwealth Scientific and Industrial Research Organisation-CSIRO) के साथ मिलकर सर्कुलर अर्थव्यवस्था पर 7- 8 दिसंबर, 2020 को दो दिवसीय ‘भारत-ऑस्ट्रेलिया सर्कुलर इकोनॉमी हैकथॉन’ [India–Australia Circular Economy Hackathon(I-ACE)] आयोजित करने जा रहा है।

  • I-ACE का विचार 4 जून, 2020 को भारत और ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्रियों की बातचीत के दौरान आया, जब दोनों नेताओं ने भारत और ऑस्ट्रेलिया में चक्रीय आर्थव्यवस्था (सर्कुलर इकोनॉमी) को बढ़ावा देने के लिए नवाचारों की आवश्यकता जताई।
  • प्रस्तावित दो दिवसीय हैकथॉन चार मुख्य विषयों (थीम) पर आधारित होंगी:
  1. पैकिंग अपशिष्ट में कमी लाने हेतु कम संसाधनों से पैकिंग के क्षेत्र में नवाचार;
  2. खाने की बर्बादी कम करने के लिए खाद्य आपूर्ति श्रृंखला में नवाचार;
  3. प्लास्टिक अपशिष्ट को कम करने के लिए अवसरों का सृजन;
  4. जटिल ऊर्जा धातुओं और ई-कचरे का पुनर्चक्रण।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

मारियो मोलिना


7 अक्टूबर, 2020 को रसायन विज्ञान में नोबेल पुरस्कार विजेता वैज्ञानिक मारियो मोलिना (Mario Molina) का मैक्सिको शहर में निधन हो गया।

  • वर्ष 1995 में वैज्ञानिक मारियो मोलिना को अमेरिकी वैज्ञानिक फ्रैंक शेरवुड रोलैंड और नीदरलैंड्स के पॉल क्रुटजेन के साथ संयुक्त रूप से रसायन विज्ञान का नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया था।
  • तीनों रसायनविदों को यह पुरस्कार वायुमंडलीय रसायन विज्ञान, विशेष रूप से ओजोन के निर्माण और विघटन संबंधी कार्य के लिए दिया गया था।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

राइट लाइवलीहुड अवॉर्ड 2020


  • 1 अक्टूबर, 2020 को ‘द राइट लाइवलीहुड फाउंडेशन’ द्वारा ‘राइट लाइवलीहुड अवॉर्ड 2020’ (Right Livelihood Award) की घोषणा की गई।
  • इस वर्ष 4 व्यक्तियों को इस पुरस्कार से सम्मानित किए जाने की घोषणा की गई है।
  • ईरान की नसरीन सोतौडेह को ‘ईरान में राजनीतिक स्वतंत्रता और मानवाधिकारों को बढ़ावा देने हेतु निडर सक्रियता के लिए'।
  • संयुक्त राज्य अमेरिका के ब्रायन स्टीवेंसन को ‘अमेरिका के आपराधिक न्याय प्रणाली में सुधार और नस्लीय सुलह को आगे बढ़ाने के उनके प्रेरक प्रयास के लिए’।
  • निकारागुआ की लोट्टी कनिंघम रेन (Lottie Cunningham Wren) को ‘स्वदेशी भूमि और समुदायों को शोषण और दुर्दशा से बचाने के लिए उनके समर्पण के लिए’।
  • बेलारूस के एलेस बालियात्स्की और एनजीओ वियासना (Ales Bialiatski/Viasna) को ‘बेलारूस में लोकतंत्र और मानव अधिकारों की स्थापना के लिए उनके दृढ़ संघर्ष के लिए’
  • राइट लाइवलीहुड अवार्ड 1980 में 'वैश्विक समस्याओं को सुलझाने वाले साहसी लोगों के सम्मान और समर्थन' के लिए स्थापित किया गया था। इसे व्यापक रूप से 'वैकल्पिक नोबेल पुरस्कार' के रूप में जाना जाता है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप युद्धाभ्यास/सैन्य अभियान

मालाबार नौसैन्य अभ्यास 2020


  • अक्टूबर 2020 भारत सरकार ने घोषणा की कि ऑस्ट्रेलियाई नौसेना इस वर्ष के अंत में होने वाले मालाबार नौसैन्य अभ्यास में शामिल होगी। सभी चार क्वाड देश इस अभ्यास में भाग लेंगे।
  • इस अभ्यास में भाग लेने वाले देश जापान, भारत और अमेरिका हैं। समुद्री सुरक्षा क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय सहयोग प्राप्त करने की प्रक्रिया में, भारत ने अभ्यास में भाग लेने के लिए ऑस्ट्रेलिया को आमंत्रित किया है।
  • मालाबार नौसैन्य अभ्यास श्रृंखला वर्ष 1992 में भारतीय नौसेना और अमेरिकी नौसेना के द्विपक्षीय संयुक्त नौसैनिक अभ्यास से शुरू हुआ था। जापान 2015 में नौसेना अभ्यास में शामिल हुआ था।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व श्रव्य-दृश्य विरासत दिवस


27 अक्टूबर

2020 का विषय: 'योर विंडो टू द वर्ल्ड' (Your Window to the World)

महत्वपूर्ण तथ्य: यह दिवस दृश्य-श्रव्य दस्तावेजों के महत्व को स्वीकार करने की आवश्यकता के बारे में सामान्य जागरूकता बढ़ाने के लिए एक अवसर प्रदान करता है।

सामयिक खबरें राज्य तमिलनाडु

स्मार्ट ब्लैक बोर्ड योजना


  • राज्य सरकार ने अक्टूबर 2020 में बेहतरीन शिक्षण माहौल सुनिश्चित करने के लिए 80 हजार सरकारी स्कूलों में स्मार्ट ब्लैक बोर्ड योजना लागू की है।
  • यह योजना पेन ड्राइव से कक्षाओं में कंप्यूटर स्क्रीन का उपयोग करके ऑडियो विजुअल शिक्षण सामग्री के माध्यम से चलायी जाएगी। केन्द्र सरकार के शिक्षा मंत्रालय की स्मार्ट क्लास रूम योजना राज्य के 7500 स्कूलों में लागू की जा रही है।

सामयिक खबरें खेल चर्चित खेल व्यक्तित्व

पाकिस्तान के तेज गेंदबाज उमर गुल का संन्यास


  • पाकिस्तान के तेज गेंदबाज उमर गुल ने राष्ट्रीय टी- 20 कप की समाप्ति के बाद क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा की है।
  • 47 टेस्ट मैचों में, गुल ने 34.06 की औसत से 163 विकेट लिए। उन्होंने 130 अंतरराष्ट्रीय एकदिवसीय मैचों में 179 विकेट और 60 अंतरराष्ट्रीय टी-20 मैचों में 85 विकेट भी लिए।

सामयिक खबरें खेल चर्चित खेल व्यक्तित्व

मिस्बाह-उल-हक का पाकिस्तान के मुख्य चयनकर्ता पद से इस्तीफा


  • पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान मिस्बाहउलहक ने राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच के रूप में अपनी भूमिका पर ध्यान देने के लिए पाकिस्तान के मुख्य चयनकर्ता के पद से इस्तीफा देने का निर्णय लिया है। ज्ञात हो कि वे सितंबर से मुख्य चयनकर्ता और मुख्य कोच की दोहरी भूमिका निभा रहे थे।

सामयिक खबरें खेल चर्चित खेल व्यक्तित्व

न्यूजीलैंड के सबसे उम्रदराज क्रिकेटर जॉन रीड का निधन


  • न्यूजीलैंड के सबसे उम्रदराज टेस्ट क्रिकेटर और पूर्व कप्तान जॉन रीड का 14 अक्टूबर, 2020 को ऑकलैंड में निधन हो गया। वे 92 वर्ष के थे।
  • पचास और साठ के दशक में उन्हें दुनिया के सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडरों में गिना जाता था। उन्होंने न्यूजीलैंड के लिए 34 टेस्ट मैचों में कप्तानी की। उनकी कप्तानी में ही न्यूजीलैंड ने पहली तीन जीत दर्ज की थी।
  • उन्होंने 58 टेस्ट मैचों में 3428 रन बनाने के साथ 85 विकेट भी लिए थे। 1965 में क्रिकेट को अलविदा कहने के बाद वे न्यूजीलैंड के चयनकर्ता, प्रबंधक और आईसीसी मैच रेफरी बने।

सामयिक खबरें खेल क्रिकेट

अखिल भारतीय महिला क्रिकेट चयन समिति


  • भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने 26 सितंबर, 2020 को अखिल भारतीय महिला क्रिकेट चयन समिति की नियुक्ति की घोषणा की।
  • बाएं हाथ की पूर्व स्पिनर नीतू डेविड को 5 सदस्यीय नई चयन समिति का चेयरमैन चुना गया है। उन्होंने भारत के लिए 10 टेस्ट और 97 एकदिवसीय मैच खेले हैं।
  • नीतू डेविड के नाम टेस्ट मैच में एक पारी में सबसे अधिक विकेट लेने का विश्व रिकॉर्ड है। यह रिकॉर्ड उन्होंने वर्ष 1995 में जमशेदपुर में खेले गए टेस्ट मैच में इंग्लैंड की महिला टीम के विरुद्ध एक टेस्ट पारी में 53 रन देकर 8 विकेट लेकर बनाया था।
  • महिला वनडे में वह भारत की तरफ से दूसरी सबसे अधिक विकेट (141 विकेट) लेने वाली गेंदबाज हैं।
  • चयन समिति के अन्य सदस्यों में आरती वैद्य (3 टेस्ट और 6 एकदिवसीय मैच), रेणु मारग्रेट (5 टेस्ट और 23 एकदिवसीय मैच), वेंकटाचेर कल्पना (3 टेस्ट और 8 एकदिवसीय मैच) और मिथु मुखर्जी (4 टेस्ट) शामिल की गई हैं।

सामयिक खबरें बैंकिंग, फाइनेंस, सेवा और बीमा

मानक साइबर देयता बीमा उत्पाद आवश्यकता जांच हेतु पैनल


  • 20 अक्टूबर, 2020 को भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (आईआरडीएआई) ने अपने साइबर जोखिमों के प्रबंधन के लिए व्यक्तिगत और प्रतिष्ठानों को बीमा कवर प्रदान करने के लिए एक बुनियादी मानक उत्पाद संरचना की संभावना तलाशने के लिए एक पैनल का गठन किया है।
  • सामान्य लायबिलिटी पॉलिसी साइबर जोखिमों को कवर नहीं करती हैं, और वर्तमान में उपलब्ध साइबर बीमा नीतियां एक नए और तेजी से बढ़ते बाजार में ग्राहकों के लिए अत्यधिक अनुकूलित हैं।
  • लायबिलिटी इंश्योरेंस के कंसल्टेंट पी. उमेश की अध्यक्षता वाला पैनल सूचना और साइबर सुरक्षा पर विभिन्न वैधानिक प्रावधानों का अध्ययन करेगा और साइबर स्पेस में लेनदेन के कानूनी पहलुओं से जुड़े महत्वपूर्ण मुद्दों का मूल्यांकन करेगा।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

बूंदी


पर्यटन मंत्रालय ने 24 अक्टूबर 2020 को ‘देखो अपना देश’ वेबिनार श्रृंखला के तहत ‘बूंदी: एक भूली हुई राजपूत राजधानी की स्थापत्य विरासत’ पर वेबिनार का आयोजन किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: दक्षिण-पूर्वी राजस्थान में स्थित बूंदी, जो पहले हाड़ा राजपूत राज्य की राजधानी थी, हाडौती के नाम से जाना जाता है।

  • बूंदी को सीढ़ीदार बावड़ी के शहर, नीले शहर के रूप में जाना जाता है। हाड़ा राजधानी के भीतर और आसपास सौ से अधिक मंदिरों की उपस्थिति के कारण बूंदी को ‘छोटी काशी’ के रूप में भी जाना जाता है।
  • बूंदी के विकास के शुरुआती चरण में बने मंदिरों में शास्त्रीय नागर शैली थी, जबकि बाद के चरणों में मंदिरों का नया स्थापत्य शास्त्रीय नागर शैली के साथ पारंपरिक हवेली का मिश्रण उभरकर आया।
  • जैन मंदिरों ने एक अंतर्मुखी रूप में मंदिर स्थापत्य के तीसरी शैली को विकसित किया, जिसमें विशिष्ट जैन मंदिर की विशेषताओं जैसे प्रवेश द्वार पर सर्पीय तोरण द्वार, बड़े घनाकार अपारदर्शी पत्थर और गर्भगृह पर नागर शैली के शिकारे के साथ केंद्रीय प्रांगण को जोड़ा गया।
  • ऊंचे स्थान वाले मंदिरों के रूप में मंदिर स्थापत्य की एक चौथी शैली भी उभरी।

सामयिक खबरें अंतर्राष्ट्रीय

भारत-अमेरिका 2+2 वार्ता


भारत और अमेरिका के बीच तीसरी 2+2 मंत्रिस्तरीय वार्ता 27 अक्टूबर, 2020 को नई दिल्ली के हैदराबाद हाउस में सम्पन्न हुई।

महत्वपूर्ण तथ्य: विदेश मंत्री एस. जयशंकर और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भारतीय शिष्टमण्डल का नेतृत्व किया। जबकि अमरीकी शिष्टमंडल का नेतृत्व वहां के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और रक्षा मंत्री मार्क एस्पर ने किया।

  • दोनों देशों ने अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था पर आधारित नियमों का पालन करने, कानून के शासन का सम्मान करने, अंतरराष्ट्रीय समुद्र में नौ संचालन की स्वतंत्रता और सभी देशों की क्षेत्रीय अखण्डता तथा सम्प्रभुता को बनाए रखने पर सहमति जताई।
  • ऐतिहासिक बुनियादी आदान-प्रदान और सहयोग समझौते (Basic Exchange and Cooperation Agreement on geospatial cooperation-BECA) पर हस्ताक्षर किए गए। यह समझौता क्रूज और बैलेस्टिक मिसाइलों को सही स्थान पर तैनात करने के लिए भारत को अमेरिका के वैश्विक भू-स्थानिक मानचित्रों के उपयोग की अनुमति प्रदान करता है।

अन्य समझौते: पृथ्वी पर्यवेक्षण और पृथ्वी विज्ञान में तकनीकी सहयोग पर एक समझौता।

  • परमाणु ऊर्जा साझेदारी के लिए वैश्विक केंद्र के बारे में समझौता ज्ञापन की अवधि बढ़ाने के लिए समझौता।
  • इसके अलावा दोनों देशों के डाक विभाग ने सीमा शुल्क डेटा के इलेक्ट्रॉनिक विनिमय; तथा पारंपरिक भारतीय दवाओं में सहयोग के बारे में एक आशय पत्र पर भी हस्ताक्षर किए गए।
  • संयुक्त राज्य अमेरिका भारत के लिए शीर्ष निर्यात गंतव्य है (लगभग 17%), जो डाक माध्यम से माल के आदान-प्रदान में भी परिलक्षित होता है।

सामयिक खबरें अंतर्राष्ट्रीय

असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक 2020


धर्मार्थ संगठनों के अंतरराष्ट्रीय संघ ‘ऑक्सफेम इंटरनेशनल’ द्वारा 'डेवलपमेंट फाइनेंस इंटरनेशनल' के साथ साझेदारी में 8 अक्टूबर, 2020 को 'असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक 2020' [Commitment to Reducing Inequality (CRI) Index 2020] जारी किया गया।

महत्वपूर्ण तथ्य: सूचकांक में शामिल 158 देशों में से महामारी से पहले केवल 26 देश ही स्वास्थ्य पर अपने बजट का अनुशंसित 15 प्रतिशत खर्च कर रहे थे।

  • 103 देशों में कम से कम तीन श्रमिकों में बुनियादी श्रम अधिकारों और सुरक्षा का अभाव था, जैसे बीमारी वेतन आदि।
  • सूचकांक में नॉर्वे शीर्ष स्थान पर है। इसके बाद डेनमार्क दूसरे, जर्मनी तीसरे, बेल्जियम चौथे और फिनलैंड पांचवें स्थान पर है।
  • सूचकांक में अंतिम स्थान पर दक्षिण सूडान (158वें), नाइजीरिया (157वें) तथा बहरीन (156वें) रहे।

भारत की स्थिति: सूचकांक में भारत को 158 देशों में से 129वें स्थान पर रखा गया है। भारत ने स्वास्थ्य पर अपने बजट का सिर्फ 4 प्रतिशत ही खर्च किया, जो दुनिया में चौथा सबसे कम बजट था।

  • सूचकांक के अनुसार भारत की केवल आधी आबादी के पास ही सबसे आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

सस्त्र रामानुजन पुरस्कार 2020


वर्ष 2020 का प्रतिष्ठित सस्त्र रामानुजन पुरस्कार (Sastra Ramanujan Prize) प्रिंसटन यूनिवर्सिटी, यूएसए और हिब्रू यूनिवर्सिटी ऑफ जेरूशलम, इस्राइल के शाई एव्रा (Shai Evra) को प्रदान किया जाएगा।

  • उन्हें यह पुरस्कार कॉम्बीनेटोरियल और ज्यामितिय टोपोलॉजी (combinatorial and geometric topology) के क्षेत्र में उच्च आयामी विस्तारकों पर उनके उत्कृष्ट कार्य के लिए प्रदान किया जाएगा।
  • यह पुरस्कार तमिलनाडु के कुंभकोणम स्थित, सस्त्र विश्वविद्यालय द्वारा विश्वभर के उस गणितज्ञ को प्रदान किया जाता है, जिसकी उम्र 32 वर्ष से कम हो।
  • प्रसिद्ध गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन की स्मृति में इस पुरस्कार की स्थापना वर्ष 2005 में हुई थी।
  • यह पुरस्कार ‘22 दिसंबर’ को श्रीनिवास रामानुजन के जन्म दिवस पर प्रदान किया जाता है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप युद्धाभ्यास/सैन्य अभियान

नौसैनिक युद्ध अभ्यास 'स्लीनेक्स-20'


भारतीय नौसेना और श्रीलंका की नौसेना का संयुक्त वार्षिक द्विपक्षीय समुद्री अभ्यास 'स्लीनेक्स-20' (SLINEX-20) का आठवां संस्करण 19 से 21 अक्टूबर, 2020 तक त्रिंकोमाली श्रीलंका के तट पर आयोजित किया गया।

उद्देश्य: परस्पर अंतर-संचालनशीलता को बढ़ाना, आपसी समझ को ज्यादा परिपक्व करना और दोनों नौसेनाओं के बीच बहुआयामी समुद्री संचालन के लिए सर्वोत्तम प्रथाओं तथा प्रक्रियाओं का आदान- प्रदान करना।

  • श्रीलंका की नौसेना का प्रतिनिधित्व वहां के नौसैनिक जहाज सायुरा (समुद्री गश्ती पोत) और गजाबहू (प्रशिक्षण जहाज) द्वारा किया गया। वहीं भारतीय नौसेना का प्रतिनिधित्व स्वदेश में निर्मित पनडुब्बी रोधी युद्धपोत कमोर्टा और किल्टन ने किया।
  • स्लीनेक्स-20 के दौरान सतह से और हवाई हमले का अभ्यास, हथियारों से फायरिंग, नाविक कला और जहारानी का विकास और युद्धाभ्यास तथा क्रॉस डेक उड़ान संचालन अभ्यास किया गया।
  • स्लीनेक्स का पिछला संस्करण सितंबर 2019 में विशाखापत्तनम में आयोजित किया गया था।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

सतर्कता जागरूकता सप्ताह


27 अक्टूबर से 2 नवंबर

2020 का विषय: ‘सतर्क भारत, समृद्ध भारत’ (Satark Bharat, Samriddh Bharat)

महत्वपूर्ण तथ्य: केन्द्रीय सतर्कता आयोग सतर्कता जागरूकता सप्ताह का अनुपालन कर रहा है। सतर्कता जागरूकता सप्ताह प्रत्येक वर्ष उस सप्ताह के दौरान मनाया जाता है, जिसमें सरदार वल्लभभाई पटेल (31 अक्टूबर) का जन्मदिन आता है। नागरिक भागीदारी के माध्यम से सार्वजनिक जीवन में ईमानदारी तथा सत्यनिष्ठा को बढ़ावा देने के लिए, यह जागरूकता सप्ताह मनाया जाता है।

सामयिक खबरें बिजनेस और सार्वजनिक उपक्रम

एनएचपीसी का बिजली मंत्रालय से समझौता


  • 29 सितंबर, 2020 को एनएचपीसी ने वर्ष 2020-21 के लिए संपर्क विज्ञापन (डिटेलिंग) लक्ष्य को लेकर बिजली मंत्रालय के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।
  • एक्सीलेंट रेटिंग के तहत उत्पादन लक्ष्य 27500 एमयू रखा गया है, जबकि पिछले वर्ष 26000 एमयू का लक्ष्य था। एमओयू में चमेरा - II पावर स्टेशन की यूनिट #1 एवं यूनिट #2 की बहाली के संबंध में लक्ष्यों तथा परिसंपत्ति मुद्रीकरण मानदंडों को भी शामिल किया गया है।

सामयिक खबरें राज्य ओडिशा

‘गरिमा’ योजना


11 सितंबर, 2020 को ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से स्वच्छता कर्मियों के लिए ‘गरिमा’ (GARIMA) नामक एक नई योजना का शुभारंभ किया।

उद्देश्य: स्वच्छता कर्मियों की सुरक्षा व गरिमा को सुनिश्चित करना।

  • योजना के तहत 1 लाख आबादी को कवर करने वाले लगभग 20,000 मुख्य (कोर) स्वच्छता कर्मी और उनके परिवार लाभान्वित होंगे।
  • योजना राज्य आवास और शहरी विकास विभाग द्वारा ओडिशा के सभी 114 शहरी स्थानीय निकायों में लागू की जाएगी। शुरुआत में योजना हेतु 50 करोड़ रुपये के कोष का आवंटन किया गया है।
  • योजना के तहत स्वच्छता कर्मी प्रतिदिन 6 घंटे काम करेंगे तथा स्वच्छता कर्मी और उनके परिवार के सदस्यों को स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत कवर किया जाएगा।
  • विभाग ने इस योजना के कार्यान्वयन हेतु तकनीकी सहायता प्रदान करने के लिए गैर-लाभकारी संगठन ‘अर्बन मैनेजमेंट सेंटर’ के साथ समझौता किया है।

सामयिक खबरें राज्य दिल्ली

वायु-प्रदूषण विरोधी अभियान ‘युद्ध प्रदूषण के विरुद्ध’


  • दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 5 अक्टूबर, 2020 को स्वच्छ राष्ट्रीय राजधानी के लिये सात- सूत्री कार्ययोजना के साथ ‘युद्ध प्रदूषण के विरुद्ध’ नाम से एक वायु-प्रदूषण विरोधी अभियान शुरू किया।
  • इसमें शहर के सभी 13 प्रदूषण हॉटस्पॉट्स के लिये अलग-अलग योजना, प्रत्येक कटे पेड़ के लिए 10 नए पेड़ लगाने की वृक्ष प्रत्यारोपण नीति, इलेक्ट्रिक वाहन प्रोत्साहन, धूल नियंत्रण, सभी प्रदूषण-विरोधी उपायों की निगरानी के लिये दिल्ली में एक ‘वॉर रूम’ बनाना; ‘ग्रीन दिल्ली’ नामक एक मोबाइल ऐप विकसित करना तथा पराली जलाने के विरुद्ध कार्यवाही करना शामिल है।

सामयिक खबरें खेल चर्चित खेल व्यक्तित्व

शिखर धवन आईपीएल में लगातार दो शतक जड़ने वाले पहले खिलाड़ी


  • दिल्ली कैपिटल्स के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन 20 अक्टूबर, 2020 को आईपीएल के इतिहास में लगातार दो शतक जड़ने वाले पहले खिलाड़ी बन गए हैं।
  • धवन ने पंजाब के खिलाफ 61 गेंदों में नाबाद 106 रन बनाए। धवन ने इससे पहले चेन्नई के खिलाफ 58 गेंदों में 101 रन की नाबाद शतकीय पारी खेली थी।

सामयिक खबरें खेल चर्चित खेल व्यक्तित्व

तन्मय श्रीवास्तव ने लिया क्रिकेट से संन्यास


  • भारत के 2008 अंडर-19 विश्व कप विजेता टीम के सदस्य रहे बल्लेबाज तन्मय श्रीवास्तव ने 24 अक्टूबर, 2020 को क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा की।
  • वह विराट कोहली की कप्तानी में मलेशिया में 2008 में खेले गये अंडर-19 विश्व कप में सर्वाधिक 262 रन बनाए थे।
  • घरेलू क्रिकेट में उत्तर प्रदेश के प्रतिनिधित्व के बाद उन्होंने उत्तराखंड का नेतृत्व किया। इंडियन प्रीमियर लीग में उन्होंने किंग्स इलेवन पंजाब और पूर्व टीम कोच्चि टस्कर्स का प्रतिनिधित्व किया था। श्रीवास्तव ने प्रथम श्रेणी के 90 मैचों में 4,918 रन बनाये है।

सामयिक खबरें खेल चर्चित खेल व्यक्तित्व

बेन लिस्टर पहले कोविड-19 स्थानापन्न क्रिकेटर


  • ऑकलैंड के मध्यम तेज गेंदबाज बेन लिस्टर अक्टूबरको क्रिकेट में पहले कोविडस्थानापन्न बने। उन्होंने प्लंकट शील्ड प्रथम श्रेणी क्रिकेट चैंपियनशिप में चल रहे मुकाबले में टीम के अस्वस्थ साथी मार्क चैपमैन की जगह ली।

सामयिक खबरें खेल बैडमिंटन

डेनमार्क ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट 2020


पूर्व विश्व चैंपियन जापान की नोजोमी ओकुहारा ने महिला एकल में तीन बार की विश्व चैंपियन स्पेन की कैरोलिना मारिन को 21-19, 21-17 से हराकर डेनमार्क ओपन का खिताब जीता।

  • विश्व चैंपियन भारत की पीवी सिंधु ने इस प्रतियोगिता में भाग नहीं लिया।
  • पुरुष एकल के फाइनल में डेनमार्क के एंडर्स एंटोन्सन ने अपने ही देश के रैसमस गेम्के को 18-21, 21-19, 21-12 से हराया।
  • इंग्लैंड के मार्कस एलिस और क्रिस लैंगरिज ने रूसी जोड़ी व्लादिमीर इवानोव और इवान सोजोनोव को 20-22, 21-17, 21-18 से पराजित किया। डेनमार्क ओपन के 45 वर्षों के इतिहास में पुरुष युगल का खिताब जीतने वाली यह इंग्लैंड की पहली जोड़ी है।
  • डेनमार्क ओपन 2020 प्रतियोगिता ओडेन्स स्पोर्ट्स पार्क, डेनमार्क में 13 से 18 अक्टूबर, 2020 तक खेली गई।

अन्य विजेता

  • महिला युगल: युकी फुकुशिमा और सयाका हिरोता (दोनों जापान)
  • मिश्रित युगल: मार्क लम्सफस और इसाबेल हेर्ट्रिक (दोनों जर्मनी)

पीआईबी न्यूज आर्थिक

चौथा ‘भारत ऊर्जा फोरम –सेरावीक’


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 26 अक्टूबर, 2020 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चौथे ‘भारत ऊर्जा फोरम- सेरावीक’ (India Energy Forum- CERAWeek) के उद्घाटन मौके पर संबोधन दिया।

  • फोरम के चौथे संस्करण का विषय: ‘बदलती दुनिया में भारत का ऊर्जा भविष्य’ (India's Energy Future in a world of Change)
  • महत्वपूर्ण तथ्य: प्रधानमंत्री ने कहा कि घरेलू विमानन के मामले में भारत तीसरा सबसे बड़ा और सबसे तेजी से आगे बढ़ता विमानन बाजार है और 2024 तक भारतीय जहाजी बेड़े का आकार 600 से 1200 तक किए जाने का अनुमान है।
    • रिफाइनिंग की क्षमता (refining capacities) को 2025 तक 250 से 400 मिलियन मीट्रिक टन प्रति वर्ष तक बढ़ाने की योजना है।
  • भारत के ऊर्जा मैप के सात प्रमुख संचालक: गैस आधारित अर्थव्यवस्था की ओर बढ़ने के लिए प्रयासो में तेजी लाना; जीवाश्म ईंधन विशेष रूप से पेट्रोलियम और कोयले का स्वच्छ उपयोग; जैव-ईंधन हेतु घरेलू स्रोतों पर निर्भरता; 2030 तक 450 गीगावाट की नवीकरणीय ऊर्जा का लक्ष्य प्राप्त करना।
    • कार्बन- मुक्त परिवहन (de-carbonize mobility) के लिए बिजली के योगदान को बढ़ाना; हाइड्रोजन सहित उभरते ईंधनों की ओर जोर देना; तथा सभी ऊर्जा प्रणालियों में डिजिटल नवाचार बढ़ाना।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

पुरुष कर्मचारी भी बच्चों की देखभाल से संबंधित अवकाश के हकदार


केंद्रीय कार्मिक, लोक शिकायत, पेंशन, परमाणु ऊर्जा एवं अंतरिक्ष राज्यमंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने 26 अक्टूबर, 2020 को कहा कि सरकार के पुरुष कर्मचारी भी अब बच्चों की देखभाल से संबंधित अवकाश के हकदार होंगे।

महत्वपूर्ण तथ्य: बच्चों की देखभाल से संबंधित अवकाश (Child Care Leave- CCL) का प्रावधान और विशेषाधिकार केवल उन पुरुष कर्मचारियों के लिए उपलब्ध होगा जो ‘एकल पुरुष अभिभावक’ (single male parent) हैं।

  • इस श्रेणी में वैसे पुरुष कर्मचारी शामिल हो सकते हैं, जो विधुर या तलाकशुदा या अविवाहित हैं और इस कारण एकल अभिभावक के रूप में उन पर बच्चे की देखभाल की जिम्मेदारी है।
  • बच्चों की देखभाल से संबंधित अवकाश पर जाने वाला कोई कर्मचारी अब सक्षम प्राधिकारी की पूर्व स्वीकृति से मुख्यालय छोड़ सकता है। इसके अलावा, उस कर्मचारी द्वारा अवकाश यात्रा रियायत (Leave Travel Concession- LTC) का लाभ उठाया जा सकता है, भले ही वह बच्चों की देखभाल से संबंधित अवकाश पर हो।
  • बच्चों की देखभाल से संबंधित अवकाश की मंजूरी पहले 365 दिनों के लिए 100% सवेतन अवकाश और अगले 365 दिनों के लिए 80% सवेतन अवकाश के साथ दी जा सकती है।
  • एक दिव्यांग बच्चे के मामले में, CCL को बच्चे की 22 वर्ष की आयु तक ही दिए जाने के प्रावधान को हटा दिया गया है, अब किसी भी उम्र के दिव्यांग बच्चे के लिए सरकारी कर्मचारी द्वारा CCL का लाभ उठाया जा सकता है।

सामयिक खबरें विज्ञान-पर्यावरण

हिमालयी भूरा भालू के पर्यावास को नुकसान


भारतीय प्राणी विज्ञान सर्वेक्षण (ZSI) के वैज्ञानिकों द्वारा पश्चिमी हिमालय में किए गए अध्ययन में वर्ष 2050 तक हिमालयी भूरा भालू [Himalayan brown bear (Ursus arctos isabellinus)] के पर्यावास में लगभग 73% की भारी गिरावट की आशंका जाहिर की गई है।

महत्वपूर्ण तथ्य: पर्यावास के इन नुकसानों के परिणामस्वरूप 13 संरक्षित क्षेत्रों (पीए) में भी पर्यावास नुकसान होगा, और उनमें से 8 संरक्षित क्षेत्र 2050 तक पूरी तरह से निवास योग्य नहीं रहेंगे।

  • प्रजातियों के दीर्घकालिक संरक्षण के लिए हिमालयी क्षेत्र में संरक्षित क्षेत्रों की 'निवारक स्थानिक योजना' (preemptive spatial planning) को अपनाने की आवश्यकता है।
  • हिमालयी भूरा भालू हिमालय के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में सबसे बड़े मांसाहारी जीवों में से एक है।
  • हिमालयी भूरा भालू एक 'गंभीर रूप से संकटग्रस्त' (Critically endangered) जानवर है, जो नेपाल, भारत, पाकिस्तान और तिब्बत के कुछ सबसे दूरस्थ पर्वतीय क्षेत्रों में पाया जाता है।
  • हिमालयन भूरा भालू भारतीय वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम 1972 की अनुसूची- 1 के तहत सूचीबद्ध है।

सामयिक खबरें बैंकिंग, फाइनेंस, सेवा और बीमा

इंडियन बैंक की पहल ‘आईएनडी स्प्रिंग बोर्ड'


  • सार्वजनिक क्षेत्र के ऋणदाता इंडियन बैंक ने 'आईआईटी-मद्रास इनक्यूबेशन प्रकोष्ठ' (IITMIC) के सहयोग से स्टार्ट-अप्स के वित्तपोषण के लिए एक पहल ‘आईएनडी स्प्रिंग बोर्ड' (IND Spring Board) शुरू की है।
  • समझौते के तहत IITMIC बेहतर प्रौद्योगिकी वाले स्टार्ट-अप को संदर्भित करेगा, बैंक को नकदी प्रवाह स्थापित करने में मदद करेगा और व्यवसाय मॉडल पर बैंक को परामर्श भी देगा।
  • बैंक इन स्टार्ट-अप को कार्यशील पूंजी आवश्यकताओं या मशीनरी, उपकरण की खरीद के लिए 50 करोड़ रुपए तक का ऋण प्रदान करेगा।

सामयिक खबरें बैंकिंग, फाइनेंस, सेवा और बीमा

राजकिरण राय जी 2020-21 के लिए भारतीय बैंक संघ के अध्यक्ष


  • भारतीय बैंक संघ (आईबीए) की प्रबंध समिति ने 16 अक्टूबर, 2020 को आयोजित बैठक में, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के प्रबंध निदेशक और सीईओ राजकिरण राय जी (Rajkiran Rai G) को 2020-21 के लिए आईबीए के अध्यक्ष के रूप में चुना है। राय इससे पहले आईबीए के उपाध्यक्ष थे।
  • भारतीय स्टेट बैंक के अध्यक्ष दिनेश कुमार खारा को वर्ष 2020-21 के लिए आईबीए का उपाध्यक्ष चुना गया है।

सामयिक खबरें बिजनेस और सार्वजनिक उपक्रम

‘जिंदल साथी 2.0’ कार्यक्रम


  • अक्टूबर 2020 में जिंदल स्टेनलेस लिमिटेड ने अपने देशव्यापी पाइप और ट्यूब (P & T) के सह-ब्रांडिंग कार्यक्रम का दूसरा चरण ‘जिंदल साथी 2.0’ शुरू किया है।
  • कंपनी का लक्ष्य वित्त वर्ष 22 के अंत तक P & T सेगमेंट में अपनी बाजार हिस्सेदारी 60 फीसदी तक बढ़ाना है।
  • इस पहल के पहले चरण को कंपनी ने जुलाई 2019 में स्टेनलेस स्टील पीएंडटी मार्केट में जालसाजी से संबंधित मुद्दों के समाधान के लिए लॉन्च किया था।
  • इंडस्ट्री के अनुमान के मुताबिक, P & T सेगमेंट का मौजूदा बाजार आकार लगभग 7,000 करोड़ रुपए है।

सामयिक खबरें राज्य आंध्र प्रदेश

‘जगन्ना विद्या कनुका’ योजना


8 अक्टूबर, 2020 को आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों के लिए ‘जगन्ना विद्या कनुका’ योजना शुरू की।

उद्देश्य: सरकारी स्कूलों की गुणवत्ता और नामांकन में सुधार करना।

  • योजना के तहत, कक्षा 1 से 10वीं तक के सरकारी स्कूल के छात्रों को 42,34,222 किट वितरित किए जाएंगे। 650 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत पर ये किट राज्य भर में वितरित किए जाएंगे।
  • किट में तीन जोड़ी स्कूल यूनिफॉर्म, एक जोड़ी जूते, दो जोड़ी मोजे, निर्धारित पाठ्यपुस्तक, नोटबुक, एक बेल्ट और एक स्कूल बैग शामिल होगा।
  • किट वितरित करने के अलावा, सरकार ने शैक्षणिक वर्ष शुरू होने से पहले सभी स्कूलों में दस आवश्यक सुविधाएं प्रदान करने के लिए ‘नाडु-नेडू पहल’ भी शुरू की।

सामयिक खबरें राज्य ओडिशा

सुजल- ड्रिंक फ्रॉम टैप मिशन


ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने 13 अक्टूबर, 2020 को 'सुजल- ड्रिंक फ्रॉम टैप मिशन' (Sujal- Drink from Tap Mission) का शुभारंभ किया।

उद्देश्य: मार्च, 2022 तक सभी शहरी परिवारों को पाइप का पानी उपलब्ध कराना तथा शहरों में 15 लाख से अधिक लोगों को लाभान्वित करना।

  • परियोजना, अपने पहले चरण में, भुवनेश्वर और पुरी को पीने के पानी की आपूर्ति करेगी।
  • ओडिशा भारत का पहला राज्य होगा, जहां शहरी क्षेत्रों में लोग सरकार की इस नई पहल के तहत, सीधे नलों से पानी पी सकेंगे।
  • इस पहल के लिए राज्य, 1,300 करोड़ खर्च कर रहा है, जिसे चरणबद्ध तरीके से अन्य जिलों में विस्तारित किया जाएगा।

सामयिक खबरें इन्हें भी जानें

पीली धूल


उत्तर कोरियाई अधिकारियों ने नागरिकों से चीन से उड़ने वाले 'पीली धूल' के एक रहस्यमयी बादल के संपर्क से बचने के लिए घर के अंदर रहने का आग्रह किया है, उन्होंने चेतावनी दी है कि ये धूल कोविड -19 को अपने साथ ला सकती है।

  • पीली धूल (जिसे पीली रेत, पीली हवा या चीन के धूल भरे तूफान के रूप में भी जाना जाता है) वास्तव में चीन और मंगोलिया के रेगिस्तान की रेत है, जो हर साल विशेष अवधि के दौरान उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया दोनों में उच्च गति की सतह वाली हवा द्वारा लाई जाती हैं।
  • रेत के कण औद्योगिक प्रदूषकों जैसे अन्य विषाक्त पदार्थों के साथ मिश्रित होते हैं, जिसके परिणामस्वरूप 'पीली धूल' श्वसन संबंधी बीमारियों का कारण बनती है।
  • आमतौर पर, जब धूल वातावरण में अस्वास्थ्यकर स्तर तक पहुंच जाती है, तो अधिकारी लोगों से घर के अंदर रहने और विशेष रूप से भारी व्यायाम और खेल जैसी शारीरिक गतिविधि को सीमित करने का आग्रह करते हैं।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

किसान सूर्योदय योजना


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 24 अक्टूबर, 2020 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए गुजरात में किसानों को सिंचाईं के लिए 16 घंटे बिजली की आपूर्ति करने के लिए ‘किसान सूर्योदय योजना’ शुरू की।

  • योजना के तहत, किसान सुबह पांच बजे से रात नौ बजे तक बिजली की आपूर्ति पा सकेंगे। राज्य सरकार ने 2023 तक इस योजना के तहत ट्रांसमिशन इन्फ्रास्ट्रक्चर स्थापित करने के लिए 3500 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया है।
  • परियोजना के तहत कुल 3490 सर्किट किमी. की लंबाई के साथ 234 '66-किलोवाट' ट्रांसमिशन लाइनें स्थापित की जाएंगी। इसके अलावा 220 केवी सब-स्टेशन भी स्थापित किए जाएंगे।
  • दाहोद, पाटन, महिसागर, पंचमहल, छोटा उदयपुर, खेड़ा, तापी, वलसाड, आनंद और गिर-सोमनाथ को 2020-21 के लिए योजना के तहत शामिल किया गया है। बाकी जिलों को 2022-23 तक चरणबद्ध तरीके से शामिल किया जाएगा।
  • उन्होंने ‘यू. एन. मेहता इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोलॉजी एंड रिसर्च सेंटर’ से सम्बद्ध पीडियाट्रिक हार्ट अस्पताल और ‘गिरनार’ में रोपवे का उद्घाटन किया और अहमदाबाद सिविल अस्पताल में टेली-कार्डियोलॉजी के लिए एक मोबाइल एप्लीकेशन जारी किया।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

एनपीपीए के तहत गोवा में मूल्य निगरानी और संसाधन इकाई स्थापित


भारत सरकार के रसायन और उर्वरक मंत्रालय के औषधि विभाग के तहत राष्ट्रीय औषधि मूल्य निर्धारण प्राधिकरण (एनपीपीए) के तहत 22 अक्टूबर, 2020 को गोवा में एक मूल्य निगरानी और संसाधन इकाई (पीएमआरयू) की स्थापना की गई है।

महत्वपूर्ण तथ्य: एनपीपीए ने उपभोक्ता जागरूकता, प्रचार और मूल्य निगरानी (सीएपीपीएम) नामक अपनी केंद्रीय क्षेत्र योजना के तहत 15 राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों, केरल, ओडिशा, गुजरात, राजस्थान, हरियाणा, नागालैंड, त्रिपुरा, उत्तर प्रदेश, पंजाब, आंध्र प्रदेश, मिजोरम, जम्मू-कश्मीर, कर्नाटक, तेलंगाना और महाराष्ट्र में पीएमआरयू की स्थापना की है।

  • एनपीपीए की देश के सभी 36 राज्यों / केंद्र-शासित प्रदेशों में पीएमआरयू स्थापित करने की योजना है।
  • योजना के तहत एनपीपीए द्वारा पीएमआरयू के आवर्ती और गैर-आवर्ती दोनों का खर्च वहन किया जाता है।
  • पीएमआरयू का प्राथमिक कार्य दवाओं की कीमतों की निगरानी, दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने और उपभोक्ता जागरूकता बढ़ाने में एनपीपीए की सहायता करना है।

सामयिक खबरें विज्ञान-पर्यावरण

शौर्य मिसाइल


भारत ने 3 अक्टूबर, 2020 को ओडिशा के तट से स्वदेशी विकसित परमाणु-सक्षम हाइपरसोनिक मिसाइल ‘शौर्य’ का सफलतापूर्वक परीक्षण किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: 'शौर्य' पनडुब्बी द्वारा लॉन्च की गई ‘लघु श्रेणी एसएलबीएम K-15 सागरिका’ (Short Range SLBM K-15 Sagarika) मिसाइल का भूमि संस्करण है, इसकी मारक क्षमता 700 किमी. से 1000 किमी. तक है और यह 200 किलोग्राम से 1000 किलोग्राम के पेलोड ले जाने में सक्षम है।

  • यह मिसाइल 10 मीटर लंबी, 74 सेमी व्यास और 6.2 टन वजन की है। इसके दो चरण ठोस प्रणोदक का उपयोग करते हैं। शौर्य मिसाइल दुश्मन की निगरानी या उपग्रहों से भूमिगत छिपी रह सकती है।
  • K-15 मिसाइल, 'K मिसाइल समूह' (K missile family) से संबंधित हैं, जो मुख्य रूप से पनडुब्बी द्वारा लॉन्च की गई बैलिस्टिक मिसाइलें (SLBM) हैं, जिन्हें रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित किया गया है और जिनका नाम पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर रखा गया है।
  • भारत ने 3500 किमी. की क्षमता वाली कई K-4 मिसाइलों का विकास एवं सफल परीक्षण किया है। K मिसाइल समूह की अधिकांश मिसाइलों को K-5 और K-6 नाम दिया गया है, जिनकी क्षमता 5000 से 6000 किमी. के मध्य है।
  • K-15 और K-4 मिसाइलों का विकास एवं परीक्षण वर्ष 2010 की शुरुआत में हुआ था।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व पोलियो दिवस


24 अक्टूबर

2020 का विषय: पोलियो के खिलाफ एक जीत वैश्विक स्वास्थ्य के लिए एक जीत है।

महत्वपूर्ण तथ्य: विश्व के देशों को इस बीमारी के खिलाफ अपनी लड़ाई में सतर्क रहने का आह्वान करने हेतु यह दिवस मनाया जाता है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार, 1980 के बाद से, दुनिया भर में किए गए टीकाकरण प्रयासों के परिणामस्वरूप वाइल्ड पोलियो वायरस के मामलों में 99.9% से अधिक की कमी आई है। विश्व पोलियो दिवस की स्थापना रोटरी इंटरनेशनल ने एक दशक पहले पोलियो टीके के आविष्कारक जोनास साल्क के जन्म दिवस के उपलक्ष्य में की थी। भारत को जनवरी 2014 में पोलियो मुक्त घोषित किया गया था।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व विकास की सूचना दिवस


24 अक्टूबर

2020 का विषय: ‘सूचना और संचार प्रौद्योगिकी - विकास की चुनौतियों के लिए नए समाधान’ (Information and Communications Technologies — New Solutions to Development Challenges)

महत्वपूर्ण तथ्य: 1972 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने विकास की समस्याओं के लिए दुनिया का ध्यान आकर्षित करने और उनका समाधान करने के लिए अंतरराष्ट्रीय सहयोग को मजबूत करने की आवश्यकता के लिए विश्व विकास सूचना दिवस की स्थापना की।

सामयिक खबरें बैंकिंग, फाइनेंस, सेवा और बीमा

विस्तारा और एक्सिस बैंक ने लॉन्च किया सह-ब्रांडेड फॉरेक्स कार्ड


  • विस्तारा और एक्सिस बैंक ने 6 अक्टूबर, 2020 को एक सह-ब्रांडेड फॉरेक्स कार्ड लॉन्च किया, जो 16 मुद्राओं को लोड कर सकता है। इसमें विभिन्न आपातकालीन सहायता सेवाएँ जैसे ट्रिपएसिस्ट (TripAssist) के माध्यम से पासपोर्ट खोने संबंधित सहायता और 3 लाख तक का बीमा कवर है।
  • कार्ड में लॉक-इन विनिमय दरें हैं और कार्ड धारक प्रत्येक 5 डॉलर या बराबर मूल्य के खर्च के लिए क्लब विस्तारा पर 3 अवार्ड पॉइंट अर्जित करेगा। क्लब विस्तारा (CV) एयरलाइन का लगातार उड़ान कार्यक्रम (frequent flyer program) है।

सामयिक खबरें बिजनेस और सार्वजनिक उपक्रम

एसजेवीएन और विद्युत मंत्रालय के बीच समझौता


  • 30 सितंबर, 2020 को एसजेवीएन लिमिटेड ने वर्ष 2020-21 के विस्तृत लक्ष्यों के लिए विद्युत मंत्रालय, भारत सरकार के साथ समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए।
  • एमओयू में निर्धारित लक्ष्यों के तहत, एसजेवीएन वर्ष के दौरान ‘उत्कृष्ट’ श्रेणी के अंतर्गत 9680 मिलियन यूनिट बिजली उत्पादन और 2,800 करोड़ रुपये के टर्नओवर का लक्ष्य हासिल करने का प्रयास करेगा। इसके अलावा एसजेवीएन का 2,880 करोड़ रुपये पूंजी खर्च (CAPEX) का लक्ष्य रहेगा।
  • एसजेवीएन लिमिटेड विद्युत मंत्रालय के नियंत्रणाधीन एक शेड्यूल–'ए' मिनी रत्न श्रेणी-। सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम है, जिसकी स्थापना 24 मई,1988 को भारत सरकार तथा हिमाचल प्रदेश सरकार के संयुक्त उपक्रम के रूप में की गई थी ।

सामयिक खबरें बिजनेस और सार्वजनिक उपक्रम

अमूल द्वारा शीतल पेय ‘अमूल ट्रू सेल्जर’ लॉन्च


  • डेयरी कंपनी अमूल (Amul) ने अक्टूबर 2020 में एक नया शीतल पेय ‘अमूल ट्रू सेल्जर’ (Amul TRU Seltzer) लॉन्च किया है।
  • इसमें दूध के अलावा फलों के रस और कार्बोनेटेड शीतल पेयों की तरह फिज का इस्तेमाल किया गया है। भारत में पहली बार इस तरह का सेल्जर लॉन्च किया गया है। अमूल ट्रू सेल्जर, फिलहाल नींबू और संतरे के दो स्वादों में उपलब्ध है।
  • अमूल ने फरवरी 2019 में ब्रांड 'ट्रू’ (Tru) के तहत दूध और रियल फ्रूट के रस का मिश्रण लॉन्च किया था।

सामयिक खबरें राज्य

हरियाणा एनीमिया मुक्त भारत सूचकांक में सबसे शीर्ष पर


  • हरियाणा देश के 29 राज्यों में एनीमिया मुक्त भारत (एएमबी) सूचकांक में सबसे शीर्ष पर है। यह जानकारी चंडीगढ़ में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की अक्टूबर 2020 में राज्य स्वास्थ्य सोसाइटी की 8वीं बैठक के दौरान दी गई।
  • पूरे भारत में एनीमिया की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और यूनिसेफ ने एनीमिया मुक्त भारत अभियान की शुरुआत की थी।
  • स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा एनीमिया मुक्त भारत सूचकांक जारी किया गया जिसमें हरियाणा 46.7 सूचकांक के साथ शीर्ष स्थान पर है।
  • राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत 34 राष्ट्रीय कार्यक्रम चल रहे हैं। वर्ष 2019-20 में पहली बार राज्य में 93% टीकाकरण किया गया था।

सामयिक खबरें इन्हें भी जानें

ओहाका खादी


  • 25 अक्टूबर, 2020 को अपने मन की बात संबोधन में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मैक्सिको में 'ओहाका खादी' (Oaxaca khadi) का जिक्र किया।
  • ओहाका में कई गाँव ऐसे है, जहाँ स्थानीय ग्रामीण, खादी बुनाई का काम करते हैं। आज, यहाँ की खादी ‘ओहाका खादी’ के नाम से प्रसिद्ध हो चुकी है।
  • ‘खादी ओहाका’ एक कृषि से वस्त्र शृंखला का समूह (farm-to-garment collective) है, जिसमें लगभग 400 परिवार शामिल हैं, जो दक्षिणी मैक्सिको के ओहाका क्षेत्र में पारंपरिक खेतों और घरों में काम करते हैं।
  • यह ओहाका तट पर उत्पादित कपास का उपयोग करता है, और रासायनिक रूप से मुक्त कपड़े का उत्पादन करता है, जो स्थानीय पादप आधारित रंगों द्वारा तैयार किया जाता है।
  • इसकी स्थापना मेक्सिको में रहने वाले एक अमेरिकी मार्क ब्राउन और उनकी पत्नी कालिंदी अत्तर ने की है। गांधी से प्रभावित ब्राउन दो साल (1986-88) तक गुजरात के साबरमती आश्रम में रहे, जहाँ उन्होंने खादी के बारे में सीखा।

पीआईबी न्यूज आर्थिक

अरुणाचल प्रदेश के लिए ईएसआई योजना का विस्तार


भारत सरकार ने पहली बार अरुणाचल प्रदेश के लिए कर्मचारी राज्य बीमा (ईएसआई) योजना का विस्तार किया है, जो 1 नवंबर, 2020 से प्रभावी होगी।

महत्वपूर्ण तथ्य: केन्द्र सरकार ने ईएसआई योजना के तहत पापुम पारे जिले को अधिसूचित करने के लिए इस आशय की अधिसूचना जारी की है।

  • अरुणाचल प्रदेश के पापुम पारे जिले में स्थित सभी कारखाने जिसमें 10 या अधिक व्यक्ति कार्यरत हैं, ईएसआई अधिनियम, 1948 के तहत कवरेज के लिए पात्र होंगे।

भारत में ईएसआई योजना: कर्मचारी राज्य बीमा निगम एक अग्रणी सामाजिक सुरक्षा संगठन है, जो नौकरी के दौरान चोट, बीमारी, मृत्यु आदि की आवश्यकता के समय उचित चिकित्सा देखभाल और नकद लाभ की व्यापक सामाजिक सुरक्षा लाभ प्रदान करती है।

  • यह कामगारों के करीब 3.49 करोड़ परिवार इकाइयों को कवर करने के साथ ही अपने 13.56 करोड़ लाभार्थियों को अतुलनीय नकद लाभ और उचित चिकित्सा सुविधा प्रदान कर रही है।
  • ईएसआई योजना वर्तमान में लक्षद्वीप को छोड़कर सभी राज्यों और केंद्र-शासित प्रदेशों के 568 जिलों में लागू है।
  • विभिन्न लाभों के अलावा, ईएसआई योजना के तहत आने वाले कर्मचारी बेरोजगारी भत्ते के भी हकदार हैं। अटल बीमित व्यक्ति कल्याण योजना और राजीव गांधी श्रमिक कल्याण योजना नामक दो बेरोजगारी भत्ता योजनाएं हैं।

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

भारत 35 वर्ष बाद आईएलओ शासी परिषद का अध्‍यक्ष


भारत ने 35 वर्ष बाद अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन- आईएलओ की शासी परिषद के अध्यक्ष का पदभार सम्भाल लिया है।

महत्वपूर्ण तथ्य: श्रम और रोजगार सचिव अपूर्व चन्द्रा अक्टूबर 2020 से जून 2021 की अवधि के लिए इस परिषद के अध्यक्ष चुने गए हैं।

  • यह शीर्ष कार्यकारी परिषद है, जो इस अंतरराष्ट्रीय संस्था की नीतियों, कार्यक्रमों, कार्यसूची और बजट का निर्धारण करती है और इसके महानिदेशक का चुनाव करती है।
  • भारतीय प्रशासनिक सेवा के 1988 बैच के महाराष्ट्र कैडर के अधिकारी चन्द्रा शासी परिषद की आगामी बैठक की अध्यक्षता करेंगे।
  • इस मंच पर सभी सदस्यों को श्रम बाजार की जटिलताओं को दूर करने और सभी कार्मिकों के लिए विश्वव्यापी सामाजिक सुरक्षा के क्षेत्र में सुधार की दिशा में भारत द्वारा कदम उठाए गए कदमों से अवगत कराया जाएगा।
  • वर्तमान में अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन के 187 सदस्य हैं।

पीआईबी न्यूज पर्यावरण

भारत में हिम तेंदुओं का पर्यावास संरक्षण


23 अक्टूबर, 2020 को अंतरराष्ट्रीय हिम तेंदुआ दिवस के अवसर पर पर्यावरण मंत्रालय ने कहा है कि भारत सरकार 'प्रोजेक्ट हिम तेंदुआ' के माध्यम से हिम तेंदुओं और उनके निवास स्थानों का संरक्षण कर रही है।

महत्वपूर्ण तथ्य: प्रोजेक्ट हिम तेंदुआ को 2009 में लॉन्च किया गया था। भारत 2013 से ‘वैश्विक हिम तेंदुआ और पारितंत्र संरक्षण कार्यक्रम’ (Global Snow Leopard and Ecosystem Protection- GSLEP) में भी शामिल है।

  • सरकार हिम तेंदुए के निवास स्थान संरक्षण के लिए परिदृश्य बहाली (landscape restoration) और स्थानीय हितधारकों को शामिल कर 'भागीदारी परिदृश्य आधारित प्रबंधन योजनाओं (participatory landscape-based management plans) को लागू करने के लिए प्रतिबद्ध है।
  • भारत ने इसके लिए तीन बड़े परिदृश्यों की पहचान की है- लद्दाख और हिमाचल प्रदेश में हेमिस-स्पीति; उत्तराखंड में नंदा देवी - गंगोत्री; और सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश में कंचनजंघा - तवांग।
  • भारत की मेजबानी में अक्टूबर 2019 में नई दिल्ली में GSLEP कार्यक्रम की चौथी संचालन समिति की बैठक में मध्य और दक्षिण एशिया के हिम तेंदुओं की सीमा वाले 12 देशों के पर्वतीय पारिस्थितिक तंत्रों के संरक्षण के समाधान को मजबूत करने पर ‘नई दिल्ली वक्तव्य’ जारी किया गया।
  • भारत सरकार ने हिम तेंदुए को उच्च हिमालयी क्षेत्र ((high-altitude Himalayas) की विशिष्ट प्रजाति (flagship species) के रूप में भी चिन्हित किया है।
  • भारत में हिम तेंदुओं का भौगोलिक क्षेत्र पश्चिमी हिमालयी राज्यों और केन्द्र- शासित प्रदेशों जैसे जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश में है।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय

इंडिया हैप्पीनेस रिपोर्ट, 2020


सितंबर, 2020 में गुरुग्राम स्थित प्रबंधन विकास संस्थान के प्रोफेसर डॉ. राजेश के पिलानिया द्वारा तैयार पहली वार्षिक ‘इंडिया हैप्पीनेस रिपोर्ट, 2020’ जारी की गई।

महत्वपूर्ण तथ्य: रिपोर्ट में सभी राज्यों और केंद्र-शासित प्रदेशों को 6 मानकों पर रैंकिंग दी गई। ये 6 मानक हैं- आय और विकास जैसे कार्य एवं संबंधित मुद्दे, पारिवारिक संबंध, शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य, सामाजिक मुद्दे और परोपकार, धार्मिक और आध्यात्मिक अभिविन्यास तथा खुशहाली पर कोविड-19 का प्रभाव।

  • यह रिपोर्ट मार्च 2020 से जुलाई 2020 के बीच लगभग देश भर के 16950 व्यक्तियों के सर्वेक्षण पर आधारित है।
  • समग्र रैंकिंग में शीर्ष तीन स्थानों पर क्रमशः मिजोरम, पंजाब तथा अंडमान और निकोबार द्वीप समूह हैं। जबकि निचले तीन स्थानों पर क्रमशः छत्तीसगढ़ (36वें), उत्तराखंड (35वें) और ओडिशा (34वें) हैं।
  • रैंकिंग में बड़े राज्यों में शीर्ष तीन स्थान पर क्रमशः पंजाब, गुजरात और तेलंगाना हैं, जबकि रैंकिंग में छोटे राज्यों में शीर्ष तीन स्थान पर क्रमशः मिजोरम, सिक्किम तथा अरुणाचल प्रदेश हैं।
  • रैंकिंग में केंद्र-शासित प्रदेश में शीर्ष तीन स्थानों पर क्रमशः अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, पुडुचेरी और लक्षद्वीप हैं।

सामयिक खबरें विज्ञान-पर्यावरण

‘ट्यूबरियल लार ग्रंथियों’ की खोज


अक्टूबर 2020 में नीदरलैंड्स कैंसर इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने गले के ऊपरी हिस्से में लार ग्रंथियों के समूह की खोज की है और इसे ‘ट्यूबरियल लार ग्रंथियों’ (tubarial salivary glands) का नाम दिया है।

महत्वपूर्ण तथ्य: नई खोजी गई ग्रंथियाँ औसतन लंबाई में लगभग 1.5 इंच (3.9 सेंटीमीटर) की हैं और ये उपास्थि 'टोरस ट्यूबरियस' (torus tubarius) के एक टुकड़े के ऊपर स्थित होती हैं।

  • ग्रंथियां नाक और मुंह के पीछे ऊपरी गले को नम करती हैं और चिकनाई प्रदान करती हैं।
  • अब तक, मानव शरीर में तीन ज्ञात बड़ी लार ग्रंथियां थीं: एक जीभ के नीचे, एक जबड़े के नीचे और एक गाल के पीछे।
  • यह खोज कैंसर के इलाज के लिए महत्वपूर्ण हो सकती है। अब तक नाक के पीछे, इस नासाग्रसनी क्षेत्र (nasopharynx region) में कभी भी सूक्ष्म लार ग्रंथियों के पाए जाने के बारे नहीं सोचा गया था।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप नियुक्ति

ले. जनरल नंद किशोर साहू दंत चिकित्सा सेवा के महानिदेशक


  • लेफ्टिनेंट जनरल नंद किशोर साहू ने 12 अक्टूबर 2020 को दंत चिकित्सा सेवा के महानिदेशक और आर्मी डेंटल कोर के कर्नल कमांडेंट का पदभार संभाला।
  • 37 वर्षों के अपने प्रतिष्ठित सैन्य करियर के दौरान, उन्होंने कश्मीर घाटी में एक यूनिट की कमान, पश्चिमी, मध्य और दक्षिणी कमान के कमान सलाहकार समेत कई महत्वपूर्ण पद संभाले।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

संयुक्त राष्ट्र दिवस


24 अक्टूबर

2020 का विषय: ‘जो भविष्य हम चाहते हैं, जैसा संयुक्त राष्ट्र हमें चाहिए: बहुपक्षवाद के लिए हमारी सामूहिक प्रतिबद्धता की पुष्टि' (The future we want, the United Nations we need: reaffirming our collective commitment to multilateralism)

महत्वपूर्ण तथ्य: संयुक्त राष्ट्र दिवस 1945 में संयुक्त राष्ट्र के चार्टर के लागू होने की वर्षगांठ के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। 50 देशों के प्रतिनिधियों द्वारा चार्टर पर 26 जून, 1945 को हस्ताक्षर किए गए थे। 'संयुक्त राष्ट्र' नाम संयुक्त राज्य अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति फ्रैंकलिन डी रूजवेल्ट द्वारा गढ़ा गया था और पहली बार द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान 1 जनवरी, 1942 की संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषणा में इस्तेमाल किया गया था।

सामयिक खबरें बैंकिंग, फाइनेंस, सेवा और बीमा

सह-उत्पत्ति योजना का विस्तार


भारतीय रिजर्व बैंक ने अक्टूबर 2020 में आवास वित्त कंपनियों (एचएफसी) सहित सभी गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) को अब अधिक वित्तीय समावेशन और ऋण प्रदाता संस्थाओं को अधिक परिचालन लचीलापन प्रदान करने के प्रयासों के तहत ‘सह-उत्पत्ति योजना’ (Co-origination scheme) में शामिल किया है।

  • इसके चलते अब आवास वित्त कंपनियों समेत सभी एनबीएफसी प्राथमिकता वाले क्षेत्रों को ऋण देने के लिए बैंकों के साथ साझेदारी कर सकेंगे।
  • भारतीय रिजर्व बैंक ने 2018 में, कुछ शर्तों के तहत, प्राथमिकता वाले क्षेत्र को ऋण देने के लिए बैंकों और कुछ विशेष तरह के एनबीएफसी द्वारा ऋण की सह-उत्पत्ति योजना की रूपरेखा पेश की थी।
  • इसके तहत दोनों ऋण प्रदाताओं एनबीएफसी और बैंक द्वारा सुविधा स्तर पर ऋण का संयुक्त योगदान और संबंधित व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए जोखिम और प्रतिफल की साझेदारी की व्यवस्था है।

सामयिक खबरें बिजनेस और सार्वजनिक उपक्रम

पीएसयू में उत्कृष्टता के लिए टीम ‘ट्राइफेड’ ने जीता राष्ट्रीय पुरस्कार


14 अक्टूबर, 2020 को आयोजित स्टार्ट-अप्स में निवेश के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम (पीएसयू) में उत्कृष्टता के लिए टीम ट्राइफेड ने राष्ट्रीय पुरस्कारों का वर्चुअल संस्करण जीता। संयुक्त टीम ने तीन पुरस्कार जीते हैं।

  • ट्राइफेड के प्रबंध निदेशक प्रवीर कृष्णा के अनुकरणीय और प्रेरणादायक नेतृत्व के लिए ‘वर्ष के मुख्य कार्यकारी अधिकारी-सीईओ’ और ‘दूरदर्शी नेतृत्व पुरस्कार’ श्रेणियों में दो व्यक्तिगत पुरस्कार दिये गए। स्टार्ट-अप्स श्रेणी में निवेश के लिये एक सामूहिक पुरस्कार प्राप्त हुआ है।
  • प्रवीर कृष्णा और ट्राइफेड की पूरी टीम वन धन योजना के कार्यान्वयन और सफलता के लिए काम कर रही है।

सामयिक खबरें बिजनेस और सार्वजनिक उपक्रम

रोहित शर्मा ‘वेगा' के ब्रांड एंबेसडर


अक्टूबर में सौंदर्य उत्पाद ब्रांडवेगाने क्रिकेटर रोहित शर्मा को अपने ब्रांड एंबेसडर के रूप में नियुक्त करने की घोषणा की है। रोहित वेगा मैनब्रांड के तहत ब्रांड के पुरुषों की व्यक्तिगत सौंदर्य इलेक्ट्रॉनिक्स रेंज ट्रिमर आदिका प्रचार करेंगेऔर आगामी डिजिटल अभियान में शामिल होंगे।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

‘लाइफ इन मिनिएचर’ परियोजना


केंद्रीय संस्कृति और पर्यटन राज्यमंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने 22 अक्टूबर, 2020 को ‘लाइफ इन मिनिएचर’ (Life in Miniature) परियोजना की शुरुआत की।

महत्वपूर्ण तथ्य: ‘लाइफ इन मिनिएचर’ भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय के अन्तर्गत एक प्रमुख सांस्कृतिक संस्थान राष्ट्रीय संग्रहालय, नई दिल्ली और ‘गूगल आर्ट्स एंड कल्चर’ (Google Arts & Culture) की संयुक्त परियोजना है।

  • नई दिल्ली स्थित राष्ट्रीय संग्रहालय से सैकड़ों लघु चित्रों को इस परियोजना के माध्यम से दुनिया भर के लोग ‘गूगल आर्ट्स एंड कल्चर’ ऐप से ऑनलाइन देख सकते हैं।
  • यह परियोजना मशीन लर्निंग (machine learning), संवर्धित वास्तविकता (augmented reality) और हाई डेफिनिशन रोबोट कैमरों (high-definition robotic cameras) के साथ डिजिटलीकरण जैसी तकनीकों का उपयोग करती है।
  • गूगल आर्ट्स एंड कल्चर पर एक क्लिक द्वारा 2,000 से अधिक संग्रहालयों का संग्रह देखा जा सकता है। यह कला, इतिहास और दुनिया के आश्चर्यों का पता लगाने का एक शानदार तरीका है।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

भारतीय नौसेना डोर्नियर एयरक्राफ्ट हेतु पहला महिला पायलट बैच


कोच्चि में दक्षिणी नौसेना कमान द्वारा डोर्नियर एयरक्राफ्ट पर भारतीय नौसेना के महिला पायलटों के पहले बैच का संचालन किया गया है।

  • तीनों महिला पायलट 27वीं डॉर्नियर ऑपरेशनल फ्लाइंग प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के छ: पायलटों में शामिल थीं, जिन्होंने 22 अक्टूबर, 2020 को आईएनएस गरुड़, कोच्चि में आयोजित पासिंग आउट समारोह में 'फुल ऑपरेशनल मैरिटाइम रेकोनेंस पायलट' (Fully operational Maritime Reconnaissance (MR) Pilots) के रूप में स्नातक किया।
  • पहले बैच की तीन महिला पायलट - लेफ्टिनेंट दिव्या शर्मा (नई दिल्ली) , लेफ्टिनेंट शुभांगी स्वरूप, (तिलहर, उत्तर प्रदेश) और लेफ्टिनेंट शिवांगी (मुजफ्फरपुर, बिहार) हैं।
  • MR फ्लाइंग के लिए परिचालन करने वाली तीन महिला पायलटों में लेफ्टिनेंट शिवांगी 2 दिसंबर, 2019 को नौसेना पायलट के रूप में क्वालिफाई करने वाली पहली महिला बनी थीं।

पीआईबी न्यूज विज्ञान और तकनीक

आईएनएस कवरत्‍ती नौसेना बेड़े में शामिल


थल सेनाध्यक्ष जनरल मनोज मुकुंद नरवने ने 22 अक्टूबर, 2020 को नौसैनिक डॉकयार्ड, विशाखापतनम में आयोजित एक समारोह में रेडार से बच निकलने वाले पनडुब्बी रोधी युद्धपोत ‘आईएनएस कवरत्ती’ को भारतीय नौसेना के बेड़े में शामिल किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: देश में निर्मित ऐसे चार पनडुब्बी रोधी युद्धपोतों को शामिल करने के क्रम में ये चौथा एवं आखिरी युद्धपोत है।

  • गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स लिमिटेड में प्रोजेक्ट 28 (कामोर्ता क्लास) के अंतर्गत युद्धपोत का निर्माण किया गया है।
  • इसका नाम लक्षद्वीप की राजधानी ‘कवरत्ती’ के नाम पर रखा गया है। आईएनएस कवरत्ती को भारत में निर्मित हाई ग्रेड डीएमआर 249ए स्टील से बनाया गया है। इस युद्धपोत की लंबाई 109 मी., चौड़ाई 14मी. और वजन 3300 टन है।
  • इसमें स्वदेशी रूप से विकसित कुछ प्रमुख उपकरणों / प्रणालियों में युद्धक प्रबंधन प्रणाली, टारपीडो ट्यूब लॉन्चर्स और इंफ्रा-रेड सिग्नेचर सप्रेशन सिस्टम (Infra-Red Signature Suppression System) शामिल हैं।
  • अन्य उन्नत स्वचालन प्रणालियों में सम्पूर्ण वायुमंडलीय नियंत्रण प्रणाली (TACS), एकीकृत प्लेटफॉर्म प्रबंधन प्रणाली (IPMS), एकीकृत ब्रिज सिस्टम (IBS), बैटल डैमेज कंट्रोल सिस्टम (BDCS) और कार्मिक लोकेटर सिस्टम (PLS) शामिल हैं।
  • आईएनएस कवरत्ती इसी नाम के तत्कालीन युद्धपोत अरनाला क्लास मिसाइल (आईएनएस कवरत्ती-पी 80) का अवतार है, जिसने 1971 में बांग्लादेश की मुक्ति युद्ध में अहम भूमिका निभाई थी।

सामयिक खबरें आर्थिकी

औद्योगिक कामगारों के लिए उपभोक्‍ता मूल्‍य सूचकांक की नई श्रृंखला


श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने 22 अक्टूबर, 2020 को नई दिल्ली में आधार वर्ष 2016 के अनुसार औद्योगिक कामगारों के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक की नई श्रृंखला जारी की।

महत्वपूर्ण तथ्य: यह सूचकांक प्राथमिक रूप से संगठित क्षेत्र के कामगारों को देय महंगाई भत्ते का अनुमान लगाने के लिए उपयोग किया जाता है।

  • सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों, बैंकों और बीमा कंपनियों के अलावा सरकारी कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्ता तय करने के लिए भी इसका उपयोग किया जाता है।
  • पहले औद्योगिक कामगारों के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक तय करने का आधार वर्ष 2001 माना जाता था।
  • सितंबर, 2020 महीने के लिए आधार वर्ष 2016 के साथ प्रथम सूचकांक भी जारी किया गया। सूचकांक 78 केन्द्रों (2001) की जगह 88 केंद्रों (2016) के लिए अखिल भारतीय स्तर के लिए संकलित किया गया, जो 118 के स्तर पर है।
  • नमूना आकार को 41,040 परिवारों से बढ़ाकर 48,384 कर दिया गया, और खुदरा श्रृंखला के आंकड़ों के संग्रह के लिए चयनित बाजारों की संख्या 289 से 317 तक बढ़ा दी गई है।
  • इस संशोधन से पहले, इस श्रृंखला को 1944 से 1949; 1949 से 1960, 1960 से 1982 और 1982 से 2001 तक संशोधित किया गया।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय

पीएमजीएसवाई के कार्यान्वयन में मंडी जिला शीर्ष स्थान पर


केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा अक्टूबर 2020 में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना (पीएमजीएसवाई) के सफल कार्यान्वयन के लिए घोषित देश के 30 जिलों की सूची में हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले ने शीर्ष स्थान हासिल किया है।

महत्वपूर्ण तथ्य: 2020-21 में अधिकतम लंबाई के पीएमजीएसवाई के तहत सड़कों के निर्माण के लिए मंडी जिले को शीर्ष स्थान प्राप्त हुआ है।

  • पीएमजीएसवाई के तहत सड़कों के निर्माण के लिए हिमाचल प्रदेश ने राष्ट्रीय स्तर पर दूसरा स्थान भी हासिल किया है।
  • हिमाचल प्रदेश के सात और जिलों ने भी शीर्ष 30 सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले जिलों में स्थान प्राप्त किया है, जिसमें चंबा, शिमला, कांगड़ा, ऊना, सिरमौर, हमीरपुर और सोलन शामिल हैं।
  • इस वर्ष अप्रैल से अब तक 1104 किलोमीटर सड़कें बनाकर राज्य ने पीएमजीएसवाई कार्यक्रम के तहत अपने प्रदर्शन में सुधार किया है।
  • केंद्र-शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के 12 जिलों को भी पीएमजीएसवाई की 30 जिलों की सूची में शामिल किया गया है।
  • पीएमजीएसवाई केंद्र सरकार द्वारा राज्य में 250 से अधिक की आबादी वाले आवासों को जोड़ने के लिए वित्त पोषित एक कार्यक्रम है।

सामयिक खबरें विज्ञान-पर्यावरण

स्टेट ऑफ ग्लोबल एयर 2020 रिपोर्ट


21 अक्टूबर, 2020 को ब्रिटिश कोलंबिया विश्वविद्यालय के सहयोग से ‘हेल्थ इफेक्ट्स इंस्टिट्यूट’ (HEI) तथा ‘इंस्टिट्यूट फॉर हेल्थ मैट्रिक्स एंड इवैल्यूएशन’ (IHME) द्वारा संयुक्त रूप से तैयार स्टेट ऑफ ग्लोबल एयर (State of Global Air) रिपोर्ट 2020 जारी की गई।

महत्वपूर्ण तथ्य: भारत में, वर्ष 2019 के दौरान, बाहरी और घरेलू वायु प्रदूषण के दीर्घकालिक संपर्क के कारण होने वाली बीमारियों, जैसे कि- आघात (stroke), दिल का दौरा, मधुमेह, फेफड़ों के कैंसर, पुरानी फेफड़ों की बीमारियों तथा नवजात शिशुओं की बीमारियों समेत 1.67 मिलियन से अधिक मौतें हुई थी।

  • कुल मिलाकर, भारत में सभी स्वास्थ्य कारणों से होने वाली मौतों के लिए वायु प्रदूषण अब सबसे बड़ा कारक है।
  • नवजात शिशुओं की ज्यादातर मौतें जन्म के समय कम वजन और समय-पूर्व जन्म से उत्पन्न जटिलताओं से संबंधित थीं।
  • 2019 में बाहरी और घरेलू पार्टिकुलेट मैटर (PM) प्रदूषण से जन्म के पहले माह में भारत में 1,16,000 शिशुओं सहित विश्व में लगभग 5,00,000 शिशुओं की मृत्यु हुई।
  • भारत में विश्व का सर्वाधिक प्रति व्यक्ति प्रदूषण संपर्क जोखिम (83.2 μg/क्यूबिक मीटर) पाया जाता है। इसके बाद नेपाल में 83.1 μg/क्यूबिक मीटर तथा नाइजर में 80.1 μg/क्यूबिक मीटर प्रति व्यक्ति प्रदूषण संपर्क जोखिम पाया जाता है।
  • रिपोर्ट के अनुसार भारत 2010 के बाद से पीएम 2.5 प्रदूषण में वृद्धि दर्ज कर रहा है, जो देश में वार्षिक वायु प्रदूषण स्तर में कमी के केंद्र के दावों के विपरीत है।

सामयिक खबरें राज्य जम्मू-कश्मीर

जम्मू-कश्मीर में वनरोपण मियावाकी पद्धति की शुरुआत


अक्टूबर 2020 में केंद्र-शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में जम्मू-कश्मीर उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश और जम्मू-कश्मीर प्रदेश विधि सेवा प्राधिकरण की मुख्य संरक्षक गीता मित्तल के सानिध्य और वन विभाग के समन्वय के साथ वनरोपण की मियावाकी पद्धति शुरू की गई है।

उद्देश्य: शहरी वनों को बढावा देना और हरित क्षेत्र का विस्तार करना।

  • मियावाकी एक ऐसी पद्धति है, जिसकी सहायता से घने स्थानीय वनों का विकास किया जा सकता है। इस बेजोड प्रणाली का विकास जापान के वनस्पति विशेषज्ञ अकीरा मियावाकी ने किया है।
  • इसमें यह प्रयास किया जाता है कि पौधों का विकास दस गुना अधिक तेजी से हो, जिससे वृक्षारोपण सामान्य से तीस गुना अधिक घना होता है।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय

उम्मीदवार की खर्च सीमा से संबंधित समिति का गठन


भारतीय निर्वाचन आयोग ने 21 अक्टूबर, 2020 को पूर्व राजस्व सेवा अधिकारी और महानिदेशक (अन्वेषण) हरीश कुमार और महासचिव तथा महानिदेशक (व्यय) उमेश सिन्हा की सदस्यता में एक समिति का गठन किया है।

महत्वपूर्ण तथ्य: यह समिति मतदाताओं की संख्या में वृद्धि और महंगाई दर में बढ़ोतरी तथा अन्य पहलुओं के मद्देनजर उम्मीदवारों की खर्च सीमा से जुड़े मुद्दों का परीक्षण करेगी।

  • कोविड-19 के मद्देनजर विधि और न्याय मंत्रालय ने 19 अक्टूबर, 2020 को निर्वाचन अधिनियम 1961 के नियम संख्या 90 में संशोधन अधिसूचित कर वर्तमान खर्चों की सीमा में 10% की बढ़ोतरी की है। खर्च की सीमा में की गई यह बढ़ोतरी वर्तमान में जारी चुनावों में भी तत्काल प्रभाव से लागू होगी।
  • इससे पहले खर्च की सीमा में बढ़ोतरी 2014 में एक अधिसूचना के माध्यम से 28 फरवरी, 2014 को की गई थी, जबकि आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के संदर्भ में 10 अक्टूबर, 2018 को इसमें संशोधन किया गया था।
  • समिति अपने गठन के 120 दिनों के भीतर अपनी रिपोर्ट सौंपेगी।

समीक्षा का कारण: पिछले 6 वर्षों में खर्च की सीमा में कोई वृद्धि नहीं की गई, जबकि मतदाताओं की संख्या 834 मिलियन से बढ़कर 2019 में 910 मिलियन और अब 921 मिलियन हो गई है।

  • इसके अलावा लागत मुद्रा स्फीति में भी वृद्धि हुई, जो 220 से बढ़कर 2019 में 280 और अब 301 के स्तर पर पहुंच गई है।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

ई-धरती जियो पोर्टल


  • केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने 21 अक्टूबर, 2020 को 'ई-धरती जियो पोर्टल' (e-Dharti Geo Portal) लॉन्च किया।
  • विरासत में प्राप्त ड्रॉइंग जैसे नक्शे और लीज प्लान को एमआईएस प्रणाली में संग्रहित करने के लिये भूमि और विकास कार्यालय ((L&DO) ई-धरती पोर्टल के साथ जीआईएस डेटा का एकीकरण कर रहा है।
  • ई-धरती जियो पोर्टल के माध्यम से भूमि और विकास कार्यालय (एल एंड डीओ) द्वारा संपत्ति प्रमाण पत्र प्रदान करने की सेवा का शुभारंभ किया गया। प्रमाण पत्र में संपत्ति का विवरण जैसे-भूमि का प्रकार, संपत्ति का प्रकार, आवंटन की तिथि, संपत्ति की स्थिति आदि शामिल है।

पीआईबी न्यूज विज्ञान और तकनीक

नैदानिक परीक्षण वेबसाइट ‘सीयूआरईडी’


  • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्द्धन ने 20 अक्टूबर, 2020 को कोविड-19 के लिए पुनरुद्देशित औषधियों से जुड़ी सीएसआईआर की भागीदारी वाली नैदानिक परीक्षण वेबसाइट ‘सीयूआरईडी’ (CuRED or CSIR Ushered Repurposed Drugs) की शुरुआत की।
  • यह वेबसाइट कोविड-19 से संबंधित औषधियों, निदानों तथा उपकरणों और उनके परीक्षण के वर्तमान चरण के बारे में जानकारी प्रदान करती है।
  • सीएसआईआर ‘आयुष-64’ समेत विभिन्न आयुष दवाओं के नैदानिक परीक्षणों के लिए आयुष मंत्रालय के साथ भी काम कर रहा है।

सामयिक खबरें आर्थिकी

कालेश्वरम सिंचाई लिफ्ट परियोजना


अक्टूबर 2020 में राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने कहा है कि तेलंगाना में ‘कालेश्वरम लिफ्ट सिंचाई परियोजना’ को कानून का उल्लंघन कर पर्यावरणीय मंजूरी दी गई।

महत्वपूर्ण तथ्य: एनजीटी ने इससे हुए नुकसान का आकलन करने और इसकी भरपाई के लिए उठाए जाने वाले जरूरी कदमों को सुझाने के लिये एक समिति का गठन किया है।

  • एनजीटी के अनुसार तेलंगाना सरकार ने बाद में अपनी क्षमता बढ़ाने के लिए परियोजना के डिजाइन को बदल दिया है।
  • कालेश्वरम लिफ्ट सिंचाई प्रणाली को दुनिया की सबसे बड़ी बहुउद्देश्यीय परियोजनाओं में से एक माना जाता है।
  • इसे हैदराबाद और सिकंदराबाद के अलावा तेलंगाना के 31 में से 20 जिलों में लगभग 45 लाख एकड़ में सिंचाई और पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए बनाया जा रहा है।
  • तेलंगाना जयशंकर भूपालपल्ली जिले के मेदिगड्डा में एक बैराज का निर्माण करके गोदावरी के साथ दो नदियों के संगम पर पानी का दोहन करेगा।
  • परियोजना की लागत 80,000 करोड़ रुपये है, लेकिन पूरी तरह से निर्माण होने तक इसके बढ़कर 1 लाख करोड़ रुपये होने की संभावना है।
  • गोदावरी नदी समुद्र तल से सौ मीटर ऊपर बहती है, जबकि तेलंगाना औसत समुद्र तल से 300 से 650 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इस कारण तेलंगाना में गोदावरी सहित कई नदियों के होने के बावजूद इसके जल का लाभ नहीं मिला पाता था।

सामयिक खबरें विज्ञान-पर्यावरण

नासा द्वारा क्षुद्रग्रह बेन्नू से इकट्ठे किए नमूने


20 अक्टूबर, 2020 को नासा के एक अंतरिक्ष यान ‘ओसिरिस रेक्स’ (OSIRIS-REx — Origins, Spectral Interpretation, Resource Identification, Security, Regolith Explorer) ने क्षुद्र ग्रह बेन्नू से नमूने इकट्ठे किये हैं।

  • महत्वपूर्ण तथ्य: अंतरिक्ष यान ने पृथ्वी के करीब क्षुद्र ग्रह को स्पर्श किया और उसकी सतह से धूल कण और पत्थरों को एकत्र किया और वह वर्ष 2023 में धरती पर लौटेगा।
    • 2013 में उत्तरी कैरोलिना के नौ वर्षीय बालक द्वारा मिस्र के देवता/देवी के नाम पर क्षुद्रग्रह का नाम रखा गया था, जिसने नासा की 'नेम द एस्टेरॉयड' (Name that Asteroid) प्रतियोगिता जीती थी।
    • क्षुद्रग्रह की खोज नासा द्वारा वित्त पोषित 'लिंकन नियर-अर्थ एस्टेरॉयड रिसर्च टीम' (Lincoln Near-Earth Asteroid Research team) ने 1999 में की थी। बेन्नू क्षुद्रग्रह पृथ्वी से लगभग 200 मिलियन मील की दूरी पर स्थित है।
    • OSIRIS-REx मिशन नासा का पहला मिशन है जिसका उद्देश्य प्राचीन क्षुद्रग्रह से एक नमूने को वापस लाना है। मिशन 2016 में लॉन्च किया गया था, यह 2018 में अपने लक्ष्य पर पहुंच गया था और तब से, अंतरिक्ष यान क्षुद्रग्रह के वेग का मिलान करने की कोशिश कर रहा है।
  • बेन्नू के अध्ययन का कारण: वैज्ञानिक ग्रहों के निर्माण एवं इतिहास और सूर्य के बारे में जानकारी के लिए क्षुद्रग्रह का अध्ययन कर रहे हैं, क्योंकि सौरमंडल में अन्य वस्तुओं के समान ही क्षुद्रग्रहों का निर्माण हुआ था।

सामयिक खबरें विज्ञान-पर्यावरण

स्टैंड-ऑफ एंटी-टैंक मिसाइल


भारत ने 19 अक्टूबर, 2020 को ओडिशा तट के एकीकृत परीक्षण टेस्ट रेंज (ITR) से स्वदेशी रूप से विकसित स्टैंड-ऑफ एंटी-टैंक (Stand-off Anti-tank- SANT) मिसाइल का सफल उड़ान परीक्षण किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा भारतीय वायु सेना के लिए विकसित की गई हवा से सतह पर मार करने वाली मिसाइल का परीक्षण जमीन-आधारित प्लेटफॉर्म के एक रूफ-टॉप लांचर से किया गया था।

  • यह एंटी-टैंक मिसाइल, ‘हेलीकॉप्टर लॉन्च नाग’ (Helicopter Launched Nag- HeliNa) का उन्नत संस्करण है।
  • SANT मिसाइल में प्रक्षेपण से पहले लॉक-ऑन और लॉन्च के बाद लॉक-ऑन दोनों की क्षमता है और यह 15 किमी. से 20 किमी. दूर के लक्ष्यों को मार गिराने में सक्षम है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप अभियान/सम्मेलन/आयोजन

सामाजिक सशक्तिकरण के लिए उत्तरदायी एआई 2020 सम्मेलन


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस यानि कृत्रिम बुद्धिमत्ता पर बड़े वर्चुअल सम्मेलन ‘सामाजिक सशक्तिकरण के लिए उत्तरदायी एआई 2020’ (Responsible AI for Social Empowerment 2020-RAISE 2020) का 5 अक्टूबर, 2020 को उद्घाटन किया।

उद्देश्य: जवाबदेह एआई के द्वारा सशक्तिकरण, सामाजिक परिवर्तन, सभी को शामिल करने के भारत के दृष्टिकोण का रोड मैप प्रस्तुत करना।

  • इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय और नीति आयोग द्वारा एआई पर इस बड़े वर्चुअल सम्मेलन का आयोजन 5 से 9 अक्टूबर, 2020 के बीच किया गया।
  • वैश्विक मंच RAISE 2020 के माध्यम से सामाजिक बदलाव समेत स्वस्थ्य, कृषि, शिक्षा व स्मार्ट मोबिलिटी आदि क्षेत्रों में एआई के इस्तेमाल की संभावनाओं पर दुनियाभर के विशेषज्ञों ने विचारों का आदान प्रदान किया।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

पुलिस स्मृति दिवस


21 अक्टूबर

महत्वपूर्ण तथ्य: 21 अक्टूबर, 1959 को लद्दाख के पास हॉट स्प्रिंग्स क्षेत्र में चीनी सैनिकों द्वारा घात लगाकर किए गए हमले में शहीद हुए दस पुलिसकर्मियों को सम्मान देने के लिए हर साल 21 अक्टूबर को यह दिवस मनाया जाता है।

सामयिक खबरें बैंकिंग, फाइनेंस, सेवा और बीमा

'अर्लीसैलरी' ने लॉन्च किया जीरो-टच डिजिटल कार्ड


फिनटेक स्टार्ट-अप और उपभोक्ता ऋण प्रदाता प्लेटफॉर्म 'अर्लीसैलरी' ने रुपे (RuPay) के साथ साझेदारी में एक शून्य-स्पर्श (जीरो टच) डिजिटल कार्ड लॉन्च किया है, जिसे 'सैलरी कार्ड' (Salary card) नाम दिया गया है।

  • संपर्क-रहित कार्ड वेतनभोगी पेशेवरों के लिए डिजिटल क्रेडिट तक त्वरित पहुंच प्रदान करता है और पूरे भारत के व्यापारियों से तत्काल खरीदारी को सक्षम बनाता है।
  • यह कार्ड उपभोक्ताओं को उनकी आवश्यकताओं के अनुरूप एक क्रेडिट सीमा और पुनर्भुगतान अवधि तय करने की अनुमति भी देता है।
  • अर्लीसैलरी के सीईओ और सह-संस्थापक अक्षय मेहरोत्रा हैं।

सामयिक खबरें खेल टेनिस

फ्रेंच ओपन टेनिस टूर्नामेंट 2020


स्पेन के राफेल नडाल ने 11 अक्टूबर, 2020 को फ्रेंच ओपन के फाइनल में दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी सर्बिया के नोवाक जोकोविच को 6-0, 6-2, 7-5 से हराकर अपना 13वां फ्रेच ओपन एकल खिताब जीता।

  • इस जीत के साथ ही नडाल ने फेडरर के रिकॉर्ड 20 ग्रैंडस्लैम खिताब की बराबरी कर ली है।
  • 19 वर्षीय इगा स्वियातेक (Iga Swiatek) ने महिला एकल के फाइनल में अमेरिका सोफिया केनिन को हराकर इतिहास रच दिया।
  • स्वियातेक एकल वर्ग में ग्रैंड स्लैम जीतने वाली पोलैंड की पहली खिलाड़ी बन गई हैं। वह 1992 में मोनिका सेलेस की जीत के बाद सबसे युवा ग्रैंड स्लैम विजेता भी बनीं।
  • अर्जेंटीना की नादिया पोदोरोस्का फ्रेंच ओपन टेनिस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली पहली और कुल मिलाकर तीसरी क्वॉलिफायर बनी। इनसे पहले 1999 में विंबलडन में एलेक्जेंड्रा स्टीवेन्सन और 1978 ऑस्ट्रेलियन ओपन में क्रिस्टीन डोरी सेमीफाइनल तक पहुँचने वाली क्वॉलिफायर थी।
  • इस बार मिश्रित युगल का आयोजन नहीं किया गया।

अन्य विजेता

  • पुरुष युगल: केविन क्राविट्ज एवं आंद्रेस मीस (दोनों जर्मनी)
  • महिला युगल: टमिया बाबोस (हंगरी) एवं क्रिस्टीना म्लादेनोवीक (फ्रांस)

पीआईबी न्यूज आर्थिक

भारत-ओमान संयुक्त आयोग की बैठक


वाणिज्य और उद्योग राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी और ओमान के वाणिज्य, उद्योग और निवेश संवर्धन मंत्री कैस बिन मोहम्मद अल यूसेफ की अध्यक्षता में भारत-ओमान संयुक्त आयोग की बैठक (JCM) का 9वां सत्र 19 अक्टूबर, 2020 को आभासी मंच के माध्यम से आयोजित किया गया।

महत्वपूर्ण तथ्य: दोनों पक्ष कृषि और खाद्य सुरक्षा, मानक और मापन विज्ञान, पर्यटन, सूचना प्रौद्योगिकी, स्वास्थ्य और औषधि, एमएसएमई, अंतरिक्ष, नागरिक उड्डयन, नवीकरणीय ऊर्जा, खनन, संस्कृति और उच्च शिक्षा सहित ऊर्जा के क्षेत्रों में सहयोग करने के लिए सहमत हुए।

  • दोनों पक्ष 'भारत-ओमान दोहरे कराधान समझौते' और 'भारत-ओमान द्विपक्षीय निवेश संधि' के संशोधन के प्रोटोकॉल पर हस्ताक्षर और अनुसमर्थन के लिए अपनी आंतरिक प्रक्रियाओं में तेजी लाने पर भी सहमत हुए।
  • भारत ओमान के शीर्ष व्यापारिक भागीदारों में से एक है। भारत और ओमान के बीच द्विपक्षीय व्यापार 2019-20 में पिछले वर्ष की तुलना में 8.5% की वृद्धि के साथ 5.93 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया।
  • 2019-20 में ओमान के लिए भारत का निर्यात 2.26 बिलियन डॉलर तथा ओमान से भारत का आयात 3.67 बिलियन डॉलर था।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

ब्लॉक और जिला विकास योजनाओं की तैयारी की रूपरेखा


केंद्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने 20 अक्टूबर, 2020 को ब्लॉक और जिला विकास योजनाओं की तैयारी की रूपरेखा पेश की।

महत्वपूर्ण तथ्य: यह रूपरेखा, योजनाओं को तैयार करने के लिए ब्लॉक और जिला पंचायतों के लिए एक कदम-दर-कदम मार्गदर्शिका है, जो उचित स्तर पर योजनाकारों, संबंधित हितधारकों की सहायता करेगी।

  • रूपरेखा सभी संसाधन व्यक्तियों (resource person), हितधारकों के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण के रूप में काम करेगा, जो मध्यवर्ती / ब्लॉक और जिला पंचायतों में विकेंद्रीकृत योजना से जुड़ी है और त्वरित, भागीदारी और समावेशी विकास प्रदान करके ग्रामीण भारत को बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।
  • भारत के संविधान के 73वें संशोधन ने त्रिस्तरीय पंचायती राज प्रणाली, (i) ग्राम स्तर पर ग्राम पंचायत, (ii) प्रखंड/ तालुका स्तर पर मध्यवर्ती पंचायत और (iii) जिला स्तर पर जिला पंचायत को औपचारिक रूप दिया।
  • 15वें वित्त आयोग के अनुदानों को 2020-21 से मध्यवर्ती और जिला पंचायतों में भी वितरित किया जा रहा है। वर्ष 2020-21 में 60750 करोड़ रुपए पंचायतों को वितरित किया जाना निर्धारित है।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

मृदा संचरित कृमि संक्रमण


मृदा संचरित कृमि संक्रमण (Soil-Transmitted Helminthiases -STH), जिसे आंतों के परजीवी कीड़ा संक्रमण के रूप में भी जाना जाता है, एक महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्वास्थ्य चिंता है।

महत्वपूर्ण तथ्य: यह ज्यादातर मलिन बस्तियों में पाई जाती है। ये बच्चों के शारीरिक विकास और स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव डालती है और एनीमिया और कुपोषण का कारण बन सकती है।

  • स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के महत्वपूर्ण राष्ट्रीय कृमिहरण दिवस (नेशनल डीवर्मिंग डे) कार्यक्रम को 2015 में शुरू किया गया था। यह कार्यक्रम स्कूलों और आंगनवाड़ियों के जरिए वर्ष में दो बार एकल दिवस कार्यक्रम के रूप में मनाया जाता है।
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा अनुमोदित एल्बेंडाजोल टैबलेट का उपयोग विश्व स्तर पर जन औषधि प्रशासन (एमडीए) कार्यक्रमों के हिस्से के रूप में बच्चों और किशोरों (1-19 वर्ष) में आंतों के कीड़े के इलाज के लिए किया जाता है।
  • 2012 में STH पर प्रकाशित विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार, भारत में 1-14 वर्ष आयु वर्ग के 64% बच्चे मृदा संचरित कृमि संक्रमण के जोखिम के दायरे में थे।

सामयिक खबरें आर्थिकी

आईएफएससीए द्वारा नियामक सैंडबॉक्स रुपरेखा


अक्टूबर 2020 में अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण- आईएफएससीए (International Financial Services Centres Authority- IFSCA) द्वारा ‘नियामक सैंडबॉक्स’ (Regulatory Sandbox) की एक रूपरेखा पेश की गई।

उद्देश्य: बैंकिंग, बीमा, प्रतिभूतियों और कोष प्रबंधन के विस्तृत क्षेत्र में वित्तीय उत्पाद और वित्तीय सेवाओं से संबंधित वित्तीय तकनीकों (फिनटेक) पहलों को बढ़ावा देने हेतु एक विश्व स्तरीय फिनटेक केंद्र विकसित करना।

महत्वपूर्ण तथ्य: नियामक सैंडबॉक्स’ एक ऐसा ढांचा है, जहाँ पर विभिन्न व्यवसाय, शिथिल विनियामक परिस्थितियों में अपने नवीन उत्पादों का परीक्षण कर सकते हैं। सैंडबॉक्स’ GIFT सिटी में स्थित IFSC के अंतर्गत कार्य करेगा।

  • सैंडबॉक्स की इस रुपरेखा के तहत पूंजी बाजार में बैंकिंग, बीमा और वित्तीय सेवा के क्षेत्र में कार्यरत इकाइयों को सीमित समय सीमा के लिए वास्तविक ग्राहकों के सीमित समूह के साथ एक गतिशील वातावरण में नवीन फिनटेक समाधानों के प्रयोग करने की कुछ सुविधाएं एवं छूट प्रदान की जायेंगी।
  • इन सुविधाओं को निवेशकों की सुरक्षा और उनके जोखिमों को कम करने के लिए आवश्यक सुरक्षा उपायों के साथ और अधिक मजबूत किया जायेगा।
  • अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण (International Financial Services Centres Authority- IFSCA) वर्ष 2020 में स्थापित एक वैधानिक निकाय है। इसका मुख्यालय गांधीनगर, गुजरात में स्थित है।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय

भारत में अपराध 2019 रिपोर्ट


30 सितंबर, 2020 को राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) द्वारा 'भारत में अपराध 2019' की वार्षिक रिपोर्ट जारी की गई।

महिलाओं के खिलाफ अपराध: वर्ष 2019 के दौरान कुल 4,05,861 मामले दर्ज किए गए, जिनमें 2018 में 3,78,236 मामलों की तुलना में 7.3% की वृद्धि हुई।

  • 2018 में 58.8 की तुलना में 2019 में प्रति लाख महिलाओं की जनसंख्या पर अपराध दर 62.4 रही। महिलाओं के खिलाफ सबसे अधिक अपराध के मामले उत्तर प्रदेश (59,853) में दर्ज किए गए, जबकि बलात्कार के सर्वाधिक 5,997 मामले राजस्थान में दर्ज किए गए।
  • 2018 की तुलना में वर्ष 2019 में अनुसूचित जाति (एससी) और अनुसूचित जनजातियों (एसटी) के खिलाफ अपराध में क्रमशः 7% और 26% से अधिक की वृद्धि देखी गई।

एससी के खिलाफ अपराध: 2019 में कुल 45,935 मामले दर्ज किए गए। उत्तर प्रदेश ने सर्वाधिक 11,829 मामले दर्ज किए। एससी महिलाओं से संबंधित बलात्कार के सर्वाधिक 554 मामले राजस्थान में दर्ज किए गए।

एसटी के खिलाफ अपराध: 2019 में कुल 8,257 मामले दर्ज किए गए। मध्य प्रदेश ने सर्वाधिक 1,922 मामले दर्ज किए गए। जबकि जनजातीय महिलाओं से संबंधित बलात्कार के सर्वाधिक 358 मामले भी मध्य प्रदेश में दर्ज किए गए।

साइबर अपराध: 2019 में साइबर अपराध में 63.5% की वृद्धि हुई। साइबर अपराध के तहत कुल 44,546 मामले दर्ज किए गए, जबकि 2018 में 27,248 मामले सामने आए थे।

  • 2019 में, दर्ज किए साइबर अपराध के मामलों में 60.4% धोखाधड़ी के मामले, 5.1% यौन शोषण के मामले और 4.2% अपमान मामले थे।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप वेब पोर्टल/ऐप

समुद्री यातायात सेवा हेतु स्वदेशी सॉफ्टवेयर


जहाजरानी राज्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने 20 अक्टूबर, 2020 को नई दिल्ली में समुद्री यातायात सेवा (Vessel Traffic Services -VTS) और पोत यातायात निगरानी व्यवस्था (Vessels Traffic Monitoring Systems- VTMS) के लिए स्वदेशी सॉफ्टवेयर समाधान के विकास का शुभारंभ किया।

  • समुद्री यातायात सेवा समुद्र में जीवन की सुरक्षा, समुद्री यातायात की सुरक्षा और दक्षता, समुद्री वातावरण सुरक्षा, आस-पास के किनारे के क्षेत्रों, कार्य स्थलों और समुद्री यातायात के संभावित दुष्प्रभावों से सुरक्षा कायम करने में सहायक है।
  • पोत यातायात प्रबंधन व्यवस्था दुनिया के कुछ सबसे व्यस्त सागरों में स्थापित है और सुरक्षित नौवहन, अधिक कुशल यातायात प्रवाह और पर्यावरण की सुरक्षा के लिए बहुमूल्य योगदान दे रही है। आईएमओ कन्वेंशन ‘एसओएलएएस’ (Safety of Life at Sea- SOLAS) के तहत VTMS का पालन करना अनिवार्य है।
  • इस सॉफ्टवेयर को ‘दीपस्तम्भ और दीपपोत महानिदेशालय’ (DGLL) और ‘राष्ट्रीय बंदरगाह, जलमार्ग और तटीय प्रौद्योगिकी केंद्र’ (NTCPWC) द्वारा आईआईटी चेन्नई में विकसित किया गया।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व सांख्यिकी दिवस


20 अक्टूबर

2020 का विषय: 'कनेक्टिंग द वर्ल्ड विद डाटा वी कैन ट्रस्ट' (Connecting the world with data we can trust)

महत्वपूर्ण तथ्य: संयुक्त राष्ट्र सांख्यिकी आयोग ने 2010 में 20 अक्टूबर को विश्व सांख्यिकी दिवस के रूप में मनाने का प्रस्ताव रखा था। यह दिवस हर 5 वर्ष में मनाया जाता है।

पीआईबी न्यूज विज्ञान और तकनीक

भारतीय हिमालयी क्षेत्र में असाफोटिडा (हींग) की खेती


15 अक्टूबर, 2020 को सीएसआईआर की घटक प्रयोगशाला इंस्टीच्यूट ऑफ हिमालयन बायोरिसोर्स टेक्नोलॉजी (आईएचबीटी), पालमपुर ने भारतीय हिमालयी क्षेत्र में असाफोटिडा-हींग (asafoetida) की खेती शुरू करके इतिहास बनाया है।

महत्वपूर्ण तथ्य: लाहौल घाटी के क्वारिंग नाम के गांव में असाफोटिडा (हींग) के पहले पौधे की रोपाई की गई।

  • हींग प्रमुख मसालों में से एक है और यह भारत में उच्च मूल्य की एक मसाला फसल है। भारत अफगानिस्तान, ईरान और उज्बेकिस्तान से सालाना लगभग 1200 टन कच्ची हींग आयात करता है।
  • भारत में फेरुला अस्सा-फोटिडा (Ferula assa-foetida) नाम के पौधों की रोपण सामग्री का अभाव इस फसल की खेती में एक बड़ी अड़चन थी।
  • यह पौधा अपनी वृद्धि के लिए ठंडी और शुष्क परिस्थितियों को तरजीह देता है और इसकी जड़ों में ओलियो-गम नाम के राल (oleo-gum resin) के उत्पादन में लगभग पांच साल लगते हैं।
  • यही वजह है कि भारतीय हिमालयी क्षेत्र के ठंडे रेगिस्तानी इलाके असाफोटिडा (हींग) की खेती के लिए उपयुक्त हैं।
  • दुनिया में फेरुला की लगभग 130 प्रजातियां पाई जाती हैं। भारत में फेरुला असा-फोटिडा नहीं है, लेकिन इसकी अन्य प्रजातियां फेरुला जेस्सेकेना (Ferula jaeschkeana) पश्चिमी हिमालय (चंबा, हिमाचल प्रदेश) में और फेरुला नार्थेक्स (Ferula narthex) कश्मीर एवं लद्दाख में पायी जाती हैं, जोकि असाफोटिडा (हींग) पैदा करने वाली प्रजातियां नहीं हैं।

सामयिक खबरें अंतर्राष्ट्रीय

'द ह्यूमन कॉस्ट ऑफ डिजास्टर्स 2000-2019' रिपोर्ट


आपदा जोखिम न्यूनीकरण के लिए संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (UNDRR) द्वारा 12 अक्टूबर, 2020 को प्राकृतिक आपदा पर एक रिपोर्ट 'द ह्यूमन कॉस्ट ऑफ डिजास्टर्स 2000-2019' (The Human Cost of Disasters 2000-2019) जारी की गई।

महत्वपूर्ण तथ्य: रिपोर्ट के अनुसार पिछले 20 वर्षों में प्राकृतिक आपदाओं के करीब दोगुना होने के पीछे जलवायु परिवर्तन काफी हद तक जिम्मेदार है।

  • वर्ष 2000 और 2019 के बीच 7,348 प्रमुख आपदा घटनाएं घटीं, जिनमें 1.23 मिलियन लोंगों की जानें गई तथा 4.2 बिलियन लोग प्रभावित हुए और वैश्विक अर्थव्यवस्था को लगभग 2.97 ट्रिलियन डॉलर का नुकसान हुआ।
  • इस आंकड़े ने 1980 और 1999 के बीच दर्ज की गई 4,212 प्रमुख प्राकृतिक आपदाओं को पीछे छोड़ दिया है।
  • पिछले बीस वर्षों में बाढ़ की घटनाएं 1,389 से बढ़कर 3,254 हो गई हैं, जबकि तूफान की घटनाओं में 1,457 से 2,034 की वृद्धि हुई है।
  • एशिया में सबसे अधिक आपदा की घटनाओं का सामना करना पड़ा। कुल मिलाकर, 2000 और 2019 के बीच, एशिया में 3,068 आपदा घटनाएं हुईं।
  • वैश्विक रूप से प्रभावित देशों के संदर्भ में, चीन (577) और यूएसए (467) में सबसे अधिक आपदा की घटनाएं हुईं, जबकि भारत में 321 आपदा घटनाएं हुईं।
  • पिछले 20 वर्षों में सबसे घातक एक आपदा 2004 हिंद महासागर सुनामी थी, जिसमें 226,400 लोग मारे गए थे।

सामयिक खबरें अंतर्राष्ट्रीय

वैश्विक भुखमरी सूचकांक 2020


16 अक्टूबर, 2020 को आयरलैंड स्थित एक एजेंसी ‘कंसर्न वर्ल्डवाइड’ (Concern Worldwide) और जर्मनी के एक संगठन ‘वेल्ट हंगर हिल्फे’ (Welt Hunger Hilfe) द्वारा संयुक्त रूप से तैयार ‘वैश्विक भुखमरी सूचकांक 2020’ रिपोर्ट जारी की गई।

महत्वपूर्ण तथ्य: 107 देशों में चीन, बेलारूस, यूक्रेन, तुर्की, क्यूबा और कुवैत सहित सत्रह देशों ने सूचकांक में 5 से कम के स्कोर के साथ शीर्ष रैंक (1-17 रैंक) को साझा किया। चाड 107वें स्थान पर है।

  • दुनिया भर में भुखमरी की स्थिति ‘मध्यम’ स्तर पर है। तीन देश चाड, तिमोर-लेस्ते और मेडागास्कर भुखमरी के ‘खतरनाक स्तर’ (alarming levels) पर हैं।
  • सूचकांक अल्पपोषण (undernourishment), चाइल्ड वेस्टिंग (child wasting), चाइल्ड स्टंटिंग (child stunting), बाल मृत्यु दर (child mortality rates) पर आधारित है।
  • 0 से 100 तक के पैमाने पर भुखमरी का निर्धारण किया जाता है, जहां 0 सबसे अच्छा स्कोर (भूख नहीं) है और 100 सबसे खराब है।

भारत की स्थिति: भारत सूचकांक में 94वें स्थान पर है और 27.2 के स्कोर के साथ 'गंभीर' भूख' (serious hunger) श्रेणी में है। 2019 में भारत की रैंक 117 देशों में से 102 थी, जबकि वर्ष 2018 में भारत की रैंक 103 थी।

  • सूचकांक में भारत श्रीलंका (64), इंडोनेशिया (70), नेपाल (73), बांग्लादेश (75), म्यांमार (78) पाकिस्तान (88) से पीछे है।
  • भारत की 14% आबादी अल्पपोषित (अपर्याप्त कैलोरी लेने की मात्रा) है। देश में 34.7% बच्चों की स्टंटिंग दर (5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में उम्र की तुलना में कम हाइट) दर्ज की गई।
  • भारत में ‘बाल मृत्यु’ (Child Mortality) दर 3.7% है। जबकि बच्चों की ‘वेस्टिंग’ दर (5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में हाइट की तुलना में कम वजन) 17.3% रही।

सामयिक खबरें विज्ञान-पर्यावरण

पारिस्थितिक तंत्र सेवाओं का आर्थिक मूल्यांकन


पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री, प्रकाश जावड़ेकर ने 5 अक्टूबर, 2020 को केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण-टेरी (CZA-TERI) की एक रिपोर्ट ‘पारिस्थितिक तंत्र सेवाओं का आर्थिक मूल्यांकन, राष्ट्रीय प्राणी उद्यान- नई दिल्ली’ जारी की।

महत्वपूर्ण तथ्य: यह भारत ही नहीं शायद पूरी दुनिया में अपनी तरह का पहला अध्ययन है। रिपोर्ट के अनुसार राष्ट्रीय प्राणी उद्यान द्वारा प्रदान पारिस्थितिक तंत्र सेवाओं का कुल वार्षिक आर्थिक मूल्य 422.76 करोड़ रुपए होने का अनुमान है।

  • ये 'पारिस्थितिक तंत्र सेवाएं' जैव विविधता संरक्षण, रोजगार सृजन, शिक्षा और अनुसंधान, कार्बन प्रच्छादन (carbon sequestration) और मनोरंजन और सांस्कृतिक योगदान जैसे प्रमुख हैं।
  • जबकि कार्बन भंडारण और भूमि मूल्य जैसी पारिस्थितिक तंत्र सेवाओं की एकमुश्त लागत का कुल मूल्य 55209.45 करोड़ रुपए होने का अनुमान है।

टीईईबी (The Economics of Ecosystems and Biodiversity-TEEB): पारिस्थितिक तंत्र और जैव विविधता का अर्थशास्त्र (टीईईबी) एक वैश्विक पहल है, जो 'प्रकृति के मूल्यों को दृश्यमान बनाने' पर केंद्रित है। इसके अनुसार,पारिस्थितिक तंत्र सेवाओं को चार प्रकारों में वर्गीकृत किया जा सकता है।

  • प्रावधानीकरण सेवाएं (Provisioning services) - पारिस्थितिक तंत्र से प्राप्त उत्पाद जैसे कि भोजन, ताजा पानी, लकड़ी, फाइबर आदि।
  • विनियमित सेवाएं (Regulating services) - पारिस्थितिक तंत्र के नियमन से प्राप्त लाभ जैसे- जलवायु विनियमन, प्राकृतिक खतरों का विनियमन, जल शोधन और अपशिष्ट प्रबंधन आदि।
  • सहायक सेवाएं (Supporting services) - पारिस्थितिक तंत्र से प्राप्त गैर-भौतिक लाभ शामिल हैं। जैसे- पोषक तत्व चक्रण, मृदा निर्माण आदि।
  • सांस्कृतिक सेवाएं (Cultural services) - इसमें ऐसे गैर-भौतिक लाभ शामिल हैं, जो लोग पारिस्थितिक तंत्र से प्राप्त करते हैं। जैसे- आध्यात्मिक संवर्धन, बौद्धिक विकास, मनोरंजक गतिविधियां आदि।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप निधन

अक्कीतम अच्युतन नंबूथिरी


जाने-माने मलयालम कवि और ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता साहित्यकार महाकवि अक्कीतम अच्युतन नंबूथिरी का 15 अक्टूबर, 2020 को केरल के त्रिशूर में निधन हो गया। वे 94 वर्ष के थे।

  • उन्हें 55वें ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था, जो देश का सर्वोच्च साहित्यिक पुरस्कार है। उनकी कुछ प्रमुख कृतियों में 'निमिषाक्षेत्रम’, ‘बालिदर्शनम’, तथा ‘अमृता घटिका’ आदि प्रमुख हैं।

सामयिक खबरें खेल फुटबॉल

एआईएफएफ पुरस्कार 2019-20


25 सितंबर, 2020 को अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) के 2019-20 के पुरस्कार विजेताओं की घोषणा की गई।

  • भारतीय राष्ट्रीय फुटबॉल टीम के गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू को ‘एआईएफएफ पुरुष फुटबॉलर ऑफ द इयर’ चुना गया है। गुरप्रीत यह पुरस्कार जीतने वाले दूसरे गोलकीपर हैं। इससे पूर्व सुब्रत पॉल को यह पुरस्कार वर्ष 2009 में प्रदान किया गया था।
  • राष्ट्रीय महिला टीम की मिडफील्डर संजू को ‘एआईएफएफ महिला प्लेयर ऑफ द इयर’ चुना गया है।

अन्य पुरस्कार-

  • एआईएफएफ पुरुष उदीयमान फुटबॉलर ऑफ द इयर -- अनिरुद्ध थापा
  • एआईएफएफ महिला उदीयमन फुटबॉलर ऑफ द इयर -- रतन बाला देवी
  • सर्वश्रेष्ठ सहायक रेफरी के लिए एआईएफएफ पुरस्कार -- पी.वैरामुथू (तमिलनाडु)
  • सर्वश्रेष्ठ रेफरी के लिए एआईएफएफ पुरस्कार -- एल. अजीत कुमार मीतेई (मणिपुर)
  • सर्वश्रेष्ठ जमीनी स्तर विकास कार्यक्रम के लिए एआईएफएफ पुरस्कार -- पश्चिम बंगाल

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

राष्ट्रीय जहाज पुनर्चक्रण प्राधिकरण


केंद्र सरकार द्वारा 15 अक्टूबर, 2020 को नौवहन महानिदेशालय (Directorate General of Shipping) को राष्ट्रीय जहाज पुनर्चक्रण प्राधिकरण (National Authority for Recycling of Ships) के रूप में अधिसूचित किया गया है।

महत्वपूर्ण तथ्य: इस अधिसूचना को ‘जहाजों के पुनर्चक्रण अधिनियम 2019’ (Recycling of Ships Act 2019) की धारा 3 के तहत जारी किया गया है।

नौवहन महानिदेशक के कार्य: यह, शीर्ष निकाय के रूप में, जहाजों के पुनर्चक्रण से संबंधित सभी गतिविधियों का प्रबंधन, पर्यवेक्षण और निगरानी करने के लिए अधिकृत है।

  • यह जहाज पुनर्चक्रण उद्योग के सतत विकास के लिए देखभाल, पर्यावरण के अनुकूल मानदंडों के अनुपालन की निगरानी और जहाज पुनर्चक्रण उद्योग में काम करने वाले हितधारकों के लिए सुरक्षा और स्वास्थ्य उपायों की निगरानी करेगा।
  • राज्य सरकारों और जहाज-रीसाइक्लिंग यार्ड-मालिकों द्वारा आवश्यक विभिन्न अनुमोदन के लिए नौवहन महानिदेशक (DG Shipping) अंतिम प्राधिकरण होगा।
  • भारत सरकार ने जहाजों का पुनर्चक्रण विधेयक, 2019 के तहत अंतरराष्ट्रीय समुद्री संगठन (International Maritime Organization- IMO) के अधीन जहाज पुनर्चक्रण हेतु हांगकांग अभिसमय में सम्मिलित होने के प्रस्ताव को मंजूरी दी है।
  • राष्ट्रीय जहाज पुनर्चक्रण प्राधिकरण का कार्यालय गांधीनगर, गुजरात में स्थापित किया जाएगा।

पीआईबी न्यूज विज्ञान और तकनीक

नगर निगम ठोस अपशिष्ट सतत प्रसंस्‍करण सुविधा


अक्टूबर 2020 में केन्द्रीय यांत्रिक अभियांत्रिकी अनुसंधान संस्थान (सीएसआईआर-सीएमईआरआई), दुर्गापुर ने नगर निगम के ठोस अपशिष्ट सतत प्रसंस्करण सुविधा (Sustainable Municipal Solid Waste Processing Facility) विकसित की है।

महत्वपूर्ण तथ्य: संस्थान ने ठोस अपशिष्ट निस्तारण प्रक्रिया को प्लाज्मा आर्क (Plasma Arc) का इस्तेमाल करके विकसित किया है, जिसमें कचरे को बेहतर निस्तारण के लिए प्लाज्मा अवस्था में बदला जाता है।

  • इस प्रकार से सृजित उत्पाद में कार्बन के बेहतर तत्व होते हैं, जिनका इस्तेमाल कृषि क्षेत्र में उर्वरक और निर्माण क्षेत्र में ईंट बनाने में किया जा सकता है। अत: यह तकनीक विज्ञान का प्रयोग कर कचरे से संपदा का सृजन करने में मददगार साबित हो रही है।
  • इस मौजूदा कम्पोस्टिंग प्रक्रिया में कुछ कमियां भी हैं, क्योंकि इसके लिए अधिक भूमि और प्रभावी कीटाणुशोधन के लिए पाश्चुरीकरण की आवश्यकता होती है। इसमें अत्यधिक श्रमबल की आवश्यकता होती है और भारी धातुओं की उपस्थिति के कारण इसका उपयोग प्रतिबंधित है।
  • बारिश के मौसम में नमी की अधिकता के कारण इसका प्रबंधन कठिन होता है और इसका एक वैकल्पिक समाधान जैव मिथेनशन संयंत्र (Bio-methanation Plant) है।
  • ठोस अपशिष्ट प्रसंस्करण सुविधा ने न केवल ठोस अपशिष्टों के विकेंद्रीकृत विघटन में मदद की है, बल्कि विघटन की यह तकनीक बहुत ही कम प्रदूषण कारक है।

सामयिक खबरें आर्थिकी

विश्व आर्थिक परिदृश्य अक्टूबर 2020


अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) द्वारा 13 अक्टूबर, 2020 को विश्व आर्थिक परिदृश्य (World Economic outlook) अक्टूबर 2020 रिपोर्ट जारी की गई।

रिपोर्ट का शीर्षक: 'ए लॉन्ग एंड डिफिकल्ट एसेंट'(A Long and Difficult Ascent)

महत्वपूर्ण तथ्य: रिपोर्ट के अनुसार कोरोनोवायरस महामारी के प्रभाव के कारण, भारतीय अर्थव्यवस्था के 2020 में -10.3% (यानी, एक संकुचन) से बढ़ने का अनुमान है। इस वर्ष के लिए वैश्विक वृद्धि दर -4.4% (उत्पादन में 4.4% का संकुचन) होने का अनुमान है।

  • आईएमएफ द्वारा भारत के लिए 2020 के लिए वर्तमान अनुमान में इसके जून 2020 के अनुमान से -5.8% अंकों की गिरावट है।

  • 2021 में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 8.8% तक होने का अनुमान है, जो जून 2020 के अनुमान के सापेक्ष 2.8% अंक अधिक है।
  • अमेरिकी अर्थव्यवस्था में इस वर्ष -4.3% (संकुचन) से बढ़ने और अगले साल 3.1% वृद्धि का अनुमान है। चीन की अर्थव्यवस्था में इस वर्ष 1.9% और अगले साल 8.2% की वृद्धि का अनुमान है।

सामयिक खबरें आर्थिकी

'बंगलौर रोज' प्याज के निर्यात की अनुमति


9 अक्टूबर, 2020 को केंद्र सरकार ने प्याज के निर्यात पर पाबंदी में ढील देते हुए 'बंगलौर रोज' प्याज (Bangalore Rose Onions) और 'कृष्णापुरम' प्याज की किस्म के निर्यात करने की अनुमति दे दी है।

महत्वपूर्ण तथ्य: ज्ञात हो कि घरेलू बाजार में प्याज की आपूर्ति सुनिश्चित करने के उद्देश्य से प्याज के निर्यात पर 14 सितंबर को पूरी तरह पाबंदी लगा दी गयी थी।

  • कर्नाटक के किसानों के आग्रह पर 31 मार्च, 2021 तक बंगलौर रोज और कृष्णापुरम प्याज के प्रत्येक के 10,000 टन तक के निर्यात की अनुमति दी गई है। इसका निर्यात केवल चेन्नई बंदरगाह से किया जा सकेगा।
  • बंगलौर रोज प्याज के निर्यातकों को कर्नाटक सरकार और कृष्णापुरम प्याज के निर्यातकों को आंध्र प्रदेश सरकार से प्रमाणपत्र लेना होगा।

बंगलौर रोज प्याज: प्याज की इस किस्म के आकार और तीखेपन के कारण घरेलू बाजार में कोई मांग नहीं है। इस किस्म की दक्षिण पूर्व एशियाई देशों जैसे मलेशिया, सिंगापुर, थाईलैंड और ताइवान में मांग है, जहां इसका उपयोग चटनी, अचार बनाने और निर्जलित पाउडर के रूप में किया जाता है।

  • 2014-15 में भौगोलिक संकेतक टैग हासिल करने वाली इस किस्म को कर्नाटक में 10,000 हेक्टेयर भूमि में उगाया जाता है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

सीडीआरआई पुरस्कार 2020


29 सितंबर, 2020 को केंद्रीय औषधि अनुसंधान संस्थान (सीएसआईआर-सीडीआरआई), लखनऊ ने युवा शोधकर्ताओं को दवाओं की खोज और उसके विकास में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए सीडीआरआई पुरस्कार 2020 से सम्मानित किया।

  • डॉ. बुशरा अतीक, डॉ. सुरजीत घोष और डॉ. रवि मंजीथ्या को प्रतिष्ठित सीडीआरआई पुरस्कार, 2020 दिया गया।
  • देश में वैज्ञानिक उत्कृष्टता को बढ़ावा देने और औषधि अनुसंधान एवं विकास के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान को मान्यता देने के लिए सीडीआरआई पुरस्कार की स्थापना 2004 में की गई थी। ये प्रतिष्ठित पुरस्कार, 45 वर्ष से कम आयु के भारतीय नागरिकों को दिए जाते हैं।

डॉ. बुशरा अतीक: आईआईटी, कानपुर के जैविक विज्ञान एवं बायो इंजीनियरिंग विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर बुशरा को ‘प्रोस्टेट कैंसर के लिए नए चिकित्सीय उपायों की खोज’ के लिए पुरस्कार दिया गया।

डॉ. सुरजीत घोष: आईआईटी, जोधपुर में जैविक विज्ञान एवं बायो इंजीनियरिंग विभाग में प्रोफेसर सुरजीत को ‘कैंसर-प्रतिरोधक दवा के लिए परमाणु स्थानीयकरण सेल पेनेट्रेटिंग पेप्टाइड (Cell Penetrating Peptide -CPP) की खोज’ के लिए पुरस्कार दिया गया।

डॉ. रवि मंजीथ्या: जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस साइंटिफिक रिसर्च, बैंगलोर में एसोसिएट प्रोफेसर रवि को रासायनिक आनुवांशिता पर आधारित ऑटोफैगी मॉडयूलेटिंग (autophagy-modulating) छोटे अणुओं की पहचान हेतु पुरस्कार दिया गया।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप समझौते/संधि

‘डीकार्बोनाइजेशन एंड एनर्जी ट्रांजिशन एजेंडा’ समझौता


नीति आयोग और नई दिल्ली स्थित नीदरलैंड्स के दूतावास ने 28, सितंबर 2020 को स्वच्छ और अधिक ऊर्जा को समायोजित करने को समर्थन देने हेतु ‘डीकार्बोनाइजेशन एंड एनर्जी ट्रांजिशन एजेंडा’

(Decarbonization and Energy Transition Agenda) समझौते पर हस्ताक्षर किए।

उद्देश्य: दोनों संस्थाओं की विशेषज्ञता का लाभ उठाते हुए नवीन तकनीकी उपायों का सह-निर्माण करना।

प्रमुख तत्व: उद्देश्य को ज्ञान और सहयोगी गतिविधियों के आदान-प्रदान के माध्यम से प्राप्त किया जाएगा। इसके प्रमुख तत्व हैं- औद्योगिक और परिवहन क्षेत्रों में शुद्ध कार्बन फुटप्रिंट को कम करना; प्राकृतिक गैस की लक्ष्य क्षमता को समझना और जैव-ऊर्जा प्रौद्योगिकियों को बढ़ावा देना;

  • निगरानी के जरिए वास्तविक कणों (actual particulates को कम करने के लिए स्वच्छ प्रौद्योगिकियों को अपनाना; हाइड्रोजन, कार्बन कैप्चर उपयोग और क्षेत्रीय ऊर्जा दक्षता के लिए भंडारण के जरिए भावी पीढ़ी की तकनीकों को अपनाना।
  • नीदरलैंड भारत का छठा सबसे बड़ा यूरोपीय संघ व्यापार साझेदार है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

अंतरराष्‍ट्रीय गरीबी उन्‍मूलन दिवस


17 अक्टूबर

2020 का विषय: 'सभी के लिए सामाजिक और पर्यावरणीय न्याय प्राप्त करने के लिए एक साथ कार्य करना' (Acting together to achieve social and environmental justice for all)

महत्वपूर्ण तथ्य: यह दिवस गरीबी में रह रहे लोगों के संघर्ष को जानने-समझने और उनकी कठिनाइयों को दूर करने के प्रयासों का मौका देता है। संयुक्त राष्ट्र महासभा ने गरीबी उन्मूलन के लिए तीसरे संयुक्त राष्ट्र दशक ((2018-2027) की घोषणा की है।

सामयिक खबरें राज्य आंध्र प्रदेश

आंध्र प्रदेश में ‘ऋतु भरोसा केंद्रलु’ का शुभारंभ


30 सितंबर, 2020 को केंद्रीय रसायन और उवर्रक मंत्री डी.वी. सदानंद गौड़ा ने आंध्र प्रदेश में किसानों के लिए उर्वरकों की उपलब्धता आसान बनाने हेतु प्वाइंट ऑफ सेल (पीओएस) सॉफ्टवेयर के नए संस्करण 3.1, एसएमएस सेवा और घर पर उर्वरक उपलब्ध कराने हेतु ‘ऋतु भरोसा केंद्रलु’ (आरबीके) का शुभारंभ किया।

  • ऋतु भरोसा केंद्रलु (आरबीके) पहल आंध्र प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की गई है। इस पहल के तहत राज्य सरकार ने सभी ग्राम पंचायतों में 10,641 केंद्र शुरू किए हैं।
  • इस प्रणाली के तहत बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण के बाद किसान अपने गांव में ऐसे किसी भी केंद्र पर उर्वरकों की खरीद का ऑर्डर दे सकते हैं। इस ऑर्डर के आधार पर उर्वरक उनके घर तक पहुंचाया जाएगा।
  • पीओएस 3.1 संस्करण के तहत संपर्क रहित ओटीपी आधारित प्रमाणीकरण का विकल्प पेश किया गया है।
  • उर्वरक विभाग की ओर से प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (डीबीटी) प्रणाली की शुरुआत देशभर में 1 मार्च, 2018 को गई थी।

सामयिक खबरें बैंकिंग, फाइनेंस, सेवा और बीमा

एचडीएफसी बैंक और अपोलो हॉस्पिटल्स का 'हेल्दीलाइफ कार्यक्रम'


कोविड -19 महामारी के बीच, एचडीएफसी बैंक और अपोलो हॉस्पिटल्स ने अक्टूबर 2020 में एक सस्ता स्वास्थ्य समाधान 'हेल्दीलाइफ कार्यक्रम' (HealthyLife programme) लॉन्च किया है।

  • यह एचडीएफसी बैंक के ग्राहकों को अपोलो के डिजिटल प्लेटफॉर्म पर कहीं से भी सुलभ होगा।
  • हेल्दीलाइफ कार्यक्रम के तहत 'अपोलो 24/7' पर बिना किसी खर्च के आपातकालीन अपोलो चिकित्सक चौबीस घंटे उपलब्ध होंगे। इसमें अन्य सुविधाएं 'भुगतान के विकल्प का चयन' और 'उपचार के लिए वित्त की सुलभता' भी शामिल हैं।

पीआईबी न्यूज आर्थिक

जोजिला सुरंग


केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने 15 अक्टूबर को 14.15 किमी. लंबी जोजिला सुरंग, में निर्माण संबंधी कार्य के लिए पहला ब्लास्टिंग (विस्फोटकों के साथ किसी चीज को फोड़ना या तोड़ना) शुरू किया। यह एशिया की सबसे लंबी (द्वि-दिशात्मक) सुरंग होगी।

महत्वपूर्ण तथ्य: राष्ट्रीय राजमार्ग-1 पर बनने वाली इस सुरंग से श्रीनगर घाटी और लेह के बीच (लद्दाख पठार में) सभी मौसम में निर्बाध संपर्क सुनिश्चित होगा। सुरंग का निर्माण लगभग 3000 मीटर की ऊंचाई पर जोजिला दर्रे के नीचे किया जाएगा।

  • इस परियोजना की परिकल्पना सबसे पहले 2005 में की गई थी।

विशेषताएं: परियोजना की कुल लंबाई 32.78 किमी.; जोजिला सुरंग की लंबाई 14.15 किमी. और संपर्क मार्ग की लंबाई 18.63 किमी.। जोजिला सुरंग की निर्माण अवधि 6 वर्ष और संपर्क मार्ग की निर्माण अवधि 2.5 वर्ष। एकीकृत परियोजना की कुल पूंजी लागत 6808.63 करोड़ रुपये।

सुरंग की सुरक्षा विशेषताएं: मार्ग के दोनों ओर प्रत्येक 750 मीटर पर आपातकालीन स्थिति में ठहरने के लिए सुरक्षित स्थान; सभी वाहन चालकों के पास मैनुअल फायर अलार्म और पोर्टेबल आग बुझाने का यंत्र; प्रकाश की व्यवस्था; वीडियो निगरानी व्यवस्था तथा आपातकालीन टेलीफोन बूथ।

महत्व: श्रीनगर, द्रास, कारगिल और लेह क्षेत्र में सभी मौसम में सुरक्षित संपर्क सुनिश्चित; केंद्र-शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर और लद्दाख में आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा; एनएच-1 के श्रीनगर-कारगिल-लेह खंड पर हिमस्खलन से मुक्त यात्रा; तथा यात्रा में लगने वाला समय 3 घंटे से घटकर मात्र 15 मिनट।

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

खाद्य एंव कृषि संगठन की 75वीं वर्षगांठ


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खाद्य एंव कृषि संगठन (एफएओ) की 75वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में 15 अक्टूबर, 75 रुपये का स्मारक सिक्का जारी किया तथा हाल ही में विकसित 8 फसलों की 17 जैव- संवर्धित किस्में भी राष्ट्र को समर्पित की।

भारत और एफएओ: भारत का एफएओ के साथ ऐतिहासिक संबंध रहा है। भारतीय सिविल सेवा के अधिकारी डॉ बिनय रंजन सेन 1956-1967 के दौरान एफएओ के महानिदेशक थे। 2020 में नोबेल शांति पुरस्कार विजेता ‘विश्व खाद्य कार्यक्रम’ की स्थापना उनके समय (1961) में ही की गई थी।

  • वर्ष 2016 को अंतरराष्ट्रीय दलहन वर्ष और 2023 को अंतरराष्ट्रीय बाजरा वर्ष घोषित किए जाने के भारत के प्रस्तावों को भी एफएओ द्वारा समर्थन दिया गया।

कुपोषण की समस्या से निबटने के प्रयास: भारत ने 10 करोड़ से अधिक लोगों को लक्षित करते हुए एक महत्वाकांक्षी पोषण अभियान शुरू किया है, जिसका उद्देश्य शारीरिक विकास में बाधा, कुपोषण, एनीमिया और जन्म के समय कम वजन जैसी समस्या से निजात पाना है।

  • भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के नेतृत्व में राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रणाली के तहत पिछले पांच वर्षों के दौरान पोषक तत्वों से समृद्ध फसलों की 53 किस्मों का विकास किया गया है।

सामयिक खबरें अंतर्राष्ट्रीय

भारत म्यांमार को सौंपेगा सिंधुवीर पनडुब्बी


विदेश मंत्रालय ने 15 अक्टूबर, 2020 को घोषणा की कि भारत 'किलो क्लास पनडुब्बी' (Kilo class submarine) आईएनएस सिंधुवीर को म्यांमार नौसेना को सौंपेगा। यह म्यांमार नौसेना की पहली पनडुब्बी होगी।

महत्वपूर्ण तथ्य: यह भारत की 'क्षेत्र में सभी के लिए सुरक्षा और विकास- सागर' (Security and Growth for All in the Region- SAGAR) की दृष्टि के अनुसार और भारत के सभी पड़ोसी देशों में क्षमता और आत्मनिर्भरता का निर्माण करने की प्रतिबद्धता के अनुरूप है।

  • 1980 के दशक में सोवियत संघ से खरीदी गई पनडुब्बी का विशाखापत्तनम में हिंदुस्तान शिपयार्ड लिमिटेड (HSL) में आधुनिकीकरण किया गया है।
  • सिंधुवीर 1988 में भारतीय नौसेना में शामिल हुआ। आईएनएस सिंधुवीर (S58) भारतीय नौसेना की एक 'सिंधुघोष श्रेणी' की किलो-क्लास डीजल-इलेक्ट्रिक पनडुब्बी है।
  • पनडुब्बी में 3,000 टन भार के विस्थापन, अधिकतम 300 मीटर की गहराई तक जाने तथा 18 समुद्री मील की गति क्षमता है। सिंधुघोष श्रेणी की पनडुब्बियां 53 प्रशिक्षित चालक दल के साथ 45 दिनों तक निरंतर संचालन में सक्षम हैं।
  • 2019 में भारत ने एक रक्षा सौदे के हिस्से के रूप में म्यांमार को एक उन्नत टारपीडो 'शायना' की आपूर्ति की थी।
  • भारत और म्यांमार उत्तर-पूर्वी राज्यों अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर, और मिजोरम के सहारे 1,643 किमी. की स्थलीय सीमा साझा करते हैं।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित स्थल

होलोंगी में किया जाएगा एक ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे का निर्माण


12 अक्टूबर, 2020 को भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण ने कहा कि वह अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर से 15 किमी. दूर होलोंगी में एक ग्रीनफील्ड हवाई अड्डा विकसित करेगा, जो नवंबर 2022 तक पूरा हो जाएगा।

  • 650 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत के साथ, नया घरेलू हवाई अड्डा, 4,100 वर्ग मीटर क्षेत्र का होगा, जिसकी पीक आवर्स (peak hours) के दौरान 200 यात्रियों की क्षमता है।
  • टर्मिनल वर्षा जल संचयन प्रणाली और स्थायी परिदृश्य के साथ प्रावधानित एक ऊर्जा-दक्ष भवन होगा।
  • वर्तमान में, अरुणाचल में दो तेजू और पासीघाट छोटे हवाई अड्डे हैं।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप निधन

भारत की पहली ऑस्कर विजेता भानु अथैया का निधन


भारत के लिए पहला ऑस्कर अवार्ड जीतने वाली कॉस्ट्यूम डिजाइनर भानु अथैया का 15 अक्टूबर, 2020 को मुंबई में निधन हो गया। वे 91 वर्ष की थीं।

  • उन्होंने 1983 में निर्देशक रिचर्ड एटनबरो की फिल्म 'गांधी' के लिए जॉन मोल्लो के साथ संयुक्त रूप से सर्वश्रेष्ठ कॉस्ट्यूम डिजाइन के लिए अकादमी पुरस्कार जीता।
  • उन्होंने हिंदी सिनेमा में अपने करियर की शुरुआत गुरु दत्त की 1956 की सुपरहिट फिल्म 'सी.आई.डी.' के साथ एक कॉस्ट्यूम डिजाइनर के रूप में की। उन्होंने 100 से अधिक फिल्मों में काम किया।
  • 2012 में, अथैया ने अपने ऑस्कर अवार्ड को सुरक्षित रखने के लिए इसे मोशन पिक्चर आर्ट्स एंड साइंसेज अकादमी को वापस कर दिया था।
  • पांच दशकों से अधिक के करियर में, अथैया ने गुलजार की फिल्म 'लेकिन' (1990) और आशुतोष गोवारिकर द्वारा निर्देशित फिल्म 'लगान' (2001) के लिए दो राष्ट्रीय पुरस्कार जीते थे।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

सैंड्रा नीस लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड


भारतीय मूल के परोपकारी हरीश कोटेचा को बेघर बच्चों और युवाओं की जरूरतों को पूरा करने के लिए अमेरिका में उनके काम की मान्यता में प्रतिष्ठित 'सैंड्रा नीस लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड' से सम्मानित किया गया है।

  • 9 अक्टूबर, 2020 को अपने 32वें वार्षिक सम्मेलन में नेशनल एसोसिएशन फॉर द एजुकेशन ऑफ होमलेस चिल्ड्रन एंड यूथ (NAEHCY) की ओर से यह अवार्ड अमेरिका ‘हिंदू चैरिटीज फॉर अमेरिका’ (HC4A) के संस्थापक और अध्यक्ष, कोटेचा को प्रदान किया गया।
  • सैंड्रा नीस लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड उन लोगों को हर साल दिया जाता है, जिन्होंने अथक परिश्रम करके बच्चों के लिए सुरक्षा और आश्रय सुनिश्चित करने के लिए काम किया हो।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप विविध

एनएसजी का 36वां स्‍थापना दिवस


16 अक्टूबर, 2020 को राष्ट्रीय सुरक्षा गारद (National Security Guard- NSG) का 36वां स्थापना दिवस मनाया गया।

  • NSG, जिसे 'ब्लैक कैट' कमांडो के रूप में भी जाना जाता है, को 1984 में एक संघीय आकस्मिक बल के रूप में स्थापित किया गया था। यह औपचारिक रूप से 1986 में अस्तित्व में आया।
  • आतंकवाद निरोधक गतिविधियों और अपहरण विरोधी क्रिया कलापों में इसके जवान केंद्रीय अर्धसैनिक बलों का सहयोग करते हैं। विशेष परिस्थितियों से निपटने के लिए इस बल का उपयोग किया जाता है।
  • इसमें 'क्लोज प्रोटेक्शन फोर्स' (Close Protection Force- CPF) नामक एक विशेष घटक है, जो शीर्ष श्रेणी Z + कवर के तहत उच्च जोखिम वाले वीआईपी को सुरक्षा प्रदान करता है। श्रीनगर में, एनएसजी ने कोड नेम 'ऑपरेशन ट्यूलिप' से एक केंद्र की स्थापना की है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप विविध

आसियान पीएचडी फैलोशिप कार्यक्रम


शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने 16 अक्टूबर, 2020 को ‘आसियान पीएचडी फैलोशिप कार्यक्रम (एपीएफपी) के प्रथम बैच के छात्रों को संबोधित किया।

  • आसियान पीएचडी फैलोशिप कार्यक्रम की घोषणा 25 जनवरी, 2018 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सभी दस आसियान सदस्य देशों के नेताओं की उपस्थिति में की गई थी।
  • एपीएफपी के तहत, विशेष रूप से आसियान नागरिकों को 1000 फैलोशिप प्रदान की जाएगी।
  • एपीएफपी विदेशी लाभार्थियों के लिए भारत सरकार द्वारा शुरू किया गया सबसे बड़ा क्षमता विकास कार्यक्रम है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

अंतरराष्ट्रीय ग्रामीण महिला दिवस


15 अक्टूबर

2020 का विषय: 'बिल्डिंग रुरल वुमेन'स रेजीलिएंस इन द वेक ऑफ कोविड-19' (Building rural women’s resilience in the wake of COVID-19)

महत्वपूर्ण तथ्य: यह दिवस कृषि और ग्रामीण विकास को बढ़ाने, खाद्य सुरक्षा में सुधार और ग्रामीण गरीबी को खत्म करने के लिए ग्रामीण महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका और योगदान को मान्यता देने के लिए मनाया जाता है। यह दिवस पहली बार 2008 में मनाया गया था।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व खाद्य दिवस


16 अक्टूबर

2020 का विषय: 'ग्रो, नरिश, सस्टेन, टुगैदर' (Grow, Nourish, Sustain, Together)

महत्वपूर्ण तथ्य: इसी दिन 1945 में संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन की स्थापना की गई थी। 1979 में पहली बार इसे 'भूख के खिलाफ कार्रवाई दिवस' के रूप में मनाया गया। 2 बिलियन से अधिक लोगों के पास सुरक्षित, पौष्टिक और पर्याप्त भोजन की नियमित पहुंच नहीं है।

सामयिक खबरें बैंकिंग, फाइनेंस, सेवा और बीमा

एलआईसी हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड का ‘प्रोजेक्ट रेड’


एलआईसी हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (LICHFL) ने 8 अक्टूबर, 2020 को संगठन के हर स्तर पर दक्षता में सुधार के लिए ‘प्रोजेक्ट रेड’ (Reimagining Excellence through Digital transformation) का शुभारंभ किया।

  • प्रोजेक्ट रेड का उद्देश्य संपूर्ण हितधारकों के बीच अपनी अहमियत बनाना है, जिसमें LICHFL के कर्मचारी, शेयरधारक, व्यावसायिक सहयोगी, मौजूदा और संभावित ग्राहक शामिल हैं।
  • 1989 में निगमित, LICHFL भारत की सबसे बड़ी आवास वित्त कंपनियों में से एक है। इसका मुख्यालय मुंबई में स्थित है।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय सांविधिक, विनियामक और अर्ध-न्यायिक निकाय

जहाज़ों के पुनर्चक्रण (रिसाइक्लिंग)के लिए राष्ट्रीय प्राधिकरण


  • 15 अक्टूबर, 2020 को केंद्र सरकार ने नौवहन महानिदेशालय (Directorate General of Shipping) को जहाज़ों का पुनर्चक्रण विधेयक, 2019 की धारा 3 के तहत राष्ट्रीय प्राधिकरण के रूप में अधिसूचित किया।

राष्ट्रीय जहाज़पुनर्चक्रण प्राधिकरण (National Authority for Recycling of Ships- NARS) के बारे में

  • राष्ट्रीय जहाज़पुनर्चक्रण प्राधिकरण को गुजरात के गांधीनगर में तैयार किया जाएगा।
  • राष्ट्रीय जहाज़पुनर्चक्रण प्राधिकरण के कार्यालय का स्थान वहां के आस-पास के जहाज़पुनर्चक्रण यार्ड के मालिकों को फ़ायदा पहुँचायेगा. दरअसल, गुजरात एशिया का सबसे बड़ा जहाज़ोंतोड़-फोड़ (खंडन) और दुनियाभर में जहाज़ों के रीसाइक्लिंग उद्योग का घर है।

कार्य

  • नौवहन महानिदेशालय को जहाज़ों के पुनर्चक्रण (रीसाइक्लिंग) से संबंधित सभी गतिविधियों का प्रबंधन, पर्यवेक्षण और निगरानी करने के लिएशीर्ष निकाय के रूप में अधिकृत किया गया है।
  • यह पुनर्चक्रण उद्योग के सतत विकास का देखभाल करेगा, पर्यावरण के अनुकूल मानदंडों के अनुपालन की निगरानी करेगा और जहाज़ों के रीसाइक्लिंग उद्योग में काम करने वाले हितधारकों के लिए सुरक्षा और स्वास्थ्य उपायों का ध्यान रखेगा।
  • शिप-रिसाइक्लिंग यार्ड के मालिकों और राज्य सरकारों द्वारा आवश्यक विभिन्न स्वीकृतियों(Various Approvals)के लिए यह अंतिम प्राधिकरण होगा।

जहाज़ों का पुनर्चक्रण विधेयक, 2019

  • 13 दिसंबर, 2019 को राष्ट्रपति सहमति प्राप्त हुई और जहाज़ों का पुनर्चक्रण विधेयक, 2019 एक अधिनियम बन गया।

प्रमुख विशेषताऐं

  • यह ख़तरनाक सामग्रियों के उपयोग या संस्थापनपर निषेध और प्रतिबंधन करता है,जो इस बात पर ध्यान दिए बिना लागू होता है कि प्रतिबंध जहाज़ों के रिसाइक्लिंग के लिए ज़रूरी है या नहीं।
  • ख़तरनाक सामग्रियों के उपयोग पर प्रतिबंध या निषेध सरकार द्वारा संचालित युद्धपोतों और ग़ैर-वाणिज्यिक जहाज़ों पर लागू नहीं होगा।
  • जहाज़ रीसाइक्लिंग सुविधाओं को मान्यताप्राप्त करने की आवश्यकता होती है और जहाज़ों को केवल ऐसे मान्यता प्राप्त जहाज़ रीसाइक्लिंग सुविधाओं में पुनर्नवीनीकरण किया जाएगा।
  • इस अधिनियम के अनुसार, जहाज़ों का पुनर्नवीनीकरण एक जहाज़-विशिष्ट रीसाइक्लिंग योजना के तहत किया जाएगा।
  • यह जहाज़ों के सुरक्षित और पर्यावरणीय दृष्टि से ख़तरनाक कचरे के निवारण और प्रबंधन को सुनिश्चित करने के लिए जहाज़ोंके पुनर्नवीनीकरण पर एक वैधानिक शुल्क लगाता है।

जहाज़ों के पुनर्चक्रण के लिए हांगकांग अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन

  • यह हांगकांग सम्मेलन (Hong Kong Convention- HKC) के रूप में भी जाना जाता है, इसे वर्ष 2009 के मई महीने में हांगकांग में आयोजित एक राजनयिक सम्मेलन में स्वीकृति मिलीथी।
  • जहाज़ों का पुनर्चक्रण विधेयक, 2019 के अनुसार, भारत नेअंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन (International Maritime Organization- IMO) के तहत जहाज़ों के पुनर्चक्रण के लिए हांगकांग अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में भाग लिया है।
  • नौवहन महानिदेशालय अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन में भारत का प्रतिनिधि है और नौवहन महानिदेशालय द्वारा अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन के सभी सम्मेलनों को लागू किया जा रहा है।

भारत में जहाज़ोंके पुनर्चक्रणउद्योग की स्थिति

  • दुनिया के सबसे बड़े जहाज़ों तोड़ने की सुविधाओं में से एक भारत में है,जिसकी तट के साथ दूरी 150 गज़ से अधिक है।
  • भारत में हर साल औसतन 6.2 मिलियन सकल टन भार (Gross tonnage- GT)के कतरन (स्क्रैप)इकट्ठे किए जातेहैं, जो दुनिया में कुल स्क्रैप का 33% है।

भारत में जहाज़ों के रीसाइक्लिंग उद्योग से जुड़े मुद्दे (चुनौतियाँ)

सुरक्षा के मुद्दे

  • अपर्याप्त सुरक्षा नियंत्रण काम के संचालन की अच्छी तरह निगरानी नहीं करते हैं और विस्फोट का उच्च जोख़िम इस काम को बेहद ख़तरनाक बनाता है।
  • काम की प्रक्रियाओं के लिए समन्वय की कमी, जिसके चलते अक्सर बुनियादी जोख़िम को कम करने या ख़त्म करने की अनदेखी हो जाती है और अंततः दुर्घटनाएं होती हैं।

स्वास्थ्य संबंधी समस्याएँ

  • जहाज़ों के कई हिस्सों में पाए जाने वाले अन्य भारी धातुओं के संपर्क में आने से कैंसर जैसे गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का परिणाम हो सकते हैं, जैसे पेंट, कोटिंग्स, एनोड और बिजली के उपकरण,इत्यादि।
  • श्रमिकों के पास स्वास्थ्य सेवाओं और अपर्याप्त आवास, कल्याण और सैनिटरी सुविधाओं तक बहुत सीमित पहुंच है जो श्रमिकों की दुर्दशा को और बढ़ा देते हैं।

अपशिष्ट प्रबंधन के मुद्दे

  • जहाज़ तोड़ने में उत्पन्न ठोस कचरों का प्रबंधन भारत में एक प्रमुख चिंता का विषय है।
  • हालाँकि किसी जहाज़ का अपशिष्ट जहाज़ के मृत वजन का लगभग 1% ही होते हैं, लेकिन कुल अपशिष्ट की मात्रा लाखों टन में होती है, जो कचरों को संभालना मुश्किल बना देती है, जिससे स्वास्थ्य और पर्यावरण दोनों के लिए एक बड़ा ख़तरा पैदा हो जाता है।

जल प्रदूषण

  • इससे जल निकाय, मुख्य रूप से समुद्री जलनिलंबित ठोस पदार्थ, नाइट्रेट, फॉस्फेट, भारी धातुओं, तेल और ग्रीससेप्रदूषित होता है।

वायु प्रदुषण

  • विभिन्न वायु प्रदूषकों जैसे कि फ़्यूरेंस (Furans) और पॉलीसाइक्लिक एरोमैटिक हाइड्रोकार्बन (Polycyclic Aromatic Hydrocarbons- PAHs), फाइन पार्टिकुलेट (Fine Particulates) को जहाज़ की तोड़ने की प्रक्रिया के दौरान निकलते हैं।
  • आगे चलकर विभिन्न जहाज़ तोड़ने की प्रक्रियाएं वायु प्रदूषण में बड़ा योगदान देतीहैं।

आगे का रास्ता

  • वर्तमान उच्च मानव और पर्यावरणीय लागतों को देखते हुए, यह संभावना है कि जहाज़ के मालिक और ब्रेकर, राज्य तंत्र और अंतर्राष्ट्रीय कानून को अंतराल को भरने के लिए प्रत्येक को अपने सहयोग को विकसित करने और बढ़ाने के लिए ज़ारी रखने की आवश्यकता होगी।
  • जहाज मालिकों को अपने जहाजों के पुनर्चक्रण के साथ ही साथ एक स्थायी सामाजिक और पारिस्थितिक जिम्मेदारी को शामिल करने की आवश्यकता है।
  • अनुपालन सुविधाओं की एक अच्छी तरह से संतुलित वैश्विक सूची केवल तभी बनी रह सकती है जब जहाजों के पुनर्चक्रण का एक अच्छा और निरंतर प्रवाह बना रहे।
  • स्थिरता के मुद्दों की पृष्ठभूमि के साथ, इस उद्योग में भारत में प्रमुख आर्थिक गतिविधि होने की संभावना है।

पीआईबी न्यूज आर्थिक

गुड्स-शेड के विकास पर नीति


रेल मंत्रालय ने 15 अक्टूबर, 2020 को निजी निवेश के माध्यम से छोटे/सड़क के किनारे स्टेशनों पर गुड्स-शेड के विकास पर नीति (Policy on Development of Goods-sheds) जारी की।

मुख्य विशेषताएं: निजी व्यवसाइयों को सामान लदान के स्थान, सामान चढ़ाने /उतारने की सुविधाओं, मजदूरों के लिए सुविधाएं (छाया के साथ आराम की जगह, पीने का पानी, स्नान की सुविधा आदि) सम्पर्क सड़क, और अन्य संबंधित बुनियादी ढांचे को विकसित करने की अनुमति दी गई।

  • सभी विकास कार्य रेलवे के स्वीकृत डिजाइनों के अनुसार होंगे और स्वीकृत रेलवे मानकों और विशिष्टताओं के अनुसार इनका निर्माण किया जाएगा।
  • रेलवे द्वारा निर्माण के लिए कोई विभागीय या कोई अन्य शुल्क नहीं लिया जाएगा। समझौते के दौरान बनाई गई संपत्ति और सुविधाओं के रखरखाव की जिम्मेदारी निजी व्यवसायी के साथ निहित होगी

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

बौद्धिक संपदा साक्षरता और जागरूकता अभियान ‘कपिला ’


केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने 15 अक्टूबर, 2020 को राष्ट्रीय नवाचार दिवस के अवसर पर आविष्कारों के पेंटेट के प्रति जागरुकता के लिए ‘बौद्धिक संपदा साक्षरता और जागरूकता शिक्षा अभियान के लिए कलाम कार्यक्रम – कपिला’ (Kalam Program for Intellectual Property Literacy and Awareness- KAPILA) का वर्चुअल तरीके से शुभारंभ किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: इस अभियान के तहत, उच्च शिक्षण संस्थानों में शिक्षा प्राप्त करने वाले छात्रों को अपने आविष्कार को पेटेंट कराने के लिए आवेदन प्रक्रिया की सही प्रणाली के बारे में जानकारी मिलेगी और वे अपने अधिकारों के बारे में जागरूक होंगे।

  • 15 से 23 अक्टूबर के सप्ताह को 'बौद्धिक संपदा साक्षरता सप्ताह' के रूप में मनाने का भी निर्णय लिया गया।
  • इस अवसर पर नवाचार संस्थान परिषद (आईआईसी 2.0) की वार्षिक प्रदर्शन रिपोर्ट प्रस्तुत की गई और आईआईसी 3.0 की शुरुआत करने की घोषणा की गई।
  • नवाचार संस्थान परिषद की स्थापना शिक्षा मंत्रालय द्वारा 2018 में की गई थी। अब तक लगभग 1700 उच्च शिक्षण संस्थानों में इसकी शाखाएं खोली जा चुकी हैं। आईआईसी 3.0 के तहत 5000 उच्च शिक्षण संस्थानों में आईआईसी की शाखाएं खोली जाएंगी।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

ईट राइट इंडिया अभियान के तहत 'विजन 2050'


केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने ईट राइट इंडिया अभियान के तहत 'विजन 2050' के उद्देश्यों को साकार करने के लिए 'सरकार के समग्र दृष्टिकोण' के अंतर्गत 15 अक्टूबर, 2020 को खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण-एफएसएसएआई के साथ एक अंतर-मंत्रालयी बैठक की अध्यक्षता की।

महत्वपूर्ण तथ्य: भारत में खाद्य जनित बीमारियों से उबरने में प्रति वर्ष लगभग 15 अरब डॉलर खर्च होते हैं।

  • बच्चों में निर्बलता (Wasting)(21%), सामान्य से कम वजन रहना (36%) और अविकसित होना (38%) सामान्य हैं।
  • एनीमिया से पीड़ित 50% महिलाओं और बच्चों के साथ; बीते समय में (2005 से 2015 के दौरान) गैर-संचारी रोगों के कारण होने वाली मौतों में वृद्धि के साथ-साथ मोटापे की व्यापकता पुरुषों के बीच 9.3% से बढ़कर 18.6% और महिलाओं के बीच 12.6% से 20.7% तक पहुंच गई है।
  • यह देखते हुए कि, भारत के 1.3 अरब लोगों में से 50% की पहुंच शरीर के लिए आवश्यक सूक्ष्म पोषक तत्वों के लिए अनुशंसित आहार तक नहीं हो पाती है, 'खाद्य सुरक्षा से पोषण सुरक्षा' की ओर बढ़ने के लिए 'ईट राइट इंडिया' और 'फिट इंडिया' अभियान देश के स्वास्थ्य क्षेत्र में बहुत परिवर्तनकारी साबित होंगे।

पीआईबी न्यूज विज्ञान और तकनीक

गुड लेबोरेटरी प्रैक्टिस


अक्टूबर 2020 में भारतीय अच्छी प्रयोगशाला अभ्यास कार्यक्रम (Indian GLP programme) के योगदान को मान्यता देते हुए, भारत को आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (OECD) के ‘गुड लेबोरेटरी प्रैक्टिस’ (Good Laboratory Practice-GLP) के कार्यकारी समूह का 'उपाध्यक्ष' नामित किया गया है।

महत्वपूर्ण तथ्य: गुड लेबोरेटरी प्रैक्टिस (जीएलपी) एक गुणवत्ता प्रणाली है, जो औद्योगिक रसायन, औषधियों (मानव और पशु चिकित्सा), कृषि-रसायन, कॉस्मेटिक उत्पादों, भोजन / योजक, और चिकित्सा उपकरण आदि, जैसे विभिन्न रसायनों पर उत्पन्न सुरक्षा डेटा को सुनिश्चित करने के लिए OECD द्वारा विकसित किया गया है।

  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार ने 24 अप्रैल, 2002 को राष्ट्रीय जीएलपी अनुपालन निगरानी प्राधिकरण (National GLP Compliance Monitoring Authority- NGCMA) की स्थापना की।
  • NGCMA एक राष्ट्रीय संस्था है, जो GLP और OECD परिषद के मानदंडों के अनुसार उपर्युक्त श्रेणियों के नए रसायनों पर सुरक्षा अध्ययन करने के लिए परीक्षण सुविधाओं को GLP प्रमाणन प्रदान करती है। 2004 में NGCMA द्वारा पहला GLP प्रमाणन प्रदान किया गया था।
  • 3 मार्च, 2011 को भारत OECD में 'डेटा की पारस्परिक स्वीकृति' (Mutual Acceptance of Data-MAD) का पूर्ण पालनकर्ता बन गया था।

महत्व: रसायनों की गैर-खतरनाक प्रकृति को अध्ययन और डेटा के माध्यम से स्थापित करने की आवश्यकता होती है, और संबंधित देशों के नियामकों द्वारा यह प्रमाणित करने के लिए जांच की जाती है, कि इन रसायनों का उपयोग मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए कोई खतरा पैदा नहीं करता है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

रसायन विज्ञान का नोबेल पुरस्कार 2020


7 अक्टूबर, 2020 को 'रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज' ने 2020 का रसायन विज्ञान का नोबेल पुरस्कार इमैनुएल चार्पेंटीयर (Emmanuelle Charpentier) और जेनिफर ए. डौडना (Jennifer A. Doudna) को प्रदान करने की घोषणा की।

क्यों दिया गया? उन्होंने जीनोम एडिटिंग के लिए एक विधि 'क्रिस्पर कैस-9 जेनेटिक सीजर्स' (CRISPR / Cas9 genetic scissors) विकसित की। इसे जीन प्रौद्योगिकी में एक महत्वपूर्ण उपकरण माना जाता है।

  • इनका उपयोग करते हुए, शोधकर्ता जानवरों, पौधों और सूक्ष्मजीवों के डीएनए को उच्च परिशुद्धता के साथ बदल सकते हैं।
  • फ्रांस में जन्मी चार्पेंटीयर वर्तमान में बर्लिन, जर्मनी में विज्ञान के लिए मैक्स प्लैंक यूनिट के निदेशक के रूप में कार्यरत हैं। जबकि अमेरिका में जन्मी डौडना, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में बायोकेमिस्ट्री की प्रोफेसर हैं।
  • पहली बार रसायन विज्ञान के क्षेत्र में केवल महिलाओं की टीम (Only women team) को एक साथ इस पुरस्कार से सम्मानित करने की घोषणा की गई।
  • इनसे पूर्व 5 महिलाओं को रसायन का नोबेल पुरस्कार दिया गया है। मैरी क्यूरी (1911), इरेन जोलियोट-क्यूरी (1935), डोरोथी क्रोफूट हॉजकिन (1964), एडा योनथ (2009) और फ्रांसिस एच. अर्नोल्ड (2018)।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व मानक दिवस


14 अक्टूबर

2020 का विषय: 'मानकों के साथ ग्रह की रक्षा करना' (Protecting the planet with standards)

महत्वपूर्ण तथ्य: यह दिवस मानक विकास संगठनों के भीतर स्वैच्छिक मानकों को विकसित करने में दुनिया भर के विशेषज्ञों और वैज्ञानिकों के योगदान के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए मनाया जाता है। इस वर्ष इस दिवस के पोस्टर प्रतियोगिता की विजेता भारत की ज्योति बिष्ट (नोएडा) रही।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

ग्लोबल हैंडवाशिंग डे (Global Handwashing Day)


15 अक्टूबर

2020 का विषय: 'हैंड हाइजीन फॉर ऑल' (Hand Hygiene for All)

महत्वपूर्ण तथ्य: यह दिवस बीमारियों से बचाव और जीवन को बचाने के लिए आसान, प्रभावी और किफायती तरीके से साबुन से हाथ धोने के लिए समर्पित है। इस दिवस की स्थापना 'ग्लोबल हैंडवाशिंग पार्टनरशिप' (Global Handwashing Partnership) द्वारा की गई थी। पहला ग्लोबल हैंडवाशिंग डे 2008 में आयोजित किया गया था।

सामयिक खबरें राज्य उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश के प्रत्येक पुलिस स्टेशन में स्थापित होगा महिला हेल्प डेस्क


उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 15 अक्टूबर, 2020 को राज्य के प्रत्येक पुलिस स्टेशन में महिला हेल्प डेस्क स्थापित करने का आदेश दिया है। आदेश को तत्काल प्रभाव से लागू करने का निर्देश दिया है।

  • आमतौर पर महिलाएं पुलिस स्टेशन में पुरुष पुलिस के साथ अपनी शिकायतें दर्ज करने में संकोच करती हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया गया है।
  • हेल्पडेस्क पर प्रतिनियुक्त महिला पुलिस कर्मी न केवल महिलाओं की शिकायतें सुनेंगी, बल्कि कभी भी उनकी मदद के लिए तैयार रहेंगी।
  • सरकार ने इससे पहले लखनऊ के विभिन्न चौराहों पर गुलाबी बूथ स्थापित किए हैं। राज्य की राजधानी लखनऊ सहित विभिन्न बड़े शहरों में प्रमुख क्रॉसिंग पर महिला पुलिस भी तैनात किए गए हैं।
  • इसमें कार्यस्थल से देर रात लौटने वाली महिलाओं को उनके घरों तक छोड़ने की भी व्यवस्था की गई है।

सामयिक खबरें बैंकिंग, फाइनेंस, सेवा और बीमा

आरबीआई द्वारा डिप्टी-गवर्नरों के विभागों का पुन: आवंटन


भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने 12 अक्टूबर, 2020 को डिप्टी-गवर्नर के विभागों का पुन: आवंटन किया है।

  • विनियमन विभाग को नव-नियुक्त डिप्टी गवर्नर एम. राजेश्वर राव को सौंपा गया है। इसके अलावा, वे संचार विभाग, प्रवर्तन और कानूनी मामलों की देखरेख करेंगे।
  • राव को एन. एस. विश्वनाथन के स्थान पर डिप्टी गवर्नर नियुक्त किया गया है, जिन्होंने स्वास्थ्य कारणों से अपने विस्तारित कार्यकाल से तीन महीने पहले ही पद छोड़ दिया।
  • डिप्टी गवर्नर एम. डी. पात्रा मौद्रिक नीति विभाग की देखरेख करते रहेंगे। उनके अन्य विभागों में आर्थिक और नीति अनुसंधान विभाग, जमा बीमा और ऋण गारंटी निगम, वित्तीय बाजार परिचालन विभाग और वित्तीय बाजार विनियमन विभाग शामिल हैं।
  • डिप्टी गवर्नर एम. के. जैन केंद्रीय सुरक्षा प्रकोष्ठ, कॉर्पोरेट रणनीति और बजट विभाग, उपभोक्ता शिक्षा और संरक्षण विभाग, पर्यवेक्षण विभाग और मानव संसाधन प्रबंधन विभाग की देखरेख करेंगे।
  • डिप्टी गवर्नर बी. पी. कानूनगो समन्वय, मुद्रा प्रबंधन, बाहरी निवेश और संचालन, सरकार और बैंकों के विभाग, आईटी, भुगतान और निपटान प्रणाली आदि की देखरेख करेंगे।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

डीएवाई-एनआरएलएम के तहत जम्‍मू-कश्‍मीर और लद्दाख को विशेष पैकेज


14 अक्टूबर, 2020 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने वित्त वर्ष 2023- 24 तक, पांच वर्ष की अवधि के लिए केन्द्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को 520 करोड़ रुपये का विशेष पैकेज देने की मंजूरी दी।

महत्वपूर्ण तथ्य: जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में इस विस्तारित अवधि के दौरान आवंटन को गरीबी अनुपात से जोड़े बिना मांग जनित आधार पर दीनदयाल अंत्योदय योजना- राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (डीएवाई-एनआरएलएम) का वित्त पोषण सुनिश्चित करने की भी मंजूरी दी गई।

  • दीनदयाल अंत्योदय योजना- राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (डीएवाई-एनआरएलएम) केन्द्र द्वारा प्रायोजित कार्यक्रम है, जिसका उद्देश्य पूरे देश में गरीब ग्रामीण परिवारों के लिए विविध आजीविकाओं के संवर्धन द्वारा ग्रामीण गरीबी का उन्मूलन करना है।
  • ग्रामीण गरीबी दूर करने के लिए जून 2011 में डीएवाई-एनआरएलएम का शुभारंभ गरीबी उन्मूलन कार्यक्रमों में प्रतिमान बदलाव का सूचक है।
  • डीएवाई-एनआरएलएम को पूर्ववर्ती राज्य जम्मू-कश्मीर में जम्मू-कश्मीर राज्य आजीविका मिशन (जेकेएसआरएलएम) द्वारा ‘उम्मीद’ कार्यक्रम के रूप में लागू किया गया था।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

‘स्टार्स’ परियोजना को मंजूरी


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने 14 अक्टूबर, 2020 को स्कूली शिक्षा में सुधार के लिए विश्व बैंक से सहायता प्राप्त 5718 करोड़ रुपये की परियोजना ‘स्टार्स' (Strengthening Teaching-Learning and Results for States- STARS) को मंजूरी दी।

महत्वपूर्ण तथ्य: विश्व बैंक से इस परियोजना के लिए 500 मिलियन डॉलर (लगभग 3700 करोड़ रुपये) राशि की सहायता प्राप्त है।

  • स्टार्स परियोजना स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग, शिक्षा मंत्रालय के तहत केन्द्र सरकार द्वारा प्रायोजित एक नई योजना के रूप में लागू की जाएगी, साथ ही इसके तहत राष्ट्रीय आकलन केन्द्र ‘परख’ की स्थापना की जाएगी।
  • परियोजना में 6 राज्य – हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, केरल और ओडिशा शामिल हैं। यह परियोजना, शिक्षा परिणामों में सुधार और स्कूल के विकास, कार्यान्वयन, मूल्यांकन और सुधार के लिए राज्यों को सहयोग करेगी।

स्टार्स परियोजना के दो प्रमुख घटक: राष्ट्रीय स्तर पर छात्रों के प्रतिधारण, परिवर्तन और समापन (retention, transition and completion) दरों के बारे में मजबूत और प्रामाणिक डेटा प्राप्त करने के लिए शिक्षा मंत्रालय की राष्ट्रीय डेटा प्रणालियों को मजबूत बनाना।

  • राज्य स्तर पर शुरुआती बाल शिक्षा एवं आधारभूत शिक्षण को सशक्त बनाना तथा स्कूल से वंचित बच्चों को मुख्यधारा में लाकर, करियर मार्गदर्शन तथा परामर्श और इंटर्नशिप के माध्यम से स्कूलों में व्यवसायिक शिक्षा को सशक्त बनाना।

अन्य तथ्य: इस परियोजना के अतिरिक्त 5 राज्यों- गुजरात, तमिलनाडु, उत्तराखंड, झारखंड और असम में इसी प्रकार की एडीबी वित्त पोषित परियोजना लागू करने की भी कल्पना की गई है।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय

थैलेसीमिया बाल सेवा योजना


केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने 14 अक्टूबर, 2020 को वर्चुअल तरीके से थैलेसीमिया बीमारी से ग्रस्त शोषित समाज के रोगियों के लिए ‘थैलेसीमिया बाल सेवा योजना’ के दूसरे चरण का शुभारंभ किया।

उद्देश्य: थैलेसीमिया (Thalassaemia) और सिकल सेल (Sickle Cell) जैसे हीमोग्लोबिनोपैथी (Haemoglobinopathies) रोग के ऐसे रोगियों को एक बार इलाज कराने का अवसर प्रदान करना, जिनके परिवार में ही दानकर्ता (donor) हों।

महत्वपूर्ण तथ्य: 2017 में शुरू की गई यह योजना कोल इंडिया का सीएसआर वित्त पोषित हेमाटोपोएटिक स्टेम सेल प्रत्यारोपण (Hematopoietic Stem Cell Transplantation- HSCT) कार्यक्रम है।

  • सीएसआर पहल का लक्ष्य प्रत्येक एचएससीटी के लिए 10 लाख रुपये तक की लागत के पैकेज के तहत कुल 200 रोगियों को वित्तीय सहायता प्रदान करना है।
  • विभिन्न हीमोग्लोबिनोपैथी के लिए छुपे हुए वाहकों की व्यापकता पर मौजूद आंकड़ों से पता चलता है, कि यह बीटा-थैलेसीमिया के लिए 2.9-4.6% है, जबकि विशेष रूप से जनजातीय आबादी के बीच सिकल सेल एनीमिया के लिए यह 40% तक हो सकता है।
  • इस वर्ष अप्लास्टिक एनीमिया के कुल 200 रोगियों को शामिल करने के लिए इस योजना को विस्तार दिया गया है। अप्लास्टिक एनीमिया एक दुर्लभ स्थिति है, जिसमें शरीर पर्याप्त नई रक्त कोशिकाओं का उत्पादन बंद कर देता है।

सामयिक खबरें अंतर्राष्ट्रीय

पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के लिए फिर चुना गया


पाकिस्तान को उसके घृणित मानवाधिकारों रिकॉर्ड के चलते सक्रिय समूहों के विरोध के बावजूद 14 अक्टूबर, 2020 को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के लिए फिर से चुना गया है।

महत्वपूर्ण तथ्य: संयुक्त राष्ट्र के प्रमुख मानवाधिकार निकाय में चार सीटों के लिए मतदान में एशिया- प्रशांत क्षेत्र के पांच उम्मीदवारों में से पाकिस्तान ने सबसे अधिक मत हासिल किए।

  • संयुक्त राष्ट्र महासभा में 193 सदस्यीय गुप्त मतदान में, पाकिस्तान ने 169 मत, उज्बेकिस्तान ने 164, नेपाल ने 150, चीन ने 139 मत हासिल किए, जबकि सऊदी अरब सिर्फ 90 मत हासिल करने के कारण दौड़ से बाहर हो गया।
  • पाकिस्तान फिलहाल 1, जनवरी 2018 से मानवाधिकार परिषद का सदस्य है। फिर से चुने जाने पर उसे तीन साल का एक दूसरा कार्यकाल मिल गया है, जो 1 जनवरी, 2021 से शुरू होगा।
  • मानवाधिकार परिषद के नियमों के तहत भौगोलिक प्रतिनिधित्व सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न क्षेत्रों को सीटें आवंटित की जाती हैं।
  • 47 सदस्यीय मानवाधिकार परिषद में 15 सदस्यों का चुनाव पहले ही हो चुका था क्योंकि अन्य सभी क्षेत्रीय समूह के सदस्य निर्विरोध निर्वाचित हुए।
  • मानवाधिकार समूहों के गठबंधन ने संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों से चीन, रूस, सऊदी अरब, क्यूबा, पाकिस्तान और उज्बेकिस्तान के चुनाव का विरोध करने का आह्वान करते हुए कहा था कि उनके मानवाधिकार रिकॉर्ड उन्हें अयोग्य घोषित करते हैं। रूस और क्यूबा पहले ही निर्विरोध निर्वाचित हो चुके हैं।
  • संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद की स्थापना 2006 में हुई थी।

सामयिक खबरें विज्ञान-पर्यावरण

अफ्रीका के बाहर सबसे पुराने बंदर के जीवाश्म की खोज


अक्टूबर 2020 में वैज्ञानिकों ने चीन में दक्षिण-पूर्वी युनान प्रांत में एक लिग्नाइट की खदान से एकत्र किए गए नमूने में अफ्रीका के बाहर बंदरों के सबसे पुराने जीवाश्मों की खोज की है, जो लगभग 6.4 मिलियन साल पहले रहते थे।

महत्वपूर्ण तथ्य: जर्नल ऑफ ह्यूमन इवोल्यूशन’ में प्रकाशित इस अध्ययन में पाया गया कि यह पूर्वी एशिया के कई जीवित बंदरों के पूर्वज हो सकते हैं। एशिया में यह बंदर उसी स्थान पर उसी समय प्राचीन वानरों (Apes) के साथ पाये जाते थे।

  • खदान के पास में निचले जबड़े और जांघ की हड्डियां भी पाई गई, जो उसी प्रजाति की थी। वैज्ञानिकों ने एक बाएं एड़ी की हड्डी 'कैल्केनस' को भी उजागर किया, जो कि बंदर की एक ही प्रजाति 'मेसोपिथेकस पेंटेलिकस' (Mesopithecus pentelicus) से संबंधित है।
  • निचले जबड़े की हड्डी और पैर की हड्डी के ऊपरी हिस्से से संकेत मिलता है कि यह मादा बंदर थी।
  • वैज्ञानिकों का मानना है कि ये बंदर पेड़ों और जमीन पर चलने में सक्षम (हरफनमौला) थे, और उनके दांतों ने संकेत दिया कि वे कई प्रकार के पौधों, फलों और फूलों को खा सकते थे, जबकि वानर ज्यादातर फल खाते हैं।
  • ये उच्च गुणवत्ता वाला भोजन खा सकते थे और भोजन को किण्वित करके बाद में वसायुक्त अम्ल का उपयोग करके पर्याप्त ऊर्जा प्राप्त कर सकते थे।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित स्थल

अरुणाचल के सुदूर गांव ब्रोकसार्थंग तक पहुंचा नल से जल


  • भारत और भूटान के बीच अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्थित अरुणाचल प्रदेश के पश्चिमी केमेंग जिले के छोटे से गांव ब्रोकसार्थंग के सभी घरों में जल जीवन अभियान के तहत नल से जलापूर्ति कर दी गई है। यह योजना पाइप्ड ग्रेविटी सिस्टम (piped gravity system) पर आधारित है।
  • ब्रोकसार्थंग गांव मध्य समुद्री स्तर (एमएसएल) से लगभग 2,900 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यहां ‘ब्रोकपा‘ समुदाय से संबंधित 170 व्यक्तियों की वर्तमान आबादी के साथ 22 परिवार हैं।
  • ब्रोकपा याक के पालन पोषण एवं खानाबदोश जीवनशैली के लिए विख्यात हैं। यह गांव जिला मुख्यालय बोमडिला से लगभग 76 किमी. तथा निकटतम शहर दिरांग से 36 किमी. की दूरी पर है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप निधन

सुप्रसिद्ध कुचिपुड़ी शास्त्रीय नृत्यांगना शोभा नायडू का निधन


  • सुप्रसिद्ध कुचिपुड़ी शास्त्रीय नृत्यांगना और गुरु, शोभा नायडू का 14 अक्टूबर, 2020 को हैदराबाद में निधन हो गया। वे 64 वर्ष की थी।
  • प्रख्यात गुरु वेम्पति चिन्ना सत्यम की शिष्या, शोभा नायडू को 2001 में भारत सरकार द्वारा पद्म श्री तथा 1991 में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।
  • उन्हें मद्रास की श्रीकृष्ण गण सभा द्वारा ‘नृत्य चूड़ामणि’ की उपाधि से भी सम्मानित किया गया था।
  • उन्होंने कुचिपुड़ी कला अकादमी, हैदराबाद के प्रधानाचार्य का कार्यभार भी संभाला था और भारत और विदेशों के 1,500 से अधिक छात्रों को प्रशिक्षित किया।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

अंतरराष्ट्रीय आपदा जोखिम न्यूनीकरण दिवस


13 अक्टूबर

2020 का विषय: ‘आपदा जोखिम गवर्नेंस’ (Disaster risk governance)

महत्वपूर्ण तथ्य: संयुक्त राष्ट्र महासभा ने वर्ष 1989 में इस दिवस की स्थापना की थी, इसका उद्देश्य वैश्विक स्तर पर आपदा न्यूनीकरण तथा आपदा जोखिम के बारे में जागरूकता फैलाना है।

सामयिक खबरें बिजनेस और सार्वजनिक उपक्रम

नागरनार इस्‍पात संयंत्र के अलगाव और विनिवेश की मंजूरी


  • 14 अक्टूबर, 2020 को आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति ने राष्ट्रीय खनिज विकास निगम (एनएमडीसी) लिमिटेड से नागरनार इस्पात संयंत्र (एनएसपी) को अलग करने तथा अलग की गई कंपनी के रणनीतिक विनिवेश को अपनी सैद्धांतिक मंजूरी प्रदान की।
  • नागरनार इस्पात संयंत्र छत्तीसगढ़ में बस्तर जिले के नागरनार में एनएमडीसी द्वारा स्थापित तीन मिलियन प्रतिवर्ष क्षमता वाला एक एकीकृत इस्पात संयंत्र है। यह संयंत्र 1980 एकड़ क्षेत्र में फैला है। विनिवेश का कार्य सितंबर 2021 तक पूरा होने की संभावना है।
  • एनएमडीसी इस्पात मंत्रालय के तहत एक सूचीबद्ध केंद्रीय सार्वजनिक उपक्रम है और इस कंपनी में भारत सरकार की 69.65% की हिस्सेदारी है।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

अटल नवाचार मिशन और सीजीआई इंडिया में सहयोग


अटल नवाचार मिशन (एआईएम), नीति आयोग ने 13 अक्टूबर, 2020 को स्कूलों में नवाचार को बढ़ावा देने के लिए सीजीआई इंडिया के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।

महत्वपूर्ण तथ्य: अटल टिंकरिंग लैब (एटीएल) पहल के एक हिस्से के रूप में, एआईएम और आईटी और व्यवसाय परामर्श सेवा कंपनी ‘सीजीआई इंडिया’ ने स्कूलों में एक सफल और नवाचारी कार्यबल का सृजन करने के लिए सहयोग किया है।

  • सीजीआई ने बैंगलुरु, चेन्नई, हैदराबाद और मुंबई में एटीएल के साथ 100 स्कूलों को गोद लेने पर सहमति व्यक्त की है। सीजीआई के स्वयं सेवक एटीएल में छात्रों को शिक्षित करेंगे और उनका मार्गदर्शन करेंगे।
  • एआईएम, भारत सरकार का एक प्रमुख कार्यक्रम है जो पूरे देश में नवाचार और उद्यमिता की संस्कृति को बढ़ावा देता है।
  • भारत में 2.5 मिलियन से अधिक स्कूली बच्चों तक एटीएल की पहुँच है। एटीएल स्कूलों में स्थापित एक समर्पित नवाचार कार्यक्षेत्र है, जहां छात्र डू-इट-योरसेल्फ (डीआईवाई) किट तक पहुंच बनाकर नवीनतम प्रौद्योगिकियों का उपयोग करते हुए नवाचार समाधानों का सृजन करते हैं।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

‘आदिवासियों के लिए तकनीकी’ पहल


13 अक्टूबर, 2020 को जनजातीय कार्य मंत्रालय के ट्राइफेड द्वारा आईआईटी कानपुर और छत्तीसगढ़ लघु वन उपज फेडरेशन के साथ ई-लॉन्च के माध्यम से ‘आदिवासियों के लिए तकनीकी’ (Tech for Tribals) पहल की शुरुआत की गई।

उद्देश्य: वन धन विकास केंद्रों (वीडीवीके) के माध्यम से संचालित होने वाले स्वयं सहायता समूहों की सहायता से उद्यमिता विकास, सॉफ्ट स्किल, सूचना प्रौद्योगिकी और व्यावसायिक विकास पर ध्यान देने के साथ-साथ आदिवासियों का समग्र विकास करना।

महत्वपूर्ण तथ्य: उद्यमिता कौशल विकास कार्यक्रम के तहत ट्राइफेड ने लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (एमएसएमई) के साथ मिलकर 'आदिवासियों के लिए तकनीकी' कार्यक्रम शुरू किया है।

  • 6 सप्ताह के प्रशिक्षण के दौरान, छत्तीसगढ़ राज्य के सभी जिलों में वन धन लाभार्थियों को सूक्ष्म उद्यम निर्माण, प्रबंधन और कामकाज के विभिन्न पहलुओं पर प्रशिक्षित किया जाएगा।
  • इस प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्देश्य आदिवासियों के पारंपरिक ज्ञान और कौशल का दोहन करना तथा वन धन विकास केंद्रों (वीडीवीके) की स्थापना करके बाजार आधारित उद्यम मॉडल के माध्यम से उनकी आय को बढ़ाने के लिए ब्रांडिंग, पैकेजिंग और विपणन कौशल को बेहतर करना है।
  • ट्राईफेड ने अब तक 21 राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश में 1,243 वन धन केंद्रों को मंजूरी दी है, जिसमें 3.68 लाख आदिवासी शामिल हुए हैं।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

21वीं ‘ऑल इंडिया कॉन्फ्रेंस ऑफ डायरेक्टर्स, फिंगरप्रिंट ब्यूरो – 2020’


केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने ‘राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो’ द्वारा आयोजित दो दिवसीय 21वीं ‘ऑल इंडिया कॉन्फ्रेंस ऑफ डायरेक्टर्स, फिंगरप्रिंट ब्यूरो – 2020’ का उद्घाटन किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: वित्तीय वर्ष 2019-20 के दौरान, भारत सरकार ने देश भर में पुलिस के आधुनिकीकरण के लिए 2019-20 के बजट में बढ़ोतरी कर 780 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है।

  • रिकॉर्ड और फिंगरप्रिंट डेटा का डिजिटलीकरण अपराधों और अपराधियों का पता लगाने में एक महत्वपूर्ण कदम है। इसी क्रम में पूरी तरह से कम्प्यूटरीकृत राष्ट्रीय स्वचालित फिंगरप्रिंट पहचान प्रणाली (NAFIS) जल्द ही शुरू की जाएगी।
  • NAFIS रियलटाइम आधार पर अपराधियों के उंगलियों के निशान के आधार पर उनकी पहचान करने में जांच अधिकारियों को सहायता प्रदान करेगा।
  • राष्ट्रीय अपराध नियंत्रण ब्यूरो (NCRB) द्वारा स्थापित अत्याधुनिक साइबर फोरेंसिक उपकरणों से लैस ‘ई-साइबर प्रयोगशाला’ (eCyber Lab) का उद्घाटन भी किया गया।
  • अक्टूबर माह राष्ट्रीय साइबर सुरक्षा जागरूकता माह के रूप में मनाया जाता है।

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

भारत-मैक्सिको द्विपक्षीय उच्च स्तरीय समूह की 5वीं बैठक


व्यापार, निवेश और सहयोग पर भारत-मैक्सिको द्विपक्षीय उच्च स्तरीय समूह की पांचवीं बैठक 9 अक्टूबर, 2020 को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से आयोजित की गई।

महत्वपूर्ण तथ्य: दोनों पक्षों ने कई द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा की, जिनमें ऑडियो-विजुअल सह-निर्माण, द्विपक्षीय निवेश संधि, कृषि उत्पादों के लिए बाजार तक पहुंच, सेनेटरी और फाइटो सेनेटरी (एसपीएस) पर सहयोग रूपरेखा आदि शामिल हैं ।

समझौते: सहयोग को बढ़ावा देने के लिए दो ‘व्यापार से व्यापार’ समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए।

  • भारत के इलेक्ट्रॉनिक्स और कंप्यूटर सॉफ्टवेयर निर्यात संवर्धन परिषद (ईएससी) और मैक्सिकन चैंबर ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स, टेलीकम्यूनिकेशन एंड इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी (सीएएनआईईटी) के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।
  • भारत और मैक्सिको के बीच व्यापार संबंधों को बढ़ावा देने के लिए भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (फिक्की) और मैक्सिकन बिजनेस काउंसिल ऑफ फॉरेन ट्रेड, इन्वेस्टमेंट एंड टेक्नोलॉजी (सीओएमसीई) के बीच भी एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।
  • दोनों देश औषधि, चिकित्सा उपकरण, स्वास्थ्य सेवा, कृषि उत्पाद, मत्स्य पालन, खाद्य प्रसंस्करण, एयरोस्पेस उद्योग आदि में सहयोग के माध्यम से भारत और मैक्सिको के बीच द्विपक्षीय व्यापार संबंधों का विस्तार करने और इसमें विविधता लाने पर सहमत हुए।

पीआईबी न्यूज विज्ञान और तकनीक

महिला वैज्ञानिक ने धूल के कणों में खोजा परमाणु हथियारों का समाधान


  • नई दिल्ली स्थित नेताजी सुभाष इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी की डॉ. मीरा चड्ढा ने पहली बार गणितीय मॉडल के जरिए यह साबित करने की कोशिश की, कि परमाणु हथियारों के घातक प्रभाव को धूल के कणों की मदद से कम या हल्का किया जा सकता है।
  • ‘प्रोसीडिंग्स ऑफ रॉयल सोसाइटी ऐ, लंदन’ में हाल में प्रकाशित उनके अध्ययन के अनुसार किसी गहन विस्फोट (खासकर परमाणु विस्फोट) से उत्पन्न होने वाली ऊर्जा और उससे होने वाले विनाश के क्षेत्र (त्रिज्या) को धूल के कणों से कम किया जा सकता है। उन्होंने दिखाया कि कैसे इस प्रक्रिया में विस्फोट की तीव्रता में कमी आती है।

सामयिक खबरें विज्ञान-पर्यावरण

एक्वापोनिक्स तकनीक


केंद्रीय संचार और इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री संजय धोत्रे द्वारा 13 अक्टूबर, 2020 को गुरु अंगद देव पशु चिकित्सा और पशु विज्ञान विश्वविद्यालय (GADVASU), लुधियाना में सी-डैक (C-DAC), मोहाली द्वारा विकसित एक प्रायोगिक ‘एक्वापोनिक्स सुविधा’ (Aquaponics facility) का उद्घाटन किया गया।

महत्वपूर्ण तथ्य: निगरानी और स्वचालित नियंत्रण के लिए उन्नत सेंसर से लैस इस क्षेत्र में अपनी तरह की पहली इस अत्याधुनिक सुविधा को इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार की वित्त पोषण सहायता से विकसित किया गया है।

  • लगभग 100% जैविक इस सुविधा को, फसल उपज के लिए बहुत कम भूमि की आवश्यकता होती है, 90% कम पानी की खपत होती है। इससे अधिक पौष्टिक मछली और पौधों को उगाया जा सकता है।

एक्वापोनिक्स तकनीक: यह एक उभरती हुई पर्यावरण अनुकूल तकनीक है, जिसमें मछलियों के साथ-साथ पौधों को भी एकीकृत तरीके से उगाया जाता है।

  • मछली का अपशिष्ट बढ़ते पौधों के लिए उर्वरक प्रदान करता है। पौधे पोषक तत्वों को अवशोषित करते हैं और पानी का निस्पंदन (filter) करते हैं। इस पानी का उपयोग मछली टैंक को फिर से भरने के लिए किया जाता है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार 2020


5 अक्टूबर, 2020 को 'हेपेटाइटिस सी वायरस' की खोज के लिए ‘शरीर क्रिया विज्ञान या चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार 2020’ हार्वे जे ऑल्टर (अमेरिका), माइकल हॉटन (ब्रिटेन) चार्ल्स एम. राइस (अमेरिका) को संयुक्त रूप से प्रदान करने की घोषणा की गई।

  • इनकी खोज ने रक्त-जनित हेपेटाइटिस के एक प्रमुख स्रोत की व्याख्या करने में मदद की, जिसे हेपेटाइटिस ‘ए’ और ‘बी’ वायरस द्वारा नहीं समझाया जा सकता।
  • यह पुरस्कार 'कारोलिंस्का इंस्टीट्यूट में नोबेल असेंबली स्टॉकहोम, स्वीडन' द्वारा दिया जाता है।
  • हेपेटाइटिस 'सी' एक रक्त जनित वायरस है और हेपेटाइटिस सी रोग का कारण बनता है जो यकृत को प्रभावित करता है।
  • हेपेटाइटिस यकृत की सूजन है। यह स्थिति स्व-सीमित हो सकती है या फाइब्रोसिस (निशान), सिरोसिस या यकृत कैंसर तक बढ़ सकती है। 5 मुख्य हेपेटाइटिस वायरस हैं, जिन्हें ‘ए’, ‘बी’, ‘सी’, ‘डी’ और ‘ई’ प्रकार के रूप में संदर्भित किया जाता है।
  • हेपेटाइटिस 'ए' और 'ई' आमतौर पर दूषित भोजन या पानी के अंतर्ग्रहण के कारण होते हैं। हेपेटाइटिस 'बी' और 'डी' वायरस संक्रामक रक्त, वीर्य और शरीर के अन्य तरल पदार्थों के संपर्क से फैलता है।
  • हेपेटाइटिस ‘ए’, ‘बी’, ‘डी’ और ‘ई’ के लिए वैक्सीन उपलब्ध है, लेकिन हेपेटाइटिस ‘सी’ के लिए कोई वैक्सीन उपलब्ध नहीं है।
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार दुनिया भर में 7 करोड़ से अधिक हेपेटाइटिस रोगी हैं, जिनमें से हर वर्ष 4 लाख लोगों की मृत्यु हो जाती है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

राष्ट्रीय डाक-टिकट संग्रहण दिवस (National Philately Day)


13 अक्टूबर

महत्वपूर्ण तथ्य: 'फिलाटेली' (Philately) डाक टिकटों और डाक इतिहास का अध्ययन है। यह दिवस टिकटों और अन्य टिकट संग्रह संबंधी उत्पादों के संग्रह, अभिमूल्यन (appreciation) और अनुसंधान गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए मनाया जाता है। भारतीय डाक के डाक टिकटों की व्यक्तिगत (निजी पसंद पर आधारित) पत्र (शीट) का ब्रांड नाम 'माई स्टांप' (My Stamp) है।

सामयिक खबरें राज्य केरल

केरल सार्वजनिक शिक्षा पूरी तरह से डिजिटल करने वाला पहला राज्य


  • केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने 12 अक्टूबर, 2020 को राज्य के सार्वजनिक शिक्षा क्षेत्र को पूरी तरह से डिजिटल घोषित कर दिया है।
  • केरल ऐसा पहला राज्य बन गया है, जिसके सभी सार्वजनिक स्कूलों की कक्षाएं उन्नत तकनीक से लैस (high-tech classrooms) हैं।
  • इन्हें राज्य में 'सार्वजनिक शिक्षा कायाकल्प मिशन' के हिस्से के रूप में लागू किया गया था। स्मार्ट क्लासरूम परियोजना के लिए 16,027 स्कूलों में 3.74 लाख से अधिक डिजिटल उपकरण वितरित किए गए हैं। यह परियोजना 21 जनवरी, 2018 को शुरू की गई थी।
  • केरल इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड टेक्नोलॉजी फॉर एजुकेशन (KITE) द्वारा केरल इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट फंड बोर्ड (KIIFB) से वित्तीय सहायता के साथ उन्नत तकनीक कक्षा परियोजना को लागू किया गया है।

पीआईबी न्यूज आर्थिक

उपभोक्ता खर्च प्रोत्साहन हेतु उपाय


वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 12 अक्टूबर, 2020 को चालू वित्त वर्ष की समाप्ति से पहले उपभोक्ता खर्च को प्रोत्साहित करने के लिए 73,000 करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा की।

महत्वपूर्ण तथ्य: अवकाश यात्रा रियायत (एलटीसी) नकद वाउचर योजना के तहत कर्मचारियों को एलटीसी की 2018-21 अवधि के दौरान दस दिन की छुट्टी के बदले नकद भुगतान और और पात्रता के अनुसार यात्रा किराया दिया जाएगा।

  • एलटीसी योजना के लाभार्थी को एलटीसी भुगतान की राशि और यात्रा किराये की तीन गुना राशि से वस्तुओं और सेवाओं की खरीद के बारे में जीएसटी चालान देना होगा।
  • कर्मचारियों के लिए एकबारगी उपाय के रूप में ‘विशेष त्योहार अग्रिम योजना’ (Special Festival Advance Scheme) के तहत सभी केन्द्र सरकार के कर्मचारी अपने त्योहार की पसंद के आधार पर 31 मार्च, 2021 तक खर्च की जाने वाली 10,000 रुपये की ब्याज मुक्त अग्रिम राशि प्राप्त कर सकते हैं।
  • पूंजीगत व्यय के तहत उपयोग हेतु केंद्र सरकार द्वारा राज्यों को 50 वर्षों के लिए 12,000 करोड़ रूपए का एक विशेष ब्याज मुक्त ऋण तथा पूर्वोत्तर राज्यों के लिए 1,600 करोड़ रुपये (200 करोड़ रुपये प्रत्येक) और उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश के लिए 900 करोड़ रुपये (450 करोड़ प्रत्येक) तथा शेष राज्यों हेतु 7,500 करोड़ रुपये प्रदान किए जा रहे हैं।
  • केंद्रीय बजट 2020 में जारी किए गए 4.13 लाख करोड़ रुपये के अलावा अवसंरचना परियोजनाओं के लिए 25,000 करोड़ रुपये का अतिरिक्त बजट प्रदान किया जा रहा है।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

कामधेनु दीपावली अभियान


राष्ट्रीय कामधेनु आयोग ने 12 अक्टूबर, 2020 को इस वर्ष दिवाली महोत्सव में गाय के गोबर / पंचगव्य उत्पादों के व्यापक उपयोग को बढ़ावा देने के उद्देश्य से ‘कामधेनु दीपावली अभियान’ मनाने के लिए देशव्यापी अभियान शुरू किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: इसके तहत दिवाली उत्सव के लिए गोबर आधारित दीयों, मोमबत्तियों, धूप, अगरबत्ती, शुभ-लाभ, स्वस्तिक, समरणी, हार्डबोर्ड, वॉल-पीस, पेपर-वेट, हवन सामग्री, भगवान गणेश और देवी लक्ष्मी की मूर्तियों का निर्माण पहले ही शुरू हो चुका है।

  • राष्ट्रीय कामधेनु आयोग का लक्ष्य इस वर्ष दीपावली त्योहार के दौरान 11 करोड़ परिवारों में गाय के गोबर से बने 33 करोड़ दीयों को प्रज्वलित करना है।
  • लगभग 3 लाख दीयों को केवल पवित्र शहर अयोध्या में ही प्रज्वलित किया जाएगा और 1 लाख दीये पवित्र शहर वाराणसी में जलाए जाएंगे।
  • राष्ट्रीय कामधेनु आयोग का गठन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा गायों और गौवंश के संरक्षण, सुरक्षा और विकास तथा पशु विकास कार्यक्रम को दिशा प्रदान करने के लिए किया गया है।
  • मवेशियों से संबंधित योजनाओं के बारे में नीति बनाने और कार्यान्वयन को दिशा प्रदान करने के लिए राष्ट्रीय कामधेनु आयोग एक सशक्त स्थायी निकाय है, ताकि आजीविका सृजन पर अधिक ध्यान दिया जा सके।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

हरियाणा सरकार की चलती-फिरती जल परीक्षण प्रयोगशाला


अक्टूबर 2020 में हरियाणा सरकार ने जल परीक्षण के लिए नवाचार समाधान- अत्याधुनिक चलती- फिरती जल परीक्षण प्रयोगशाला वैन का शुभारंभ किया है।

  • यह वैन पूरी तरह से बहु-मानदंड प्रणाली से लैस है, जिसमें जल परीक्षण के लिए विश्लेषक / सेंसर / प्रोब्स / उपकरण शामिल हैं। इसमें स्थान का पता लगाने के लिए जीपीएस और पावर बैकअप के साथ जीपीआरएस/3जी कनेक्टिविटी है।
  • ज्ञात हो कि हरियाणा राज्य में पानी की गुणवत्ता मुख्य रूप से पूरी तरह से घुलनशील ठोस पदार्थ (टीडीएस), फ्लोराइड, नाइट्रेट, लौह और क्षारीयता से प्रभावित है।
  • यह वैन जल के नमूनों के पीएच, क्षारीयता, टीडीएस, कठोरता, अवशिष्ट क्लोरीन, जस्ता, नाइट्राइट, फ्लोराइड, गंदलापन (turbidity) और सूक्ष्म जैविक परीक्षण जैसे विभिन्न जल गुणवत्ता के मापदंडों को मापने में सक्षम है।
  • यह चलती-फिरती जल परीक्षण वैन ‘राज्य जल परीक्षण प्रयोगशाला, करनाल’ में तैनात की जाएगी और इसका पूरे राज्य में परिचालन किया जाएगा। जल जनित बीमारी के प्रकोप की स्थिति में यह वैन ऑन साइट भी तैनात की जा सकती हैं।

पीआईबी न्यूज विज्ञान और तकनीक

सुपरकंप्यूटिंग अवसंरचना की स्थापना हेतु समझौता


12 अक्टूबर, 2020 को सी-डैक (C-DAC) और नेशनल सुपरकंप्यूटिंग मिशन के मेजबान संस्थानों ने पूरे भारत के उच्च शिक्षा संस्थानों में सुपरकंप्यूटिंग अवसंरचना की स्थापना के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किए।

लक्ष्य: देश में महत्वपूर्ण घटकों (Critical Components) के विनिर्माण के साथ सुपरकंप्यूटिंग में आत्मनिर्भरता हासिल करना।

  • आईआईएससी बंगलौर सहित 13 संस्थानों ने समझौते पर हस्ताक्षर किए।
  • राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन की स्थापना भारत की विज्ञान और इंजीनियरिंग में चुनौतियों और वास्तविक जीवन की जटिल समस्याओं को सुलझाने के उद्देश्य से शैक्षणिक, उद्योग, वैज्ञानिक और अनुसंधान समुदाय, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम/स्टार्ट-अप्स को आवश्यक कम्प्यूटेशनल शक्ति प्रदान करने के उद्देश्य से की गई थी।
  • सी-डैक ने पहले ही आईआईटी बीएचयू, आईआईटी खड़गपुर, आईआईएसईआर पुणे और जेएनसीएएसआर बैंगलोर में सुपरकंप्यूटिंग इकोसिस्टम की स्थापना की है।

सामयिक खबरें आर्थिकी

‘गतिशील’ प्रभाव-आधारित चक्रवात चेतावनी प्रणाली


अक्टूबर 2020 में भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) द्वारा एक ‘गतिशील’ प्रभाव-आधारित चक्रवात चेतावनी प्रणाली (dynamic impact-based cyclone warning system) शुरू करने की योजना है।

उद्देश्य: हर साल देश के तटीय क्षेत्रों पर आने वाले चक्रवातों से होने वाले आर्थिक एवं संपत्ति के नुकसान में कमी करना।

महत्वपूर्ण तथ्य: इस चक्रवात सीजन (अक्टूबर-दिसंबर) से गतिशील, प्रभाव-आधारित चक्रवात की चेतावनी शुरू की जा रही है।

  • अब तक, आईएमडी उस तरह के नुकसान के बारे में चेतावनी देता रहा है, जो प्रत्याशित है। लेकिन अब यह बुनियादी ढांचे, स्थानीय आबादी, बस्तियों, भूमि उपयोग के साथ-साथ अन्य तत्वों को ध्यान में रखते हुए जिला या स्थान-निर्दिष्ट / अनुरूप चेतावनी जारी करेगा।
  • राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन (एनडीएमए) विभाग ने राष्ट्रीय चक्रवात जोखिम शमन परियोजना (एनसीआरएमपी) के नाम से एक परियोजना भी शुरू की है।
  • परियोजना के तहत एनडीएमए, मौसम विभाग और तटीय राज्यों की सरकारों के साथ मिलकर एक वेब आधारित गतिशील समग्र जोखिम एटलस (Web-DCRA) विकसित कर रहा है। इस साझा मंच से भी चक्रवातों से निपटने में मदद मिलेगी।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित व्यक्ति

विजयाराजे सिंधिया के सम्‍मान में 100 रूपये का स्‍मारक सिक्‍का जारी


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 12 अक्टूबर, 2020 को विजयराजे सिंधिया की जन्मशताब्दी समारोह के अवसर पर उनके सम्मान में 100 रूपये का स्मारक सिक्का जारी किया। यह विशेष स्मारक सिक्का वित्त मंत्रालय ने तैयार किया है।

  • भारतीय जनता पार्टी के संस्थापकों में से एक विजया राजे सिंधिया को ‘ग्वालियर की राजमाता’ के तौर पर भी जाना जाता है। विजयाराजे सिंधिया सात बार लोक सभा के सदस्य के रूप में चुनी गयी थी। वह दो बार राज्यसभा की सदस्य भी रही।
  • उनका विवाह ग्वालियर के अंतिम राजा, जीवाजीराव सिंधिया से हुआ था।
  • उन्होंने दो पुस्तकों का भी लेखन किया है - एक आत्मकथा 'द लास्ट महारानी ऑफ ग्वालियर' और 'लोक पथ से राज पथ'।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित स्थल

नेचिपु सुरंग


केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 12 अक्टूबर, 2020 को अरुणाचल प्रदेश के पश्चिम कामेंग जिले में बालीपारा-चारुदर-तवांग (बीसीटी) मार्ग पर 'नेचिपु सुरंग' (Nechiphu Tunnel) की आधारशिला रखी।

  • 450 मीटर लंबी सुरंग, जो मौजूदा सड़क से उपमार्ग बनाएगी, डी-आकार (D-shaped) की होगी और इसमें 3.5 मीटर चौड़ाई के दो लेन होंगे।
  • बीसीटी मार्ग पर एक और 1.8 किमी लंबी सुरंग भी बनाई जा रही है और ये दोनों सुरंग चीन सीमा के पास वाले क्षेत्र तक की दूरी 10 किमी. कम कर देंगे।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार 2020


12 अक्टूबर, 2020 को अमेरिका के दो अर्थशास्त्रियों पॉल आर. मिलग्रोम और रॉबर्ट बी. विल्सन को संयुक्त रूप से 2020 के अर्थशास्त्र के नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया है। दोनों अर्थशास्त्री कैलिफोर्निया के स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय से जुड़े हैं।

क्यों दिया गया? ‘नीलामी के सिद्धांत (auction theory) में सुधार और नए नीलामी प्रारूपों के आविष्कारों के लिए’।

  • नए नीलामी प्रारूप इस बात का उदाहरण हैं कि बुनियादी अनुसंधान कैसे बाद में समाज को लाभ पहुंचाने की महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।
  • 2019 में, यह पुरस्कार भारतीय-अमेरिकी अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी, एस्थर डुफ्लो और माइकल क्रेमर द्वारा साझा किया गया था। तीनों को वैश्विक गरीबी को कम करने के लिए उनके प्रयोगात्मक दृष्टिकोण के लिए सम्मानित किया गया था।
  • तकनीकी रूप से इसे ‘अल्फ्रेड नोबेल की स्मृति में अर्थशास्त्र के लिए स्वेरिग्स रिक्सबैंक पुरस्कार’ के नाम से जाना जाता है। यह पुरस्कार 1969 में शुरू किया गया था और अब इसे नोबेल पुरस्कारों के रूप में व्यापक पहचान मिली है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व गठिया दिवस


12 अक्टूबर

2020 का विषय: 'यह आपके हाथ में है - कार्रवाई करें' (It is in your hand - Take action)

महत्वपूर्ण तथ्य: इस दिवस का उद्देश्य आमवाती विकारों (rheumatic disorders) के बारे में लोगों के बीच जागरूकता पैदा करने के साथ-साथ सरकार और नीति निर्माताओं को बीमारी के बारे में जागरूक करना है।

सामयिक खबरें राज्य मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश के 64 छोटे शहरों हेतु एडीबी से ऋण समझौता


एशियाई विकास बैंक (एडीबी) और भारत सरकार ने मध्य प्रदेश में बेहतर सेवा प्रदान करने के लिए 12 अक्टूबर, 2020 को 270 मिलियन डॉलर के ऋण समझौते पर हस्ताक्षर किए।

  • इसके तहत जल की आपूर्ति, भारी बारिश के जल और सीवेज प्रबंधन के लिए बुनियादी ढांचे को विकसित करने और शहरी स्थानीय निकायों (यूएलबी) की क्षमताओं को मजबूत किया जाएगा।
  • यह मध्य प्रदेश शहरी सेवा सुधार परियोजना के दायरे को बढ़ाने के लिए एक अतिरिक्त वित्तपोषण है, जिसे 2017 में 275 मिलियन डॉलर ऋण के साथ अनुमोदित किया गया था।

सामयिक खबरें अंतर्राष्ट्रीय रैंकिंग, रिपोर्ट, सर्वेक्षण और सूचकांक

असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक (CRI)-2020


  • 7 अक्टूबर, 2020 को ऑक्सफेम इंटरनेशनल ने डेवलपमेंट फाइनेंस इंटरनेशनल (DFI) के साथ मिलकर असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक (The Commitment to Reducing Inequality Index- CRI)-2020 को प्रकाशित किया है।
  • असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक का यह तीसरा संस्करण है, पिछले दो संस्करण का प्रकाशन 2017 और 2018 में क्रमशः हुआ था।

असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक (CRI) के बारे में

  • यह एक बहुआयामी सूचकांक है, जो असमानता को कम करने के लिए अपने नीतिगत प्रदर्शन पर 158 देशों को रैंक करता है।
  • यह मुख्य रूप से आर्थिक असमानता से निपटने के लिए प्रगति को मापता है, अर्थात् अमीर और गरीब के बीच की खाई को दर्शाता है।
  • सूचकांक में तीन स्तंभ और 19 अलग-अलग संकेतक हैं, जिनमें से प्रत्येक एक नीति क्षेत्र से संबंधित है जो असमानता को कम करने में महत्वपूर्ण पाया गया है: सार्वजनिक सेवाएं (पहले ख़र्च के रूप में जाना जाता था),कर-निर्धारण और श्रम

मुख्य निष्कर्ष

विश्व विशिष्ट निष्कर्ष

  • असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक (CRI) के शीर्ष के अधिकांश देश आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (Economic Co-operation and Development- OECD) से जुड़े देश हैं।
  • उच्च सकल घरेलू उत्पादों (Gross Domestic Products- GDP) के साथ, उनके पास प्रगतिशील कर राजस्व बढ़ाने के लिए बहुत अधिक गुंजाइश है क्योंकि उनके पास उच्च आय वाले नागरिक और व्यापारी अधिक हैं।
  • इसी तरह, सार्वजनिक सेवाओं और सामाजिक सुरक्षा पर उन राजस्व को ख़र्च करने के लिए उनके पास अधिक गुंजाइश है।
  • नॉर्वे, असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक (CRI)- 2020 में सबसे ऊपर है, विशेष रूप से श्रम अधिकारों पर शीर्ष पर मौजूदगी।
  • सूचकांक में सबसे नीचे दक्षिण सूडान है, जो इस सूचकांक में नया है और तीनों स्तंभों पर टिकने योग्य है।
  • कोरोनावायरस महामारी के लिए वियतनाम की प्रतिक्रिया दुनिया में सबसे अच्छी रही है।
  • निम्न रैंकिंग सरकार द्वारा अपने नागरिकों के लिए नीति निर्धारण की विफलता को भी दर्शाती है: उदाहरण के लिए, दक्षिण सूडान जितना ख़र्च महत्वपूर्ण सार्वजनिक सेवाओं पर करता है उससे छह गुना अधिकख़र्च सैन्य और ऋण सेवा पर करता है। चूँकी यह केवल 15% के आसपास कर (Tax) एकत्र करता है, जिससे यह सबसे बुनियादी सेवाओं कीउपलब्धता सुनिश्चित करने में विफल हो जाता है।

भारत विशिष्ट निष्कर्ष

  • भारत असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक (CRI) में 129वें स्थान पर है औरभारत का स्वास्थ्य बजट दुनिया में चौथा सबसे कम बजट है।
  • भारत में सिर्फ़ इसकी आधी आबादी को सबसे आवश्यक बुनियादी स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध हो पाती हैं, और 70% से अधिक स्वास्थ्य व्यय लोगों द्वारा स्वयं किया जा रहा है, जो दुनिया के उच्चतम स्तरों में से एक है।
  • COVID-19 कोलेकर अब तक भारत किया गया ख़र्च बहुत ही कम है, जिसमें भारी संख्या में मौतें हुईं और लाखों लोग बेकसी का शिकार हुए।

कोविद -19 के दौर में असमानता से लड़ना

  • ¨असमानता घटाने की प्रतिबद्धता सूचकांक (CRI) स्पष्ट रूप से दर्शाता है कि दुनिया के अधिकांश देश कोरोनोवायरस महामारी के लिए बुरी तरह से तैयार नहीं थें।
  • ¨कोरोनावायरस महामारी ने दुनिया भर में असमानताओं में और इज़ाफ़ा किया है।
  • ¨सबसे ग़रीब लोग ख़ुद को बचाने के लिए अपने आप को अलग-थलग (Isolate) करने में सबसे कमसक्षम हैं। ग़रीबों के पास पहले से मौजूद ख़राब स्वास्थ्य के बदौलत उनके मरने की अधिक संभावना है।
  • ¨महिलाओं को आर्थिक रूप से सबसे कठिन परिस्थिति का सामना करना पड़ा है, क्योंकि उनके काम में अनिश्चितता की संभावना अत्यधिक है और दुनिया के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं में उनकी 70% भागीदारी भी है।
  • ¨इस संकट ने दुनिया भर में नस्लीय असमानता को भी बढ़ा दिया है।
  • ¨लेकिन, दुनिया भर में स्वास्थ्य और सामाजिक सुरक्षा ख़र्चों में महत्वपूर्ण विस्तार हुआ है।
  • ¨कई देशों ने श्रमिक अधिकारों और सुरक्षा का विस्तार किया है, विशेष रूप से कम समय के काम, बीमार छुट्टी और बेरोजगारी भत्ता के माध्यम से। लेकिन ठेके पर काम और बेरोजगारी की दर में तेज वृद्धि हुई है, इसके साथ-साथ श्रमिकों के अधिकारों पर हमले बढ़े हैं।

महामारी को लेकर अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय संस्थानों (International Financial Institutions) की भूमिका

  • ¨अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund- IMF) ने 80 देशों के समर्थन में 88 बिलियन अमरीकी डालर का वितरण किया है और 251 मिलियन डॉलर की ऋण सेवा भुगतान (Debt Servicing Payments)से 28 देशों को बचाया है।
  • ¨विश्व बैंक ने आपातकालीन वित्त पोषण में 160 बिलियन अमरीकी डालर रखने का वादा किया है तथा COVID-19 हेतुफास्ट ट्रैक सुविधा के लिए 6 बिलियन अमरीकी डालरजुटाया है।

अनुशंसाएँ (सिफ़ारिशें)

असमानता को कम करने के लिए तत्काल सरकारी कार्रवाई

  • कोरोनावायरस महामारी के लिए, सरकारों को राष्ट्रीय असमानता निवारण योजनाओं के हिस्से के रूप में सतत विकास लक्ष्य-10 (SDG-10) के तहतप्रगतिशील ख़र्च (progressive spending), कराधान (taxation) और श्रमिकों के वेतन और संरक्षण पर अपने प्रयासों में सुधार करना चाहिए।
  • सार्वजनिक सेवाओं और सामाजिक संरक्षण पर ख़र्च बढ़ाने की ज़रूरत है और कवरेज़ और असमानता पर इसके प्रभाव में सुधार की आवश्यकता है।
  • बजट व्यय में नागरिकों को शामिल करते हुए सार्वजनिक व्यय पर व्यवस्थित नज़र रखने की भी आवश्यकता है।
  • श्रमिकों को जीवित मजदूरी (निर्वाह-वेतन) प्राप्त करने की आवश्यकता है और उनके श्रम अधिकारों को बेहतर तरीके से संरक्षित किया जाना चाहिए।
  • महिलाओं और लड़कियों को विशेष रूप से यौन उत्पीड़न और बलात्कार के ख़िलाफ़ समान वेतन के संरक्षण के लिए अपने अधिकारों की आवश्यकता होती है, जिसमें कमजोर श्रमिकों को भी शामिल किया जाता है।
  • यौन उत्पीड़न और बलात्कार के ख़िलाफ़ महिलाओं और लड़कियों को विशेष रूप से समान वेतन और सुरक्षा के अपने अधिकारों की आवश्यकता है, इसमें कमज़ोर श्रमिकों भी शामिल है।

असमानता, नीतियों का प्रभाव और विश्लेषण

  • असमानता और संबंधित नीतियों पर डेटा को तेजी से सुधारने के लिए तथा असमानता को कम करने में प्रगति की नियमित निगरानी करने के लिएसरकारों, अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों और अन्य हितधारकों को एक साथ काम करना चाहिए।

असमानता से लड़ने के लिए एक साथ आना

  • कोरोनावायरस महामारी के परिणामस्वरूप बढ़ती असमानता के ख़िलाफ़ लड़ाई में सरकारों और अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों को एक साथ आना चाहिए।
  • सबसे ज़रूरी नीतिगत उपायों में एक वैश्विक प्रतिबद्धता और वित्त पोषण शामिल है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि COVID-19 टीके सभी देशों को मुफ़्त होंगे और कम आय वाले देशों में श्रमिकों की सुरक्षा के लिए सामाजिक सुरक्षा में विस्तार होगा।
  • अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को विशेष आहरण अधिकार (Special Drawing Rights), ऋण राहत (debt relief) और वैश्विक एकजुटता करों (global solidarity taxes) के साथ असमानता वाले देशों का समर्थन करना चाहिए।

पीआईबी न्यूज पर्यावरण

भारत की पहली हाइड्रोजन ईंधन सेल प्रोटोटाइप कार


अक्टूबर 2020 में वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) और केपीआईटी ने भारत की पहली हाइड्रोजन ईंधन सेल प्रोटोटाइप कार का सफलतापूर्वक परीक्षण किया। महत्वपूर्ण तथ्य: यह कार सीएसआईआर-नेशनल केमिकल लेबोरेटरी (एनसीएल), पुणे में स्वदेशी रूप से विकसित ईंधन सेल स्टैक (fuel cell stack) पर आधारित है।

महत्वपूर्ण तथ्य: यह ईंधन सेल एक कम तापमान प्रोटॉन एक्सचेंज मेम्ब्रेन (PEM) प्रकार का ईंधन सेल है, जो 65-75 डिग्री सेंटीग्रेड पर संचालित होता है, जो वाहनों के उपयोग के लिए उपयुक्त है।

  • 10 kWe ऑटोमोटिव ग्रेड LT-PEMFC ईंधन सेल स्टैक सफलतापूर्वक विकसित किया गया है। मेम्ब्रेन इलेक्ट्रोड असेंबली (membrane electrode assembly) सहित पीईएम ईंधन सेल प्रौद्योगिकी पूरी तरह सीएसआईआर द्वारा विकसित की गई, जबकि केपीआईटी ने स्टैक इंजीनियरिंग में अपनी विशेषज्ञता का उपयोग किया।
  • 2016 में, सीएसआईआर- एनसीएल और केन्द्रीय विद्युत रसायन अनुसंधान संस्थान (CSIR-CECRI) ने 'न्यू मिलेनियम इंडियन टेक्नोलॉजी लीडरशिप इनिशिएटिव (NMITLI) के तहत ऑटोमोटिव ग्रेड PEM ईंधन सेल प्रौद्योगिकी के विकास के लिए केपीआईटी के साथ साझेदारी की थी।
  • हाइड्रोजन ईंधन सेल (HFC) प्रौद्योगिकी विद्युत ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए हाइड्रोजन और ऑक्सीजन (हवा से) के बीच रासायनिक प्रतिक्रियाओं का उपयोग करती है तथा जीवाश्म ईंधन के उपयोग को समाप्त करती है।
  • इसके अलावा, ईंधन सेल प्रौद्योगिकी केवल पानी का उत्सर्जन करती है, इस प्रकार अन्य वायु प्रदूषकों के साथ हानिकारक ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन में कटौती करती है।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय

स्वामित्व योजना के अंतर्गत संपत्ति कार्ड वितरण


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 अक्टूबर, 2020 को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से ‘स्वामित्व योजना’ के अंतर्गत संपत्ति कार्ड वितरण का शुभारंभ किया।

उद्देश्य: ग्रामीण क्षेत्रों में संपत्ति मालिकों को संपत्ति अधिकार का रिकॉर्ड उपलब्ध कराना और संपत्ति कार्ड जारी करना।

महत्वपूर्ण तथ्य: इस अवसर पर हरियाणा, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के 763 गांवों के एक लाख से अधिक लाभार्थियों को भू-सम्पत्तियों के कानूनी कागजात (संपत्ति कार्ड) सौंपे गए।

  • ग्रामीण भारत में बदलाव लाने और लाखों लोगों को सशक्त बनाने के उद्देश्य से तैयार की गई स्वामित्व योजना पंचायती राज मंत्रालय का प्रमुख कार्यक्रम है, जिसकी शुरुआत अप्रैल 2020 में की गई थी।
  • यह योजना चार वर्ष (2020- 2024) की अवधि में चरणबद्ध रूप से पूरे देश में लागू की जाएगी। इसमें 6 लाख 62 हजार गांवों को कवर किया जाएगा।
  • योजना के तहत गांवों में संपत्तियों (भूमि और आवास) का नक्शा बनाने के लिए ड्रोन का उपयोग किया जाएगा।
  • पहले ग्रामीण जमीन पर बैंक से ऋण नहीं मिलता था। लेकिन अब भूमि प्रमाण-पत्र जारी होने के बाद उस संपत्ति के जरिए ऋण भी लिया जा सकेगा।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय

महिलाओं से संबंधित आपराधिक मामलों पर दिशा-निर्देश


गृह मंत्रालय ने 10 अक्टूबर, 2020 को सभी राज्यों और केंद्र-शासित प्रदेशों को महिलाओं के खिलाफ अपराधों के मामलों में पुलिस द्वारा अनिवार्य कार्रवाई के बारे में दिशा-निर्देश जारी किए।

महत्वपूर्ण तथ्य: घटना की रिपोर्टिंग के दो महीने के भीतर बलात्कार के मामलों की जांच पूरी करने का निर्देश दिया गया है।

  • भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 1872 के अनुसार मृतक द्वारा लिखित या मौखिक बयान जांच में प्रासंगिक तथ्य के रूप में माना जाएगा।
  • महिलाओं के खिलाफ अपराध में अनिवार्य आवश्यकताओं का पालन करने के लिए पुलिस की ओर से किसी भी विफलता की पूछताछ की जाएगी और संबंधित अधिकारियों के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।
  • यदि अपराध किसी पुलिस स्टेशन के अधिकार क्षेत्र के बाहर किया जाता है, तो पीड़ित 'शून्य प्राथमिकी' (Zero FIR) दर्ज करा सकती है। शून्य प्राथमिकी बाद में क्षेत्राधिकार पुलिस स्टेशन को स्थानांतरित कर दी जाती है।

अन्य निर्देश: फॉरेंसिक जांच के लिए सबूतों का संग्रह और यौन उत्पीड़न साक्ष्य संग्रह (SAEC) किट का उपयोग, बार-बार यौन अपराध करने वाले अपराधियों की पहचान करने और उन पर नजर रखने के लिए 'यौन अपराधियों पर राष्ट्रीय डेटाबेस' (National Database on Sexual Offenders) का उपयोग करना आदि।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय

नागोर्नो-काराबाख क्षेत्र में संघर्ष-विराम पर सहमति


आर्मेनिया और अजरबैजान 10 अक्टूबर, 2020 को नागोर्नो-कारबाख में संघर्ष विराम के लिए सहमत हो गए हैं।

उद्देश्य: बंदियों की अदला-बदली और मृतकों के शवों की खोज करना।

महत्वपूर्ण तथ्य: दोनों देशों के राजनयिकों के बीच मॉस्को में रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव के समन्वय में हुई बातचीत के बाद यह घोषणा की गई।

  • ज्ञात हो कि अजरबैजान और आर्मेनिया की सेनाओं के बीच हाल के संघर्ष की शुरुआत 27 सितम्बर को हुई, जिसमें कई लोग मारे गए थे।
  • नागोर्नो-काराबाख, काकेशस रेंज के दक्षिणी भाग और आर्मेनियाई उच्चभूमि के पूर्वी किनारे के बीच स्थित स्थलरुद्ध क्षेत्र है।
  • इसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अजरबैजान के हिस्से के रूप में मान्यता प्राप्त है। लेकिन अधिकांश क्षेत्र आर्मेनियाई अलगाववादियों द्वारा नियंत्रित हैं।
  • अजरबैजान सैन्य बलों और आर्मेनियाई अलगाववादियों के बीच कई वर्षों के संघर्ष के बाद 1994 में रूस ने संघर्ष विराम किया, तब तक अर्मेनियाई मूल के लोगों ने इस क्षेत्र पर नियंत्रण कर लिया था।
  • हालांकि 1994 के संघर्ष विराम के बाद भी अजरबैजान और आर्मेनिया, अक्सर एक-दूसरे पर नागोर्नो-काराबाख क्षेत्र के आसपास हमले का आरोप लगाते रहते हैं।
  • नागोर्नो-काराबाख, वर्तमान में अलगाववादी आर्मेनियाई द्वारा शासित है, जिन्होंने इसे ‘नागोर्नो-काराबाख स्वायत्त क्षेत्र’ (Nagorno-Karabakh Autonomous Oblast) नामक एक गणराज्य घोषित किया है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित व्यक्ति

एक दिन के लिए भारत में ब्रिटेन की उच्चायुक्त बनी चैतन्या


राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की 18 वर्षीय युवती चैतन्या वेंकटेश्वरन ने 7 अक्टूबर, 2020 को एक दिन के लिए भारत में ब्रिटेन के उच्चायुक्त का पद संभाला।

उद्देश्य: पूरे विश्व में महिलाओं के समक्ष चुनौतियों को उजागर करना और उन्हें सशक्त बनाना।

  • चैतन्या एक सक्रिय स्वयंसेवी कार्यकर्ता रही हैं, जो दृष्टिहीन छात्रों, तेजाब पीड़िताओं और समलैंगिकों के कल्याण के लिए कार्यरत रही हैं।
  • ब्रिटिश उच्चायोग 2017 से प्रति वर्ष 'उच्चायुक्त के लिए एक दिवस' प्रतियोगिता का आयोजन कर रहा है, जिसमें 18 से 23 वर्ष की भारतीय महिला को एक दिन के लिए उच्चायुक्त के वरिष्ठ अधिकारी के पद के लिए आमंत्रित किया जाता है।
  • 11 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस समारोह के अंतर्गत आयोजित इस वार्षिक प्रतियोगिता में चैतन्य चौथी महिला हैं, जिन्हें आयुक्त का पदभार सौंपा गया।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप निधन

पूर्व सीबीआई निदेशक अश्विनी कुमार का निधन


पूर्व केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के निदेशक अश्विनी कुमार का 8 अक्टूबर, 2020 को निधन हो गया। पुलिस के अनुसार वे शिमला में अपने आवास पर मृत पाए गए। वे 69 वर्ष के थे।

  • 1973 में भारतीय पुलिस सेवा में शामिल हुए कुमार, अगस्त 2006 में हिमाचल प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (DGP) नियुक्त हुये थे।
  • कुमार अगस्त 2008 से नवंबर 2010 तक CBI निदेशक के पद पर रहे। वे नागालैंड और मणिपुर के राज्यपाल भी रहे।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व प्रवासी पक्षी दिवस


10 अक्टूबर

2020 का विषय: 'बर्ड्स कनेक्ट अवर वर्ल्ड' (Birds Connect Our World)

महत्वपूर्ण तथ्य: यह दिवस प्रवासी पक्षियों और उनके आवासों के संरक्षण की आवश्यकता पर प्रकाश डालने वाला एक जागरूकता अभियान है। इस दिवस की शुरुआत 2006 में हुई थी। 2018 के बाद से यह दिवस वर्ष में दो बार मई और अक्टूबर में दूसरे शनिवार को मनाया जाता है।


सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस


10 अक्टूबर

2020 का अभियान: 'मानसिक स्वास्थ्य के लिए कदम: निवेश करें' (Move for mental health: let’s invest)

महत्वपूर्ण तथ्य: इस दिवस का उद्देश्य पूरे विश्व में मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाना और मानसिक स्वास्थ्य के समर्थन में प्रयासों को बढ़ावा देना है। विश्व स्वस्थ्य संगठन के अनुसार देश औसतन अपने राष्ट्रीय स्वास्थ्य बजट का 2% से कम मानसिक स्वास्थ्य पर खर्च करते हैं।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस


11 अक्टूबर

2020 का विषय: 'मेरी आवाज, हमारा समान भविष्य' (My Voice, Our Equal Future)

महत्वपूर्ण तथ्य: संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 19 दिसंबर, 2011 को लड़कियों के अधिकारों और दुनिया भर में लड़कियों के सामने आने वाली चुनौतियों को पहचानने के लिए 11 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय बालिका के दिवस के रूप में घोषित किया था।

सामयिक खबरें खेल चर्चित खेल व्यक्तित्व

अफगानिस्तान के बल्लेबाज नजीब ताराकई का निधन


अफगानिस्तान के सलामी बल्लेबाज नजीब ताराकई का सड़क दुर्घटना में घायल होने के बाद अक्टूबरको निधन हो गया। वे वर्ष के थे। उन्होंने अफगानिस्तान के लिए टीऔर एक वनडे अंतरराष्ट्रीय मैच खेले थे।

पीआईबी न्यूज विज्ञान और तकनीक

‘विज्ञान ज्योति’ एवं ‘एंगेज विद साइंस’ कार्यक्रम


विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) और आईबीएम इंडिया ने 8 अक्टूबर, 2020 को डीएसटी की दो पहलों ‘विज्ञान ज्योति’ एवं एंगेज विद साइंस (विज्ञान प्रसार) को आगे बढ़ाने के लिए सहयोग की घोषणा की।

उद्देश्य: एक मजबूत विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग एवं गणित (एसटीईएम) इकोसिस्टम बनाना।

विज्ञान ज्योति: यह पहल 9वीं से 12वीं कक्षातक की मेधावी छात्राओं को विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग एवं गणित (एसटीईएम) विषयों में उच्च शिक्षा को आगे बढ़ाने में मदद एवं प्रोत्साहन देने के लिए वर्ष 2019 में शुरू की गई।

  • इस कार्यक्रम के माध्यम से छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है तथा आसपास के वैज्ञानिक संस्थानों का दौरा, विज्ञान शिविर, प्रख्यात महिला वैज्ञानिकों के व्याख्यान और कैरियर परामर्श की सुविधा प्रदान की जाती है
  • यह विशेष रूप से उन क्षेत्रों में उच्च शिक्षा में एसटीईएम को आगे बढ़ाने का कार्यक्रम है, जहां शीर्ष महाविद्यालयों मे लड़कियों की संख्या काफी कम है।

एंगेज विद साइंस: विज्ञान प्रसार के ‘एंगेज विद साइंस’ (Engage with Science) पहल के तहत छात्रों, शिक्षकों एवं वैज्ञानिकों का एक समुदाय बनाकर छात्रों में विज्ञान के प्रति रुचि विकसित करने और उन्हें उच्च शिक्षण संस्थानों से जोड़ने का प्रयास किया जाता है।

  • यह एक ऐसा मंच है, जिसके जरिये डिजिटल उपकरणों की मदद से छात्र सीधे तौर पर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी आधारित सामग्री (क्लाउड, बिग डेटा इत्यादि) का उपयोग कर सकते हैं।

पीआईबी न्यूज विज्ञान और तकनीक

‘कैल्शियम नाइट्रेट’ और 'बोरोनेटेड कैल्शियम नाइट्रेट' की स्‍वदेशी किस्‍म


केन्द्रीय रसायन और उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने 9 अक्टूबर, 2020 को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से गुजरात स्टेट फर्टिलाइजर्स एंड केमिकल्स-जीएसएफसी इंडिया लिमिटेड द्वारा तैयार ‘कैल्शियम नाइट्रेट’ और 'बोरोनेटेड कैल्शियम नाइट्रेट' की स्वदेशी किस्म को लॉन्च किया।

  • अब तक इसे दूसरे देशों से आयात किया जाता था। जीएसएफसी ने इन दोनों उत्पादों को पहली बार खुदरा बाजार में हिमाचल प्रदेश के सोलन और गुजरात के भावनगर से लॉन्च किया।
  • पिछले साल देश में लगभग 1.25 लाख मीट्रिक टन (1,23,000 टन) कैल्शियम नाइट्रेट का आयात किया गया था। इसमें से 76% चीन और बाकी अन्य देशों जैसे नॉर्वे और इजरायल से आयात किया गया था।
  • कैल्शियम नाइट्रेट का उपयोग कृषि में ‘जल में घुलनशील उर्वरक’ के रूप में किया जाता है। इसके अलावा, इस उत्पाद का उपयोग ‘अपशिष्ट जल उपचार’ में और ‘सीमेंट कंक्रीट की मजबूती’ बढ़ाने के लिए भी किया जाता है।

सामयिक खबरें आर्थिकी

गरीबी और साझा समृद्धि रिपोर्ट 2020


विश्व बैंक द्वारा 7 अक्टूबर, 2020 को द्विवार्षिक 'गरीबी और साझा समृद्धि रिपोर्ट 2020' जारी की गई।

महत्वपूर्ण तथ्य: रिपोर्ट 'गरीबी और साझा समृद्धि 2020: भाग्य का उलटाव' (Poverty and Shared Prosperity 2020: Reversals of Fortune) वैश्विक गरीबी और असमानता पर कोविड-19 के प्रभावों के नए अनुमान प्रस्तुत करती है।

  • दशकों से अधिक समय से अत्यधिक गरीबी में लगातार गिरावट आ रही है। अब, पहली बार एक पीढ़ी में गरीबी को खत्म करने की मुहिम को सबसे बड़ा झटका लगा है।
  • महामारी 88 मिलियन से 115 मिलियन लोगों को अत्यधिक गरीबी (Extreme poverty) की ओर धकेल सकती है। इससे 2021 तक अत्यधिक गरीब लोगों की संख्या बढ़कर 150 मिलियन तक पहुंच सकती है।
  • अनुमानों के अनुसार उप-सहारा अफ्रीका, 27-40 मिलियन नए गरीबों के साथ, और दक्षिण एशिया 49-57 मिलियन नए गरीबों के साथ बुरी तरह से प्रभावित होंगे।
  • प्रति दिन 1.90 डॉलर से कम पर जीवन-यापन को अत्यधिक गरीबी के रूप में परिभाषित किया गया है। 2020 में विश्व की जनसंख्या के 9.1% और 9.4% के बीच अत्यधिक गरीबी से प्रभावित होने की संभावना है।
  • महामारी और वैश्विक मंदी के कारण दुनिया की 1.4% आबादी अत्यधिक गरीबी में फंस सकती है।
  • भारत से गरीबी के आंकड़ों की कमी से विश्व बैंक के लिए मौजूदा वैश्विक गरीबी का अनुमान लगाना मुश्किल हो गया है।

सामयिक खबरें विज्ञान-पर्यावरण

स्वदेशी रूप से विकसित एंटी रेडिएशन मिसाइल ‘रुद्रम-1’


डीआरडीओ ने 9 अक्टूबर, 2020 को स्वदेशी रूप से विकसित नई पीढ़ी के एंटी रेडिएशन मिसाइल रुद्रम-1 का ओडिशा के तट से दूर व्हीलर द्वीप पर रेडिएशन परीक्षण किया। इसका परीक्षण ‘सुखोई-30 एमकेआई’ लड़ाकू विमान से किया गया।

महत्वपूर्ण तथ्य: यह मिसाइल रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा भारतीय वायु सेना (आईएएफ) के लिए विकसित की गई है।

  • एंटी-रेडिएशन मिसाइल दुश्मन के रडारों, संचार साइटों और अन्य ‘रेडियो आवृत्ति (RF) उत्सर्जन लक्ष्य’ जैसे किसी भी विकिरण उत्सर्जक स्रोत का पता लगा सकती है और लक्षित कर सकती है।
  • इसमें अंतिम हमले के लिए 'पैसिव होमिंग हेड' (passive homing head) के साथ आईएनएस-जीपीएस [Inertial Navigation System (INS)-Global Positioning System (GPS)] नेविगेशन है।
  • 'पैसिव होमिंग हेड' एक ऐसी प्रणाली है, जो सुनियोजित रूप में आवृत्तियों के एक विस्तृत बैंड पर लक्ष्यों (इस मामले में रेडियो आवृत्ति स्रोतों) का पता लगा सकती है, उन्हें वर्गीकृत कर सकती है और उलझा सकती है।
  • रुद्रम -1 की की मारक क्षमता दागे जाने की ऊंचाई के आधार पर 100 किमी. से 200 किमी. तक है। मिसाइल की गति 0.6 से 2 मैक (ध्वनि की गति से दोगुनी) है।
  • मिसाइल बड़ी गतिरोध सीमाओं से प्रभावी रूप से दुश्मन की वायु रक्षा के दमन के लिए वायु सेना के लिए एक शक्तिशाली हथियार है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित स्थल

भारतीय वायुसेना द्वारा खारडुंगला दर्रे, लेह में स्काईडाइव लैंडिंग


  • भारतीय वायु सेना द्वारा 8 अक्टूबर, 2020 को अपनी 88वीं वर्षगांठ के अवसर पर खारदुंगला दर्रा, लेह में अपने पहले के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए 17, 982 फीट की ऊंचाई पर अपने एक उच्चतम स्काईडाइव लैंडिंग का एक नया रिकॉर्ड बनाया गया।
  • विंग कमांडर गजनाद यादव और वारंट ऑफिसर ए के तिवारी ने सी-130जे विमान से सफल स्काईडाइविंग लैंडिंग किया की।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

नोबेल शांति पुरस्कार 2020


  • 9 अक्टूबर, 2020 को नॉर्वेजियन नोबेल समिति ने संयुक्त राष्ट्र संघ (यूएन) के विश्व खाद्य कार्यक्रम (डब्ल्यूएफपी) को नोबेल शांति पुरस्कार 2020 से सम्मानित करने की घोषणा की।
  • क्यों दिया गया? भुखमरी से निपटने के प्रयासों, संघर्ष से प्रभावित क्षेत्रों में शांति के लिए अपने योगदान के लिए और युद्ध और संघर्ष के हथियार के रूप में भूख के उपयोग को रोकने के लिए।
  • विश्व खाद्य कार्यक्रम को यमन से लेकर उत्तर कोरिया तक लाखों लोगों को भुखमरी से उबारने के लिए सम्मानित किया गया।
  • संयुक्त राष्ट्र का विश्व खाद्य कार्यक्रम आपात स्थितियों युद्धों से लेकर नागरिक संघर्षों, प्राकृतिक आपदाओं और अकाल के समय खाद्य सहायता प्रदान करता है।
  • यह 12वीं बार है, जब संयुक्त राष्ट्र की एक एजेंसी या व्यक्तित्व को शांति पुरस्कार दिया गया है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

प्राणि मित्र पुरस्कार 2020


  • 5 अक्टूबर, 2020 को केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावडेकर की अध्यक्षता में एक विशेष ऑनलाइन समारोह में प्राणि मित्र पुरस्कार 2020 के विजेताओं को सम्मानित किया गया।
  • केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण- प्राणि मित्र पुरस्कार, बंदी पशु प्रबंधन और कल्याण के लिए चिड़ियाघर अधिकारियों और कर्मचारियों को प्रोत्साहित करने के लिए प्रदान किए जाते हैं।
  • पुरस्कार चार श्रेणियों में दिए गए। उत्कृष्ट निदेशक / क्यूरेटर, उत्कृष्ट पशु चिकित्सक, उत्कृष्ट जीवविज्ञानी / शिक्षाविद, और उत्कृष्ट पशु रक्षक।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

66वां वन्य जीव सप्ताह


2 से 8 अक्टूबर

2020 का विषय: ‘दहाड़ और पुनर्जीवित- मानव-पशु संबंधों का अन्वेषण’ (RoaR (Roar and Revive) - Exploring Human-Animal Relationships)।

महत्वपूर्ण तथ्य: इसका मुख्य उद्देश्य लोगों को वन्यजीवों के संरक्षण के प्रति जागरूक करना है। भारतीय वन्यजीव बोर्ड का गठन 1952 में किया गया था, लेकिन वन्यजीव दिवस समारोह 1955 में शुरू हुआ और बाद में इसे 1957 में वन्यजीव सप्ताह समारोह के रूप में मनाया जाने लगा।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व डाक दिवस


9 अक्टूबर

महत्वपूर्ण तथ्य: प्रत्येक वर्ष 9 अक्टूबर को स्विट्जरलैंड की राजधानी, बर्न में 1874 में यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन की स्थापना की वर्षगांठ के रूप में मनाया जाता है। 1969 में टोक्यो, जापान में आयोजित यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन कांग्रेस द्वारा इसे विश्व डाक दिवस घोषित किया गया था।

सामयिक खबरें राज्य

गोवा देश का पहला 'हर घर जल' राज्य


  • 9 अक्टूबर, 2020 को केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय के अनुसार गोवा देश का ऐसा पहला 'हर घर जल' राज्य बन गया है, जो हर ग्रामीण घर में नल का जल कनेक्शन प्रदान करता है।
  • राज्य ने 2 लाख 30 हजार ग्रामीण परिवारों को नल का जल कनेक्शन प्रदान किया है।
  • 1 लाख 65 हजार ग्रामीण परिवारों के साथ उत्तरी गोवा और 191 ग्राम पंचायतों में 98 हजार ग्रामीण परिवारों के साथ दक्षिण गोवा पूरी तरह से नल कनेक्शन के माध्यम से सुनिश्चित जल आपूर्ति से संतृप्त हैं।
  • राज्य अब पानी की आपूर्ति की कार्यक्षमता की निगरानी के लिए एक सेंसर-आधारित सेवा वितरण निगरानी प्रणाली की योजना बना रहा है।
  • केंद्र सरकार के जल जीवन मिशन का लक्ष्य 2024 तक सभी ग्रामीण घरों में नल से पानी पहुंचाना है।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय कृषि

परिशुद्धकृषि के लिए वैभव शिखर सत्र का आयोजन


  • 5 अक्टूबर, 2020 को भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (Indian Council of Agricultural Research- ICAR) ने वौश्विक भारतीय वैज्ञानिक (Vaishwik Bhartiya Vaigyanik- VAIBHAV) शिखर सम्मेलन- 2020 के एक भाग के रूप में “परिशुद्ध खेती” के अंतर्गत "परिशुद्ध खेती के लिए सेंसर और सेंसिंग" पर एक सत्र आयोजित किया।
  • इसका उद्देश्य आत्म निर्भर भारत के प्रयास को गति प्रदान करने के लिए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के आधार (S&T Base) को मज़बूत करना है।

प्रमुख बिंदु

  • इस पहल ने प्रवासी और भारतीय वैज्ञानिकों / शिक्षाविदों की चिंतन प्रक्रिया व पद्धतियों और अनुसंधान एवं विकास (R&D) की संस्कृति को एक साथ लाने तथा इसके ठोस परिणामों के लिए अनुवाद संबंधी अनुसंधान / शैक्षणिक संस्कृति हेतु एक योजना तैयार करने की मांग की है।
  • कृषि और अनेक क्षैतिजों से सीधे तौर पर संबंधित ‘’कृषि-अर्थव्यवस्था और खाद्य सुरक्षा’’ विषय पर विचार विमर्श के लिए कुल 18 आधारों की पहचान की गई है।
  • ‘’परिशुद्ध खेती’’ के संबंध में क्षैतिजों का लक्ष्य सेंसर, रिमोट सेंसिंग, डीप लर्निंग कृत्रिम बौद्धिकता (Artificial Intelligence – AI) और इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IOT) में हुए विकास को व्यवहार में लाकर दक्षता और पर्यावरणीय निरंतरता का संवर्धित उपयोग कर मृदा, पौध और पर्यावरण की निगरानी एवं प्रमात्रीकरण के ज़रिये कृषि उत्पादकता बढ़ाने पर चर्चा करना है।

परिशुद्ध खेती (Precision Agriculture- PA)

  • परिशुद्ध खेती को एक संपूर्ण-कृषि प्रबंधन रणनीति के रूप में परिभाषित किया जा सकता है, जो सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग करता है और जिसके प्रबंधन का मुख्य उद्देश्य उत्पादन में सुधार और पर्यावरणीय प्रभाव को कम करना है।
  • यह कृषि प्रणाली (आधुनिक कृषि प्रणाली) को भी संदर्भित करता है जिसमें खेत से लेकर उपभोक्ता तक की आपूर्ति श्रृंखला शामिल है।

भारत में परिशुद्ध खेती (Precision Agriculture- PA) की आवश्यकता

  • कुल उत्पादकता में गिरावट, प्राकृतिक संसाधनों का ह्रास और पतन, कृषि आय में ठहराव, पर्यावरण के क्षेत्रीय दृष्टिकोण की कमी, कृषि में व्यापार का उदारीकरण, गैर-कृषि क्षेत्र में सीमित रोजगार के अवसरऔर वैश्विक जलवायु में हो रहे परिवर्तन कृषि क्षेत्र के वृद्धि और विकास की प्रमुख चिंताएँ हैं।
  • इसलिए, भविष्य में कृषि उत्पादकता बढ़ाने के लिए नई उभरती हुईप्रौद्योगिकी / तकनीकी अपनाने (स्वीकार्यता) को एक समाधान के रूप में देखा जाता है।

लाभ

  • परिशुद्ध खेती कृषि उत्पादकता को बढ़ाता है और खेती योग्य भूमि में मिट्टी के क्षरण को रोकता है, जिसके परिणामस्वरूप निरंतर कृषि विकास होता है।
  • फसल उत्पादन में अत्यधिक रासायनिक उपयोग को कम करने में मदद करता है।
  • जल संसाधनों के कुशल उपयोग की अनुमति देता है।
  • पूरे क्षेत्र में संवेदी उपकरणों (Sensing Devices) को लगाकर चुने गए मापदंडों की निरंतर निगरानी हो सकती है और यह निर्णय लेने में मदद करने के लिए वास्तविक समय डेटा (Real-Time Data) प्रदान करता है।
  • यह बेहतर संसाधन प्रबंधन के अवसर प्रदान करता है और इसलिए संसाधनों का अपव्यय कम करता है।

चुनौतियां

प्रौद्योगिकी (तकनीकी) से संबंधित चुनौतियां

  • परिशुद्धकृषि (सटीक खेती) में सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर के उपयोग में कुछ हद तक सक्षमता की आवश्यकता होती है। भारतीय किसानों के बीच निरक्षरता प्रौद्योगिकी अपनाने और परीक्षण संभावनाओं को कम करती है।
  • कृषि समुदायों के बीच परिशुद्धकृषि(सटीक खेती) के बारे में जागरूकता की कमी और अभाव इसके अंगीकार (अपनाने) के लिए सबसे बड़ी बाधा है।
  • स्थानीय तकनीकी विशेषज्ञता और सहायता का अभाव परिशुद्धता कृषि के लिए एक और बाधा है।

अर्थव्यवस्था संबंधी चुनौतियाँ

  • भारतीय कृषि को मुख्य रूप से लघु और सीमांत भूमिहर के रूप में चित्रित किया जाता है, जो परिशुद्ध कृषिको अपनाने में प्रमुख बाधा है।
  • ऐसे में परिशुद्ध कृषिमें उपयोग की जाने वाली उच्च लागत भागीदारी प्रौद्योगिकियों (high cost involvement technologies) को अपनाने की उम्मीद करना काफी कठिन और अव्यवहारिक है।
  • इसके अलावा, परिशुद्ध कृषि में उच्च प्रारंभिक लागत एक प्रमुख चुनौती है जिसमें कई महंगी मशीनें और उपकरण शामिल हैं जो छोटे और सीमांत किसानों की आर्थिक पहुंच से परे हैं।

सामाजिक और व्यवहार संबंधी चुनौतियाँ

  • भारतीय खेती पुराने कृषि पद्धतियों के अनुसार होती है।
  • वही कृषि पद्धतियाँ पीढ़ियों से चली आ रही हैं। परिशुद्ध कृषि (सटीक खेती) को अपनाने में प्रतिरोध और दृढ़ता दो प्रमुख बाधाएँ हैं।

आगे का रास्ता

कृषि स्तर पर परिशुद्ध कृषि (सटीक खेती)को बढ़ावा देने के लिए नीतिगत दृष्टिकोण-

  • फसल विशिष्ट परिशुद्ध कृषि (सटीक खेती)को बढ़ावा देने के लिए आला क्षेत्रों की पहचान करें।
  • परिशुद्ध कृषि के समग्र क्षेत्र का अध्ययन करने के लिए विभिन्न क्षेत्रों में कृषि वैज्ञानिकों, इंजीनियरों, निर्माताओं और अर्थशास्त्रियों को शामिल करने वाली बहु-विषयक टीमों का निर्माण हो।
  • किसानों को पायलट (Pilots) या मॉडल विकसित करने के लिए पूर्ण तकनीकी बैकअप सहायता प्रदान करें।
  • परिशुद्ध कृषि कार्यान्वयन के परिणामों को दिखाने के लिए किसानों के खेतों पर पायलट अध्ययन (Pilot Study) किया जाना चाहिए।
  • कुशल प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के लिए नीति विकसित करना और किसानों को पूर्ण रूप से तकनीकी सहायता की सुनिश्चित करना।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

ज्ञान सर्किल वेंचर्स


केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने 8 अक्टूबर, 2020 को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान, श्री सिटी (चित्तूर, आंध्र प्रदेश) में इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा वित्त पोषित एक प्रौद्योगिकी व्यापार इनक्यूबेटर 'ज्ञान सर्किल वेंचर्स' (Gyan Circle Ventures) का उद्घाटन किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: ज्ञान सर्कल वेंचर्स, सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा अनुमोदित किए गए ‘प्रौद्योगिकी ऊष्मायन और उद्यमियों का विकास’ (Technology Incubation and Development of Entrepreneurs -TIDE 2.0) इनक्यूबेशन केंद्र के रूप में कार्य करेगा।

  • ज्ञान सर्कल वेंचर्स निवेश, बुनियादी संरचना और सलाह के माध्यम से विभिन्न चरणों में सहायता प्रदान करके नवाचार और स्टार्टअप के लिए एक हब (केंद्र) के रूप में कार्य करेगा।
  • इनक्यूबेटर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई), ब्लॉक-चेन, साइबर भौतिक पद्धति (सीपीएस), साइबर सुरक्षा, इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी), रोबोटिक्स आदि जैसी उभरती हुई प्रौद्योगिकियों के उपयोग को संलग्न करेगा।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

भारतीय कपास के पहले ब्रांड और लोगो का लोकार्पण


  • केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने 7 अक्टूबर, 2020 को दूसरे विश्व कपास दिवस पर भारतीय कपास के पहले ब्रांड और लोगो का लोकार्पण किया।
  • विश्व कपास व्यापार में अब भारत के प्रीमियम कपास को ‘कस्तूरी कपास’ के नाम से जाना जाएगा। कस्तूरी कपास ब्रांड सफेदी, चमक, मृदुलता, शुद्धता, शुभ्रता, अनूठापन एवं भारतीयता का का प्रतिनिधित्व करेगा।

  • भारत विश्व में कपास का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक और सबसे बड़ा उपभोक्ता देश है। कपास देश की प्रमुख व्यावसायिक फसलों में एक है और यह करीब 60 लाख किसानों को आजीविका प्रदान करता है।
  • भारत में हर साल 60 लाख टन कपास का उत्पादन होता है, जो विश्व कपास का लगभग 23% है। भारत विश्व की कुल जैविक कपास ऊपज के लगभग 51% का उत्पादन करता है।

सामयिक खबरें आर्थिकी

पूर्वोत्तर के लिए विशेष त्वरित सड़क विकास कार्यक्रम


सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने अक्टूबर 2020 में चालू वित्तीय वर्ष (2020-21) के दौरान पूर्वोत्तर क्षेत्रों से संबंधित कार्यों के लिए विशेष त्वरित सड़क विकास कार्यक्रम [Special Accelerated Road Development Programme in North Eastern Areas (SARDP-NE)] के तहत व्यय के लिए धन का आवंटन बढ़ाया है।

SARDP-NE के उद्देश्य: राज्य की राजधानियों को 2/ 4 लेन से जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्गों का उन्नयन; सीमा क्षेत्र में सामरिक महत्व की सड़कों में सुधार; तथा पड़ोसी देशों से संपर्क में सुधार।

महत्वपूर्ण तथ्य: संशोधित आवंटन के तहत, 2020-21 के दौरान मूल रूप से आवंटित राशि (390 करोड़ रुपये) को लगभग दोगुना (760 करोड़ रुपये) करने की अनुमति दी गई है। इसमें से 300 करोड़ रुपये अरुणाचल प्रदेश पैकेज के लिए विशेष रूप से निर्धारित हैं।

  • भारत सरकार ने पूर्वोत्तर क्षेत्र में विशेष त्वरित सड़क विकास कार्यक्रम (एसएआरडीपी-एनई) योजना के तहत बड़े पैमाने पर सड़क विकास कार्यक्रम शुरू किया है। सितंबर 2005 से कार्यक्रम का दायरा समय-समय पर बढ़ाया गया है।
  • SARDP-NE (चरण -1 और अरुणाचल प्रदेश) के तहत लगभग 30,450 करोड़ रुपये के अनुमानित निवेश के साथ 6418 किमी. (5998 किमी. वास्तविक डिजाइन लंबाई) सड़क के विकास के लिए पहले ही निर्धारित किया जा चुका है, जिसमें से 3356 किमी. पूरा हो चुका है और 1961 किमी. निर्माणाधीन है।

सामयिक खबरें अंतर्राष्ट्रीय

चीन वैश्विक पहल 'कोवैक्स' में शामिल


चीन औपचारिक रूप से कोविड-19 वैक्सीन (टीके) के लिए वैश्विक पहल 'कोवैक्स' (COVAX) में शामिल हो गया है। इस संबंध में चीन ने अंतरराष्ट्रीय वैक्सीन गठबंधन 'गावी' (Gavi) के साथ 8 अक्टूबर, 2020 को एक समझौते पर हस्ताक्षर किए।

महत्वपूर्ण तथ्य: अप्रैल 2020 में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ), यूरोपीय आयोग और फ्रांस ने कोविड-19 महामारी को देखते हुये कोवैक्स को लॉन्च किया था।

  • इस पहल में गावी, महामारी तत्परता नवाचार के लिए गठबंधन (Coalition for Epidemic Preparedness Innovations- CEPI) द्वारा विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ समन्वय किया जा रहा है।
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की अगुवाई में कोवैक्स सुविधा का लक्ष्य 2021 के अंत तक टीकों की कम से कम 2 बिलियन खुराक उपलब्ध कराना है।
  • रूस और अमेरिका अभी इस पहल में शामिल नहीं हुए हैं। 150 से अधिक देश इस पहल में भागीदारी कर रहे हैं।
  • कोवैक्स सुविधा की मुख्य भूमिका भाग लेने वाले देशों में लोगों की जल्दी, निष्पक्ष और सुरक्षित रूप से कोविड-19 वैक्सीन तक पहुंच की संभावनाओं को अधिकतम करना है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप निधन

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का निधन


केंद्रीय खाद्य और उपभोक्ता मामलों के मंत्री और लोक जनशक्ति पार्टी के संरक्षक रामविलास पासवान का 8 अक्टूबर, 2020 को दिल्ली में निधन हो गया। वे 74 वर्ष के थे।

  • पासवान नौ बार लोक सभा सांसद रहे और वर्तमान में राज्य सभा सांसद थे। उन्होंने संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के साथ राजनीतिक सफर शुरु किया। 1969 में वे पहली बार बिहार विधान सभा के लिए चुने गए।
  • 1977 में पासवान पहली बार हाजीपुर से जनता पार्टी के सदस्य के तौर पर लोक सभा के सदस्य निर्वाचित हुए। इसके बाद वे 1980, 1989, 1991,1996 ,1998, 1999, 2004 और 2014 में भी लोक सभा चुनाव जीते। इस दौरान वो केंद्र की विभिन्न सरकारों में मंत्री रहे।
  • वर्ष 2000 में उन्होंने लोक जनशक्ति पार्टी का गठन किया था। 2019 में उन्होंने पार्टी की कमान अपने पुत्र चिराग पासवान को सौंप दी थी।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

साहित्य का नोबेल पुरस्कार 2020


  • 8 अक्टूबर, 2020 को स्वीडिश एकेडमी द्वारा साहित्य के लिए 2020 के नोबेल पुरस्कार की घोषणा की गई। इस वर्ष 77 वर्षीया अमेरिकी कवयित्री लुईस ग्लूक को यह पुरस्कार दिया गया।

  • ग्लूक को ‘’उनकी बेमिसाल काव्यात्मक आवाज के लिए सम्मानित किया गया, जो खूबसूरती के साथ व्यक्तिगत अस्तित्व को सार्वभौमिक बनाता है’’।
  • येल विश्वविद्यालय की प्रोफेसर, ग्लुक ने 1968 में 'फर्स्टबोर्न' (Firstborn) शीर्षक से अपने संग्रह की शुरुआत की।
  • उन्होंने 1993 में अपने संग्रह 'द वाइल्ड आइरिस' (The Wild Iris) के लिए पुलित्जर पुरस्कार और 2014 में 'फेदफुल' (Faithful) और 'वर्चुअस नाइट' (Virtuous Nigh) के लिए 'नेशनल बुक अवार्ड' जीता था।
  • वह साहित्य का नोबेल पुरस्कार जीतने वाली 16वीं महिला हैं और पिछले दशक में ओल्गा टोकार्चुक (2018), स्वेतलाना अलेक्सीविच (2015) और एलिस मुनरो (2013) के बाद साहित्य का नोबेल पुरस्कार जीतने वाली चौथी महिला हैं।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप विविध

डीबीटी-बीआईआरएसी क्लीन टेक डेमो पार्क


  • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने 8 अक्टूबर, 2020 को सराय काले खां, नई दिल्ली के पास बारापुल्लाह नाले की साइट पर ‘डीबीटी-बीआईआरएसी क्लीन टेक डेमो पार्क’ (DBT-BIRAC Clean Tech Demo Park) का उद्घाटन किया।
  • इस स्वच्छ तकनीक डेमो पार्क का उपयोग जैव प्रौद्योगिकी विभाग (डीबीटी), भारत सरकार और डीबीटी पीएसयू ‘जैव प्रौद्योगिकी उद्योग अनुसंधान सहायता परिषद’ (Biotechnology Industry Research Assistance Council- BIRAC) के समर्थन से ‘अभिनव अपशिष्ट-से-मूल्य प्रौद्योगिकियों’ (innovative Waste-to-Value technologies) को प्रदर्शित करने के लिए किया जायेगा।
  • पार्क का प्रबंधन डीबीटी, बीआरएसी और टाटा पावर द्वारा संयुक्त रूप से स्थापित सार्वजनिक-निजी भागीदारी इनक्यूबेटर ‘क्लीन एनर्जी इंटरनेशनल इनक्यूबेशन सेंटर’ (सीईआईआईसी) द्वारा किया जाएगा।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व कपास दिवस


7 अक्टूबर

महत्वपूर्ण तथ्य: 'कपास -4' देश (बेनिन, बुर्किना फासो, चाड और माली) की पहल पर, विश्व व्यापार संगठन ने पहली बार 7 अक्टूबर, 2019 को संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ), व्यापार और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCTAD), अंतरराष्ट्रीय व्यापार केंद्र (ITC) और अंतरराष्ट्रीय कपास सलाहकार समिति (ICAC) के सहयोग से विश्व कपास दिवस की शुरूआत की थी। यह दिवस पांच महाद्वीपों में 75 से अधिक देशों में उगाए जाने वाले वैश्विक पण्य सामग्री (commodity) के रूप में कपास के महत्व को पहचानने का अवसर प्रदान करता है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

वायु सेना दिवस


8 अक्टूबर

  • महत्वपूर्ण तथ्य: 8 अक्टूबर को वायु सेना दिवस मनाया जाता है, 1932 में इस दिन, भारत में वायु सेना को आधिकारिक तौर पर यूनाइटेड किंगडम के रॉयल एयर फोर्स के सहायक बल के रूप में स्थापित किया गया था।
  • पहला परिचालन स्क्वाड्रन अप्रैल 1933 में अस्तित्व में आया था। द्वितीय विश्व युद्ध में भाग लेने के बाद, भारत में वायु सेना को 1940 के दशक के मध्य में ‘रॉयल इंडियन एयर फोर्स’ कहा जाने लगा। 1950 में, गणतंत्र के अस्तित्व में आने के बाद यह भारतीय वायु सेना बन गया।

सामयिक खबरें संस्थान-संगठन

कर्मचारी राज्‍य बीमा निगम


  • कर्मचारी राज्य बीमा निगम ने 29 सितंबर, 2020 को कार्यस्थल पर कोविड-19 सुरक्षा उपायों के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं।
  • यह एक अग्रणी सामाजिक सुरक्षा संगठन है, जो रोजगार चोट, बीमारी, मृत्यु आदि आवश्यकता के समय नकद हितलाभ एवं उचित चिकित्सा देखरेख जैसे व्यापक सामाजिक सुरक्षा लाभ प्रदान करता है।
  • संसद द्वारा कर्मचारियों के राज्य बीमा अधिनियम, 1948 (ईएसआई अधिनियम) की घोषणा, स्वतंत्र भारत में श्रमिकों के लिए सामाजिक सुरक्षा पर पहला बड़ा कानून था।
  • इस योजना का उद्घाटन 24 फरवरी, 1952 को कानपुर में तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने किया था।
  • यह श्रमिकों की लगभग 3.49 करोड़ परिवार इकाइयों को कवर किए हुए है और अपने 13.56 करोड़ लाभार्थियों को अद्वितीय नकद हित लाभ एवं उचित चिकित्सा देख-रेख प्रदान कर रहा है।

पीआईबी न्यूज आर्थिक

प्राकृतिक गैस विपणन सुधारों को मंजूरी


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति ने 7 अक्टूबर, 2020 को गैस आधारित अर्थव्यवस्था की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बढ़ाते हुए ‘प्राकृतिक गैस मार्केटिंग (विपणन) सुधारों’ को मंजूरी प्रदान की।

उद्देश्य: ई-बोली के जरिये ठेकेदारों द्वारा की जाने वाली बिक्री के लिए दिशा-निर्देश जारी कर बाजार मूल्य का पता लगाने के लिए पारदर्शी और प्रतिस्पर्धात्मक तरीके से प्राकृतिक गैस की बिक्री के लिए मानक कार्य पद्धति प्रदान करना।

महत्वपूर्ण तथ्य: इस नीति ने खुली, पारदर्शी और ई-बोली को ध्यान में रखते हुए सम्बद्ध कम्पनियों को बोली प्रक्रिया में भाग लेने की अनुमति दी है। इससे गैस का विपणन सरल हो जाएगा।

  • लेकिन यदि सम्बद्ध गैस उत्पादक ही इसमें भाग लेते हैं और कोई अन्य बोलीकर्ता नहीं होंगे तो दोबारा बोली लगानी होगी।

प्रभाव: कारोबार की सुगमता, प्राकृतिक गैस के घरेलू उत्पादन में निवेश को बढ़ावा देकर आयात निर्भरता को कम करना, बढ़े हुए गैस उत्पादन के उपभोग से पर्यावरण में सुधार, एमएसएमई सहित गैस उपभोग क्षेत्र में रोजगार के अवसर तथा शहरी गैस वितरण और सम्बद्ध उद्योगों में निवेश बढ़ाने में मदद करेगा।

पीआईबी न्यूज आर्थिक

इंडिया पीवी एज-2020


नीति आयोग, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय तथा इन्वेस्ट इंडिया ने 6 अक्टूबर, 2020 को विश्वभर के पीवी उद्योग के लिए भारत में अवसर के बारे में सूचित करने के उद्देश्य से सौर फोटोवोल्टिक (पीवी) के विनिर्माण पर आधारित एक संगोष्ठी ‘इंडिया पीवी एज-2020’ (India PV Edge-2020) आयोजित की।

महत्वपूर्ण तथ्य: इस कार्यक्रम में भारत को सफल प्रौद्योगिकियों के साथ सौर पीवी विनिर्माण के लिए एक वैश्विक केंद्र बनाने और स्थानीय तथा वैश्विक कंपनियों द्वारा गीगा-स्केल कारखानों को स्थापित करने के लिए एक प्रणाली उपलब्ध करने की क्षमता पर चर्चा की गई।

  • अत्याधुनिक गीगा-स्केल सौर विनिर्माण तीन स्तंभों पर आधारित है- अभिनव पीवी रसायन विज्ञान; कस्टम-इंजीनियर उन्नत उत्पादन उपकरण द्वारा विनिर्माण; और विशेष ग्लास और कोटिंग जैसे अभिनव घटकों का उपयोग।
  • अक्षय ऊर्जा निवेश के वातावरण तथा सौर ऊर्जा के क्षेत्र में भारत की महत्वाकांक्षा में अवसरों एवं देश की मजबूत प्रेरणा पर प्रकाश डाला गया।
  • भारत में अब दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी सौर ऊर्जा की स्थापित क्षमता है। यह ऐसे कुछ देशों में से एक है, जो अपने तीन प्रमुख राष्ट्रीय निर्धारित योगदान (एनडीसी) लक्ष्यों को पूरा करने की स्थिति में है, जैसे- वर्ष 2030 तक, 40% गैर-जीवाश्म ईंधन आधारित विद्युत क्षमता प्राप्त करना, उत्सर्जन में 30-35% कमी लाना और 2.5 से 3 अरब टन कार्बन डाइऑक्साइड का कार्बन सिंक तैयार करना।

पीआईबी न्यूज आर्थिक

पूर्व पश्चिम मेट्रो कॉरिडोर परियोजना


7 अक्टूबर, 2020 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने कोलकाता शहर और आसपास के शहरी इलाकों के लिए पूर्व पश्चिम मेट्रो कॉरिडोर परियोजना के लिए संशोधित लागत को मंजूरी दी।

  • परियोजना की कुल रूट लंबाई 16.6 किलोमीटर है, जिसमें 12 स्टेशन है।
  • परियोजना कोलकाता मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड द्वारा कार्यान्वित की जा रही है, जो रेल मंत्रालय के अंतर्गत एक केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उद्यम है।
  • परियोजना की अनुमानित पूर्ण लागत 8575 करोड़ रुपये है और इसे दिसंबर 2021 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

भारतीय प्राणि सर्वेक्षण और इंटरनेशनल बारकोड ऑफ लाइफ में समझौता


7 अक्टूबर, 2020 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन के अन्तर्गत आने वाले ‘भारतीय प्राणि सर्वेक्षण’ (Zoological Survey of India -ZSI) और कनाडा के एक गैर-लाभकारी निगम ‘इंटरनेशनल बारकोड ऑफ लाइफ’ (International Barcode of Life- iBOL) के बीच जून 2020 को हस्ताक्षर हुए एक समझौता पत्र (एमओयू) के बारे में जानकारी दी। दोनों संगठन बारकोडिंग में आगे के प्रयासों के लिए एक साथ आए हैं।

  • डीएनए बारकोडिंग मानकीकृत जीन क्षेत्रों के एक छोटे खंड को क्रमबद्ध करके और संदर्भ अनुक्रम के लिए व्यक्तिगत अनुक्रमों की तुलना करके प्रजातियों की तेजी और सही पहचान करने की एक पद्धति है।
  • iBOL एक अनुसंधान साझेदारी है, जिसमें वे राष्ट्र शामिल हैं, जिन्होंने वैश्विक संदर्भ डेटाबेस के विस्तार, सूचना विज्ञान प्लेटफार्मों के विकास को सक्षम करने के लिए मानव और वित्तीय संसाधन दोनों की प्रतिबद्धता की है।
  • समझौते से भारतीय प्राणि सर्वेक्षण ‘बायोस्कैन’ (Bioscan) और ‘प्लैनेटरी बायोडायवर्सिटी मिशन’ (Planetary Biodiversity Mission) जैसे वैश्विक स्तर के कार्यक्रमों में भाग लेने में सक्षम हो सकेगा।

पीआईबी न्यूज पर्यावरण

सात दीर्घस्‍थायी कार्बनिक प्रदूषकों की संपुष्टि की मंजूरी


7 अक्टूबर, 2020 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने दीर्घस्थायी कार्बनिक प्रदूषकों-पीओपी (Persistent Organic Pollutants- POPs) पर स्टॉकहोम समझौते में सूचीबद्ध 7 रसायनों की संपुष्टि की मंजूरी दी।

महत्वपूर्ण तथ्य: घरेलू नियमों के तहत विनियमित की गई प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करने के उद्देश्य से पीओपी के संबंध में शक्तियां केन्द्रीय विदेश मंत्री और पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री को सौंप दी गई हैं।

  • सात रसायनों जैसे (i) क्लोरडीकोन, (ii) हेक्साब्रोमोबाइफिनाइल, (iii) हेक्साब्रोमोडीफिनाइल ईथर और हेप्टाब्रोमोडीफिनाइल ईथर (वाणिज्यिक ऑक्टा-बीडीई), (iv) टेट्राब्रोमोडीफिनाइल ईथर और पेंटाब्रोमोडीफिनाइल ईथर (वाणिज्यिक पेंटा-बीडीई), (v) पेंटाक्लोरोबेंजीन, (vi) हेक्साब्रोमोसाइक्लोडोडीकेन,और(vii) हेक्साक्लोरोब्यूटाडीन के उत्पादन, व्यापार, उपयोग, आयात और निर्यात को प्रतिबंधित किया गया है।
  • पर्यावरण (संरक्षण) कानून, 1986 के प्रावधानों के अंतर्गत 5 मार्च, 2018 को ‘दीर्घकालिक जैविक प्रदूषकों के विनियमन' को अधिसूचित किया था।
  • पीओपी पहचाने हुए रासायनिक पदार्थ हैं, जो पर्यावरण में दृढ़ता से रहते हैं, जीवित जीवों में जैव-संचित होते हैं तथा मानव स्वास्थ्य / पर्यावरण पर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं।
  • स्टॉकहोम समझौता पीओपी से मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण सुरक्षा के लिए एक वैश्विक संधि है। भारत ने 13 जनवरी, 2006 को स्टॉकहोम समझौते की पुष्टि की थी।
  • पीओपी के संपर्क में आने से कैंसर, केन्द्रीय और परिधीय तंत्रिका तंत्र को नुकसान, प्रतिरक्षा प्रणाली की बीमारियां हो सकती हैं। साथ ही प्रजनन संबंधी विकार और सामान्य शिशु और बच्चों के विकास में भी बाधा आ सकती है।

सामयिक खबरें विज्ञान-पर्यावरण

गेहूं की किस्म 'एमएसीएस 6478'


अक्टूबर 2020 में भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST) के एक स्वायत्त संस्थान, अघारकर अनुसंधान संस्थान (ARI) के वैज्ञानिकों द्वारा 'एमएसीएस 6478' (MACS 6478) नामक गेहूं की किस्म विकसित की गई है।

महत्वपूर्ण तथ्य: इस किस्म ने महाराष्ट्र के एक गाँव करंखोप में किसानों की फसल पैदावार को दोगुना कर दिया है।

  • नव विकसित सामान्य गेहूं या ब्रेड व्हीट, जिसे उच्च उपज देने वाला एस्टिवम (Aestivum) भी कहा जाता है, 110 दिनों में परिपक्व हो जाता है और पत्ती और तने के रतुआ रोग का प्रतिरोधी है।
  • अंबर (गहरा भूरा पीला) रंग के मध्यम आकार के इस किस्म में 14% प्रोटीन, 44.1 पीपीएम (parts per million) जिंक और 42.8 पीपीएम आयरन होता है, जो अन्य किस्मों से अधिक है।
  • बीज गुणन के लिए महाराष्ट्र राज्य बीज एजेंसी, 'महाबीज' किसानों के उपयोग के लिए 'एमएसीएस 6478' का प्रमाणित बीज उत्पादन कर रही है।
  • इस किस्म पर एक शोध पत्र 'इंटरनेशनल जर्नल ऑफ करंट माइक्रोबायोलॉजी एंड एप्लाइड साइंसेज’ में प्रकाशित हुआ है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

भौतिकी का नोबेल पुरस्कार 2020


स्वीडन स्थित ‘रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज’ द्वारा 6 अक्टूबर, 2020 को भौतिकी के नोबेल पुरस्कार 2020 की घोषणा की गई।

  • यह पुरस्कार रोजर पेनरोज (Roger Penrose) को रेनहार्ड गेनजेल (Reinhard Genzel) और एंड्रिया गेज (Andrea Ghez) के साथ संयुक्त रुप से ब्रह्मांड में सबसे अनोखी घटना, ब्लैक होल के बारे में उनकी खोजों के लिए दिया गया है।

रोजर पेनरोज: पुरस्कार का आधा हिस्सा यूनाइटेड किंगडम के रोजर पेनरोज (ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक) को दिया गया।

खोज: ब्लैक होल का निर्माण सापेक्षता के सामान्य सिद्धांत का एक मजबूत पूर्वानुमान ( robust prediction) है।

रेनहार्ड गेनजेल और एंड्रिया गेज: पुरस्कार का बाकी आधा हिस्सा जर्मनी के रेनहार्ड गेनजेल (मैक्स प्लांक इंस्टीट्यूट जर्मनी और कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, बर्कले, संयुक्त राज्य अमेरिका से संबद्ध) और अमेरिका की एंड्रिया गेज (कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, लॉस एंजेल्स संयुक्त राज्य अमेरिका से संबद्ध) को दिया गया।

खोज: हमारी आकाशगंगा के केंद्र में एक सुपरमैसिव कॉम्पैक्ट ऑब्जेक्ट (supermassive compact object) ‘सुपरमैसिव ब्लैक होल’ की खोज के लिए।

अन्य तथ्य: 1903 में मैरी क्यूरी (Marie Curie), 1963 में मारिया गोएपर्ट-मेयर (Maria Goeppert-Mayer) और 2018 में डोन्ना स्ट्रिकलैंड (Donna Strickland) के बाद एंड्रिया गेज चौथी महिला हैं, जिन्हें भौतिकी के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

सामयिक खबरें राज्य महाराष्ट्र

महाराष्ट्र की आतिथ्य क्षेत्र के लिए कारोबार सुगमता नीति


महाराष्ट्र मंत्रिमंडल ने 7 अक्टूबर, 2020 को आतिथ्य क्षेत्र (hospitality sector) के लिए कारोबार सुगमता की नीति को मंजूरी दी

  • राज्य में नया कारोबार शुरू करने के लिए पूर्व में आवश्यक 70 लाइसेंस के विपरीत अब केवल 10 लाइसेंस आवश्यक होंगे।
  • पहले इस उद्देश्य के लिए सात विभागों से 15 अनापत्ति प्रमाणपत्र (एनओसी) की आवश्यकता थी, जबकि अब 9 स्व-प्रमाणन आवश्यक होंगे।
  • जमा किए जाने वाले आवेदन फॉर्मों की संख्या भी 70 से घटाकर 8 कर दी गई है।

सामयिक खबरें राज्य गुजरात

साबरमती सेंट्रल जेल में 'रेडियो प्रिजन' का शुभारंभ


  • अहमदाबाद में साबरमती सेंट्रल जेल ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 151वीं जयंती के अवसर पर 2 अक्टूबर, 2020 को कैदियों के लिए समर्पित रेडियो स्टेशन 'रेडियो प्रिजन' (Radio Prison) का शुभारंभ किया।
  • रेडियो प्रिजन जेल परिसर के भीतर कैदियों को मनोवैज्ञानिक सहायता, कानूनी परामर्श और स्वास्थ्य और शिक्षा संबंधी जानकारी प्रदान करेगा।
  • इसमें किसी भी अन्य रेडियो स्टेशन की तरह एक स्टूडियो बनाया गया है, जिसमें रेडियो जॉकी की भूमिका सहित समस्त संचालन कैदियों द्वारा किया जाएगा। जेल अधिकारी अतिथि कलाकारों को भी प्रदर्शन के लिए आमंत्रित करेंगे।
  • यह सेवा महिलाओं की जेल और फिर भविष्य में नए जेल परिसर में विस्तारित की जाएगी। साबरमती जेल प्रशासन ने इस परियोजना पर 20 लाख रुपये खर्च किए हैं।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय जैवविविधता संरक्षण

पारिस्थितिकी तंत्र सेवाएं (ऊर्जा और संसाधन संस्थान, TERI का आकलन)


  • 5 अक्टूबर, 2020 को ऊर्जा और संसाधन संस्थान (The Energy and Resources Institute- TERI) ने एक आकलन ज़ारी किया है, जिसके अनुसार, दिल्ली चिड़ियाघर द्वारा प्रदान की गई पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं का वार्षिक आर्थिक मूल्य 426 करोड़ रुपये है।
  • यह अध्ययन, केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण (Central Zoo Authority- CZA) द्वारा किया गया था।

प्रमुख बिंदु

  • पारिस्थितिक तंत्र सेवाओं में जैव विविधता संरक्षण, रोजगार सृजन, शिक्षा और अनुसंधान, कार्बनिक भंडारण तथा मनोरंजक और सांस्कृतिक योगदान प्रमुख हैं।
  • जब कार्बन भंडारण, भूमि का सरोगेट मूल्य और दिल्ली चिड़ियाघर का भूमि मूल्य को एक साथ एक साथ रखकर पारिस्थिति की तंत्र सेवाओं पर विचार किया जाता है तो उनका लगभग 55,209 करोड़ रूपयेका योगदान है।

महत्त्व

  • यह भारत में 'पहला-पहला' अध्ययन है, जिसने चिड़ियाघर द्वारा प्रदान की गई महत्वपूर्ण पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं का "शक्तिशाली आधारभूत मूल्यांकन (Powerful Baseline Assessment)" दिया है।
  • इन अनुमानों का उपयोग पूरे भारत में चिड़ियाघरों द्वारा प्रदान किए गए मूल्य की गणना करने के लिए किया जा सकता है।

पारिस्थितिकी तंत्र सेवाएं

  • ये पारिस्थितिक तंत्रों द्वारा प्रदान किए जाने वाले लाभ हैं जो मानव जीवन को संभव और जीने लायक बनाने में योगदान करते हैं।
  • पारिस्थितिक तंत्र सेवाओं के उदाहरणों में खाद्य और पानी, बाढ़ का विनियमन, मिट्टी का क्षरण और रोग का प्रकोप जैसे उत्पाद तथाग़ैर-भौतिकी लाभ जैसे प्राकृतिक क्षेत्रों में आनंदप्रद और आध्यात्मिक लाभ शामिल हैं।
  • मिलेनियम पारिस्थितिकी तंत्र आकलन (Millennium Ecosystem Assessment- MEA), 2005 के अनुसार, पारिस्थितिकी तंत्र सेवाएँ " पारिस्थितिकी तंत्र से लोगों को मिलने वाले लाभ" है।

वर्गीकरण

मिलेनियम पारिस्थितिकी तंत्र आकलन (MEA) पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं को चार मुख्य प्रकारों में वर्गीकृत करता है-

  • प्रावधान सेवाएं (Provisioning Services): ये पारिस्थितिक तंत्र से प्राप्त उत्पाद हैं जैसे खाद्य पदार्थ, ताजे पानी, लकड़ी, फाइबर, आनुवंशिक संसाधन और दवाएं इत्यादि।
  • विनियमन सेवाएं (Regulating Services): इन्हें पारिस्थितिक तंत्र प्रक्रियाओं के नियमन से प्राप्त लाभों के रूप में परिभाषित किया गया है जैसे कि जलवायु विनियमन, प्राकृतिक खतरा विनियमन, जल शोधन और अपशिष्ट प्रबंधन, परागण या कीट नियंत्रण इत्यादि।
  • निवास सेवाएं (Habitat Services): ये प्रवासी प्रजातियों के लिए आवास प्रदान करने और जीन-पूल की व्यवहार्यता बनाए रखने के लिए पारिस्थितिक तंत्र के महत्व को उजागर करते हैं।
  • सांस्कृतिक सेवाएं (Cultural Services): इनमें गैर-भौतिक लाभ शामिल हैं जो लोग पारिस्थितिक तंत्र से प्राप्त करते हैं, जैसे आध्यात्मिक संवर्धन, बौद्धिक विकास, मनोरंजन और सौंदर्य मूल्य इत्यादि।

मिलेनियम पारिस्थितिकी तंत्र आकलन (MEA)

  • मिलेनियम पारिस्थितिकी तंत्र आकलन (MEA),पर्यावरण पर मानव प्रभाव का एक प्रमुख मूल्यांकन है, जिसकी मांग वर्ष 2000 में संयुक्त राष्ट्र महासचिव ‘कोफी अन्नान’ ने की थी।

उद्देश्य

  • पारिस्थितिकी तंत्र के परिणामों का आकलन करके मानव कल्याण के लिए उसमें बदलाव करना।
  • वैज्ञानिक आधार का अध्ययन करकेउन प्रणालियों के संरक्षण और स्थायी उपयोग तथा मानव कल्याण में उनके योगदान को बढ़ाने के लिए आवश्यक कार्रवाई करना।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

राष्ट्रीय स्टार्टअप पुरस्कार 2020


  • रेल, वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने राष्ट्रीय स्टार्टअप पुरस्कारों के पहले संस्करण के परिणाम 6 अक्टूबर, 2020 को नई दिल्ली में जारी किए।
  • उद्योग संवर्धन और आंतरिक व्यापार विभाग (डीपीआईआईटी) ने उत्कृष्ट स्टार्टअप्स और इकोसिस्टम को सक्षम करने वालों को मान्यता देने और पुरस्कृत करने के लिए राष्ट्रीय स्टार्टअप पुरस्कारों की शुरूआत की है।
  • पहले संस्करण के लिए 12 क्षेत्रों से आवेदन आमंत्रित किए गए थे। ये 12 क्षेत्र हैं- कृषि, शिक्षा, उद्यम प्रौद्योगिकी, ऊर्जा, वित्त, खाद्य, स्वास्थ्य, उद्योग 4.0, अंतरिक्ष, सुरक्षा, पर्यटन और शहरी सेवाएं।
  • इनके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में प्रभाव पैदा करने वाले, महिला नेतृत्व वाले और शैक्षणिक परिसरों में स्थापित स्टार्टअप को भी इन पुरस्कारों के लिए चुना जाता है।
  • कार्यक्रम के दौरान 'स्टार्टअप इंडिया शोकेस' और स्टार्टअप्स के प्रमाणपत्र हेतु 'ब्लॉकचेन-आधारित प्रमाणपत्र सत्यापन प्रणाली' भी लॉन्च की गई।
  • स्टार्टअप इंडिया शोकेस, स्टार्टअप इंडिया पोर्टल का हिस्सा है। यहाँ प्रदर्शित स्टार्टअप्स को विशेषज्ञों का साथ मिलेगा और उनके दायरों का विस्तार सामाजिक प्रभाव समेत फिनटेक, एडटेक (शिक्षा प्रौद्योगिकी) व अन्य क्षेत्रों में भी होगा।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप समझौते/संधि

इफको और प्रसार भारती में समझौता


  • विश्व की सबसे बड़ी उर्वरक सहकारी संस्था, भारतीय कृषक उर्वरक सहकारी लिमिटेड (इफको) और प्रसार भारती ने 5 अक्टूबर, 2020 को नई कृषि प्रौद्योगिकी एवं नवाचारों को प्रसारित और प्रोत्साहित करने के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।
  • समझौते के अनुसार, किसानों के लाभ के लिए डीडी किसान 30 मिनट की कार्यक्रम श्रृंखला के जरिए कृषि क्षेत्र में अपनाई जा रही विभिन्न नवीन तकनीकों के बारे में आसान भाषा में जानकारी प्रसारित करेगा।
  • इफको की स्थापना 1967 में की गई थी।

सामयिक खबरें राज्य गुजरात

डिजिटल सेवा सेतु कार्यक्रम


  • गुजरात सरकार ने 6 अक्टूबर, 2020 को ग्रामीण क्षेत्रों के लिए डिजिटल सेवा सेतु कार्यक्रम की घोषणा की।
  • फाइबर नेटवर्क के माध्यम से ग्राम पंचायतों को जोड़ने की पहल 'भारत नेट परियोजना के तहत डिजिटल सेवा सेतु की शुरुआत की गई है।
  • गुजरात के गांवों को डिजिटल सेवा सेतु कार्यक्रम के तहत 100 एमबीपीएस ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क से जोड़ा जाएगा।
  • इस कार्यक्रम के तहत, नागरिक ग्राम पंचायत स्तर पर 20 प्रकार की लोक कल्याणकारी सेवाओं का लाभ प्राप्त कर सकेंगे। इसके लिए नागरिकों को 20 रुपये के मामूली शुल्क का भुगतान करना होगा।
  • नागरिक इस कार्यक्रम के तहत विभिन्न दस्तावेजों जैसे राशन कार्ड की प्रतिलिपि, आय प्रमाण पत्र, वरिष्ठ नागरिक प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र अपने घर पर प्राप्त कर सकते हैं।
  • कार्यक्रम का पहला चरण 8 अक्टूबर से शुरू होगा, जिसमें 2,000 ग्राम पंचायतें शामिल होंगी। दिसंबर 2020 तक अन्य 8000 ग्राम पंचायतों को कवर किया जाएगा।

सामयिक खबरें संस्थान-संगठन

अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी


  • 64वां अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी महासम्मेलन 21 - 25 सितंबर 2020 तक वियना इंटरनेशनल सेंटर, वियना में आयोजित किया गया।
  • अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA) की स्थापना, वर्ष 1957 में संयुक्त राष्ट्र संघ के भीतर ‘वैश्विक शांति हेतु परमाणु संगठन’ के रूप की गई थी। यह एक अंतरराष्ट्रीय स्वायत्त संगठन है। इसका मुख्यालय वियना, ऑस्ट्रिया में स्थित है।
  • इसका उद्देश्य विश्व में परमाणु ऊर्जा का शांतिपूर्ण उपयोग सुनिश्चित करना है।
  • IAEA, अपने सदस्य देशों तथा विभिन्न भागीदारों के साथ मिलकर परमाणु प्रौद्योगिकियों के सुरक्षित, सुदृढ़ और शांतिपूर्ण उपयोग को बढ़ावा देने के लिए कार्य करता है, जो अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा और संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्यों में योगदान देता है।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया 2020


रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में रक्षा अधिग्रहण परिषद ने 28 सितंबर, 2020 को रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया 2020 का अनावरण किया।

रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया में सम्मिलित सुधार: सूची में वर्णित किसी उपकरण की खरीद आयात से पूर्व अधिसूचित समय सीमा के बाद नहीं की गई है, यह सुनिश्चित करने के लिए आयात पर प्रतिबंध के लिए हथियारों / मंचों की एक सूची को अधिसूचित करना।

  • आयातित रक्षा कलपुर्जों का स्वदेश में निर्माण;
  • खरीद की नई श्रेणी (वैश्विक-भारत में निर्माण) शामिल की गई है, जिसमें भारत में अपनी सहायक कंपनी के माध्यम से उपकरणों के पूरे / हिस्से या कलपुर्जों का निर्माण, रखरखाव और मरम्मत सुविधा का निर्माण शामिल है।

विशेषताएं: खरीद की भारतीय श्रेणी और मेक-1 और मेक -2 श्रेणी विशेष रूप से भारतीय विक्रेताओं लिए आरक्षित।

  • स्वदेशी सामग्री का संवर्द्धन; परीक्षण और जांच प्रक्रियाओं का युक्तिकरण; तथा आईडेक्स (iDEX), प्रौद्योगिकी विकास कोष और आंतरिक सेवा संगठनों जैसी पहलों के तहत 'नवाचार' के माध्यम से विकसित प्रोटोटाइप की खरीद की सुविधा।
  • परिसंपत्तियों पर मालिकाना हक के बिना उनका संचालन करने के लिए एक नई श्रेणी शुरू की गई है।
  • ऑफसेट दिशा-निर्देशों को संशोधित किया गया है, जिसमें घटकों की बजाय पूर्ण रक्षा उत्पादों के निर्माण को प्राथमिकता दी जाएगी।

अन्य तथ्य: पहली रक्षा खरीद प्रक्रिया (डीपीपी) वर्ष 2002 में लागू की गई थी।


पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

भारत - बांग्लादेश द्विपक्षीय नौसैनिक अभ्यास 'बोंगोसागर'


भारतीय नौसेना और बांग्लादेश नौसेना का द्विपक्षीय नौसैनिक अभ्यास 'बोंगोसागर' का दूसरा संस्करण 3 अक्टूबर, 2020 को बंगाल की उत्तरी खाड़ी में किया गया।

उद्देश्य: समुद्री अभ्यास और संचालन के एक व्यापक स्पेक्ट्रम के माध्यम से जंगी कार्रवाई का अंतर और संयुक्त परिचालन कौशल विकसित करना।

  • इस सत्र में दोनों नौसेनाओं के पोत द्वारा सतह युद्ध अभ्यास, नाविक कला विकास और हेलीकॉप्टर संचालन का अभ्यास किया गया।
  • बोंगोसागर नौसैनिक अभ्यास का पहला संस्करण 2019 में आयोजित किया गया था।

अन्य तथ्य: इसके अतिरिक्त 4 से 5 अक्टूबर, 2020 तक बंगाल की उत्तरी खाड़ी में ‘भारतीय नौसेना और बांग्लादेश नौसेना संयुक्त गश्ती’ (CORPAT) का तीसरा सत्र आयोजित किया गया, जिसमें दोनों नौसेना इकाइयों ने अंतरराष्ट्रीय समुद्री सीमा रेखा (आईएमबीएल) के साथ संयुक्त रूप से गश्त की।

  • संयुक्त गश्ती करने से दोनों नौसेनाओं के बीच आपसी समझ बेहतर हुई और गैरकानूनी गतिविधियों के संचालन को रोकने के उपायों को लागू करने में तत्परता दिखाई गई।

पीआईबी न्यूज विज्ञान और तकनीक

विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार के क्षेत्र में राष्ट्रीय पुरस्कार 2020


भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग की राष्ट्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संचार परिषद (एनसीएसटीसी) ने 6 अक्टूबर, 2020 को विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार के क्षेत्र में राष्ट्रीय पुरस्कार 2020 के लिए नामांकन आमंत्रित किए।

  • ये पुरस्कार प्रत्येक वर्ष 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के अवसर पर प्रदान किए जाते हैं। इसमें एक प्रशस्ति पत्र, एक स्मृति चिन्ह और नकद धनराशि शामिल होते हैं।
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान और और वैज्ञानिक अभिरुचि को बढ़ाने में अपना योगदान देने वाले लोगों तथा संस्थाओं को छ: श्रेणियों में यह पुरस्कार दिया जाता है।
  • ये छ: श्रेणियां हैं- विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार में उत्कृष्ट प्रयास (5 लाख रुपये का नकद पुरस्कार), पुस्तकों और पत्रिकाओं सहित प्रिंट मीडिया के माध्यम से विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार, बच्चों के बीच विज्ञान और प्रौद्योगिकी को लोकप्रिय बनाना, लोकप्रिय विज्ञान और प्रौद्योगिकी साहित्य का अनुवाद, नवीन और पारंपरिक तरीकों के माध्यम से विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार, इलेक्ट्रॉनिक माध्यम में विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार। अंतिम पांच श्रेणियों में 2 लाख रुपए का नकद पुरस्कार दिया जाता है।

पात्रता: 35 वर्ष से अधिक आयु के सभी भारतीय नागरिकों के साथ-साथ भारत में पंजीकृत सभी संस्थान या फिर केंद्र/ राज्य सरकार/केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा प्राधिकृत एक सक्षम प्राधिकारी द्वारा लिखित रूप में अनुशंसित हों।

सामयिक खबरें विज्ञान-पर्यावरण

गंगा नदी में डॉल्फिन सफारी


5 अक्टूबर, 2020 को 'गंगा नदी डॉल्फिन दिवस' के अवसर पर राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन (NMCG) ने गंगा नदी में डॉल्फिन आधारित इकोटूरिज्म कार्यक्रम की शुरुआत की, जिसमें डॉल्फिन सफारी भी शामिल है।

महत्वपूर्ण तथ्य: ये डॉल्फिन सफारी तीन राज्यों- उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल में छ: स्थानों पर गंगा नदी में शुरू की गई हैं।

  • उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले के बिजनौर बैराज में गंगा नदी 'डॉल्फिन जलज सफारी' को लॉन्च किया गया। अन्य पांच स्थल उत्तर प्रदेश में ब्रजघाट, प्रयागराज और वाराणसी; बिहार में कहलगाँव और पश्चिम बंगाल में बंदेल हैं।
  • गंगा की सफाई करने वाले स्थानीय समुदाय के प्रशिक्षित स्वयंसेवक 'गंगा प्रहरी' पर्यटकों को गंगा नदी में डॉल्फिन का नजारा दिखाने के लिए नाव की सवारी हेतु इन स्थलों पर लेकर जाएंगे।
  • इसके अलावा, बिजनौर से नरौरा तक 250 किमी. तक डॉल्फिन की गणना करने के लिए एक नया अभियान 'माई गंगा माई डॉल्फिन' भी शुरू किया गया।
  • 5 अक्टूबर, 2010 को गंगा डॉल्फिन को ‘राष्ट्रीय जलीय जानवर’ घोषित किया गया था। गंगा नदी डॉल्फिन भारत, नेपाल और बांग्लादेश की गंगा-ब्रह्मपुत्र-मेघना और कर्णफुली नदी प्रणाली में पाई जाती है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित व्यक्ति

शिवांगी सिंह होंगी राफेल की पहली महिला पायलट


फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी सिंह 10 सितंबर को औपचारिक रूप से भारतीय वायु सेना (IAF) में शामिल होने वाले राफेल विमान को उड़ाने वाली भारत की पहली महिला फाइटर पायलट बनने वाली हैं।

  • वाराणसी की रहने वाली शिवांगी वर्तमान में अंबाला स्थित भारतीय वायु सेना के नवीनतम लड़ाकू विमान को उड़ाने के लिए प्रशिक्षण ले रही हैं।
  • वह जल्द ही अंबाला स्थित नंबर 17 स्क्वाड्रन में शामिल हो जाएंगी, जिसे 'गोल्डन एरोज' भी कहा जाता है।
  • शिवांगी भारतीय वायु सेना की 10 महिला फाइटर पायलटों में से एक है, वे 2017 में वायु सेना में शामिल हुईं। IAF में शामिल होने के बाद, वह 'मिग-21 बाइसन' विमान उड़ा रही हैं।

सामयिक खबरें अंतर्राष्ट्रीय रैंकिंग, रिपोर्ट, सर्वेक्षण और सूचकांक

‘कंफ्रंटिंग कार्बन इनइक्वालिटी’ रिपोर्ट


  • ऑक्सफैम इंटरनेशनल (Oxfam International) और स्टॉकहोम एन्वायरनमेंटल इंस्टीट्यूट (Stockholm Environmental Institute- SEI) के रिपोर्ट के अनुसार, हाल के दशको में कार्बन के उत्सर्जन के मामले में बहुत बड़ा अंतर देखा गया है जो जलवायु संकट का मुख्य करण है।
  • इसके साथ, कार्बन उत्सर्जन के मामले में विश्व के 1% सबसे अमीर (Richest) लोग 50% सबसे गरीब (Poorest) लोगों से अधिक उत्तरदायी हैं।
  • वर्ष 1990-2015 तक के आकड़ों के आधार पर आईइस रिपोर्ट का नाम ‘कंफ्रंटिंग कार्बन इनइक्वालिटी’ (Confronting Carbon Inequality)है।

प्रमुख निष्कर्ष

कार्बन के चरमोत्सर्जन का काल

  • साल 1990 से 2015 तक के 25 वर्षों के दौरान जलवायु संकट में तीव्र वृद्धि हुई है, इस कालखंड में वैश्विक वार्षिक कार्बन उत्सर्जन में 60% तक की वृद्धि देखी गयी है।
  • इस उत्सर्जन के लिये उत्तरदायी विश्व के 10% (वैश्विक उत्सर्जन का 24.5%) सबसे अमीर लोगों में से आधे लोग उत्तरी अमेरिका और यूरोपीय संघ (European Union- EU) के देशों से संबंधित हैं। इसके साथ साथ भारत और चीन के नागरिककार्बन के कुल उत्सर्जन का पांचवें हिस्से (वैश्विक उत्सर्जन का 9.2%) के लिए उत्तरदायी हैं।
  • विश्व के 10% सबसे अमीर लोग 31% कार्बन बजट (Carbon Budget) के अवक्षय (Depletion) के लिये उत्तरदायी रहे हैं,जबकि इसमें विश्व के सबसे ग़रीब वर्ग के 50% लोगों की भूमिका मात्र 4% ही थी।
  • विश्व के सबसे ग़रीब वर्ग के 50% लोग सिर्फ़ 7% संचयी उत्सर्जन के लिए जिम्मेवार थें।

कार्बन असमानता विश्व कोजलवायु संकट की ओर ले रही है

  • दुनिया के सबसे ग़रीब 3.5 बिलियन लोगों का कार्बन उत्सर्जन में योगदान बहुत कम है, जबकिये बाढ़, तूफान और सूखे जैसे जलवायु प्रभावों से सर्वाधिक प्रभावित होते हैं।
  • अत्यधिक कार्बन असमानता पिछले 20-30 वर्षों में किए गए राजनीतिक निर्णयों का परिणाम है।
  • यह हमारी सरकारों के दशकों के एक लंबे असमान और कार्बन सघन आर्थिक विकास का प्रत्यक्ष परिणाम है।

असमान विकास और न्याय

  • असमान आर्थिक वृद्धि से ग़रीबी में कमी की दरधीमी हो जाती है
  • असमान विकास का एक और आशय (Implication) है: वैश्विक कार्बन बजट का तीव्रगति से व्यय,एक सभ्यमानक जीवन जीने के लिए समग्र मानवता के स्तर को उठाने के उद्देश्य से नहीं, बल्कि काफ़ी हद तक दुनिया भर के अल्पसंख्यक अमीरों की खपत का विस्तार करने के लिए किया जा रहा है।
  • इस रिपोर्ट में नस्ल, वर्ग, लिंग, जाति और उम्र जैसे कारकों के साथ आय असमानता तथा जलवायु संकट के संबंधों को भी स्वीकार किया गया।

कार्बन असमानता से निपटारा

  • 2030 तक प्रति व्यक्ति फुटप्रिंट को 1.5°C-सुसंगत स्तर तक कम करने से वार्षिक कार्बन उत्सर्जन में एक तिहाई से अधिक की कटौती होगी।

COVID-19 से आर्थिक सुधार के लिए सिफारिशें

  • वर्तमान में लागू किए गए सही सार्वजनिक नीतिगत उपाय कार्बन उत्सर्जन कम करके स्वस्थ, अधिक सामंजस्यपूर्ण और लचीला समाज निर्मित कर सकते हैं।
  • स्थायी नवीकरणीय स्रोतों में ऊर्जा आपूर्ति को तेजी से स्थानांतरित करने के लिए आवश्यक उपायों के अलावा, सरकारों को निम्नलिखित पर विचार करना चाहिए:
    • सार्वभौमिक सामाजिक सेवाओं के विस्तार के लिए संपत्ति करों (Wealth Taxes), विलासिता कार्बन करों (Luxury Carbon Taxes) और व्यापक प्रगतिशील कार्बन मूल्य निर्धारण (wider progressive carbon pricing)
    • विमान के ईंधनों की कर-मुक्त स्थिति और कंपनी कारों के लिए टैक्स ब्रेकको समाप्त करना
    • उचित नौकरी की गारंटी देने के लिए सार्वजनिक निवेश
    • कंपनी की अल्पकालिकता को कम करने के लिए कॉर्पोरेट प्रशासन को बदलना
    • कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए विज्ञान आधारित और निष्पक्षता के साथराष्ट्रीय लक्ष्य निर्धारित करना
    • सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) से परे हटकर आर्थिक प्रगति के लिंग-परिवर्तनकारी संकेतकों का एक व्यापक सेट विकसित करना, जैसे कि न्यूजीलैंड का स्वास्थ्य बजट
    • प्रभावित उद्योगों, महिलाओं, निम्न-आय और हाशिए वाले समूहों में श्रमिकों की भलाई सुनिश्चित करने के लिए सभी स्तरों पर सामाजिक संवाद के सिद्धांतों को शामिल करना।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय तथा स्विगी के बीच समझौता


आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय ने प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना के अंतर्गत स्ट्रीट फूड वेंडर (विक्रेताओं) को ऑनलाइन मंच उपलब्ध कराने के लिए ऑनलाइन फूड डिलीवरी प्लेटफॉर्म ‘स्विगी’ के साथ 5 अक्टूबर, 2020 को एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

  • इससे स्ट्रीट वेंडर्स को उनके व्यापार को आगे बढ़ाने का अवसर दिया जाएगा, वहीं उपभोक्ताओं को घर बैठे अपनी पसंद का स्ट्रीट फूड उपलब्ध होगा।
  • प्रायोगिक कार्यक्रम के रूप में इसमें 5 शहरों अहमदाबाद, चेन्नई, दिल्ली, इंदौर और वाराणसी के 250 विक्रेताओं को शामिल किया जाएगा।
  • पीएम स्वनिधि योजना 1 जून, 2020 से क्रियान्वित की गई है। इसका उद्देश्य कोविड-19 महामारी के कारण देशबंदी से बुरी तरह प्रभावित हुए स्ट्रीट वेंडर्स को अपनी आजीविका फिर से शुरू करने के लिए सस्ते दर पर छोटे ऋण उपलब्ध कराना है।

पीआईबी न्यूज विज्ञान और तकनीक

सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज ऑफ टॉरपीडो


रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) ने मिसाइल की मदद से छोड़े जाने वाले टॉरपीडो ‘सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज ऑफ टॉरपीडो’ (Supersonic Missile Assisted Release of Torpedo- SMART) का 5 अक्टूबर, 2020 को ओडिशा तट से दूर व्हीलर द्वीप से सफलतापूर्वक परीक्षण किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: इसमें रेंज और ऊंचाई तक मिसाइल की उड़ान, आगे शंकु के आकार के नुकीले भाग का पृथक्करण, टारपीडो का अलग होना और वेग न्यूनीकरण तंत्र (Velocity Reduction Mechanism- VRM) की तैनाती सहित सभी मिशन उद्देश्यों को पूरा किया गया है।

  • समुद्र तट के अलावा ट्रैकिंग स्टेशन (रडार, इलेक्ट्रो ऑप्टिकल सिस्टम) और डाउन रेंज जहाजों सहित दूरमापी (telemetry) स्टेशनों ने सभी घटनाओं की निगरानी की।
  • SMART, टॉरपीडो रेंज से परे एक मिसाइल पनडुब्बी रोधी युद्ध क्षमता (एएसडब्ल्यू) ऑपरेशन के लिए हल्के ‘पनडुब्बी रोधी टॉरपीडो सिस्टम’ की एक मिसाइल असिस्टेड रिलीज (missile assisted release) है। यह प्रक्षेपण और प्रदर्शन पनडुब्बी रोधी युद्ध क्षमता स्थापित करने में महत्वपूर्ण है।
  • डीआरडीएल, आरसीआई हैदराबाद, एडीआरडीई आगरा, एनएसटीएल विशाखापत्तनम सहित कई डीआरडीओ प्रयोगशालाओं ने SMART के लिए आवश्यक प्रौद्योगिकी का विकास किया है।

पीआईबी न्यूज विज्ञान और तकनीक

कोबास 6800 मशीन


केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने 5 अक्टूबर, 2020 को उत्तर प्रदेश में भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) द्वारा क्षेत्रीय स्तर पर संतुलित कोविड जांच रणनीति पर काम करने के लिए स्थापित ‘कोबास 6800’ (COBAS 6800) मशीन का शुभारंभ किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: कोविड-19 के तत्काल पीसीआर परीक्षण के लिए कोबास 6800 एक पूर्ण स्वचालित, अत्याधुनिक मशीन है, जिससे 24 घंटे में लगभग 1200 नमूनों की गुणवत्तापूर्ण जांच करना संभव होगा।

  • कोबास 6800 से वायरल हेपेटाइटिस बी और सी, एचआईवी, एमटीबी (रिफाम्पिसिन और आइसोनियाजाइड रोधक), पैपिलोमा, साइटोमेगालोवायरस, क्लैमाइडिया, नेइसेरेरिया आदि जैसे अन्य रोगजनक का भी पता चल सकेगा।
  • इसे सीमित मानवीय हस्तक्षेप के साथ दूर से ही संचालित किया जा सकता है।

अन्य तथ्य: कोविड उपचार के लिए समर्पित अस्पताल के तौर पर ‘प्रयागराज’ के मोतीलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के 220 बिस्तर वाली सुविधा के सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक का वर्चुअल माध्यम से उद्घाटन किया गया।

  • प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना (पीएमएसएसवाई) के तहत 150 करोड़ रुपये की लागत से इस ब्लॉक का निर्माण किया गया है।
  • राज्य में 13 नये चिकित्सा महाविद्यालयों की योजना है। ये चिकित्सा महाविद्यालय बिजनौर, गोंडा, ललितपुर, चंदौली, बुलंदशहर, पीलीभीत, कौशाम्बी, अमेठी, कानपुर देहात, सुल्तानपुर, लखीमपुर, औरैया और सोनभद्र जिलों में स्थापित किए जाएंगे।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय

डाक मतपत्र के लिए नए निर्देश


3 अक्टूबर, 2020 को निर्वाचन आयोग (EC) ने 80 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों और दिव्यांगजनों के लिए डाक मतपत्र (postal ballot) द्वारा मतदान प्रक्रिया को अधिक सुविधाजनक बनाने के लिए नए निर्देश जारी किए हैं।

महत्वपूर्ण तथ्य: डाक मतपत्र के चयन हेतु आवश्यक फॉर्म को 80 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों और दिव्यांगजनों के निवास स्थान पर उनके मतदान केंद्र के अंतर्गत बूथ स्तरीय अधिकारी द्वारा वितरित किया जाएगा।

  • बूथ स्तरीय अधिकारी अधिसूचना के पाँच दिनों के भीतर मतदाता द्वारा भरे हुए फॉर्म को रिटर्निंग अधिकारी के पास जमा करेगा।

डाक मतदान: मतदाताओं का एक सीमित समूह ही डाक मतदान का उपयोग कर सकता है। इस सुविधा के माध्यम से, मतदाता मतपत्र पर अपनी पसंद दर्ज करके और मतगणना से पहले निर्वाचन अधिकारी के पास इसे वापस भेजकर अपना मत दूरस्थ रूप से डाल सकता है।

  • थल सेना, नौसेना और वायु सेना जैसे सशस्त्र बलों के सदस्य, एक राज्य के सशस्त्र पुलिस बल के सदस्य (राज्य के बाहर सेवा करने वाले), भारत के बाहर तैनात सरकारी कर्मचारी और उनके जीवन साथी ही डाक द्वारा मतदान करने के हकदार हैं।
  • निवारक निरोध (preventive detention) के तहत मतदाता भी केवल डाक द्वारा मतदान कर सकते हैं।
  • विशेष मतदाताओं जैसे भारत के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, राज्यपालों, केंद्रीय मंत्रिमंडल के मंत्रियों, सदन के अध्यक्ष और चुनाव ड्यूटी पर तैनात सरकारी अधिकारियों के पास डाक द्वारा मतदान करने का विकल्प होता है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप निधन

पूर्व केंद्रीय मंत्री काजी रशीद मसूद का निधन


पूर्व केंद्रीय मंत्री और 9 बार सांसद रहे काजी रशीद मसूद का 5 अक्टूबर, 2020 को रुड़की में निधन हो गया। वे 73 वर्ष के थे।

  • मसूद सहारनपुर से लोक सभा के पांच बार सदस्य रह चुके थे। उन्होंने अप्रैल से नवंबर 1990 तक वी. पी. सिंह सरकार में केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) के रूप में भी काम किया था।
  • मसूद 2007 में उपराष्ट्रपति पद के चुनाव में संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (UPA) के उम्मीदवार भी थे, जिसमें वे तीसरे स्थान पर रहे थे।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप समझौते/संधि

आईएसएलआरटीसी और एनसीईआरटी के बीच समझौता


'भारतीय सांकेतिक भाषा अनुसंधान और प्रशिक्षण केंद्र’ (आईएसएलआरटीसी) और एनसीईआरटी के बीच 6 अक्टूबर, 2020 को एक ऐतिहासिक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए।

उद्देश्य: बधिर बच्चों के लिए संचार के उनके पसंदीदा प्रारूप अर्थात भारतीय सांकेतिक भाषा में शिक्षा सामग्री सुलभ कराना।

  • समझौता ज्ञापन के तहत, शैक्षिक प्रिंट सामग्री जैसे एनसीईआरटी की पाठ्यपुस्तकों, शिक्षकों की हैंडबुक और अन्य पूरक सामग्री और हिंदी और अंग्रेजी दोनों माध्यमों के कक्षा एक से कक्षा बारहवीं तक के सभी विषयों के संसाधनों को डिजिटल प्रारूप में भारतीय सांकेतिक भाषा में परिवर्तित किया जाएगा।
  • 2011 में स्थापित भारतीय सांकेतिक भाषा अनुसंधान और प्रशिक्षण केंद्र, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के अंतर्गत दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग का एक स्वायत्त राष्ट्रीय संस्थान है।
  • यह संस्थान भारतीय सांकेतिक भाषा के उपयोग को लोकप्रिय बनाने, भारतीय सांकेतिक भाषा में शिक्षण और अनुसंधान के संचालन के लिए मानव-शक्ति के विकास के लिए समर्पित है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व शिक्षक दिवस


5 अक्टूबर

2020 का विषय: 'शिक्षक: संकट में अग्रणी, भविष्य को फिर से परिभाषित करना' (Teachers: Leading in crisis, reimagining the future)

महत्वपूर्ण तथ्य: इस दिवस का उद्देश्य शिक्षकों की भूमिका पर प्रकाश डालना है। यह दिवस वर्ष 1994 से प्रतिवर्ष मनाया जाता है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

विश्व पर्यावास दिवस


5 अक्टूबर

2020 का विषय: 'सभी के लिए आवास: एक बेहतर शहरी भविष्य' (Housing For All: A better Urban Future)

महत्वपूर्ण तथ्य: इस दिवस का उद्देश्य हमारे कस्बों और शहरों की स्थिति को प्रतिबिंबित करना और सभी के लिए पर्याप्त आश्रय के बुनियादी अधिकार को सुनिश्चित करना है। यह दिवस अक्टूबर के प्रथम सोमवार को मनाया जाता है। यह दिवस पहली बार 1986 में मनाया गया था।

सामयिक खबरें संस्थान-संगठन

इबसा


विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने 16 सितंबर, 2020 को भारत, ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका के त्रिपक्षीय सहयोग समूह इबसा (India Brazil South Africa- IBSA) के विदेश मंत्रियों की बैठक की अध्यक्षता की।

  • IBSA एक अनूठा फोरम है, जो समान चुनौतियों का सामना करने वाले तीन बड़े लोकतंत्रों और तीन अलग-अलग महाद्वीपों की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं भारत, ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका, को एक साथ लाता है।
  • तीनों साझेदार विकासशील, बहुलवादी, बहु-सांस्कृतिक, बहु-जातीय, बहुभाषी और बहु-धार्मिक राष्ट्र हैं।
  • IBSA की स्थापना औपचारिक रूप से जून 2003 में ब्रासीलिया में विदेश मंत्रियों की बैठक में की गई थी।

सामयिक खबरें संस्थान-संगठन

विश्‍व निर्वाचन निकाय संघ (A-WEB)


सितंबर 2020 में भारत निर्वाचन आयोग ने विश्व निर्वाचन निकाय संघ (Association of World Election Bodies: A-WEB) के अध्यक्ष के रूप में एक वर्ष पूरा किया और एक वेबिनार आयोजित किया।

  • यह विश्व भर में चुनाव प्रबंधन निकायों (Election Management Bodies– EMBs) का सबसे बड़ा संघ है।
  • इसका उद्देश्य दुनिया भर में स्वतंत्र, निष्पक्ष, पारदर्शी और भागीदारी चुनाव कराने में दक्षता और प्रभावशीलता को बढ़ावा देना है।
  • इसकी स्थापना 14 अक्टूबर, 2013 को सांग-डो, दक्षिण कोरिया में की गई थी। विश्व निर्वाचन निकाय संघ में 115 EMB सदस्य और 16 क्षेत्रीय संघों / संगठनों के रूप में एसोसिएट सदस्य सम्मिलित हैं। इसका स्थायी सचिवालय सियोल में अवस्थित है।

पीआईबी न्यूज आर्थिक

अटल सुरंग


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 3 अक्टूबर, 2020 को मनाली में दुनिया की सबसे लम्बी राजमार्ग सुरंग ‘अटल सुरंग’ राष्ट्र को समर्पित की।

महत्वपूर्ण तथ्य: यह सुरंग 9.02 किमी. लंबी है, जो पूरे साल मनाली को लाहौल-स्पीति घाटी से जोड़ती है। इससे पहले, यह घाटी भारी बर्फबारी के कारण लगभग 6 माह तक अलग-थलग रहती थी।

  • यह सुरंग हिमालय की पीरपंजाल पर्वतमाला में औसत समुद्र तल से 3000 मीटर (10,000 फीट) की ऊंचाई पर अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ बनाई गई है।
  • यह मनाली और लेह के बीच सड़क की दूरी 46 किमी. कम करती है और दोनों स्थानों के बीच लगने वाले समय में भी लगभग 4 से 5 घंटे की बचत करती है।
  • सुरंग अर्द्ध अनुप्रस्थ वेंटिलेशन (semi transverse ventilation), एससीएडीए नियंत्रित अग्निशमन, रोशनी और निगरानी प्रणालियों सहित अत्याधुनिक विद्युत-यांत्रिक प्रणालियों से युक्त है।
  • प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर ‘द मेकिंग ऑफ अटल टनल’ (The making of Atal tunnel) पर एक चित्रात्मक प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया।
  • पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी सरकार ने रोहतांग दर्रे के भीतर से सुरंग बनाने का निर्णय वर्ष 2000 में लिया था और 2002 में इस सुरंग की आधारशिला रखी गई थी।

पीआईबी न्यूज विज्ञान और तकनीक

ब्रेथप्रिंट


अक्टूबर 2020 में भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के एक स्वायत्त संस्थान एस. एन. बोस नेशनल सेंटर फॉर बेसिक साइंसेज, कोलकाता के वैज्ञानिकों ने सांस में पाये जाने वाले ‘ब्रेथप्रिंट’ (BreathPrint) नामक एक बायोमार्कर की मदद से ‘हेलिकोबैक्टर पाइलोरी’ (Helicobacter pylori) बैक्टीरिया का शीघ्र पता लगाने का एक तरीका खोज निकाला है, जो पेप्टिक अल्सर का कारण बनता है।

महत्वपूर्ण तथ्य: ‘हेलिकोबैक्टर पाइलोरी’ बैक्टीरिया पेट को संक्रमित करते हुए ‘गैस्ट्राइटिस’ (gastritis) के विभिन्न रूप और अंततः गैस्ट्रिक कैंसर पैदा करता है।

  • डॉ. माणिक प्रधान एवं उनकी शोध टीम ने हेलिकोबैक्टर पाइलोरी का पता लगाने के लिए मानव द्वारा छोड़े गये सांस में अर्ध-भारी जल (एचडीओ) में इस नए बायोमार्कर को देखा।
  • टीम ने मानव सांस में विभिन्न जल आण्विक प्रजातियों के अध्ययन का उपयोग किया है। इसे मानव द्वारा छोड़े गये सांस में अलग-अलग जल समस्थानिकों का पता लगाने की ‘ब्रीथोमिक्स’ (Breathomics) विधि भी कहा जाता है।
  • हेलिकोबैक्टर पाइलोरी, एक आम संक्रमण है, जो जल्दी उपचार न कराये जाने पर गंभीर हो सकता है। इसका आमतौर पर पारंपरिक एवं दर्दनाक एंडोस्कोपी तथा बायोप्सी परीक्षणों द्वारा पता लगाया जाता है।
  • यह शोध हाल ही में अमेरिकन केमिकल सोसाइटी (एसीएस) के ‘एनालिटिकल केमिस्ट्री’ जर्नल में प्रकाशित हुआ था।
  • टीम ने पहले ही विभिन्न गैस्ट्रिक विकारों और एच पाइलोरी संक्रमण के निदान के लिए एक पेटेंट ‘पायरो-ब्रेथ’ (‘Pyro-Breath) उपकरण विकसित किया है।

पीआईबी न्यूज पर्यावरण

पाइपवोर्ट की दो नई प्रजातियों की खोज


अक्टूबर 2020 में भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के एक स्वायत्त संस्थान, पुणे के अघरकर रिसर्च इंस्टीट्यूट (एआरआई) के वैज्ञानिकों ने पश्चिमी घाट में महाराष्ट्र और कर्नाटक में ‘पाइपवोर्ट’ (pipeworts) की दो नई प्रजातियों की खोज की है।

महत्वपूर्ण तथ्य: पादप समूह की दो नई प्रजातियों को उनके विभिन्न औषधीय गुणों के लिए जाना जाता है।

  • पाइपवोर्ट -एरिओकौलोन (Eriocaulon) के नाम से प्रसिद्ध यह पादप समूह, मानसून के दौरान एक छोटी अवधि के भीतर अपने जीवन चक्र को पूरा करता है। भारत में इसकी लगभग 111 प्रजातियां पाई जाती है।
  • महाराष्ट्र के सिंधुदुर्ग जिले से मिली प्रजाति का नाम इसके सूक्ष्म पुष्पक्रम आकार के कारण ‘एरिओकौलोन पर्विसेफलम (Eriocaulon parvicephalum) रखा गया और कुमता, कर्नाटक से प्राप्त दूसरी प्रजाति का नाम तटीय कर्नाटक क्षेत्र करावली के नाम पर ‘एरिओकौलोन करावालेंस’ (Eriocaulon karaavalense) रखा गया।
  • इस पादप समूह की अधिकांश प्रजातियां पश्चिमी घाट एवं पूर्वी हिमालय में पायी जाती हैं तथा इनमें से लगभग 70% देशज हैं। इनमें से एक प्रजाति, एरिओकौलोन सिनेरियम (Eriocaulon cinereum), अपने कैंसर रोधी, पीड़ानाशक, सूजनरोधी गुणों के लिए प्रसिद्ध है। खोजी गई इन नई प्रजातियों के औषधीय गुणों का पता लगाया जाना अभी बाकी है।
  • यह शोध ‘फाइटोटैक्सा’ एवं ‘एनलिस बोटनीकी फेनिकी’ (Phytotaxa and Annales Botanici Fennici) नाम की शोध पत्रिकाओं में प्रकाशित हुआ।

सामयिक खबरें आर्थिकी

नाबार्ड का ‘स्वच्छता साक्षरता अभियान’


राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) ने जल, स्वच्छता और स्वास्थ्य के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देने के लिये 2 अक्टूबर, 2020 को ‘स्वच्छता साक्षरता अभियान’ की शुरुआत की। यह अभियान 26 जनवरी, 2021 को समाप्त होगा।

उद्देश्य: अच्छी आरोग्य और स्वच्छता प्रथाओं को अपनाने के लिए ग्रामीण आबादी के व्यवहार परिवर्तन को कायम रखने के लिए जागरूकता पैदा करना।

महत्वपूर्ण तथ्य: यह अभियान कमजोर ग्रामीण समुदायों को बेहतर स्वच्छता सुविधाओं तक पहुंच बनाने में सक्षम करने के लिए केंद्र सरकार के स्वच्छ भारत मिशन-ग्रामीण और 'वाश' (WASH) कार्यक्रम का समर्थन करेगा।

  • नाबार्ड लगभग 2,000 गांवों को कवर करेगा और लोगों की स्वच्छता जरूरतों को पूरा करेगा। यह मुख्य रूप से घरेलू शौचालयों के निर्माण के लिए क्रेडिट सुविधा प्रदान करने की रणनीति विकसित करेगा।
  • नाबार्ड ने भारत सरकार के जल, स्वच्छता और आरोग्य (WASH) कार्यक्रम का समर्थन करने के लिए वित्त वर्ष 2020- 21 के लिए 800 करोड़ की विशेष पुनर्वित्त सुविधा की घोषणा की है।
  • नाबार्ड 36 महीने तक की पुनर्भुगतान अवधि के साथ वाणिज्यिक बैंकों, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों और सहकारी बैंकों सहित सभी पात्र वित्तीय संस्थानों को रियायती पुनर्वित्त सुविधा प्रदान करेगा।

सामयिक खबरें विज्ञान-पर्यावरण

‘एसएस कल्पना चावला’ कार्गो अंतरिक्ष यान


2 अक्टूबर, 2020 को नासा ने भारतीय मूल की दिवंगत अंतरिक्ष यात्री ‘कल्पना चावला’ के नाम पर एक वाणिज्यिक कार्गो अंतरिक्ष यान ‘एसएस कल्पना चावला’ (SS Kalpana Chawla) लॉन्च किया। इस अंतरिक्ष यान ने अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन के लिए 4 टन कार्गो का परिवहन किया।

महत्वपूर्ण तथ्य: सिग्नस यान एस.एस. कल्पना चावला को 'एनजी -14 मिशन' (NG -14 mission) के लिए एंटेरा रॉकेट के साथ मिड-अटलांटिक रीजनल स्पेसपोर्ट (MARS) से वर्जीनिया में नासा की वॉलॉप्स उड़ान सुविधा से लांच किया गया।

  • इस अंतरिक्ष यान का निर्माण एक वर्जीनिया स्थित कंपनी नॉर्थ्रॉप ग्रुमैन (Northrop Grumman) द्वारा किया गया है।
  • ज्ञात हो कि भारतीय मूल की अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला की 2003 के कोलंबिया अंतरिक्ष यान त्रासदी में छ: अन्य अंतरिक्ष यात्रियों के साथ मृत्यु हो गई थी।

विशेषताएं: इस अंतरिक्ष यान में ‘सार्वभौमिक अपशिष्ट प्रबंधन प्रणाली’ नामक एक नया अंतरिक्ष शौचालय ले जाया गया है। अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन में भविष्य के उपयोग के लिए 23 मिलियन डालर के कमोड का परीक्षण किया जायेगा। यह अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन के वर्तमान शौचालय की तुलना में 65% छोटा और 40% हल्का है।

  • यान में अंतरिक्ष में पौधों की उत्तरजीविता और व्यवहार्यता के बारे में जानने के लिए मूली-उगाने वाले प्रयोग के लिए उपकरण भेजे गये हैं।
  • सूक्ष्म गुरुत्वाकर्षण स्थितियों में कैंसर की दवाओं का परीक्षण किया जाएगा, जो ल्यूकेमिया और कैंसर उपचार तकनीक विकसित करने में मदद करेगा।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप

सामाजिक कार्यकर्ता पुष्‍पा भावे का निधन


जानी-मानी सामाजिक कार्यकर्ता पुष्पा भावे का 2 अक्टूबर, 2020 को मुंबई में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया था। वे 81 वर्ष की थीं।

  • पुष्पा भावे अपने विद्यार्थी जीवन से ही राष्ट्र सेवा दल और लोकतांत्रिक आंदोलनों से जुड़ीं थीं। उन्होंने आम नागरिकों के अधिकारों के लिए कड़ा संघर्ष किया।
  • उन्होंने संयुक्त महाराष्ट्र आंदोलन और गोवा मुक्ति आंदोलन में भाग लिया था। आपातकाल के दौरान उन्होंने भूमिगत होने वाले राजनीतिक कार्यकर्ताओं को अपने घर में शरण दी थी।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस


2 अक्टूबर

महत्वपूर्ण तथ्य: इसे महात्मा गाँधी की जन्म वर्षगाँठ के अवसर पर मनाया जाता है। इसका उद्देश्य सभी देशों में शिक्षा व जन-जाग्रति के द्वारा अहिंसा के सिद्धांत पर बल देना है। संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 2007 में इस दिवस की स्थापना की गई थी।

सामयिक खबरें राज्य जम्मू-कश्मीर

‘चलो गांव की ओर’ कार्यक्रम का तीसरा चरण


केंद्रशासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में प्रशासन द्वारा ‘चलो गांव की ओर’ (Back to village) कार्यक्रम का तीसरा चरण 2 अक्टूबर, 2020 को शुरू किया गया। इस चरण में दस दिन तक जन समस्याओं का समाधान किया जाएगा।

  • कार्यक्रम के पहले चरण में लोगों की समस्याएं और मांगें समझने की कोशिश की गई। दूसरा चरण पंचायतों को और अधिकार देने, उनकी कार्यशैली समझने पर केंद्रित था।
  • इस कार्यक्रम के अंतर्गत एक राजपत्रित अधिकारी किसी पंचायत का दौरा करता है, जहां वे ग्राम-विशिष्ट सेवाओं के वितरण में सरकारी प्रयासों में सुधार हेतु लोगों से प्रतिक्रिया लेते हैं।
  • जम्मू-कश्मीर प्रशासन द्वारा जून 2019 में यह पहल जमीनी स्तर पर शासन को मजबूत करने और भागीदारी बढ़ाने के लिए शुरू की गई थी।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय कमजोर वर्गों के लिए कल्याणकारी योजनाएँ

अम्बेडकर सामाजिक नवाचार और ऊष्मायन मिशन (ASIIM)


  • 30 सितंबर, 2020 को सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने उच्च शिक्षण संस्थानों में अध्ययनरत अनुसूचित जातियों (SC) के विद्यार्थियों में नवाचार और उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए अम्बेडकर सामाजिक नवाचार और ऊष्मायन मिशन(Ambedkar Social Innovation and Incubation Mission - ASIIM) का शुभारंभ किया है।

उद्देश्य

  • अम्बेडकर सामाजिक नवाचार और ऊष्मायन मिशन (ASIIM) का उद्देश्य अनुसूचित जातियों (SC) के युवाओं के बीच उद्यमिताको बढ़ावा देना है, इसमें दिव्यांगों को विशेष तरजीह (प्राथमिकता) दी जाएगी।
  • जिसके लिए प्रौद्योगिकी व्यवसाय इन्क्यूबेटरों (Technology Business Incubators -TBIs) के साथ तालमेल स्थापित करके वर्ष 2024 तक नवोन्मेषी विचारों (परिवर्तनात्मक विचारों - Innovative Ideas) का समर्थन किया जायेगा।
  • इसके साथ उदार वित्तीय व्यवस्था के माध्यम से स्टार्ट-अप विचारों को समर्थन और बढ़ावा देना, जब तक कि स्टार्ट-अप वाणिज्यिक उद्यमों जैसी स्थिति तक नहीं पहुंचते।

आवश्यकता

  • नवोन्मेषी विचारों की पहचान करने तथा नवोन्मेषी और प्रौद्योगिकी-उन्मुख व्यवसायिक विचारों पर काम करने में लगे युवा उद्यमियों को केंद्रित सहायता प्रदान करने की आवश्यकता है।अतःअम्बेडकर सामाजिक नवाचार और ऊष्मायन मिशन(ASIIM) की शुरआत की गयी।

प्रमुख बिंदु

कार्यान्वयन

  • अम्बेडकर सामाजिक नवाचार और ऊष्मायन मिशन (ASIIM) पहल को अनुसूचित जातियों के उद्यम पूंजी निधि (Venture Capital Fund) द्वारा लागू किया जाएगा।

योग्यता

अम्बेडकर सामाजिक नवाचार और ऊष्मायन मिशन (ASIIM) के यही लोग योग्य होंगे-

  • जिन युवाओं की पहचान प्रौद्योगिकी व्यवसाय इन्क्यूबेटरों (Technology Business Incubators) द्वारा की गई है।
  • जिन छात्रों को शिक्षा मंत्रालय द्वारा संचालित किए जा रहे स्मार्ट इंडिया हैकथॉन या स्मार्ट इंडिया हार्डवेयर हैकथॉन के तहत सम्मानित किया गया है।
  • प्रौद्योगिकी व्यवसाय इन्क्यूबेटर(Technology Business Incubator)में चिन्हित किए गए वे नवोन्मेषी विचार जो समाज के सामाजिक-आर्थिक विकास पर ध्यान देने वाले हों।
  • कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी (Corporate Social Responsibility - CSR) निधि के ज़रिये कॉर्पोरेट्स द्वारा नामांकित और समर्थित स्टार्टअप्स।

फ़ायदे

  • अगले 4 वर्षों में विभिन्न उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रौद्योगिकी व्यवसाय इन्क्यूबेटर(TBI) के माध्यम से स्टार्ट-अप विचारों के साथ 1,000 SC युवाओं को चिन्हित किया जाएगा।
  • सफल उद्यम (व्यापार)आगे चलकर कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी (Corporate Social Responsibility - CSR) निधि से 5 करोड़ रूपये तक उद्यम पूंजी निधि (Venture Capital Fund) के लिए पात्र होंगे।
  • यह पहल अनुसूचित जाति के युवाओं में नवाचार को बढ़ावा देने में मदद करेगी और उन्हें नौकरी करने वाला (Job-Seekers) से नौकरी देने वाला (Job-Givers) बनने में मदद करेगी।
  • यह मिशन सरकार के 'स्टैंड अप इंडिया' पहल को और बढ़ावा देगा।

अनुसूचित जाति के लिए उद्यम पूंजी निधि (Venture Capital Fund For Scheduled Castes)

  • इसे अनुसूचित जाति (SC) के नवोदित और मौजूदा उद्यमियों को प्रोत्साहित करने के लिए 200 करोड़ रूपये की प्रारंभिक पूंजी के साथ वर्ष 2015 में शुरू किया गया था।

उद्देश्य

  • अनुसूचित जातियों के बीच उद्यमशीलता को बढ़ावा देने के लिए।
  • एससी उद्यमियों को रियायती वित्त प्रदान करना।
  • एससी उद्यमियों के लिए वित्तीय समावेशन को बढ़ाने और एससी समुदायों के विकास के लिए उन्हें प्रेरित करने के लिए।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

डाटा गवर्नेंस क्वालिटी इंडेक्स सर्वे रिपोर्ट


अक्टूबर 2020 में जारी डाटा गवर्नेंस क्वालिटी इंडेक्स की सर्वे रिपोर्ट में रसायन और उर्वरक मंत्रालय के तहत आने वाले उर्वरक विभाग ने 16 आर्थिक मंत्रालयों/विभागों में दूसरा स्थान प्राप्त किया है।

महत्वपूर्ण तथ्य: उर्वरक विभाग ने 65 मंत्रालयों/विभागों में तीसरा स्थान प्राप्त किया है। सर्वे रिपोर्ट के 5 अंकों के पैमाने पर उसे 4.11 अंक प्राप्त हुए हैं।

  • नीति आयोग के डेवलपमेंट मॉनिटरिंग एंड इवेलुएशन ऑफिस (डीएमईओ) द्वारा केंद्रीय क्षेत्र की योजनाओं और केंद्र प्रायोजित योजनाओं (सीएसएस) को लागू करने के मामले में विभिन्न मंत्रालयों/विभागों द्वारा किए गए कार्य प्रदर्शन का आकलन करने के लिए यह सर्वेक्षण कराया गया था।
  • इंडेक्स में सभी मंत्रालयों/विभागों में डाटा तैयारी के स्तर की समीक्षा स्व-मूल्यांकन आधार पर की गई।
  • सर्वेक्षण में एक ऑनलाइन प्रश्नावली तैयार की गई, जो इंडेक्स के छ: मुख्य विषयों पर आधारित थी- डाटा सृजन; डाटा की गुणवत्ता; प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल; डाटा का विश्लेषण, उपयोग और प्रसार; डाटा सुरक्षा; एवं एचआर क्षमता तथा केस स्टडीज।
  • मंत्रालयों/विभागों को छ: श्रेणियों में विभाजित किया गयाः प्रशासनिक, सामरिक, अवसंरचना, सामाजिक, आर्थिक और वैज्ञानिक।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

आयुष ग्रिड


अक्टूबर 2020 में आयुष मंत्रालय ने आयुष सेक्टर के उभरते हुए ‘आयुष ग्रिड’ का राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन के साथ (एनडीएचएम) परिचालन एकीकरण का समर्थन किया है।

महत्वपूर्ण तथ्य: मंत्रालय ने 2018 में एक व्यापक आईटी आधार बनाने के लिए आयुष ग्रिड परियोजना शुरू की थी।

  • परियोजना में अब तक लागू की गई विभिन्न पहलों में सबसे महत्वपूर्ण आयुष स्वास्थ्य प्रबंधन सूचना प्रणाली (एएचएमआईएस) है।
  • आयुष ग्रिड की एक और सफलता ‘आयुष संजीवनी मोबाइल ऐप’ और ‘योग लोकेटर मोबाइल ऐप’ का विकास और कार्यान्वयन है।
  • आयुष ग्रिड के हिस्से के रूप में कार्यान्वित अन्य सफल परियोजनाओं में 1 नवंबर, 2019 को सिद्ध प्रणाली में पायलट परियोजना के रूप में सी-डैक के साथ शुरू किया गया ‘टेलीमेडिसिन कार्यक्रम’ शामिल है।
  • आयुष शिक्षा का समर्थन करने के लिए एक महत्वाकांक्षी परियोजना ‘आयुष नेक्स्ट’ (Ayush Next) के नाम से शुरू की जा रही है।
  • आयुष ग्रिड पहल के घटक आयुष क्षेत्र के सभी कार्यक्षेत्रों जैसे स्वास्थ्य सेवा, शिक्षा, आयुष अनुसंधान, केंद्रीय क्षेत्र और केंद्र प्रायोजित योजनाएं, प्रशिक्षण कार्यक्रम तथा नागरिक केंद्र सेवा को कवर करेगा।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

भारत-जापान द्विपक्षीय समुद्री अभ्यास- जेआईएमईएक्स 20


भारत-जापान के बीच द्विपक्षीय समुद्री अभ्यास, जेआईएमईएक्स का चौथा संस्करण (JIMEX 20) 26 से 28 सितंबर, 2020 तक उत्तरी अरब सागर में आयोजित किया गया।

  • यह अभ्यास भारतीय नौसेना और जापानी समुद्री आत्म-रक्षा बल (जेएमएसडीएफ) के मध्य द्विवार्षिक रूप से आयोजित किए जाते हैं।
  • इस बहुआयामी सामरिक अभ्यास में हथियारों की गोलीबारी, क्रॉस डेक (cross deck) हेलीकॉप्टर संचालन, जटिल स्थलों पर अभ्यास, पनडुब्बी-रोधी और वायु युद्धक अभ्यास शामिल थे।
  • स्वदेश निर्मित स्टैल्थ विध्वंसक ‘चेन्नई’, तेग क्लास स्टैल्थ युद्धपोत ‘तरकश’ और फ्लीट टैंकर ‘दीपक’ के साथ भारतीय नौसेना की पश्चिमी कमान के कमांडिंग फ्लैग ऑफिसर रियर एडमिरल कृष्णा स्वामीनाथन ने भारत का प्रतिनिधित्व किया।
  • जापानी समुद्री आत्म-रक्षा बल द्वारा जेएमएसडीएफ पोत ‘कागा’, एक इजुमो श्रेणी के विध्वंसक हेलिकॉप्टर और एक निर्देशित मिसाइल विध्वंशक ‘इकाजुची’ का प्रदर्शन किया गया।
  • जेआईएमईएक्स अभ्यासों की श्रृंखला का शुभारंभ जनवरी 2012 में किया गया था। इसका पिछला संस्करण अक्टूबर 2018 में भारत के विशाखापत्तनम तट पर आयोजित किया गया था।

पीआईबी न्यूज विज्ञान और तकनीक

अल्ट्रा–वायलेट इमेजिंग टेलीस्कोप


अल्ट्रा–वायलेट इमेजिंग टेलीस्कोप (UVIT) ने 28 सितंबर, 2020 को आकाश में खगोलीय पिंडों का चित्र (इमेजिंग) लेते हुए अपने पांच साल पूरे किये।

  • UVIT एक उल्लेखनीय ‘थ्री-इन-वन’ (Three- in- One) इमेजिंग टेलीस्कोप है, जो एक साथ दृश्यमान, निकट–पराबैंगनी (NUV) और दूर–पराबैंगनी (FUV) स्पेक्ट्रम का अवलोकन करता है।
  • यह भारत के प्रथम बहु-तरंगदैर्ध्य खगोलीय वेधशाला ‘एस्ट्रोसैट’ के पांच पेलोड में से एक है।
  • इसकी बेहतर स्थानिक रिजॉल्यूशन क्षमता ने खगोलविदों को आकाशगंगाओं में तारा निर्माण का पता लगाने के साथ-साथ स्टार क्लस्टर्स के कोर का समाधान करने में सक्षम किया है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

स्वच्छ भारत पुरस्कार 2020


जल शक्ति मंत्रालय द्वारा 2 अक्टूबर, 2020 को स्वच्छ भारत दिवस मनाया गया तथा स्वच्छ भारत पुरस्कार 2020 प्रदान किए गए।

  • विभिन्न श्रेणियों और अभियानों में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्यों और केंद्र-शासित प्रदेशों, जिलों, ब्लॉकों, ग्राम पंचायतों तथा अन्य को स्वच्छ भारत पुरस्कार प्रदान किए।

स्वच्छ सुंदर सामुदायिक शौचालय अभियान: गुजरात (सर्वश्रेष्ठ राज्य); तिरुनेलवेली, तमिलनाडु (सर्वश्रेष्ठ जिला); मध्य प्रदेश में उज्जैन का खाचरौद (सर्वश्रेष्ठ ब्लॉक); तमिलनाडु सलेम में चिन्नानूर (सर्वश्रेष्ठ ग्राम पंचायत)।

  • यह अभियान 1 नवंबर, 2019 से 30 अप्रैल, 2020 तक चलाया गया।

सामुदायिक शिक्षा अभियान: सर्वश्रेष्ठ राज्य श्रेणी में उत्तर प्रदेश (गरीब कल्याण रोजगार अभियान- जीकेआरए) और गुजरात (गैर-जीकेआरए); सर्वश्रेष्ठ जिला श्रेणी में प्रयागराज (जीकेआरए) और बरेली (गैर-जीकेआरए) तथा सर्वश्रेष्ठ ग्राम पंचायत असम में बोरीगांव, बोंगईगांव।

  • यह अभियान 15 जून से 15 सितंबर, 2020 तक चलाया गया।

गंदगी मुक्त भारत अभियान: तेलंगाना को अधिकतम श्रमदान भागीदारी के लिए शीर्ष पुरस्कार, वहीं हरियाणा को अधिकतम ओडीएफ प्लस गांव घोषित करने के लिए प्रथम पुरस्कार।

  • पंजाब के मोगा जिला को दीवार पर चित्रों के माध्यम से अधिकतम आईईसी (सूचना और शिक्षा) संदेशों को प्रसारित करने के लिए प्रथम पुरस्कार।
  • 8 अगस्त 2020 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा सप्ताह भर का गंदगी मुक्त भारत अभियान चलाया गया।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप अभियान/सम्मेलन/आयोजन

वैश्विक भारतीय वैज्ञानिक (वैभव) सम्मेलन 2020


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अक्टूबर, 2020 को दिल्ली में वैश्विक भारतीय वैज्ञानिक (वैभव) सम्मेलन का वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से उद्घाटन किया। सम्मेलन का समापन 31 अक्टूबर, 2020 को होगा।

उद्देश्य: समग्र विकास के समक्ष उभरती नई चुनौतियों का मुकाबला करने के लिए वैश्विक भारतीय शोधकर्ताओं के ज्ञान और उनकी विशेषज्ञता की मदद से एक समग्र खाका तैयार करना।

  • वैभव सम्मेलन एक वर्चुअल सम्मेलन है, जिसमें भारतीय और भारतीय मूल के प्रवासी अनुसंधानकर्ता तथा शिक्षाविद हिस्सा ले रहे हैं।
  • वैभव सम्मेलन भारत सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के नेतृत्व में 200 भारतीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और शैक्षिक संस्थानों द्वारा आयोजित किया जा रहा है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप विविध

ट्राइब्स इंडिया ई-मार्केटप्लेस


केन्द्रीय जनजातीय कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा ने 2 अक्टूबर, 2020 को ‘ट्राइब्स इंडिया ई-मार्केटप्लेस’ का शुभारंभ किया।

लक्ष्य: देशभर में विभिन्न हस्तकला, प्राकृतिक खाद्य उत्पादों की खरीद के लिए 5 लाख जनजातीय उत्पादकों को शामिल करना और सर्वोच्च गुणवत्ता वाले जनजातीय उत्पादकों को प्रस्तुत करना।

  • पूरे भारत में ‘ट्राइब्स इंडिया’ बिक्री केन्द्रों की संख्या को बढ़ाकर 124 किया गया है। कोलकाता और ऋषिकेश में दो नए ट्राइब्स इंडिया बिक्री केन्द्रों का उद्घाटन किया गया।
  • झारखंड के ‘पाकुड़’ जिले के ‘संथाल’ और ‘पहाड़िया’ जनजातीय समुदाय के सदस्यों द्वारा संग्रहित अपने स्वयं के बहु-पुष्पीय शहद अब ट्राइब्स इंडिया बिक्री केंद्रों पर उपलब्ध होंगे।
  • ट्राइफेड (ट्राइब्स इंडिया) अब भारत के लिए अमेजन के नवाचार कार्यक्रम ‘विक्रेता फ्लेक्स’ से भी जुड़ेगा, जो ग्राहकों के लिए उत्पादों के व्यापक वर्गीकरण और अमेजन के वितरण तंत्र का लाभ उठाने की पेशकश करता है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

अंतरराष्ट्रीय वृद्ध जन दिवस


1 अक्टूबर

2020 का विषय: 'पेंडेमिक्स: डू दे चेंज हाउ वी अड्रेस एज एंड एजिंग?' (Pandemics: Do They Change How We Address Age and Ageing?)

महत्वपूर्ण तथ्य: 1990 में संयुक्त राष्ट्र ने 1 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय वृद्ध जन दिवस के रूप में नामित किया था। वृद्ध व्यक्तियों की बेहतरी के लिए 1982 में वियना अंतरराष्ट्रीय कार्य-योजना को अपनाया गया था। वैश्विक रूप से, 2019 में 65 या उससे अधिक आयु के 703 मिलियन व्यक्ति थे।

सामयिक खबरें बैंकिंग, फाइनेंस, सेवा और बीमा

भारती एक्सा लाइफ इंश्योरेंस की नई यूनिट लिंक्ड व्यक्तिगत बीमा योजना


भारती एंटरप्राइजेज और एक्सा के संयुक्त उद्यम भारती एक्सा लाइफ इंश्योरेंस ने 21 सितंबर, 2020 को 'भारती एक्सा लाइफ वेल्थ प्रो' नाम से एक नई यूनिट लिंक्ड व्यक्तिगत बीमा योजना पेश की, जो नियमित बचत, संवर्धित सुरक्षा और बाजार से जुड़े रिटर्न के तिहरा लाभ प्रदान करता है।

  • योजना के दो संस्करण हैं- वृद्धि (growth) और विरासत (legacy)। वृद्धि संस्करण में ग्राहक 10 साल, 15 साल या 20 साल के लिए पॉलिसी ले सकते हैं और प्रीमियम का भुगतान एकमुश्त, या 5, 7, 10, 15 या 20 साल तक कर सकते हैं।
  • वहीं विरासत संस्करण में ग्राहकों को को 99 साल की आयु तक संपूर्ण पॉलिसी अवधि में वार्षिक प्रीमियम का 10 गुना लाइफ कवर देता है। इसके अलावा उनके प्रियजनों की जरूरतों को पूरा करने के लिए विरासत फंड भी मिलता है।

सामयिक खबरें बैंकिंग, फाइनेंस, सेवा और बीमा

स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक की ऑनलाइन प्रेषण सेवा


स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक, इंडिया ने 17 सितंबर, 2020 को जावक (outward) और आवक (inward) प्रेषण दोनों के लिए अपने ऑनलाइन प्रेषण सेवा समाधान के शुभारंभ की घोषणा की।

  • 'जावक प्रेषण ऑनलाइन सेवा' सुविधा के माध्यम से, भारतीय, भारत में काम करने वाले विदेशी और अनिवासी भारतीय और भारतीय मूल के व्यक्ति (पीआईओ) भारत से विदेशों में धन भेज सकते हैं। बैंक के इंटरनेट बैंकिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से मौजूदा एनआरआई ग्राहकों के लिए आवक प्रेषण विकल्प उपलब्ध होगा।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय रक्षा और सुरक्षा

रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया- 2022 का अनावरण


  • 28 सितंबर 2020 को रक्षा मंत्रालय ने रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया (DAP- Defence Acquisition Procedure)- 2022 का अनावरण किया है।
  • पहली रक्षा ख़रीद प्रक्रिया (DPP - Defence Procurement Procedure) वर्ष 2002 में लागू की गयी थी।
  • तब से इसे समय-समय पर संशोधित किया जाता रहा है ताकि बढ़ते घरेलू उद्योग को गति प्रदान की जा सके और रक्षा विनिर्माण में आत्मनिर्भरता हासिल की जा सके।
  • रक्षा मंत्रालय ने DAP-2020 की तैयारी के लिए अगस्त, 2019 में महानिदेशक (अधिग्रहण) श्री अपूर्वा चंद्रा की अध्यक्षता में मुख्य समीक्षा समिति के गठन को मंज़ूरी दी थी।

रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया (DAP)-2020 की मुख्य विशेषताएं

भारतीय विक्रेताओं के लिए श्रेणियों में आरक्षण (Reservation in Categories for Indian Vendors)

  • रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया (DAP) की नीतियों में स्वदेशी फार्मों (कंपनियों) के लिए कई ख़रीद श्रेणियां आरक्षित हैं।
  • रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया (DAP) - 2020 "भारतीय विक्रेताओं" को एक ऐसी कंपनी के रूप में परिभाषित करता है, जिसका स्वामित्व और नियंत्रण भारत में निवास करने वाले नागरिकों के पास है, जिसमें प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) 49 प्रतिशत से अधिक नहीं है।

स्वदेशी सामग्रियों (IC-Indigenous Content) का संवर्धन

  • रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया (DAP) – 2020,हथियारों और सैन्य ख़रीद के उपकरणों में अधिक स्वदेशी सामग्रियों को बढ़ावा देता है, जिसमें लाइसेंस के तहत भारत में निर्मित उपकरण भी शामिल हैं।
  • अधिकांश अधिग्रहण श्रेणियों में, रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया (DAP) -2020 रक्षा ख़रीद प्रक्रिया- 2016 की तुलना में 10 प्रतिशत अधिक स्वदेशीकरण है।

नई ख़रीद (भारत में वैश्विक निर्माण) श्रेणी (New Buy (Global–Manufacture in India) Category)

  • रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया- 2020 किसी विदेशी ख़रीद के समग्र अनुबंध मूल्य(Overall contract value) के कम से कम 50 प्रतिशत के स्वदेशीकरण को निर्धारित करता है और इसके लिए प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के साथ भारत में इसे बनाने के इरादे से ख़रीद की जाएगी।

ईज़ ऑफ़ डूइंग बिजनेस (Ease of Doing Business)

  • रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया- 2020 की समीक्षा के प्रमुख केंद्रित क्षेत्रों में से एक ईज़ ऑफ़ डूइंग बिजनेस को लागू करना था इसके लिए प्रक्रियाओं के सरलीकरण, प्रतिनिधिमंडल और प्रक्रिया उद्योग के अनुकूल बनाने पर ज़ोरदिया गया है।

डिज़ाइन और विकास (Design & Development)

  • रक्षा अनुसंधान एवं विकास संस्थान (DRDO- Defence Research and Development Organisation), रक्षा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम (DPSUs- Defence Public Sector Undertakings) और आयुध निर्माण बोर्ड (OFB-Ordnance Factory Board) द्वारा डिज़ाइन और विकसित किए गए प्रणालियों के अधिग्रहण के लिए एक अलग समर्पित अध्याय शामिल किया गया है।

आयात अधिरोध सूची (Import Embargo List)

  • सरकार द्वारा पिछले महीने प्रकाशित की गई 101 प्रतिबंधित वस्तुओं की आयात संबंधी सूची विशेष रूप से रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया (DAP) - 2020 में शामिल की गई है(अधिरोध (Embargo) एक सरकारी आदेश है जो एक निर्दिष्ट देश से व्यापार या विशिष्ट वस्तुओं के आदान-प्रदान को प्रतिबंधित करता है)।

ऑफसेट दायित्व (Offset Liability)

  • सरकार ने ऑफसेट क्लॉज़ को हटाने का फैसला किया है यदि यह सौदा सरकार-सरकार के बीच अंतर-सरकारी समझौते (IGA-Inter-Government Agreement) अथवा शुरू से किसी एकल विक्रेता के माध्यम से किया जाता है।
  • ऑफसेट क्लॉज़ को विदेशी विक्रेता को भारत में अनुबंध मूल्य का एक हिस्सा (apart of the contract value) निवेश करने की आवश्यकता होती है।

महत्व

  • आत्म-निर्भर भारत के विज़न और मेक इन इंडिया पहल को बढावा देना: रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया (DAP- Defence Acquisition Procedure)–2022 को सरकार के आत्म-निर्भर भारत के दृष्टिकोण और मेक इन इंडिया पहल के माध्यम से भारत को वैश्विक विनिर्माण केंद्र में बदलने के अंतिम उद्देश्य के साथ भारतीय घरेलू उद्योग को सशक्त बनाने के साथ संरेखित किया गया है।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप नियुक्ति

शेखर कपूर एफटीआईआई के अध्‍यक्ष नियुक्त


जाने माने फिल्म निर्माता शेखर कपूर को 29 सितंबर, 2020 को भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान सोसाएटी- एफटीआईआई का अध्यक्ष और एफटीआईआई शासी परिषद का प्रमुख नियुक्त किया गया है। उनका कार्यकाल मार्च 2023 तक होगा।

  • कपूर ने कई फिल्मों का निर्देशन किया है, जिनमें मासूम, मिस्टर इंडिया, बेंडिट क्वीन और एलिजाबेथ प्रमुख हैं।

सामयिक खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

अंतरराष्ट्रीय अनुवाद दिवस


30 सितंबर

2020 का विषय: 'संकट में दुनिया के लिए शब्द ढूँढना' (Finding the words for a world in crisis)

महत्वपूर्ण तथ्य: 24 मई 2017 को, संयुक्त राष्ट्र महासभा ने राष्ट्रों को जोड़ने और शांति, समझ और विकास को बढ़ावा देने में भाषा पेशेवरों की भूमिका को देखते हुये यह दिवस मनाने की घोषणा की।

सामयिक खबरें खेल टेनिस

इटालियन ओपन टेनिस टूर्नामेंट 2020


दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी नोवाक जोकोविच ने 21 सितंबर, 2020 को रोम में इटालियन ओपन (रोम मास्टर्स) में डिएगो श्वार्टजमैन को हराकर रिकॉर्ड 36 वां मास्टर्स खिताब जीता। उन्होंने फाइनल में 7-5, 6-3 से जीत दर्ज की।

  • रोमानिया की सिमोना हालेप ने इटालियन ओपन टेनिस टूर्नामेंट में महिला एकल का खिताब जीता।
  • हालेप ने चेक गणराज्य की कैरोलिना प्लिसकोवा को पहले सेट में 6-0 से हराया। फाइनल सेट में प्लिसकोवा के रिटायर्ड हर्ट होने के कारण हालेप को वॉकओवर मिला, जिससे उन्हें विजेता घोषित किया गया।
  • यह प्रतियोगिता 14-21 सितंबर, 2020 तक रोम, इटली में खेली गई।

अन्य विजेता:

  • पुरुष युगल: विजेता- मार्वल ग्रेनोलर्स (स्पेन) और होरासियो जेबेलोस (अर्जेंटीना); उपविजेता- जेरेमी चार्डी और फेब्रिस मार्टिन ( दोनों फ्रांस)
  • महिला युगल: विजेता- हेसिह सु वे (ताइवान) और बारबोरा स्ट्रायकोवा (चेक गणराज्य) उपविजेता- अन्ना-लेना फ्राइडसम (जर्मनी) और रालुका ओलारू (रोमानिया)


सामयिक खबरें बैंकिंग, फाइनेंस, सेवा और बीमा

एडीबी द्वारा तकियो कोनिशि भारत के लिए कंट्री निदेशक नियुक्त


एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने तकियो कोनिशि को भारत के लिए नया कंट्री निदेशक नियुक्त किया है। कोनिशि ने केनिचि योकोयामा का स्थान लिया है।

  • कोनिशि भारत में सरकार और अन्य विकास भागीदारों के साथ एडीबी के परिचालन और नीतिगत संवाद की अगुवाई करेंगे। योकोयामा एडीबी के दक्षिण एशिया के विभाग के महानिदेशक बनाए गए हैं और वे एडीबी के मनीला मुख्यालय से कामकाज देखेंगे।

सामयिक खबरें बैंकिंग, फाइनेंस, सेवा और बीमा

केवाईसी के लिए वीडियो-आधारित पहचान की अनुमति


विभिन्न इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्मों को ग्राहक-अनुकूल बनाने के लिए केवाईसी प्रक्रिया को सरल बनाने की दृष्टि से, भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने 21 सितंबर, 2020 को सभी जीवन बीमाकर्ताओं, सामान्य बीमाकर्ताओं और अन्य स्वास्थ्य बीमाकर्ताओं को वैकल्पिक रूप से वीडियो आधारित पहचान प्रक्रिया (VBIP) का उपयोग करने की अनुमति दी है।

  • बीमाकर्ता एक एप्लिकेशन विकसित करके VBIP का कार्य कर सकते हैं, जो ऑनलाइन या वीडियो के माध्यम से आमने-सामने सत्यापन के लिए केवाईसी प्रक्रिया की सुविधा प्रदान करता है।

सामयिक खबरें संस्थान-संगठन

कीटनाशक सूत्रीकरण प्रौद्योगिकी संस्थान


कीटनाशक सूत्रीकरण प्रौद्योगिकी संस्थान-आईपीएफटी (Institute of Pesticide Formulation Technology- IPFT) ने सतह और फल एवं सब्जियों को कीटाणु मुक्त करने के लिए दो नए कीटाणुनाशक स्प्रे सफलतापूर्वक विकसित किए हैं।

  • हरियाणा के गुरुग्राम स्थित आईपीएफटी की स्थापना मई 1991 में भारत सरकार के रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय के रसायन तथा पेट्रोरसायन विभाग के अंतर्गत एक स्वायत्त संस्थान के रूप में की गई थी। तब से यह संस्थान सुरक्षित, प्रभावी और पर्यावरण अनुकूल कीटनाशकों का विकास करता रहा है।
  • इसके 4 प्रशासनिक संभाग हैं, जिसमें शुद्धीकरण तकनीकी विभाग, जैव विज्ञान विभाग, विश्लेषण विज्ञान विभाग और प्रक्रिया विकास विभाग शामिल हैं।

सामयिक खबरें संस्थान-संगठन

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय


सितंबर 2020 में अभिनेता और पूर्व भाजपा सांसद परेश रावल को राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय-एनएसडी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया।

  • संगीत नाटक अकादमी के तत्वाधान में 1959 में स्थापित राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय द्वारा वित्तपोषित एक पूरी तरह से स्वायत्त संगठन है।
  • यह 1975 में एक स्वतंत्र संस्था बनी। यह रंगमंच के विभिन्न स्वरूपों में 3 वर्षीय पूर्णकालिक, आवासीय प्रशिक्षण कार्यक्रम की पेशकश करता है।
  • एनएसडी के दो प्रस्तुति विभाग हैं- रेपर्टोरी कंपनी (Repertory Company) और थियेटर इन एजुकेशन कंपनी (टीआईई) जो क्रमशः 1964 और 1989 में प्रारंभ हुए थे।
  • ऑउटरीच कार्यक्रम के तहत एनएसडी नई दिल्ली के साथ चार केंद्र वाराणसी, गंगटोक, अगरतला और बेंगलुरू में भी स्थापित किए गए हैं।