समसामयिकी - November 2022

पीआईबी न्यूज विज्ञान-प्रौद्योगिकी

अंतरराष्ट्रीय मिशन ‘स्वोट’ लॉन्च


16 दिसंबर, 2022 को अमेरिकी ‘नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन’ (नासा) और फ्रांसीसी अंतरिक्ष एजेंसी सेंटर नेशनल डी'एट्यूड्स स्पैटियल्स (सीएनईएस) द्वारा संयुक्त रूप से पृथ्वी की सतह पर लगभग सभी पानी को ट्रैक करने के लिए ‘सरफेस वाटर एंड ओशन टोपोग्राफी’ (स्वोट) मिशन लॉन्च किया गया है।

महतवपूर्ण तथ्य-

  • स्वोट उपग्रह संयुक्त राज्य अमेरिका के कैलिफोर्निया में स्थित वैंडेनबर्ग स्पेस फोर्स बेस के स्पेस लॉन्च कॉम्प्लेक्स से स्पेसएक्स फाल्कन 9 रॉकेट के माध्यम से लॉन्च किया गया था। इस मिशन की अवधि 3 वर्ष है।
  • नासा के अनुसार ‘स्वोट’ प्रत्येक 21 दिनों में कम से कम एक बार 78 डिग्री दक्षिण और 78 डिग्री उत्तरी अक्षांश के बीच पूरी पृथ्वी की सतह को कवर करेगा।
  • यह 15 एकड़ (62,500 वर्ग मीटर) से बड़ी दुनिया की 95% से अधिक झीलों और 330 फीट (100 मीटर) से अधिक चौड़ी नदियों पर डेटा प्रदान करेगा। यह उपग्रह पृथ्वी की सतह के 90% से अधिक ताजे जल निकायों और समुद्र में पानी की ऊंचाई की माप करेगा।

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

G-20 डेवलपमेंट वर्किंग ग्रुप बैठक


13 से 16 दिसंबर, 2022 तक भारत की अध्यक्षता में जी20 डेवलपमेंट वर्किंग ग्रुप (डीडब्ल्यूजी) की बैठक मुंबई में की गई, जिसे भारत के जी-20 शेरपा अमिताभ कांत ने उद्घाटन सत्र में प्रतिनिधियों को संबोधित किया।

महत्वपूर्ण तथ्य

  • इस बैठक में जी-20 सदस्य, अतिथि देश और आमंत्रित अंतर्राष्ट्रीय संगठन व्यक्तिगत रूप से बैठक में हिस्सा लिया|
  • उन्होंने कहा, भारत सरकार ने बेहतर डेटा गवर्नेंस लाने की कोशिश की है और डेटा गवर्नेंस क्वालिटी इंडेक्स जैसी कई पहलें शुरू की हैं।
  • भारतीय अध्यक्षता कार्य समूह की आधिकारिक बैठक से पहले दो कार्यक्रम आयोजित करेगी - "विकास के लिए डेटा: 2030 एजेंडा को आगे बढ़ाने में G20 की भूमिका" और "हरित विकास में नए जीवन का संचार"।
  • यह समूह G20 के शेरपा ट्रैक का हिस्सा है और 2010 में बनाए जाने वाले पहले कार्य समूहों में से एक है।

सामयिक खबरें विज्ञान-प्रौद्योगिकी

अग्नि-3 परमाणु सक्षम बैलिस्टिक मिसाइल


24 नवंबर, 2022 को भारत ने ओडिशा स्थित अब्दुल कलाम द्वीप से मध्यम दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल (Intermediate Range Ballistic Missile) अग्नि-3 का सफल प्रक्षेपण किया।

  • अग्नि-3 बैलिस्टिक मिसाइल सशस्त्र बलों के शस्त्रागार में पहले से ही शामिल की जा चुकी है, जो भारत को प्रभावी रक्षा क्षमता प्रदान करती है।

मुख्य बिंदु

  • वर्तमान अग्नि-3 मिसाइल का परीक्षण नियमित उपयोगकर्ता प्रशिक्षण प्रक्षेपण का एक हिस्सा था जो सामरिक बल कमान (Strategic Forces Command) के तत्वावधान में किया जाता है।
  • अग्नि-3 का यह परीक्षण एक पूर्व निर्धारित सीमा के अंदर सभी परिचालन मानकों की जांच के लिए किया गया था| इसने सभी मानकों को पूरा किया|
  • अग्नि-3 का पहली बार परीक्षण 9 जुलाई, 2006 को किया गया था हालांकि, यह एक सफल प्रक्षेपण नहीं था।
  • इस मिसाइल ने अपनी प्रथम सफल परीक्षण उड़ान 2007 में सफलतापूर्वक पूरी की। वर्ष 2008 में इस मिसाइल ने अपने लगातार तीसरे प्रक्षेपण में निर्धारित मानकों के अनुसार सफल प्रदर्शन किया।

अग्नि-3 मिसाइल

  • इसका वजन 48 टन से अधिक है तथा यह इसकी लम्बाई 16 मीटर है| यह अत्याधुनिक मिसाइल आधुनिक और कॉम्पैक्ट वैमानिकी या एवियोनिक्स (avionics) से लैस है।
  • मारक क्षमता: इस मिसाइल की मारक क्षमता 3000 किलोमीटर से अधिक है और यह 1.5 टन से अधिक का पेलोड ले जाने में सक्षम है।
  • सटीक स्ट्रेटेजिक बैलिस्टिक मिसाइल: अपनी उच्च रेंज के कारण, अग्नि-3 मिसाइल को अपने वर्ग में दुनिया की सबसे सटीक स्ट्रेटेजिक बैलिस्टिक मिसाइल के रूप में जानी जाती है।
  • वारहेड क्षमता: अपने लक्ष्य तक उच्च दक्षता के साथ यह पारंपरिक तथा गैर-पारंपरिक वारहेड ले जा सकती है जो इसे एक घातक हथियार बनाता है।
  • अग्नि श्रृंखला की मिसाइलें भारत की परमाणु हथियार क्षमता की रीढ़ हैं।

सामयिक खबरें पर्यावरण

अरिट्टापट्टी जैव विविधता विरासत स्थल


22 नवंबर, 2022 को तमिलनाडु सरकार द्वारा एक अधिसूचना जारी कर मदुरै जिले के अरिट्टापट्टी और मीनाक्षीपुरम गांवों को राज्य का पहला जैव विविधता विरासत स्थल (Biodiversity Heritage Site) घोषित किया गया।

  • यह तमिलनाडु का पहला और भारत का 35वाँ जैव विविधता विरासत स्थल है।
  • इसे अरिट्टापट्टी जैव विविधता विरासत स्थल (Arittapatti Biodiversity Heritage site) के रूप में जाना जाएगा।

अरिट्टापट्टी जैव विविधता विरासत स्थल से संबंधित मुख्य तथ्य

  • क्षेत्र एवं विस्तार: अरिट्टापट्टी जैव विविधता विरासत स्थल का विस्तार 193.42 हेक्टेयर क्षेत्र पर होगा, जिसके अंतर्गत अरिट्टापट्टी गांव (मेलूर ब्लॉक) का 139.63 हेक्टेयर क्षेत्र तथा मीनाक्षीपुरम गांव (पूर्वी मदुरै तालुक) का 53.8 हेक्टेयर क्षेत्र शामिल होगा।
  • कानूनी आधार: इसे जैव विविधता अधिनियम, 2002 की धारा 37 (Section 37 of the Biological Diversity Act, 2002) के तहत जैव विविधता विरासत स्थल घोषित किया गया है।
  • स्थानिक जैव विविधता: अरिट्टापट्टी गांव अपने पारिस्थितिक और ऐतिहासिक महत्व के लिए जाना जाता है| यहाँ पक्षियों की लगभग 250 प्रजातियां पाई जाती हैं| यह भारतीय पैंगोलिन, स्लेंडर लोरिस और अजगर जैसे वन्यजीवों का भी निवास स्थल है।
    • इनमें तीन महत्वपूर्ण शिकारी पक्षियों (raptors) लैगर फाल्कन (Laggar Falcon), शाहीन फाल्कन (Shaheen Falcon) और बोनेली ईगल (Bonelli’s Eagle) की प्रजाति पाई जाती हैं।
  • ऐतिहासिक महत्व: यहाँ की कई महापाषाण संरचनाएं (megalithic structures), रॉक-कट मंदिर (Rock-Cut Temples), तमिल ब्राह्मी शिलालेख (Tamil Brahmi inscriptions) और जैन संस्तर (Jain beds) इस क्षेत्र के ऐतिहासिक महत्व को बढ़ाते हैं।

महत्व

  • विशिष्ट पारिस्थितिक तंत्र की रक्षा: किसी क्षेत्र को जैव विविधता विरासत स्थल के रूप में अधिसूचित करने से इसके समृद्ध और विशिष्ट पारिस्थितिक तंत्र की रक्षा करने में मदद मिलती है।
  • संरक्षण पहल का पूरक: यह कदम इस क्षेत्र में पाए जाने वाले जीवों के संरक्षण के विभिन्न पहलों के पूरक का कार्य करेगा और जैव विविधता को नुकसान पहुंचाने वाले कारकों का निवारण किया जा सकेगा|
  • जल संभरण (Watershed): यह क्षेत्र सात पहाड़ियों या इंसेलबर्ग की एक श्रृंखला से घिरा हुआ है जो जल संभरण (Watershed) के रूप में काम करता है| इस क्षेत्र द्वारा 72 झीलों, 200 प्राकृतिक झरनों और तीन चेक डैम को जल प्राप्ति होती है।
    • 16वीं शताब्दी में पांडियन राजाओं के शासनकाल के दौरान निर्मित एनाइकोंडन टैंक (Anaikondan tank) उनमें से एक है।

जैव विविधता विरासत स्थल

  • जैव विविधता विरासत स्थल एक विशिष्ट पारिस्थितिक तंत्र होते हैं, जिनकी अपनी अनूठी पारिस्थितिक विशेषताएं होती हैं| यह स्थलीय, तटीय एवं अंतर्देशीय जल क्षेत्र हो सकता है, जहाँ समृद्ध जैव विविधता पाई जाती है| इस प्रकार के स्थल पर दुर्लभ एवं संकटग्रस्त, कीस्टोन वन्य प्रजातियां पाई जाती हैं।
  • जैव विविधता अधिनियम, 2002 की धारा 37(1) में यह प्रावधान किया गया है कि राज्य सरकार स्थानीय निकायों के परामर्श से जैव विविधता के अधिक महत्व वाले क्षेत्रों को “जैव विविधता विरासत स्थल” अधिसूचित कर सकती है।
  • किसी स्थल को जैव विविधता विरासत स्थल घोषित करने का उद्देश्य संरक्षण उपायों के माध्यम से स्थानीय समुदायों के जीवन की गुणवत्ता में वृद्धि करना है।
  • किसी स्थान को जैव विविधता विरासत स्थल घोषित कर देने से स्थानीय समुदायों की प्रचलित प्रथाओं पर कोई प्रतिबंध नहीं लगाया जाता है।

सामयिक खबरें राष्ट्रीय

लाचित बोरफुकन की 400वीं जयंती


23 नवंबर, 2022 को नई दिल्ली में अहोम साम्राज्य के सेनापति 'लाचित बोरफुकन' (Lachit Borphukan) की 400वीं जयंती के 3 दिवसीय समारोह की शुरुआत की गई।

  • केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारामन ने इस अवसर पर विज्ञान भवन में प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। इस प्रदर्शनी में अहोम साम्राज्य और लाचित बोरफुकन तथा अन्य वीरों की जीवन उपलब्धियां दिखाई गईं।

लाचित बोरफुकन कौन थे?

  • अहोम राजाओं (Ahom kings) की पहली राजधानी चराइदेव (Charaideo) में 24 नवंबर, 1622 को उनका जन्म हुआ था।
  • लाचित बोरफुकन वर्तमान के असम में स्थित अहोम साम्राज्य (Ahom dynasty) के सेनापति थे।
  • उन्होंने मुगल सेना के खिलाफ दो लड़ाइयों का नेतृत्व किया- सराईघाट का युद्ध (Battle of Saraighat) तथा अलाबोई का युद्ध (Battle of Alaboi)।
  • उन्हें सराईघाट के युद्ध (1671) में अनुकरणीय सैन्य नेतृत्व के लिए जाना जाता है।
  • लाचित बोरफुकन अपनी महान नौ-सैन्य रणनीतियों के लिए लिए जाने गए। उनके द्वारा पीछे छोड़ी गई विरासत ने भारतीय नौसेना को मजबूत करने तथा अंतर्देशीय जल परिवहन को पुनर्जीवित करने के पीछे प्रेरणा के रूप में काम किया।
  • लाचित बोरफुकन के पराक्रम और सराईघाट की लड़ाई में असमिया सेना की विजय का स्मरण करने के लिए संपूर्ण असम राज्य में प्रति वर्ष 24 नवंबर को लाचित दिवस (Lachit Diwas) मनाया जाता है।

सराईघाट का नौसैनिक युद्ध (1671 ईस्वी)

  • सराईघाट का युद्ध मुगल साम्राज्य और अहोम साम्राज्य के बीच लड़ा गया एक नौसैनिक युद्ध था।
  • इस युद्ध में लाचित बोरफुकोन के वीरतापूर्ण नेतृत्व के कारण मुगलों की निर्णायक हार हुई।
  • उन्होंने इलाके के शानदार उपयोग, गुरिल्ला रणनीति, सैन्य आसूचना तथा मुगल सेना की एकमात्र कमजोरी 'नौसेना' का फायदा उठाकर मुगल सेना को हराया।
  • सरायघाट की लड़ाई गुवाहाटी में ब्रह्मपुत्र के तट पर लड़ी गई थी।

अलाबोई का युद्ध (1669 ईस्वी)

  • यह युद्ध 5 अगस्त, 1669 को उत्तरी गुवाहाटी में दादरा के पास अलाबोई हिल्स (Alaboi Hills) में लड़ा गया। औरंगजेब ने वर्ष 1669 में 'राजपूत राजा राम सिंह प्रथम' (Rajput Raja Ram Singh I) के अधीन आक्रमण का आदेश दिया, जिन्होंने एक संयुक्त मुगल और राजपूत सेना का नेतृत्व किया।
  • बोरफुकन, गुरिल्ला युद्ध का सहारा लेते हुए, मुग़ल-राजपूत सेना पर बार-बार हमले करते रहे, जब तक कि राम सिंह प्रथम ने अहोमों पर अपनी पूरी सेना लगाकर उन्हें हरा नहीं दिया। अहोमों को इस युद्ध में गंभीर पराजय का सामना करना पड़ा और उनके हजारों सैनिक मारे गए।

अहोम साम्राज्य (1228-1826)

  • यह असम में ब्रह्मपुत्र घाटी में एक 'उत्तर मध्यकालीन' साम्राज्य था। अहोम राजाओं की राजधानी शिवसागर ज़िले में वर्तमान जोरहाट के निकट गढ़गाँव में थी।
  • अहोम राजाओं ने 13वीं और 19वीं शताब्दी के मध्य, वर्तमान असम एवं पड़ोसी राज्यों में स्थित क्षेत्र के एक बड़े हिस्से पर शासन किया।
  • यह साम्राज्य लगभग 600 वर्षों तक अपनी संप्रभुता बनाए रखने और पूर्वोत्तर भारत में मुगल विस्तार का सफलतापूर्वक विरोध करने के लिए जाना जाता है।
  • मुग़लों द्वारा पूरे भारत पर अपना अधिकार कर लेने के बावजूद असम में अहोम राज्य 6 शताब्दी (1228-1835 ई.) तक क़ायम रहा। इस अवधि में 39 अहोम राजा गद्दी पर बैठे।
  • इसकी स्थापना मोंग माओ (Mong Mao) के एक ताई राजकुमार 'सुकाफा' (Tai prince 'Sukaphaa') ने की थी।
  • 16वीं शताब्दी में सुहंगमुंग (Suhungmung) के तहत राज्य का अचानक विस्तार हुआ और यह राज्य चरित्र में बहु-जातीय बन गया, जिसने संपूर्ण ब्रह्मपुत्र घाटी के राजनीतिक और सामाजिक जीवन पर गहरा प्रभाव डाला।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

प्राकृतिक गैस टैरिफ, प्राधिकरण तथा क्षमता विनियम संशोधन


नवंबर 2022 में ‘पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस विनियामक बोर्ड’ (पीएनजीआरबी) ने अपने तीन विनियमनों- प्राकृतिक गैस पाइपलाइन टैरिफ, प्राधिकरण तथा क्षमता विनियमन में संशोधन किया है।

संशोधन का उद्देश्य- एक राष्ट्र, एक ग्रिड और एक टैरिफ के चिर प्रतीक्षित लक्ष्य को अर्जित करने के लिए दूर-दराज के क्षेत्रों में प्रतिस्पर्द्धी एवं किफायती दरों पर प्राकृतिक गैस की सुविधा उपलब्ध कराना।

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • प्राकृतिक गैस अवसंरचना के विकास में तेजी लाने तथा देश में प्राकृतिक गैस बाजार के विकास को त्वरित करने के लिए ये संशोधन एकीकृत टैरिफ विनियमनों के कार्यान्वयन के लिए आरंभिक प्रयासों के रूप में कार्य करेंगे; जो 1 अप्रैल, 2023 से प्रभावी होंगे।
  • एकीकृत टैरिफ के कार्यान्वयन को सरलीकृत करने के लिए उक्त विनियमनों में इनटिटी स्तर समेकित प्राकृतिक गैस पाइपलाइन टैरिफ लागू किया गया है; जो राष्ट्रीय स्तर पर एकीकृत टैरिफ के लिए मूलभूत अंगों के रूप में कार्य करेंगे।
  • इसके अतिरिक्त, विभिन्न क्षेत्रों में उपभोक्ताओं के समग्र हितों की सुरक्षा करने के लिए एकीकृत टैरिफ जोन की संख्या 2 से बढ़ाकर 3 कर दी गई है।
  • इसके अतिरिक्त, अन्य संशोधन; जैसे बेहिसाबी गैस की अनुमति देना, अधिस्थगन अवधि, क्षमता में वृद्धि करना आदि जैसे संशोधनों को शामिल किया गया है।

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

चौथी भारत-फ्रांस वार्षिक रक्षा वार्ता


26-28 नवंबर, 2022 को फ्रांसीसी गणराज्य के सशस्त्र बल मंत्री सेबेस्टियन लेकोर्नू भारत यात्रा पर रहे, दोनों देशों ने चौथी भारत-फ्रांस वार्षिक रक्षा वार्ता की सह-अध्यक्षता की।

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • यह फ्रांस के मंत्री के रूप में सेबेस्टियन लेकोर्नू की पहली भारत यात्रा है।
  • उन्होंने कोच्चि में दक्षिणी नौसेना कमान मुख्यालय जाकर भारत के पहले स्वदेशी विमान वाहक आईएनएस विक्रांत को देखा।
  • भारत और फ्रांस के बीच घनिष्ठ और मैत्रीपूर्ण संबंध हैं। वर्ष 1998 में दोनों देशों ने करीबी और बढ़ते द्विपक्षीय संबंध के अलावा अनेक अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर अपने वैचारिक मेल-मिलाप के मद्देनज़र रणनीतिक साझेदारी की।
  • भारत और फ्रांस रक्षा एवं आयुध क्षेत्र में भागीदार हैं, जो दोनों देशों के बीच विभिन्न प्रकार के औद्योगिक सहयोग के ज़रिए भारत की रक्षा क्षेत्र में रणनीतिक स्वायत्तता प्राप्त करने की नीति में योगदान दे रहा है।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप चर्चित व्यक्ति

डॉ. वर्गीज कुरियन की 101वीं जयंती


26 नवंबर, 2022 को पशुपालन और डेयरी विभाग आजादी का अमृत महोत्सव के हिस्से के रूप में बेंगलुरु में भारत में श्वेत क्रांति के जनक डॉ. वर्गीज कुरियन की 101वीं जयंती के अवसर पर राष्ट्रीय दुग्ध दिवस मनाया।

  • केंद्रीय पशु प्रजनन फार्म, हेसरघट्टा, बेंगलुरु (कर्नाटक) में बोवाइन आईवीएफ (इन विट्रो-फर्टिलाइजेशन) गतिविधियों के लिए केंद्रीय हिमित वीर्य उत्पादन और प्रशिक्षण संस्थान, हेसरघट्टा, बेंगलुरु में ‘उन्नत प्रशिक्षण सुविधा’ की आधारशिला रखी।
  • समारोह के दौरान, गणमान्य व्यक्तियों द्वारा वर्गीज कुरियन के जीवन पर एक पुस्तक और दूध में मिलावट पर एक पुस्तिका का विमोचन किया गया।
  • इस दौरान डेयरी राज्य मंत्री डॉ. संजीव बालियान ने हेसरघट्टा, बेंगलुरु में ‘पशु संगरोध प्रमाणन सेवाओं’ (एक्यूसीएस) का भी उद्घाटन किया।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप चर्चित व्यक्ति

अनवर इब्राहिम बने मलेशिया के नए पीएम


24 नवंबर, 2022 को अनवर इब्राहिम को सुल्तान अब्दुल्ला ने मलेशिया के 10वां प्रधानमंत्री नियुक्त किया।

  • अनवर इब्राहिम मलेशिया में एक अनुभवी राजनीतिज्ञ हैं, उन्होंने 1971 में मलेशिया के मुस्लिम यूथ मूवमेंट (ABIM) की स्थापना की।
  • इब्राहिम ने अपने राजनीतिक जीवन के शुरुआती दिनों में ग्रामीण गरीबी और देश को प्रभावित करने वाली अन्य सामाजिक-आर्थिक चुनौतियों के खिलाफ विरोध का नेतृत्व किया।
  • अनवर इब्राहिम को नए मलेशियाई प्रधानमंत्री के रूप में ऐसे समय में शपथ दिलाई गई, जब देश अभी भी COVID-19 महामारी के दीर्घकालिक परिणामों के कारण संघर्ष कर रहा है।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

उस्ताद बिस्मिल्लाह खान युवा पुरस्कार


6-8 नवंबर, 2022 को ‘संगीत, नृत्य और नाटक की राष्ट्रीय संस्था संगीत नाटक अकादमी’ द्वारा नई दिल्ली में देश भर के 102 कलाकारों का ‘उस्ताद बिस्मिल्लाह खान युवा पुरस्कार’ (तीन संयुक्त पुरस्कार सहित) के लिए चयन किया गया है|

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • यह पुरस्कार वर्ष 2019, 2020 और 2021 के लिए उनका चयन किया गया है, जिन्होने कला के अपने संबंधित क्षेत्रों में युवा प्रतिभाओं के रूप में अपनी विशेष पहचान बनाई है।
  • इन पुरस्कारों के लिए देश के पूर्वोत्तर राज्यों का प्रतिनिधित्व करने वाले 19 कलाकारों को भी शामिल किया गया है|
  • उस्ताद बिस्मिल्लाह खान युवा पुरस्कार 40 वर्ष से कम आयु के कलाकारों को दिया जाता है।

वन-टाइम संगीत नाटक अकादमी अमृत पुरस्कार

  • ‘संगीत नाटक अकादमी’ ने भारत की आजादी के 75 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में आजादी का अमृत महोत्सव (एकेएएम) के तहत 86 कलाकारों के लिए ‘वन-टाइम संगीत नाटक अकादमी अमृत पुरस्कार’ की घोषणा की है।
  • संगीत नाटक अकादमी अमृत पुरस्कार में एक ताम्रपत्र और अंगवस्त्रम के अलावा रु. 1,00,000/- (एक लाख रुपये) की नकद राशि दी जाती है।

सामयिक खबरें विज्ञान-प्रौद्योगिकी

ग्लोबल पार्टनरशिप ऑन आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (GPAI) तथा भारत


21 नवंबर 2022 को भारत ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर वैश्विक भागीदारी [Global Partnership on Artificial Intelligence (GPAI)] नामक समूह की अध्यक्षता ग्रहण की। भारत वर्ष 2022-23 के लिए इस समूह का अध्यक्ष होगा।

  • इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने जापान के टोक्यो में आयोजित समूह की तीसरी शिखर बैठक में वर्चुअल माध्यम से भाग लिया। इस दौरान भारत ने फ्रांस से प्रतीकात्मक रूप से समूह की अध्यक्षता ग्रहण की।
  • GPAI समूह मानव केन्द्रित विकास और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के दायित्वपूर्ण उपयोग में सहायता के लिए अंतरराष्ट्रीय पहल है। भारत इस समूह का संस्थापक सदस्य है।


आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर वैश्विक भागीदारी (GPAI)

  • शुभारंभ: 15 संस्थापक सदस्यों द्वारा 15 जून 2020 को इसकी शुरुआत की गई।
  • उद्देश्य: AI के क्षेत्र में इसके सिद्धांत एवं व्यवहार के बीच दिखाई देने वाली खाई को पाटने के लिए अत्याधुनिक अनुसंधान तथा अनुप्रयुक्त गतिविधियों को बढ़ावा देना।
  • विशेषता: यह एक अंतरराष्ट्रीय बहु-हितधारक पहल है, जो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) के जिम्मेदारीपूर्ण विकास और मानवाधिकारों, समावेशन, विविधता, नवाचार और आर्थिक विकास में उपयोग का मार्गदर्शन करने पर आधारित है।
    • यह प्रतिभागी देशों के अनुभव और विविधता का उपयोग करके एआई (AI) से जुड़ी चुनौतियों और अवसरों की बेहतर समझ विकसित करने का अपने किस्म का पहला प्रयास भी है।
    • यह पहल विज्ञान, उद्योग, नागरिक समाज, सरकारों, अंतर्राष्ट्रीय निकायों तथा शिक्षा क्षेत्र के विशेषज्ञों को एक मंच पर लाकर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक के संदर्भ में वैश्विक सहयोग को बढ़ावा देती है।
  • सदस्य: GPAI की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार वर्तमान में इसके सदस्यों की संख्या 29 है।
    • सदस्य देश: अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, बेल्जियम, ब्राजील, कनाडा, चेक गणराज्य, डेनमार्क, फ्रांस, जर्मनी, भारत, आयरलैंड, इज़राइल, इटली, जापान, मैक्सिको, नीदरलैंड, न्यूजीलैंड, पोलैंड, कोरिया गणराज्य, सेनेगल, सर्बिया, सिंगापुर, स्लोवेनिया, स्पेन, स्वीडन, तुर्की, यूनाइटेड किंगडम, संयुक्त राज्य अमेरिका और यूरोपीय संघ।
  • महत्व: GPAI की भारत को प्राप्त अध्यक्षता यह प्रदर्शित करती है कि वैश्विक स्तर पर भारत विश्वसनीय प्रौद्योगिकी भागीदार के रूप में उभरा है। भारत ने लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने हेतु प्रौद्योगिकी के उपयोग की सदैव वकालत की है।

GPAI के वार्षिक सम्मेलन

  • GPAI मॉन्ट्रियल समिट 2020: GPAI के उद्घाटन संस्करण की बैठक 3- 4 दिसंबर, 2020 के मध्य आयोजित की गई थी। इसकी मेजबानी मॉन्ट्रियल, कनाडा द्वारा की गई थी।
  • GPAI पेरिस समिट 2021: इस समूह की दूसरी वार्षिक बैठक 11-12 नवंबर, 2021 के मध्य फ़्रांस के पेरिस में आयोजित की गई थी।
  • GPAI टोक्यो सम्मेलन 2022: तीसरी वार्षिक बैठक जापान के टोक्यो में 20-21 नवंबर, 2022 के मध्य आयोजित की गई। इसकी अध्यक्षता फ्रांस ने की तथा इसी बैठक में भारत को अध्यक्षता सौंपी गई।

AI पर सरकार की महत्वपूर्ण पहलें

  • राष्ट्रीय कृत्रिम बुद्धिमत्ता कार्यनीति: यह कार्यनीति एक रूपरेखा पर आधारित है, जो भारत की विशिष्ट आवश्यकताओं और आकांक्षाओं के अनुकूल है। इसका उद्देश्य, एआई विकास का लाभ उठाने के लिए पूरी क्षमता हासिल करना है।
    • यह कार्यनीति आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस फॉर ऑल से संबन्धित है जिसमें पांच क्षेत्रों को महत्वपूर्ण माना गया है- हेल्थकेयर, कृषि, शिक्षा, स्मार्ट सिटी इन्फ्रास्ट्रक्चर और शहरी यातायात।
  • राष्ट्रीय एआई पोर्टल: सरकार ने ‘राष्ट्रीय एआई पोर्टल’ (National AI Portal) लॉन्च किया है, जो एक ही स्थान पर सभी हितधारकों के लिए देश में कृत्रिम बौद्धिमत्ता (एआई) आधारित पहलों की रिपोजिटरी है।
  • फ्यूचर स्किल्स प्राइम (FutureSkills Prime): इस पहल का उद्देश्य एआई सहित उभरती और भविष्य की प्रौद्योगिकियों में रि-स्किलिंग/अप-स्किलिंग इकोसिस्टम तैयार करना तथा भारत को एक डिजिटल प्रतिभा वाले देश (Digital Talent Nation) के रूप में उभारना है।
    • यह नैसकॉम (NASSCOM) तथा इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की एक संयुक्त पहल है
  • उत्कृष्टता केंद्र: अनुसंधान प्रौद्योगिकी के माध्यम से नवाचार को बढ़ावा देने के लिए, सरकार ने कृत्रिम बौद्धिमत्ता सहित विभिन्न उभरती हुई प्रौद्योगिकियों पर कई ‘उत्कृष्टता केंद्र’ (Centres fo Excellence) बनाए हैं।
  • विश्वेश्वरैया पीएचडी योजना: सरकार ने देश में एआई सहित इलेक्ट्रॉनिकी प्रणाली डिजाइन और विनिर्माण के क्षेत्र में पीएचडी की संख्या बढ़ाने के उद्देश्य से ‘विश्वेश्वरैया पीएचडी योजना’ प्रारंभ की है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के क्षेत्र में भारत के लिए संभावनाएं

  • सरकारी अनुमानों के अनुसार आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से वर्ष 2025 तक भारत की GDP में 450 से 500 बिलियन अमेरिकी डॉलर के बराबर वृद्धि होने की संभावना है। यह वित्त वर्ष 2024-25 तक सरकार द्वारा निर्धारित 5 ट्रिलियन डॉलर जीडीपी लक्ष्य का 10% है।
  • नीति आयोग (NITI Aayog) के अनुमानों के अनुसार- आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को उचित ढंग से अपनाने से वर्ष 2035 तक भारतीय अर्थव्यवस्था के सकल मूल्य वर्धन (Gross Value Added-GVA) में 15 प्रतिशत की वृद्धि हो सकती है।
  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस प्रौद्योगिकी तकनीकी गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाओं की पहुंच तथा उनकी सामर्थ्य में वृद्धि करने में सहायक होगी।
  • यह तकनीक कृषि क्षेत्र में उत्पादन में वृद्धि करने, कृषि अपव्यय को रोकने तथा किसानों की आय बढ़ाने में सहायक होगी।
  • इसके माध्यम से न केवल शिक्षा की गुणवत्ता एवं पहुँच में सुधार किया जा सकता है, बल्कि इससे वृद्धिशील शहरी आबादी हेतु कुशल बुनियादी ढाँचे के निर्माण में भी सहायता मिलेगी।

पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

यूनेस्को इंडिया अफ्रीका हैकथॉन


25 नवंबर, 2022 को भारत के उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय, उत्तर प्रदेश में ‘संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक तथा सांस्कृतिक संगठन’ (यूनेस्को) भारत-अफ्रीका हैकथॉन के समापन सत्र को संबोधित किया।

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • इस हैकथॉन में उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल; मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ; यूनेस्को के सहायक महानिदेशक फ़िरमिन एडुआर्ड माटोको सहित 13 अफ्रीकी देशों के मंत्रियों ने हिस्सा लिया।
  • यह विश्व को बदलने की क्षमता वाले संभावित स्टार्ट-अप्स तैयार करने की नींव के रूप में कार्य करता है| छात्रों, शिक्षकों, अध्यापकों और भारत के अनुसंधान समुदाय और अपने अफ़्रीकी साझेदारों को इसके एक मंच पर साथ लाता है, जो अपने देशों के सामने आने वाली आम चुनौतियों- सामाजिक, पर्यावरणीय और तकनीकी समस्याओं का समाधान खोजने के लिए एक उपयुक्त मंच प्रदान करता है।

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

अंतरराष्ट्रीय पोषक-अनाज वर्ष का प्री-लांचिंग उत्सव


24 नवंबर, 2022 को केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर तथा विदेश मंत्री डा. एस. जयशंकर की अध्यक्षता में दिल्ली स्थित सुषमा स्वराज भवन में उच्चायुक्तों और राजदूतों के बीच, ‘अंतरराष्ट्रीय पोषक-अनाज वर्ष का प्री-लांचिंग उत्सव’ हुआ।

उद्देश्य- इसके माध्यम से मोटा अनाज (मिलेट) की घरेलू व वैश्विक खपत में वृद्धि करना है|

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • अंतरराष्ट्रीय मोटा अनाज वर्ष के शुभारंभ समारोह में 60 से अधिक देशों के उच्चायुक्तों और राजदूतों ने हिस्सा लिया।
  • भारत की पहल पर संयुक्त राष्ट्र ने वर्ष 2023 को ‘अंतरराष्ट्रीय पोषक-अनाज’ वर्ष घोषित किया है।
  • यह वर्ष वैश्विक उत्पादन बढ़ाने, कुशल प्रसंस्करण तथा फसल रोटेशन के बेहतर उपयोग एवं फूड बास्केट के प्रमुख घटक के रूप में मिलेट को बढ़ावा देने का अवसर प्रदान करेगा।
  • राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के तहत मिलेट के लिए पोषक अनाज घटक 14 राज्यों के 212 जिलों में क्रियान्वित किया जा रहा।
  • मिलेट के पोषण महत्व के मद्देनजर सरकार ने अप्रैल 2018 में इसे पोषक-अनाज के रूप में अधिसूचित किया था और मिलेट को पोषण मिशन अभियान के तहत भी शामिल किया गया है।

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

साइट्स कॉप-19 बैठक


14 से 25 नवंबर, 2022 तक वनों के विलुप्तप्राय जंतुओं और वनस्पति के अंतरराष्ट्रीय कारोबार सम्बंधी सम्मेलन (सीआईटीईएस-साइट्स) पर पक्षकारों की 19वीं बैठक (कॉप-19) का आयोजन पनामा सिटी में किया गया।

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • कॉप-19 में ताजे पानी में रहने वाले कछुये ‘बटागुर कचुगा’ (बंगाल के आसपास में पाया जाने वाला लाल खोल वाला कछुआ) को संरक्षण सूची में शामिल करने के भारत के प्रस्ताव का सभी पक्षकारों ने समर्थन किया और लागू करने पर भी सहमति दी है।
  • ये कछुये विलुप्त होने की खतरनाक स्थिति में पहुंच चुके हैं और इन्हें वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1972 में सम्मिलित करके उच्चस्तरीय सुरक्षा दी जा रही है।
  • भारत ने साइट्स परिशिष्ट-II में कई प्रजातियों को शामिल करने का आग्रह किया है, जिससे वन्यजीव प्रजातियों को दुनिया भर में गैर-कानूनी कारोबार का शिकार बनने से सुरक्षा मिल सकेगी।
  • साइट्स-कॉप को विश्व वन्यजीव सम्मेलन के रूप में भी जाना जाता है, जिसमें साइट्स के सभी 184 पक्षकारों को सम्मिलित होने, विचार के लिये सम्मेलन में प्रस्ताव पेश करने तथा सभी निर्णयों पर मतदान करने का अधिकार है।
  • वर्तमान तक 52 प्रस्तावों को रखा गया है, जिनसे शार्क, सरी-सृपों, हिप्पो, सॉन्गबर्ड, गैंडों, वृक्षों की 200 प्रजातियों, आर्किड फूलों, हाथियों, कछुओं आदि के अंतर्राष्ट्रीय कारोबार पर नियम बनाने में सुविधा होगी।

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप चर्चित व्यक्ति

लचित बरफुकन की 400वीं जयंती


25 नवंबर, 2022 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नई दिल्ली के विज्ञान भवन में 17वीं शताब्दी के महान योद्धा लचित बरफुकन की 400वीं जयंती के उपलक्ष्य में वर्ष भर चलने वाले उत्सव के समापन समारोह को संबोधित करेंगे।

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • इस उत्सव का उद्घाटन फरवरी 2022 में भारत के तत्कालिक राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा असम के गुवाहाटी में किया गया था।
  • लचित बरफुकन 24 नवंबर, 1622 - 25 अप्रैल, 1672 असम के अहोम साम्राज्य की शाही सेना के प्रसिद्ध सेनापति थे।
  • लचित बरफुकन ने 1671 में ‘सराईघाट का युद्ध जिसमें मुगलों को हराकर औरंगजेब की लगातार बढ़ती महत्वाकांक्षाओं को सफलतापूर्वक रोक दिया था।
  • रामसिंह प्रथम ने मुगलों की सेना का नेतृत्व किया था |
  • यह लड़ाई गुवाहाटी में ब्रह्मपुत्र के तट पर लड़ी गई थी।
  • लचित बरफुकन और उनकी सेना की वीरतापूर्ण लड़ाई देश के इतिहास में प्रतिरोध की सबसे प्रेरक सैन्य उपलब्धियों में से एक है।
  • असम में 24 नवंबर को उनकी जयंती पर 'लचित दिवस' मनाया जाता है।लचित के नाम पर नेशनल डिफेंस एकेडमीमें बेस्ट कैडेट गोल्ड मेडल भी दिया जाता है, जिसे लचित मेडल भी कहा जाता है।

राज्य समाचार हरियाणा

भिवानी-हांसी सड़क परियोजना को मंजूरी


हरियाणा के भिवानी और हिसार जिलों में भारतमाला परियोजना के अंतर्गत एनएच-148बी के भिवानी-हांसी सड़क सेक्शन को 1,322.13 करोड़ रुपये के बजट के साथ 4 लेन करने की मंजूरी दी गई है।

  • यह परियोजना तेज आवाजाही और बेहतर अंतर-जिला कनेक्टिविटी प्रदान करेगी। इस सेक्शन के विकास से लंबे मार्ग की यातायात और माल ढुलाई की समग्र दक्षता में भी सुधार होगा|
  • इस परियोजना से हरियाणा में आधारभूत अवसंरचना को बढ़ावा मिलेगा, जिससे क्षेत्र के समग्र आर्थिक विकास को गति मिलेगी।

राज्य समाचार तेलंगाना

राष्ट्रीय राजमार्ग-163 को 4 लेन की मंजूरी


केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने तेलंगाना के मुलुगु जिले में राष्ट्रीय राजमार्ग-163 के हैदराबाद-भूपालपट्टनम खंड से मौजूदा 2 लेन की सड़क को छोटे वाहनों के आवागमन के लिए आवश्यक स्थान के साथ-साथ 2 लेन में चौड़ा करने को मंजूरी दी है।

  • यह परियोजना खंड प्रमुख पर्यटन स्थलों जैसे लकनावरम झील और बोगोथा झरने को आपस में जोड़ता है।
  • इस खंड के निर्माण कार्य से तेलंगाना और छत्तीसगढ़ के बीच अंतरराज्यीय संपर्क में सुधार होगा।
  • मुलुगु जिला वाम उग्रवाद (एलडब्ल्यूई) से प्रभावित जिला है। इस खंड के विकास से सरकार को वामपंथी उग्रवाद गतिविधियों पर नियंत्रण रखने में मदद मिलेगी|

संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप रिपोर्ट एवं सूचकांक

भारतीय दूरसंचार सेवा प्रदर्शन सूचक रिपोर्ट


23 नवंबर, 2022 को ‘भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण’ (ट्राई) द्वारा 30 जून, 2022 को समाप्त तिमाहीं के लिए "भारतीय दूरसंचार सेवा प्रदर्शन सूचक रिपोर्ट" जारी की गई।

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • यह रिपोर्ट भारत में दूरसंचार सेवाओं की एक व्यापक तस्वीर प्रदान करती है और 1 अप्रैल, 2022 से 30 जून, 2022 तक की अवधि के लिए मुख्य रूप से सेवा प्रदाताओं द्वारा दी गई जानकारियों के आधार पर भारत में दूरसंचार सेवाओं के साथ-साथ केबल टीवी, डीटीएच और रेडियो प्रसारण सेवाओं के प्रमुख मापदंडों तथा विकास के रुझान को प्रस्तुत करती है।
  • भारत में टेलीफोन सब्सक्राइबर की संख्या मार्च 2022 के अंत में 116.693 करोड़ से बढ़कर जून 2022 के अंत तक 117.296 करोड़ हो गई, इसमें पिछली तिमाहीं की तुलना में 0.52% की वृद्धि दर्ज हुई है।
  • भारत का कुल टेली-घनत्व मार्च 2022 को समाप्त तिमाहीं में 84.88% से बढ़कर जून-2022 को समाप्त तिमाहीं में 85.13% हो गया।
  • शहरी क्षेत्रों में टेलीफोन उपभोक्ताओं की संख्या मार्च 2022 के अंत में 64.711 करोड़ से बढ़कर जून 2022 के अंत तक 64.909 करोड़ हो गई, हालांकि इसी अवधि के दौरान शहरों का टेलीफोन-घनत्व 134.94% से घटकर 134.72% हो गया।
  • ग्रामीण क्षेत्रों के टेलीफोन सब्सक्राइबर मार्च 2022 के अंत के 51.982 करोड़ से बढ़कर जून 2022 के अंत में 52.327 करोड़ हो गए और इसी अवधि के दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में टेलीफोन-घनत्व भी 58.07 प्रतिशत से बढ़कर 58.46% हो गया।
  • कुल सब्सक्रिप्शन में से ग्रामीण क्षेत्रों के सब्सक्राइबर की हिस्सेदारी मार्च 2022 के अंत तक 44.55% से बढ़कर जून 2022 के अंत तक 44.66% हो गई।

महत्वपूर्ण आंकड़े -

संबंधित क्षेत्र

संख्या

शहरी इंटरनेट सब्सक्राइबर

497.56 मिलियन

ग्रामीण इंटरनेट सब्सक्राइबर

339.30 मिलियन

प्रति 100 लोगों में कुल इंटरनेट सब्सक्राइबर

60.73

प्रति 100 लोगों में शहरी इंटरनेट सब्सक्राइब

103.27

प्रति 100 लोगों में ग्रामीण इंटरनेट सब्सक्राइबर

37.86

कुल इंटरनेट सब्सक्राइबर

836.86 मिलियन

पीआईबी न्यूज पर्यावरण

हाउ टू ब्लो अप ए पाइपलाइन


गोवा में 53वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में 'हाउ टू ब्लो अप ए पाइपलाइन' फिल्म, जो जलवायु परिवर्तन के मुद्दे को लेकर सक्रियता की दिशा में सार्थक चर्चा के लिए प्रेरित करती है, जिसे इस महोत्सव में दिखाया गया |

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • यह फिल्म एंड्रियास माम की 2021 में आई पुस्तक 'हाउ टू ब्लो अप पाइपलाइन लर्निंग टू फाइट इन वर्ल्ड ऑफ फायर' पर आधारित है। यह अमेरिकी फिल्म है, जो एक यूरोपीय किताब से ली गई अमेरिकी अवधारणा पर आधारित है|
  • लॉस एंजिलिस और न्यूयॉर्क स्थित डैनियल गोल्डहेबर फिल्म के निर्देशक, लेखक और निर्माता हैं।
  • गोल्डहेबर की पहली फिल्म 'कैम' (2018) थी।

सामयिक खबरें आर्थिकी

डेटा इकॉनमी को बढ़ावा देने के लिए नियामक ढांचा


हाल ही में भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) ने भारत में डेटा केंद्रों (Data Centers), सामग्री वितरण नेटवर्क (Content Delivery Networks) और इंटरकनेक्ट एक्सचेंज (Interconnect Exchanges) की स्थापना के माध्यम से डेटा अर्थव्यवस्था (Data Economy) को बढ़ावा देने के लिए एक नियामक ढांचे के संबंध में अपनी सिफारिशें जारी कीं।

सिफारिशों के मुख्य बिंदु

  • डेटा केंद्र प्रोत्साहन योजना: ट्राई ने डेटा केंद्र और डेटा केंद्र पार्क (Data Centre Park) स्थापित करने के लिए डेटा केंद्र प्रोत्साहन योजना (Data Centre Incentivization Scheme) लाने की सिफारिश की है।
  • डेटा सेंटर SEZ: डेटा सेंटर और डेटा सेंटर पार्कों की स्थापना के लिए आंध्र प्रदेश, केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात, राजस्थान और ओडिशा राज्य में एक SEZ की पहचान की जा सकती है।
  • ग्रीन डेटा सेंटर: सरकार को ग्रीन डेटा सेंटर को बढ़ावा देने के लिए अपनाई जा सकने वाली नई तकनीक / पद्धतियों / प्रक्रियाओं के लिए प्रायोगिक आधार पर प्रस्ताव के लिए अनुरोध आमंत्रित करने के लिए एक योजना बनानी चाहिए।
  • पावर इंफ्रास्ट्रक्चर: डेटा सेंटर और डेटा सेंटर पार्क साइटों को राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (State Pollution Control Board) या केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (Central Pollution Control Board) से बिना किसी बाधा के बैकअप पावर इंफ्रास्ट्रक्चर के रूप में संचालित करने की अनुमति दी जानी चाहिए।
  • डेटा डिजिटलीकरण और मुद्रीकरण परिषद: केंद्र में डेटा डिजिटलीकरण अभियान को चलाने के लिए ‘डेटा डिजिटलीकरण और मुद्रीकरण परिषद’ (Data Digitization and Monetization Council) नामक एक वैधानिक निकाय की स्थापना की जानी चाहिए।
    • डेटा डिजिटाइजेशन और मुद्रीकरण परिषद को सरकार के साथ-साथ भारत में कॉर्पोरेट द्वारा डेटा के नैतिक उपयोग के लिए एक व्यापक रूपरेखा तैयार करने की जिम्मेदारी भी सौंपी जानी चाहिए।
  • डेटा साझाकरण एवं सहमति प्रबंधन रूपरेखा: सरकार को ‘डेटा अधिकारिता और संरक्षण ढांचे’ (DEPA framework) की तर्ज पर एक ‘डेटा साझाकरण और सहमति प्रबंधन रूपरेखा’ (Data Sharing & Consent Management Framework) स्थापित करना चाहिए।

भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण

  • स्थापना: भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (TRAI) की स्थापना वर्ष 1997 में संसद के एक अधिनियम द्वारा की गई थी।
  • मुख्यालय: नई दिल्ली में स्थित है।
  • उद्देश्य: देश में दूरसंचार के विकास के लिए ऐसी परिस्थितियों का निर्माण और पोषण करना है जो भारत को उभरते वैश्विक सूचना समाज में अग्रणी भूमिका निभाने में सक्षम बनाए।
  • प्रमुख कार्य: दूरसंचार सेवाओं को विनियमित करना तथा दूरसंचार सेवाओं के लिए टैरिफ का निर्धारण/संशोधन करना हेतु की गई थी।

सामयिक खबरें विज्ञान-प्रौद्योगिकी

भारत का पहला निजी प्रक्षेपण यान : विक्रम-एस


18 नवंबर, 2022 को श्रीहरिकोटा स्थित भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के स्पेसपोर्ट से स्काईरूट एरोस्पेस (Skyroot Aerospace) के विक्रम-एस (Vikram-S) यान ने अपनी पहली उड़ान भरी|

  • स्काईरूट एयरोस्पेस के इस पहले मिशन को ‘प्रारंभ’ नाम दिया गया है।
  • विक्रम-एस की कुल मिशन अवधि 300 सेकंड थी एवं अपने मिशन को पूरा करने के बाद इसने बंगाल की खाड़ी में स्पलैशडाउन (splashdown) किया।

मुख्य बिंदु

  • विशेषता: विक्रम-एस प्रमोचन यान की लंबाई 6 मीटर है तथा यह एक एकल-चरण ठोस ईंधन उप-कक्षीय रॉकेट (Single-Stage Solid Fuelled Sub-Orbital Rocket) है|
    • इस प्रमोचन वाहन का लिफ्ट ऑफ मास 545 किलोग्राम था| स्काईरूट एरोस्पेस कंपनी द्वारा विक्रम लॉन्च वाहन श्रृंखला के अन्य उपग्रहों, विक्रम II और विक्रम III, का विकास किया जा रहा हैं।
    • रॉकेट में ध्वनि की गति से 5 गुना अधिक गति यानी 5 मैक तक पहुंचने की क्षमता है| यह 83 किग्रा. (183 पाउंड) के पेलोड को 100 किमी. (62 मील) की ऊंचाई तक ले जाने की क्षमता रखता है।
    • स्काईरूट एयरोस्पेस 526 करोड़ रुपए के साथ भारत में अंतरिक्ष क्षेत्र की सबसे बड़ी वित्त पोषित निजी कंपनी बन गई है।
  • प्रमोचन: इस प्रमोचन के माध्यम से तीन उपग्रह लांच किये गए| इसमें चेन्नई स्थित स्टार्ट-अप स्पेसकिड्ज़ (SpaceKidz), आंध्र प्रदेश स्थित एन-स्पेसटेक (N-SpaceTech) के उपग्रह शामिल हैं|
    • एक अंतरराष्ट्रीय समझौते के तहत, आर्मेनिया के बाज़ूमक्यू स्पेस रिसर्च लैब (BazoomQ Space Research Lab) के उपग्रह को भी प्रमोचित किया गया है।

भारत में निजी क्षेत्र द्वारा किये जा रहे अन्य प्रयास

  • एक अन्य कंपनी अग्निकुल कॉसमॉस (Agnikul Cosmos) ने अपने सेमी-क्रायोजेनिक इंजन (Semi-Cryogenic Engine) का हाल ही में परीक्षण किया है।
    • अग्निकुल कॉसमॉस आईआईटी मद्रास द्वारा इनक्यूबेटेड एक ‘स्पेस टेक स्टार्ट-अप’ है, जो वर्तमान में अग्निबाण (Agnibaan) नामक छोटे लॉन्च वाहन को भी विकसित कर रही है|
    • अग्निबाण को इस प्रकार विकसित किया जा रहा है कि यह 100 किलोग्राम पेलोड को 700 किमी. की कक्षा में स्थापित कर सके।
  • इसी प्रकार पिक्सल (Pixxel), एक अन्य स्टार्टअप है जो भविष्य में अंतरिक्ष में एक उपग्रह समूह (constellation of satellites) स्थापित करने पर काम कर रहा है| इसके माध्यम से मौसम की निगरानी और भविष्यवाणी की जा सकेगी।

इन-स्पेस (IN-SPACe)

  • इन-स्पेस (IN-SPACe) भारतीय अंतरिक्ष अवसंरचना का उपयोग करने हेतु निजी क्षेत्र की कंपनियों को समान अवसर उपलब्ध कराएगा।
  • इस निकाय के गठन का मुख्य उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) अपनी आवश्यक गतिविधियों जैसे- अनुसंधान एवं विकास, ग्रहों के अन्वेषण तथा अंतरिक्ष के रणनीतिक उपयोग आदि पर ध्यान केंद्रित कर सके और अन्य सहायक कार्यों को निजी क्षेत्र को हस्तांतरित कर दिया जाए।
  • यह इसरो और कॉरपोरेट क्षेत्र के बीच सहयोग के लिए एक प्लेटफॉर्म के रूप में काम करेगा और देश के अंतरिक्ष संसाधनों का उपयोग करने और अंतरिक्ष-आधारित गतिविधि का विस्तार करने का सबसे प्रभावी तरीका निर्धारित करेगा।
  • इसके अतिरिक्त यह निकाय छात्रों और शोधकर्त्ताओं आदि को भारत की अंतरिक्ष परिसंपत्तियों तक अधिक पहुंच प्रदान करेगा, जिससे भारत के अंतरिक्ष संसाधनों और अंतरिक्ष प्रौद्योगिकियों का बेहतर उपयोग सुनिश्चित होगा।

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

इंडो-पैसिफिक रीजनल डायलॉग-2022


23-25 नवंबर, 2022 तक नेशनल मेरीटाइम फाउंडेशन द्वारा नई दिल्ली में इंडो-प्रशांत रीजनल डायलॉग (आईपीआरडी-2022) 2022 का चौथा संस्करण आयोजित किया जा रहा है।

  • थीम- 'ऑपेरशनलाइज़िंग द इंडो पैसिफिक ओशन्स इनिशिएटिव (आईपीओआई)'
  • उद्देश्य - सार्वजनिक नीति पर चर्चा को प्रोत्साहित करना तथा इंडो-प्रशांत क्षेत्र के भीतर उत्पन्न होने वाले अवसरों एवं चुनौतियों दोनों की समीक्षा करना |

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • आईपीआरडी सरकार और गैर-सरकारी एजेंसियों एवं संस्थानों से संतुलित प्रतिनिधित्व के लिए प्रयास करता है।
  • इस वार्षिक संवाद के माध्यम से भारतीय नौसेना एवं राष्ट्रीय समुद्री फाउंडेशन (National Maritime Foundation), इंडो-प्रशांत क्षेत्र के सामुद्रिक डोमेन को प्रभावित करने वाले भू-रणनीतिक विकास से संबंधित गंभीर चर्चाओं के लिए एक मंच प्रदान करता है।
  • आईपीआरडी-2022 के विषयानुसार 6 सत्र हैं: जो इस प्रकार हैं- (1) वीविंग द फेब्रिक ऑफ हॉलिस्टिक मेरीटाइम सिक्योरिटी इन द इंडो पैसिफिक: मल्टीलेटरल ऑप्शन्स; (2) कंस्ट्रक्टिंग हॉलिस्टिक सिक्योरिटी ब्रिजेज अक्रॉस द वेस्टर्न एंड ईस्टर्न मेरीटाइम एक्सपेंस ऑफ द इंडो पैसिफिक; (3) बिल्डिंग मेरीटाइम कनेक्टिविटी: पोर्ट्स, ट्रेड एंड ट्रांसपोर्ट; (4) कैपेसिटी बिल्डिंग एंड कैपेबिलिटी एनहांसमेंट लेवेरेजिंग द फिज़िकल एंड सोशल साइंसेज़; (5) प्रैक्टिकल अप्रोचेज़ टू ए रीजनल ब्लू इकॉनमी; (6) डिजास्टर रिस्क-रिडक्शन एंड मैनेजमेंट; सॉल्यूशन्स फ़ॉर स्माल आइलैंड डेवलपिंग स्टेट्स एंड वलनरेबल लिटोरल स्टेट।
  • ईपीओआई क्षेत्रीय सहयोग के लिए एक व्यापक एवं समावेशी ढांचा है, जो 7 इंटरकनेक्टेड स्तंभों पर टिका है: समुद्री सुरक्षा, समुद्री पारिस्थितिकी, समुद्री संसाधन, आपदा जोखिम में कमी एवं प्रबंधन, क्षमता निर्माण एवं संसाधन साझाकरण और विज्ञान, व्यापार-कनेक्टिविटी और समुद्री परिवहन, प्रौद्योगिकी एवं अकादमिक सहयोग
  • आईपीआरडी के पहले दो संस्करण 2018 और 2019 में नई दिल्ली में आयोजित किए गए थे। कोविड -19 प्रकोप के कारण आईपीआरडी 2020 रद्द कर दिया गया था।
  • आईपीआरडी का तीसरा संस्करण 2021 में ऑनलाइन मोड में आयोजित किया गया था।

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

ऑस्ट्रेलिया में आयुर्वेद शैक्षणिक पीठ की स्थापना


नवंबर 2022 में आयुष मंत्रालय द्वारा औपचारिक रूप से वेस्टर्न सिडनी यूनिवर्सिटी ऑस्ट्रेलिया में 3 वर्ष की अवधि के लिए आयुर्वेद शैक्षणिक पीठ (academic chair) की स्थापना की घोषणा की गई।

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • नई दिल्ली के एसोसिएट प्रोफेसर और प्रमुख (कौमारभृत्य विभाग) डॉ. राजगोपाला एस. को पश्चिमी सिडनी विश्वविद्यालय, ऑस्ट्रेलिया में आयुर्वेदिक विज्ञान अकादमिक पीठ के पद के लिए चुना गया है।
  • यह अकादमिक पीठ (चेयर) आयुर्वेद में शैक्षणिक (अकादमिक) और सहयोगी अनुसंधान गतिविधियों का संचालन करेगा, जिसमें वानस्पतिक औषधियों एवं योग के साथ ही अकादमिक मानकों तथा लघु अवधि / मध्यम अवधि के पाठ्यक्रम और शैक्षिक दिशा-निर्देश भी शामिल हैं।
  • यह मजबूत ऑस्ट्रेलियाई नियामक ढांचे के भीतर, आयुर्वेद से संबंधित शिक्षण, अनुसंधान और नीति विकास में उत्कृष्टता को प्रदर्शित करने और उसे बढ़ावा देने में अकादमिक नेतृत्व प्रदान करेगा|
  • इससे पारंपरिक स्वास्थ्य देखभाल में साक्ष्य आधारित आयुर्वेद औषधियों के अनुप्रयोगों तथा एकीकरण को बढ़ावा देने के लिए रणनीति विकसित करने में मदद मिलेगी।
  • आयुष मंत्रालय ने भारत की मृदु शक्ति (सॉफ्ट पावर) के रूप में आयुर्वेद और योग को बढ़ावा देने तथा उसे स्थापित करने एवं इसे सुविधाजनक बनाने के लिए 16 देशों के साथ आयुष पीठ के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए हैं।

पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

भारत-ऑस्ट्रेलिया आर्थिक सहयोग एवं व्यापार समझौता


22 नवंबर, 2022 को भारत और ऑस्ट्रेलिया के मध्य मुक्त आर्थिक सहयोग एवं व्यापार समझौते पर आस्ट्रेलिया की संसद ने मंजूरी प्रदान की |

महत्वपूर्ण तथ्य-

  • भारत-ऑस्ट्रेलिया, आर्थिक सहयोग एवं व्यापार समझौते (Economic Cooperation and Trade Agreement) के तहत ऑस्ट्रेलिया द्वारा 100 प्रतिशत टैरिफ लाइनों पर शुल्क समाप्त किए जाएंगे।
  • ईसीटीए अर्थव्यवस्था के कई सेक्टरों को, विशेष रूप से कपड़ा, रत्न एवं आभूषण तथा फार्मास्यूटिकल्स को अत्यधिक बढ़ावा देगा।
  • इस समझौते से भारत में सेवा क्षेत्र के लिए भी नए अवसर खुलने की उम्मीद है और इससे छात्रों को प्रचुर लाभ मिलेगा, जिन्हें ऑस्ट्रेलिया में काम करने का अवसर प्राप्त होगा।
  • भारत के योग गुरुओं तथा शेफ के लिए प्रत्येक वर्ष 1800 लोगों को वर्क वीजा कोटा दिया जायेगा। आस्ट्रेलिया में पढ़ रहे भारतीय छात्रों को 4 वर्ष का वर्क वीजा मिलेगा|
  • भारत ऑस्ट्रेलिया ईसीटीए, जिस पर 2 अप्रैल, 2022 को हस्ताक्षर किए गए थे, जिसे 22 नवंबर, 2022 को ऑस्ट्रेलिया की संसद द्वारा मुहर लगाई गई |
  • ईसीटीए एक दशक के बाद किसी विकसित देश के साथ किया गया भारत का पहला व्यापार समझौता है। इस समझौते में दो मित्र देशों के बीच द्विपक्षीय आर्थिक और वाणिज्यिक संबंधों के संपूर्ण क्षेत्र में सहयोग सन्निहित है।
  • यह ऑस्ट्रेलिया के सात लाख से अधिक भारतीय प्रवासियों, जो दूसरा सबसे बड़ा कर दाता डायस्पोरा है, के साथ भी जुड़ेगा, जो ऑस्ट्रेलिया के समाज और अर्थव्यवस्था में उल्लेखनीय योगदान देता है।
  • वर्तमान समय में भारत और आस्ट्रेलिया के बीच 31 अरब डालर का कारोबार है|
  • वर्ष 2026-27 तक वास्तु निर्यात में 10 अरब डालर का इजाफा हो सकता है|
  • अगले 5 वर्षों में दोनों देशों के मध्य कारोबार 45-50 अरब डालर होने की उम्मीद है|
  • पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

    भारत-आसियान रक्षा मंत्रियों की बैठक


    22 नवंबर, 2022 को वर्ष 2022 में भारत-आसियान संबंधों की 30वीं वर्षगांठ मनाने के लिए कंबोडिया के सिएम रीप में पहलीबार ‘भारत-आसियान’ रक्षा मंत्रियों की बैठक आयोजित की गई, जिसे 'आसियान-भारत मैत्री वर्ष' के रूप में माना गया है।

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • बैठक की सह-अध्यक्षता रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और कंबोडिया के उप प्रधानमंत्री व राष्ट्रीय रक्षा मंत्री जनरल टी. बान ने की।
    • पहली भारत-आसियान रक्षा मंत्रियों की बैठक के दौरान भारत-आसियान रक्षा संबंधों के दायरे एवं गहराई को और बढ़ाने के लिए दो प्रमुख पहल करने का प्रस्ताव दिया।
    • पहल 1 - 'संयुक्त राष्ट्र के पीस कीपिंग ऑपरेशंस में महिलाओं के लिए भारत-आसियान पहल'-इस पहल मेंभारत में संयुक्त राष्ट्र शांति स्थापना केंद्र में आसियान सदस्य देशों की महिला शांति सैनिकों के लिए आवश्यकतानुसार तैयार किये गए पाठ्यक्रम का संचालन और संयुक्त राष्ट्र शांति स्थापना चुनौतियों के पहलुओं को शामिल करते हुए आसियान की महिला अधिकारियों के लिए भारत में 'टेबल टॉप अभ्यास' का आयोजन करना शामिल है।
    • पहल 2'समुद्री प्लास्टिक प्रदूषण पर भारत-आसियान पहल' – इस पहल में समुद्री प्रदूषण के महत्वपूर्ण मुद्दे को हल करने की दिशा में युवाओं की ऊर्जा को चैनलाइज़ करना शामिल है।
    • भारत ने समुद्री प्रदूषण की घटनाओं से निपटने के लिए क्षेत्रीय प्रयासों को रेखांकित करने और इसे पूरक बनाने के लिए भारतीय तट रक्षक द्वारा चेन्नई में एक ‘भारत-आसियान समुद्री प्रदूषण प्रतिक्रिया केंद्र’ की स्थापना का भी प्रस्ताव रखा।

    पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

    कृत्रिम बुद्धिमत्ता पर वैश्विक शिखर सम्मेलन-2022


    22 नवंबर, 2022 को राजीव चंद्रशेखर ने जापान के टोक्यो में आयोजित कृत्रिम बुद्धिमत्ता पर वैश्विक (Global Partnership on Artificial Intelligence :GPAI) शिखर सम्मेलन के समापन समारोह को वर्चुअली माध्यम से संबोधित किया|

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • इस सम्मेलन में निवर्तमान परिषद अध्यक्ष, फ्राँस द्वारा वर्ष 2022-23 के लिये कृत्रिम बुद्धिमत्ता पर वैश्विक भागीदारी (GPAI) की अध्यक्षता भारत को सौंपी गई है।
    • जापान का टोक्यो शहर इस शिखर सम्मेलन की मेज़बानी करने वाला पहला एशियाई शहर है।
    • इस बैठक में चार विषयों पर चर्चा की गई: ज़िम्मेदार AI, डेटा शासन, कार्य का भविष्य, नवाचार और व्यावसायीकरण शामिल हैं|
    • भारत ने जीपीएआई के सदस्य देशों से डेटा गवर्नेंस के बारे में नियमों और दिशा-निर्देशों का एक सामान्य ढांचा विकसित करने के लिए मिलकर काम करने का आह्वान किया; ताकि उपयोगकर्ता को नुकसान से बचाया जा सके और इंटरनेट तथा एआई दोनों की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके।
    • यह सम्मलेन भागीदारों और अंतररार्ष्ट्रीय संगठनों, उद्योग, नागरिक समाज, सरकारों और शिक्षा जगत के प्रमुख विशेषज्ञों के सहयोग से एआई के जिम्मेदार विकास को बढ़ावा देने के लिए सहयोग करता है|
    • यह मानव अधिकारों, समावेश, विविधता, नवाचार और आर्थिक विकास पर आधारित एआई के जिम्मेदार विकास तथा उपयोग का मार्गदर्शन करता है।
    • जीपीएआई, अमेरिका, ब्रिटेन, यूरोपीय संघ, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, मैक्सिको, न्यूजीलैंड, कोरिया गणराज्य और सिंगापुर सहित 25 सदस्य देशों का एक समूह है। भारत 2020 में एक संस्थापक सदस्य के रूप में समूह में शामिल हुआ था।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप रिपोर्ट एवं सूचकांक

    जलवायु परिवर्तन प्रदर्शन सूचकांक-2023


    नवंबर 2022 में जर्मनी स्थित ‘जर्मन वॉच, न्यू क्लाइमेट इंस्टीट्यूट’ तथा ‘क्लाइमेट एक्शन नेटवर्क इंटरनेशनल’ द्वारा प्रकाशित जलवायु परिवर्तन प्रदर्शन सूचकांक-2023 (क्लाइमेट चेंज परफॉर्मेंस इंडेक्स–सीसीपीआई 2023) की सूचि जारी की गई|

    उद्देश्य- अंतरराष्ट्रीय जलवायु राजनीति में पारदर्शिता बढ़ाने के साथ ही उसे जलवायु संरक्षण प्रयासों एवं अलग-अलग देशों द्वारा की गई प्रगति की तुलना करने में सक्षम बनाना|

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • यह सूचकांक 59 देशों और यूरोपीय संघ के जलवायु संरक्षण प्रदर्शन के आधार पर जारी किया गया है।
    • नवंबर 2022 में सीओपी 27 में जारी सीसीपीआई की नवीनतम रिपोर्ट में डेनमार्क, स्वीडन, चिली और मोरक्को को केवल ऐसे 4 छोटे देशों के रूप में दिखाया गया है, जो क्रमशः भारत से ऊपर चौथे, 5वें, 6वें और 7वें स्थान पर थे।
    • किसी भी देश को पहला, दूसरा और तीसरा स्थान नहीं दिया गया।

    रिपोर्ट के अनुसार देशों की सूची-

    प्रदर्शन रैंकिंग

    देश

    1

    कोई नहीं

    2

    कोई नहीं

    3

    कोई नहीं

    4

    डेनमार्क

    5

    स्वीडन

    6

    चिली

    7

    मोरक्को

    8

    भारत

    भारत की स्थिति

    • जलवायु परिवर्तन प्रदर्शन सूचकांक-2023 के अनुसार भारत ने 2 स्थानों की छलांग लगाईं है और अब वह 8वें स्थान पर आ गया है।
    • जलवायु परिवर्तन के प्रदर्शन के आधार पर भारत को विश्व के शीर्ष 5 देशों में एवं जी-20 देशों में सर्वश्रेष्ठ स्थान दिया गया है। सभी बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में भारत की रैंकिंग सबसे अच्छी है।
    • भारत ने जीएचजी उत्सर्जन और ऊर्जा उपयोग श्रेणियों में उच्च रेटिंग अर्जित की है, जबकि जलवायु नीति और नवीकरणीय ऊर्जा के लिए मध्यम रेटिंग प्राप्त की है
    • सीसीपीआई प्रतिवेदन के अनुसार, भारत अपने 2030 उत्सर्जन लक्ष्यों (2 डिग्री सेल्सियस से नीचे के परिदृश्य के साथ तारतम्य रखते हुए) को पूरा करने के लिए सही राह पर है।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप निधन

    आरिज पिरोजशॉ खंबाटा


    21 नवंबर, 2022 को रसना समूह के संस्थापक और अध्यक्ष आरिज पिरोजशॉ खंबाटा का 85 वर्ष की आयु में निधन हो गया |

    • वह ‘पारसी ईरानी जरथोस्टिस का विश्व गठबंधन’ और अहमदाबाद पारसी पंचायत के पूर्व अध्यक्ष, फेडरेशन ऑफ पारसी; पारसी अंजुमन्स ऑफ इंडिया’ के उपाध्यक्ष भी थे।
    • इन्होने भारतीय उद्योग, व्यापार और समाज सेवा के माध्यम से सबसे महत्वपूर्ण सामाजिक विकास में बहुत योगदान दिया है।
    • इन्हें प्रतिष्ठित घरेलू पेय ब्रांड रसना बनाने के लिए जाना जाता है, जिसे देश में 1.8 मिलियन खुदरा दुकानों पर बेचा जाता है।
    • रसना अब दुनिया भर के 60 देशों में बेचा जाता है, रसना अब दुनिया का सबसे बड़ा शीतल पेय केंद्रित निर्माता है।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप चर्चित व्यक्ति

    कासिम जोमार्ट बने कजाकिस्तान के नए राष्ट्रपति


    20 नवंबर, 2022 को हुए राष्ट्रपति चुनाव में राष्ट्रपति कासिम-जोमार्ट टोकायव को कजाकिस्तान के राष्ट्रपति के रूप में फिर से निर्वाचित किया गया है।

    • कजाकिस्तान चुनाव आयोग के अनुसार, उन्होंने 81.31% वोट हासिल किए हैं ।
    • मार्च 2019 को कासिम-जोमार्ट टोकायव कजाकिस्तान के पहले राष्ट्रपति नूर सुल्तान नज़रबायेव के इस्तीफे के बाद कजाकिस्तान के राष्ट्रपति बने थे।
  • कजाकिस्तान सोवियत संघ के विघटन के बाद 16 दिसंबर, 1991 को स्वतंत्रता हुआ था|
  • यह मध्य एशिया में स्थित सबसे बड़ा देश और दुनिया का 9वां सबसे बड़ा देश है।
  • कजाकिस्तान की राजधानी अस्ताना है|
  • खेल समाचार फुटबॉल

    फुटबॉल कप्तान बाबू मणि


    हाल ही में पूर्व भारतीय फुटबॉल कप्तान बाबू मणि का 59 वर्ष की आयु में निधन हो गया।

    • ये 1980 के दशक में भारतीय फुटबॉल टीम का अभिन्न अंग थे, वर्ष 1984 के नेहरू कप के दौरान कोलकाता में अर्जेंटीना के खिलाफ भारत के लिए अपना पहला मैच खेलाऔर इस तरह देश के लिएकुल 55 मैच खेला था।
    • वह 1984 में एशियाई फुटबॉल परिसंघ एशियाई कप के लिए क्वालीफाई करने वाले पहले भारतीय दल का सदस्य थे|
    • ये उस भारतीय टीम के भी सदस्य थे, जिसने दक्षिण एशियाई खेलों के 1985 और 1987 के संस्करणों में स्वर्ण पदक जीता था।
    • 1986 और 1988 में संतोष ट्रॉफी जीतने वाली बंगाल टीम का भी हिस्सा थे।
    • उन्होंने कोलकाता के शीर्ष तीन क्लबों, मोहम्मडन स्पोर्टिंग, मोहन बागान और ईस्ट बंगाल के लिए फेडरेशन कप, आईएफए शील्ड, डुरंड कप, रोवर्स कप आदि घरेलू फुटबॉल कप जीते।

    खेल समाचार शतरंज

    मेल्टवाटर चैंपियन्स टूर शतरंज टूर्नामेंट-2022


    हाल ही में आयोजित हुए ‘मेल्टवाटर चैंपियंस चेस टूर शतरंज-2022के फाइनल में नॉर्वे के मैग्नस कार्लसन ने ऑनलाइन चेस में अपनी श्रेष्ठता एक बार फिर साबित करते हुए एक राउंड शेष रहते खिताबी जीत हासिल कर लिया।

    • विश्व चैंपियन ने भारत के 17 वर्षीय रमेशबाबू प्रज्ञानानंदा को हराकर सत्र के अंतिम मुकाबले में जीत हासिल की।
    • पोलैंड के विश्व कप विजेता जान क्रिस्टोफ डूडा 2 जीत के साथ दूसरे स्थान पर रहे।
    • इस इवेंट में कार्लसन ने 16 बाजियों में से 14 जीतीं और 6 मैचों में विजयी रहे।
    • भारत के 19 वर्षीय अर्जुन एरिगैसी ने लिएम कुआंग ली को पराजित कर तालिका में चौथे स्थान पर हैं।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    भारत का पहला राष्ट्रीय उत्कृष्टता केंद्र


    केंद्रीय पत्तन, पोत परिवहन मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने हरित पत्तन और पोत परिवहन के लिए मुंबई में आयोजित "इनमार्को 2022" में भारत के पहले ‘राष्ट्रीय उत्कृष्टता केंद्र’ (National Center of Excellence) की घोषणा की।

    उद्देश्य- भारत में कार्बन उदासीनता और वित्तीय अर्थव्यवस्था (सीई) को बढ़ावा देना तथा पत्तन और पोत परिवहन को ज्यादा से ज्यादा पर्यावरण अनुकूल बनाना है।

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • यह केंद्र पोत और पोत परिवहन क्षेत्र का समर्थन करने के लिए कई तकनीकी उपायों का उपयोग करेगा और वैज्ञानिक अनुसंधान के माध्यम से उद्योग में आने वाली विभिन्न समस्याओं का समाधान करेगा।
    • यह स्थानीय, क्षेत्रीय, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर समुद्री परिवहन में मूल्यवान शिक्षा, अनुप्रयुक्त अनुसंधान और प्रौद्योगिकी हस्तांतरण भी करेगा।

    यह केंद्र 5 व्यापक क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करेगा-

    • नीति, नियामक और अनुसंधान,
    • मानव संसाधन विकास,
    • नेटवर्क- प्रमुख भागीदार और रणनीतिक सहयोगी,
    • अन्वेषण- कार्य का क्षेत्र, परिणाम, परियोजनाएं और संसाधन,
    • संलग्न- कार्य का क्षेत्र, परिणाम, परियोजनाएं और संसाधन।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    क्षेत्रीय यूनानी चिकित्सा अनुसंधान संस्थान


    20 नवंबर, 2022 को केंद्रीय आयुष मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने असम के सिलचर में ‘क्षेत्रीय यूनानी चिकित्सा अनुसंधान संस्थान’ (Regional Unani Medical Research Institute) के अत्याधुनिक परिसर का उद्घाटन किया।

    उद्देश्य- विभिन्न रोगों से ग्रस्त रोगियों को यूनानी उपचार प्रदान करना तथा रोगियों के स्वभाव का आकलन करना|

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • इस परिसर का विकास भारत सरकार के उद्यम- ‘राष्ट्रीय परियोजना निर्माण निगम’ (National Project Construction Corporation) द्वारा किया गया है।
    • यह संस्थान आयुष चिकित्सा प्रणालियों में से एक परंपरागत यूनानी चिकित्सा के बारे में पूर्वोत्तर में स्थापित पहला केंद्र है।
    • इसे भारत सरकार के आयुष मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त संगठन ‘केंद्रीय यूनानी चिकित्सा अनुसंधान परिषद’ को सौंपा गया है।
    • यूनानी चिकित्सा में अनुसंधान के लिए यह शीर्ष सरकारी संगठन है। यह यूनानी चिकित्सा के विभिन्न मौलिक और व्यावहारिक पहलुओं पर उन बीमारियों के बारे में जो उत्तर-पूर्व और विशेष रूप से असम में प्रचलित हैं। यह वैज्ञानिक अनुसंधान करने के साथ-साथ रोगी की देखभाल सेवाओं की विस्तृत श्रृंखला प्रदान करेगा।
    • यह केंद्र कार्डियक, पल्मोनरी, स्ट्रोक, कैंसर और मधुमेह जैसे गैर-संचारी रोगों (एनसीडी) के रोगियों की जांच के लिए भी पूरी तरह सक्षम है।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    21वीं वर्ल्ड कांग्रेस ऑफ अकाउंटेंट्स-2022


    18-21 नवंबर, 2022 को 21वीं वर्ल्ड कांग्रेस ऑफ अकाउंटेंट्स-2022 का आयोजन ‘चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया' (Chartered Accountants of India) द्वारा मुंबई में आयोजित की गई।

    थीम-'बिल्डिंग ट्रस्ट इनेबलिंग सस्टेनेबिलिटी' |

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने 21वीं वर्ल्ड कांग्रेस ऑफ अकाउंटेंट्स को संबोधित किया और चार्टर्ड अकाउंटेंट को "नई आर्थिक व्यवस्था के संत" के रूप में वर्णित किया।
    • वर्ल्ड कांग्रेस ऑफ अकाउंटेंट्स , कांग्रेस के इतिहास में इसे पहली बार हाइब्रिड मोड में आयोजित किया गया है।

    GK फैक्ट

    • इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया की स्थापना 1 जुलाई, 1949 को की गई थी।
    • इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है|
    • यह विश्व में चार्टर्ड एकाउंटेंट्स के क्षेत्र में अमेरिकन इंस्टीट्यूट ऑफ सर्टिफाइड पब्लिक अकाउंटेंट्स (एआईसीपीए) के बाद दूसरा सबसे बड़ा पेशेवर निकाय है।
    • यह कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय, भारत सरकार के प्रशासनिक नियंत्रण में आता है।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

    पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर पुरस्‍कार-2022


    20 नवंबर, 2022 को भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) के उद्घाटन समारोह में इस पुरस्कार की घोषणा की गई ।

    2022 के लिए ‘इंडियन फिल्म पर्सनालिटी ऑफ द ईयर अवार्ड-2022’ मेगास्टार और अभिनेता-निर्माता चिरंजीवी कोनिडेला को दिया गया।

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • यह पुरस्कार पसंदीदा मेगास्टार को सिनेमा में उनके योगदान, लोकप्रिय संस्कृति और सामाजिक रूप से महत्वपूर्ण कलात्मक कार्य के लिए मान्यता प्रदान करता है।
    • चार दशकों से अधिक के शानदार फिल्मी करियर में चिरंजीवी ने तेलुगू में 150 से अधिक फीचर फिल्मों के साथ-साथ हिंदी, तमिल और कन्नड़ में कुछ फिल्मों में अभिनय किया है। उन्हें तेलुगू सिनेमा के सबसे सफल और प्रभावशाली अभिनेताओं में से एक माना जाता है।
    • भारतीय सिनेमा में उनके योगदान के लिए 2006 में उन्हें भारत के तीसरे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

    सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार-2022


    20 नवंबर, 2022 को प्रसिद्ध स्पेनिश फिल्म निर्देशक कार्लोस सौरा को गोवा में भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (इफ्फी) के 53वें संस्करण समारोह में प्रतिष्ठित ‘सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया।

    महत्पूर्ण तथ्य-

    • उन्हें यह पुरस्कार अंतरराष्ट्रीय सिनेमा में उनके योगदान के लिए प्रदान किया गया है
    • यह पुरस्कार उनकी बेटी अन्ना सौरा ने स्वीकार किया।
    • कार्लोस सौरा को स्पेन के सबसे प्रसिद्ध फिल्म निर्माताओं में से एक माना जाता है।

    उनकी प्रसिद्ध फिल्मों में शामिल हैं- कज़िन एंजेलिका, मामा क्यूम्पल 100 एनोस, द फ्लेमेंको ट्रिलॉजी ब्लड वेडिंग, कारमेन और लव द मैजिशियन आदि।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

    स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार 2021-22


    19 नवंबर, 2022 को केन्द्रीय शिक्षा मंत्रालय में राज्य मंत्री डॉ. सुभाष सरकार ने नई दिल्ली में राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता विद्यालयों को ‘स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार (एसवीपी) 2021-22 प्रदान किया।

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • यह एसवीपी 2021-22 पुरस्कार का तीसरा संस्करण है, इसमें पंजीकृत 9.59 लाख विद्यालयों ने हिस्सा लिया। यह संख्या एसवीपी 2017-18 में हिस्सा लेने वाले विद्यालयों (6.15 लाख विद्यालय) की संख्या से लगभग 1.5 गुना अधिक है।
    • राज्य/केंद्रशासित प्रदेश स्तर पर इनमें से 606 विद्यालयों को राष्ट्रीय स्तर के पुरस्कारों के योग्य पाया गया।
    • इसमें यूनिसेफ साझेदार एजेंसी (निर्माण) की ओर से तीसरे पक्ष के मूल्यांकन के बाद एसवीपी 2021-22 को लेकर राष्ट्रीय स्तर के पुरस्कारों के लिए 39 विद्यालयों (समग्र श्रेणी में 34 और उप-श्रेणियों में 5) का चयन किया गया।
    • इन चयनित 39 विद्यालयों में से 21 विद्यालय ग्रामीण और 18 विद्यालय शहरी क्षेत्रों से हैं। इनमें से 28 विद्यालय सरकारी/सरकारी सहायता प्राप्त हैं, जबकि 11 निजी विद्यालय हैं।
    • इन पुरस्कारों के तहत विद्यालयों का मूल्यांकन 6 व्यापक मानकों के आधार पर किया जाता है: (1) जल, (2) शौचालय, (3) साबुन से हाथ धोना, (4) परिचालन व रख-रखाव, (5) व्यवहार परिवर्तन व क्षमता निर्माण और (6) कोविड-19 (तैयारी व प्रतिक्रिया)।
    • यह पुरस्कार जिला, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर प्रदान किए जाते हैं।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप चर्चित व्यक्ति

    रानी लक्ष्मीबाई की 194वीं जयंती


    19 नवंबर, 2022 को झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की 194वीं जयंती मनाई गई। झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की जयंती के अवसर पर फिल्म प्रभाग, यू-ट्यूब चैनल और वेबसाइट पर रानी लक्ष्मीबाई के जीवन के बारे मे विशेष फिल्म की स्क्रीनिंग की गई।

    • 52 मिनट की अंग्रेजी फिल्म 'महारानी लक्ष्मीबाई' में उनकी राष्ट्रवाद की सच्ची भावना और निडर साहस का प्रदर्शिन किया गया है।
    • यह फिल्म 1857 के स्वतंत्रता संग्राम की दुर्गा के प्रति श्रद्धांजलि है, जिसमें उनकी अद्वितीय वीरता और साहस को दिखाया गया है।
    • 19 नवम्बर, 1828 को काशी के सुप्रसिद्ध महाविद्वान ब्राह्मण परिवार में जन्मी रानी लक्ष्मीबाई का पालन पोषण, शिक्षा-दीक्षा, बिठूर (कानपुर) में हुई। वह मनु और छबीली के नाम से प्रसिद्ध थी।
    • उन्होंने युद्ध कौशल की शिक्षा बिठूर में ही ली। झांसी के गंगाधर राव से विवाहोपरान्त वह लक्ष्मीबाई के नाम से विख्यात हुई।
    • भारत की विरांगना रानी लक्ष्मीबाई 17 जून, 1858 को ग्वालियर में वीर गति को प्राप्त हुई थी।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप नियुक्ति

    अरूण गोयल


    हाल ही में राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू ने प्रशासनिक अधिकारी अरुण गोयल को निर्वाचन आयुक्त पद पर नियुक्त किया है।

    • इस वर्ष 2022 मई में राजीव कुमार के मुख्य चुनाव आयुक्त का कार्यभार संभालने के बाद से निर्वाचन आयुक्त का एक पद खाली था।
    • 1985 बैच के पंजाब कैडर के प्रशासनिक अधिकारी अरुण गोयल, मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार और चुनाव आयुक्त अनूप चंद्र पांडे के साथ चुनाव पैनल में शामिल होंगे।

    पीआईबी न्यूज आर्थिक

    ईपीएफओ कुल वेतन भुगतान आंकड़े: सितम्‍बर, 2022


    20 नवम्बर, 2022 को ईपीएफओ के जारी अस्थायी कुल वेतन भुगतान आंकड़ों के अनुसार, ईपीएफओ ने सितम्बर, 2022 के महीने में 16.82 लाख सदस्य जोड़े हैं; जिनमें 9.34 लाख नए सदस्य पहली बार ईपीएफओ के दायरे में आए।

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • कुल वेतन भुगतान सितम्बर, 2022 में पिछले वर्ष 2021 में इसी महीने की तुलना में 9.14% सदस्यता वृद्धि दर्शाती है।
    • वास्तविक नामांकन पिछले वित्तीय वर्ष के दौरान दर्ज मासिक औसत से 21.85% अधिक है।
    • आंकड़ों के अनुसार, लगभग 2,861 नए प्रतिष्ठानों ने कर्मचारी भविष्य निधि और विविध प्रावधान कानून, 1952 के तहत अपने कर्मचारियों को सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अनुपालन शुरू किया है।
    • कुल वेतन भुगतान आंकड़ों के लिंग-वार विश्लेषण से संकेत मिलता है कि सितम्बर, 2022 में महिला सदस्यों का नामांकन 3.50 लाख रहा है।
    • सितम्बर 2022 में संगठित कार्यबल में महिलाओं की सदस्यता में पिछले वर्ष सितम्बर 2021 की तुलना में 6.98 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।
    • ईपीएफओ में शामिल होने वाले कुल नए सदस्यों में महिला कार्यबल का नामांकन 26.36 प्रतिशत दर्ज किया गया है।

    GK फैक्ट

    • ईपीएफओ- यह भारत का एक प्रमुख संगठन है, जो कर्मचारी भविष्य निधि और विविध प्रावधान कानून, 1952 के तहत संगठित क्षेत्र के कार्यबल को सामाजिक सुरक्षा कवरेज प्रदान करने के लिए जिम्मेदार है।
    • यह अपने सदस्यों को भविष्य निधि, उनकी सेवानिवृत्ति पर पेंशन लाभ, परिवारिक पेंशन और सदस्य की असामयिक मृत्यु के मामले में उसके परिवार को बीमा लाभ जैसी अनेक सेवाएं देता है।

    पीआईबी न्यूज आर्थिक

    एमएसएमई वृद्धि और विकास पर राष्ट्रीय संगोष्ठी


    20 नवम्बर, 2022 को सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय ने मणिपुर के इंफाल में एमएसएमई की वृद्धि व विकास पर एक राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया है, जिसे केन्द्रीय मंत्री नारायण राणे ने संबोधित किया|

    उद्देश्य- एमएसएमई क्षेत्र के लिए केंद्र सरकार की योजनाओं और नीतियों के बारे में जागरूकता उत्पन्न करना।

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • मंत्रालय के अनुसार, भारत सरकार और राज्य सरकार के संयुक्त प्रयासों के कारण मणिपुर आसियान के प्रमुख प्रवेश द्वार के रूप में सामने आएगा।
    • इस अवसर पर एमएसएमई मंत्रालय ने मणिपुर सरकार के वस्त्र, वाणिज्य, उद्योग और पर्यटन विभाग व व्यापार प्राप्य छूट प्रणाली (ट्रेड्स) के तीन मंचों – इनवॉइसमार्ट, एम1एक्सचेंज और आरएक्सआईएल के साथ एमएसएमई के प्रदर्शन को बढ़ाने व इसे गति प्रदान करने के लिए समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए।

    खेल समाचार विविध

    एथलीटों के लिए विदेशी प्रशिक्षण शिविरों को मंजूरी


    18 नवंबर को ‘मिशन ओलंपिक सेल’ (एमओसी) द्वारा अपनी 86वीं बैठक में ओलंपिक स्वर्ण पदक ( भाला फेंक) विजेता नीरज चोपड़ा के यूनाइटेड किंगडम (यूके) के ‘लॉफबोरो विश्वविद्यालय’ में प्रशिक्षण के प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान की गई है।

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • नीरज चोपड़ा के अलावा, एमओसी ने बैडमिंटन खिलाड़ी किदांबी श्रीकांत, पहलवान दीपक पुनिया और जेवलिन थ्रोअर अनु रानी के प्रस्तावों को भी मंजूरी दे दी है।
    • किदांबी श्रीकांत अपने कोच और फिजियोथेरेपिस्ट के साथ इंडोनेशिया के जकार्ता स्थित प्रिज्मा स्पोर्ट्स क्लब में 29 दिनों तक प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे|
    • पहलवान दीपक पुनिया अपने फिजियोथेरेपिस्ट के साथ संयुक्त राज्य अमेरिका के मिशिगन में 34 दिनों तक प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे।
    • जेवलिन थ्रोअर और कॉमनवेल्थ गेम्स की पदक विजेता अनु रानी, अपने फिजियोथेरेपिस्ट के साथ जर्मनी के लीचथलेटिक-जेमिनशाफ्ट (एलजी) ऑफेनबर्ग में कोच वर्नर डेनियल के अधीन प्रशिक्षण प्राप्त करेंगी।

    सामयिक खबरें विज्ञान-प्रौद्योगिकी

    आर्टेमिस 1 मिशन प्रमोचन


    16 नवंबर, 2022 को फ्लोरिडा स्थित कैनेडी स्पेस सेंटर के लॉन्च कॉम्प्लेक्स 39 बी से नासा के आर्टेमिस 1 (Artemis 1) मिशन को प्रमोचित किया गया। इस मिशन को 14 नवंबर 2022 को लॉन्च किया जाने वाला था, लेकिन उष्णकटिबंधीय तूफान निकोल (Nicole) के कारण स्थगित करना पड़ा था।

    मुख्य बिंदु

    • आर्टेमिस 1 के लिए ‘ओरियन अंतरिक्ष यान’ (Orion Spacecraft) तथा ‘स्पेस लॉन्च सिस्टम रॉकेट’ [(Space Launch System (SLS) rocket)] का उपयोग किया गया है।
    • इस मिशन के लिए यान में आरएस-25 इंजन का प्रयोग किया गया है उष्णकटिबंधीय तूफान निकोल (Nicole) के कारण इसे क्षति का सामना करना पड़ा था।
    • मानवरहित आर्टेमिस 1 मिशन के माध्यम से मानवयुक्त अंतरिक्ष यान भेजने की क्षमता का परीक्षण भी किया जाएगा।
    • आर्टेमिस मिशन के अंतर्गत नासा का अगला मिशन आर्टेमिस 2 होगा। चंद्रमा की परिक्रमा करने वाले इस मानवयुक्त मिशन को 2024 में प्रक्षेपित किया जाना है।
    • वर्ष 2025 में आर्टेमिस 3 मिशन भेजने की योजना है जिसमें एक लैंडर भी होगा। इसके बाद अन्य क्रू मिशनों को भी चन्द्रमा पर भेजने की योजना है।

    चन्द्र अन्वेषण में आर्टेमिस मिशन का महत्व

    • आर्टेमिस का अर्थ है ‘सूर्य के साथ चंद्रमा की पारस्परिक क्रिया का त्वरण, पुनर्संयोजन, विक्षोभ एवं उसकी विद्युतगतिकी’ (Acceleration, Reconnection, Turbulence and Electrodynamics of the Moon's Interaction with the Sun)।
    • इस मिशन के तहत अमेरिकी अंतरिक्ष यात्रियों को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव में लैंड कराने की योजना है। चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव तक वर्तमान में कोई भी इंसान नहीं पहुंचा है।
    • आर्टेमिस के परिणामस्वरूप नासा वर्ष 2028 तक चंद्रमा पर एक स्थायी मानव उपस्थिति स्थापित करने, नई वैज्ञानिक खोजों का अनावरण करने, नई तकनीकी प्रगति का प्रदर्शन करने और निजी कंपनियों के लिए एक चंद्र अर्थव्यवस्था (lunar economy) के निर्माण की नींव रखने में सक्षम होगा।
    • नासा अपने शक्तिशाली स्पेस लांच सिस्टम और अंतरिक्ष यात्रियों को ले जाने में सक्षम अंतरिक्ष यान को अत्याधुनिक स्पेस सेंटर से प्रक्षेपित करेगा।
    • आर्टेमिस कार्यक्रम के तहत, नासा द्वारा वर्ष 2024 तक चंद्रमा की सतह पर पहली बार किसी महिला को उतारा जाएगा।
    • उल्लेखनीय है कि अपोलो कार्यक्रम के द्वारा मानव ने 1960 और 70 के दशक में पहली बार चंद्रमा की सतह पर कदम रखा था।
    • अभी तक केवल 12 मनुष्य (सभी पुरुष) ही चंद्रमा की सतह पर उतरे हैं तथा वे सभी अमेरिकी थे। अभी तक कोई भी महिला चंद्रमा की सतह पर नहीं पहुंची है।

    पीआईबी न्यूज विज्ञान-प्रौद्योगिकी

    भारत के पहले निजी रॉकेट ‘विक्रम-एस’


    18 नवंबर, 2022 को देश की पहली प्राइवेट स्पेस कंपनी अंतरिक्ष स्टार्टअप ‘स्काईरूट एयरोस्पेस’ (Skyroot Aerospace) का रॉकेट Vikram-S श्रीहरिकोटा में ISRO के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से सफलतापूर्वक लॉन्च किया गया है।

    महत्वपूर्ण तथ्य

    • इस मिशन का नाम 'प्रारंभ' रखा गया है।
    • ये ठोस ईंधन वाले प्रणोदन, अत्याधुनिक एवियोनिक्स और सभी कार्बन फाइबर कोर संरचना द्वारा संचालित है।
    • विक्रम-एस कक्षीय श्रेणी के अंतरिक्ष प्रक्षेपण वाहनों की विक्रम श्रृंखला में अधिकांश तकनीकों का परीक्षण और सत्यापन करने में मदद करेगा, जिसमें कई उप-प्रणालियां और प्रौद्योगिकियां शामिल हैं।
    • रॉकेट का नाम विक्रम-एस (Vikram-S) प्रसिद्ध भारतीय वैज्ञानिक और इसरो के संस्थापक डॉ. विक्रम साराभाई के नाम पर रखा गया है।

    पीआईबी न्यूज आर्थिक

    उपभोक्ता मूल्य सूचकांक-अक्टूबर, 2022


    अखिल भारत उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (आधार 1986-87 = 100) कृषि एवं ग्रामीण श्रमिकों के लिए माह अक्टूबर, 2022 में 10 एवं 9 अंक बढ़कर क्रमशः 1159 तथा 1170 अंकों के स्तर पर रहे ।

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • यह वृद्धि मुख्यतः चावल, गेहूँ-आटा, ज्वार, रागी, दालें, दूध, घी, ताज़ा/सूखी मछली, ताज़ा मुर्गी, प्याज, सूखी मिर्च, गरम मसाला, सब्जियाँ एवं फल, गुड़ इत्यादि की कीमतों के कारण रही ।
    • कृषि श्रमिकों के लिए 20 राज्यों के सूचकांकों में 1 से 16 अंकों की वृद्धि रही ।
    • तमिलनाडु राज्य का सूचकांक 1337 अंकों के साथ सूचकांक तालिका में शीर्ष पर रहा, जबकि हिमाचल प्रदेश राज्य का सूचकांक 913 अंकों के साथ सबसे नीचे रहा ।
    • अधिकतम वृद्धि मुख्यत: चावल, गेहूँ-आटा, ताजी मछली, प्याज, सूखी मिर्च, सब्जियाँ एवं फल इत्यादि की कीमतों में बढ़ोत्तरी के कारण रहीं ।
    • कृषि एवं ग्रामीण श्रमिकों के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक पर आधारित मुद्रा स्फीति की यथार्थ दर माह अक्टूबर, 2022 में 7.22% और 7.34% रही|

    पीआईबी न्यूज आर्थिक

    गुणवत्ता नियंत्रण मंडलों पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन-2022


    15 से 18 नवंबर, 2022 तक गुणवत्ता नियंत्रण मंडलों पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन-2022 (International Convention on Quality Control Circles-2022) का आयोजन इंडोनेशिया क्वालिटी मैनेजमेंट एसोसिएशन द्वारा इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में किया गया।

    थीम- “बिल्डिंग बैक बेटर थ्रू क्वॉलिटी एफर्ट्स” थी।

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    भारत की राष्ट्रीय इस्पात निगम लिमिटेड (Rashtriya Ispat Nigam Limited) के विशाखापत्तनम की एलओसी टीम ने आईसीक्यूसीसी-2022 में “स्वर्ण पुरस्कार” जीता है।

    • आरआईएनएल की अल्फा टीम लाइट-एंड-मीडियम मर्चेंट मिल, प्रॉक्सी ब्लास्ट फर्नेस और आत्मनिर्भर स्पेशल बार मिल से जुड़ी हैं, जो विशाखापत्तनम इस्पात संयंत्र के विभाग हैं।
    • इन तीनों टीमों ने प्रतिस्पर्द्धा में अपने-अपने अध्ययनों को प्रस्तुत किया था। सभी तीनों टीमों ने आईसीक्यूसीसी-2022 में स्वर्ण पुरस्कार (सर्वोच्च पुरस्कार) जीते हैं|
    • राष्ट्रीय इस्पात निगम लिमिटेड, विशाखापत्तनम स्टील प्लांट की कॉर्पोरेट इकाई, इस्पात मंत्रालय के तहत एक नवरत्न सार्वजनिक उपक्रम है।
    • इसकी स्थापना 18 फरवरी, 1982 को की गई थी| इसका मुख्यालय विशाखापत्तनम में स्थित है|
    • विशाखापत्तनम स्टील प्लांट को विजाग स्टील कहा जाता है। यह देश का पहला तट आधारित एकीकृत इस्पात संयंत्र है|

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

    सेल स्वर्ण जयंती कहानी लेखन प्रतियोगिता-2022


    18 नवंबर, 2022 को स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (SAIL) द्वारा स्वर्ण जयंती कहानी लेखन प्रतियोगिता–2022” के परिणामों की घोषणा की गई।

    • इस प्रतियोगिता का शुभारंभ 27 मई, 2022 को सेल के वर्तमान “स्वर्ण जयंती वर्ष” (24 जनवरी, 1973) के दौरान किया गया था।
    • यह प्रतियोगिता हिंदी और अंग्रेजी, दोनों, भाषाओं में आयोजित पिछले पांच दशकों में राष्ट्र निर्माण में सेल के योगदान पर केन्द्रित थी।
    • इस प्रतियोगिता का आयोजन प्रतिभागियों को अपनी रचनात्मकता और लेखन कौशल दिखाने का अवसर प्रदान करने के लिए किया गया था।
    • इस प्रतियोगिता में देश भर से बड़ी संख्या में प्रतिभागियों ने भाग लिया और अपनी कहानियों के माध्यम से पिछले पांच दशकों में राष्ट्र और समाज के निर्माण में सेल की भूमिका को दर्शाया।

    हिन्दी संवर्ग की विजेता सूची -

    पुरस्कार श्रेणी

    विजेता

    राज्य

    प्रथम पुरस्कार

    दानी प्रसाद शर्मा

    छत्तीसगढ़

    द्वितीय पुरस्कार

    डॉ. कमलेश गोगिया

    छत्तीसगढ़

    तीसरा पुरस्कार

    रमेश चंद को

    नई दिल्ली

    अंग्रेजी संवर्ग की विजेता सूची -

    पुरस्कार श्रेणी

    विजेता

    राज्य

    प्रथम पुरस्कार

    सुश्री सुमोना राठौर

    पश्चिम बंगाल

    दूसरा पुरस्कार

    सुश्री अनिंदिता महापात्रा

    ओडिशा

    अभिलाष कुमार शर्मा

    पश्चिम बंगाल

    मुनमुन मित्रा

    ओडिशा

    तीसरा पुरस्कार

    राजीब बनर्जी

    झारखंड

    पीयूष कमल

    पश्चिम बंगाल

    अद्विका सहाय

    उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    तीसरा ‘नो मनी फॉर टेरर’ सम्मेलन-2022


    18 नवंबर, 2022 केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा नई दिल्ली में आतंकवाद के वित्तपोषण के मुक़ाबले पर तीसरे ‘नो मनी फॉर टेरर’ के प्रथम सत्र की अध्यक्षता की गई|

    विषय- आतंकवाद और आतंकवादियों को वित्त उपलब्ध कराने की वैश्विक प्रवृत्ति’

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • यह सम्मेलन भाग लेने वाले देशों और संगठनों को आतंकवाद-रोधी वित्तपोषण पर मौजूदा अंतरराष्ट्रीय शासन की प्रभावशीलता के साथ-साथ उभरती चुनौतियों के समाधान हेतु आवश्यक कदमों पर विचार-विमर्श करने के लिए एक अनूठा मंच प्रदान करता है।
    • पहला सम्मलेन अप्रैल 2018 में पेरिस (फ़्रांस) और दूसरा नवंबर 2019 में मेलबर्न (आस्ट्रेलिया) में आयोजित किया गया था|
    • गृह मंत्री ने इस सम्मेलन में वैश्विक समुदाय को "नो मनी फॉर टेरर" के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए टेरर फाइनेंसिंग के मोड मीडियम मेथड” को समझकर, उन पर कड़ा प्रहार करने में वन माइंड, वन एप्रोच के सिद्धांत को अपनाने का आह्वान किया।
    • टेररिज्म के वित्तपोषण के खिलाफ भारत की स्ट्रेटेजी 6 स्तंभों पर आधारित है: जो इस प्रकार है-
      • लेजिस्लेटिव और टेक्नोलॉजिकल फ्रेमवर्क को मजबूत करना,
      • व्यापक मोनिटरिंग फ्रेमवर्क का निर्माण करना,
      • कानूनी संस्थाओं और नई तकनीकों के दुरुपयोग रोकना और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग एवं समन्वय स्थापित करना।
      • सटीक इंटेलिजेंस साझा करने का तंत्र, इन्वेस्टीगेशन एवं पुलिस ऑपरेशन्स को मजबूत करना,
      • संपत्ति की जब्ती का प्रावधान।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    इंडियन केमिकल्स काउंसिल सस्टेनेबिलिटी सम्मेलन-2022


    17 नवंबर, 2022 को रसायन और पेट्रोरसायन विभाग के सचिव अरुण बरोका ने नई दिल्ली में ‘इंडियन केमिकल्स काउंसिल (आईसीसी) सस्टेनेबिलिटी सम्मेलन-2022’ के चौथे संस्करण का उद्घाटन किया।

    विषय - 'बोर्ड रूम्स टू कम्युनिटी-ईएसजी, कार्बन न्यूट्रलिटी, ऑपरेशनल सेफ्टी, ग्रीनर सॉल्यूशंस’

    उद्देश्य- रसायनों के संपूर्ण जीवन चक्र के प्रबंधन में स्थिरता को बढ़ावा देना है।

    • इसका आयोजन रसायन और उर्वरक तथा पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के सहयोग से संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) तथा इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ केमिकल एसोसिएशन (आईसीसीए) द्वारा संयुक्त रूप से किया जा रहा है।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप निधन

    अबसार बेउरिया


    17 नवंबर, 2022 को पूर्व राजनयिक, लेखक तथा ओड़िया अध्ययन और अनुसंधान संस्थान के अध्यक्ष अबसार बेउरिया का 80 वर्ष की आयु में निधन हो गया|

    • बेउरिया जापान, रूस (पूर्व में यूएसएसआर), अमेरिका, संयुक्त अरब अमीरात, म्यांमार, श्रीलंका और मेडागास्कर में भारतीय राजनयिक मिशन में कार्यरत रहे थे।
    • अबसार ने इंजीनियरिंग की किताबों के ओड़िया अनुवाद में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।
    • इन्होंने कटक के रेनशॉ कॉलेज से मानविकी में स्नातक और उत्कल विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में स्नातकोत्तर की पढ़ाई की थी।
    • आईएफएस (भारतीय विदेश सेवा) में शामिल होने से पहले बेउरिया ने एक बैंक अधिकारी और व्याख्याता के रूप में भी अपनी सेवाएँ दी थी।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप चर्चित व्यक्ति

    राजीव कुमार


    भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार को नेपाल के चुनाव आयोग द्वारा नेपाल में प्रतिनिधि सभा और प्रांतीय विधानसभा के आगामी चुनावों के लिए अंतर्राष्ट्रीय पर्यवेक्षक के रूप में आमंत्रित किया गया है।

    • संघीय संसद के 275 सदस्यों और 7 प्रांतीय विधानसभाओं की 550 सीटों के चुनाव के लिए नेपाल में 20 नवंबर, 2022 को चुनाव निर्धारित किये गए हैं ।
    • ईसीआई का भी एक अंतरराष्ट्रीय चुनाव परिदर्शक कार्यक्रम है, जहां अन्य चुनाव प्रबंधन निकायों के सदस्यों को समय-समय पर होने वाले हमारे आम और विधानसभा चुनावों का प्रत्यक्ष अनुभव प्राप्त करने के लिए आमंत्रित किया जाता है।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

    ईएक्ससीईएलएल पुरस्कार-2022


    भारत ने थाईलैंड के पटाया शहर में आयोजित ‘अंतरराष्ट्रीय परिवार नियोजन सम्मेलन-2022’ के ‘कंट्री श्रेणी’ में परिवार नियोजन नेतृत्व में उत्कृष्टता ईएक्ससीईएलएल पुरस्कार-2022 जीता है।

    • भारत ने @ICFP2022 द्वारा प्रतिष्ठित ईएक्ससीईएलएल पुरस्कार परिवार नियोजन में नेतृत्व हासिल किया है।
    • भारत ही एकमात्र ऐसा देश है, जिसे 'कंट्री श्रेणी' में यह पुरस्कार प्राप्त हुआ है।
    • आधुनिक परिवार नियोजन तरीकों तक पहुंच को बेहतर बनाने के लिए देश के प्रयासों में हुई महत्वपूर्ण प्रगति और मान्यता के रूप में भारत ही एकमात्र ऐसा देश है|

    सामयिक खबरें राष्ट्रीय

    जनजातीय गौरव दिवस तथा बिरसा मुंडा


    15 नवंबर, 2022 को बिरसा मुंडा की जयंती के अवसर पर पूरे देश में जनजातीय गौरव दिवस के रूप में मनाया गया।

    • सरकार ने बहादुर आदिवासी स्वतंत्रता सेनानियों की स्मृति में 15 नवंबर को 'जनजातीय गौरव दिवस' मनाए जाने की घोषणा पिछले साल 10 नवंबर, 2021 को की थी।
    • बिरसा मुंडा को देश भर के जनजातीय समुदाय द्वारा भगवान के रूप में सम्मान दिया जाता है।

    जीवन परिचय

    • बिरसा मुंडा देश के एक प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी, समाज सुधारक और श्रद्धेय जनजातीय नायक थे, जिन्होंने ब्रिटिश औपनिवेशिक सरकार की शोषणकारी व्यवस्था के खिलाफ बहादुरी से लड़ाई लड़ी।
    • उनका जन्म 15 नवंबर, 1875 को तत्कालीन बंगाल प्रेसीडेंसी के लोहारदगा जिले के उलिहतु गांव (जो वर्तमान में झारखंड के खुंटी जिले में स्थित है) में हुआ था।
    • बिरसा ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अपने शिक्षक जयपाल नाग के मार्गदर्शन में प्राप्त की। जयपाल नाग की सिफारिश पर, बिरसा ने जर्मन मिशन स्कूल में शामिल होने के लिए ईसाई धर्म अपना लिया।
    • ब्रिटिश औपनिवेशिक शासकों तथा मिशनरियों द्वारा आदिवासियों को ईसाई धर्म में परिवर्तित करने के मिशनरियों के प्रयासों के बारे में जानने के पश्चात बिरसा ने ‘बिरसैत’ (Birsait) की आस्था शुरू की।
    • जल्द ही मुंडा और उरांव समुदाय के सदस्य बिरसैत संप्रदाय में शामिल होने लगे तथा धर्मांतरण गतिविधियों को रोकने का प्रयास किया।

    योगदान

    • 1886 से 1890 की अवधि के दौरान, बिरसा मुंडा ने ‘चाईबासा’(Chaibasa) में काफी समय बिताया, जो ‘सरदारों के आंदोलन’(sardar's Agitation) के करीब था।
    • सरदारों के इस आंदोलन का युवा बिरसा के मन पर गहरा प्रभाव पड़ा, जिससे प्रभावित होकर उन्होंने मिशनरी विरोधी और सरकार विरोधी प्रदर्शनों की तैयारी प्रारंभ की।
    • बिरसा ने आदिवासियों को ब्रिटिश साम्राज्य द्वारा कृषि भूमि पर कब्जे के माध्यम से किए जा रहे शोषण के संबंध में जागरूक करने का प्रयास किया ताकि उन्हें क्रांतिकारी संघर्ष के लिए तैयार किया जा सके।
    • मिशनरियों तथा ब्रिटिश सरकार का विरोध करने के कारण बिरसा को 24 अगस्त, 1895 को गिरफ्तार कर लिया गया तथा दो साल की कैद की सजा सुनाई गई। 28 जनवरी, 1898 को जेल से रिहा होने के पश्चात उन्होंने अपने अनुयायियों को संघर्ष के लिए एकत्रित करना प्रारंभ किया।
    • उन्होंने जनजातियों को अपनी सांस्कृतिक जड़ों को समझने और एकता का पालन करने के लिए प्रोत्साहित किया।

    उलगुलान विद्रोह

    • उन्होंने जनजातियों से "उलगुलान" (विद्रोह) का आह्वान किया तथा जनजातीय आंदोलन को संगठित करने के साथ नेतृत्व प्रदान किया।
    • मुंडा विद्रोह ‘उलगुलान’ की शुरुआत 1899-1900 के दौरान रांची के आस-पास के क्षेत्रों में हुई। इस विद्रोह का उद्देश्य ब्रिटिश राज को समाप्त कर ‘मुंडा शासन’ की स्थापना करना था।
    • विद्रोह के दौरान मुंडा आदिवासियों ने पुलिस स्टेशनों, सार्वजनिक संपत्तियों, चर्चों तथा जमीदारों को निशाना बनाया।
    • वर्ष 1900 तक मुंडा विद्रोह को दबा दिया गया। 9 जून, 1900 को बिरसा मुंडा की जेल में हैजा होने से मृत्यु हो गई।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    एलएसडीजी राष्ट्रीय कार्यशाला का उद्घाटन


    14-16 नवंबर, 2022 के दौरान 'ग्राम पंचायतों में सतत विकास लक्ष्यों का स्थानीयकरण' पर

    तीन दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला का आयोजन केरल के कोच्चि में किया गया।

    थीम 1- निर्धनता मुक्त और संवर्धित आजीविका ग्राम पंचायतों पर कार्यान्वयन कार्यनीति को सुदृढ़ बनाना|

    महत्वपूर्ण बिंदु-

    • इसका उद्देश्य अन्य राज्यों के साथ विचारों का आदान-प्रदान और अनुभव साझा करके ग्राम पंचायतों के लिए समान प्रकार की सीख के लिए स्थान का सृजन करना तथा पंचायतों के निर्वाचित प्रतिनिधियों और नीति निर्माताओं, सिविल सोसायटी संगठनों गैर-सरकारी संगठनों, डोमेन विशेषज्ञों के बीच संवाद को सुगम बनाना है|
    • इस कार्यशाला का आयोजन भारत सरकार के पंचायत राज मंत्रालय द्वारा केरल सरकार के स्थानीय स्वशासन विभाग (Local Self Government Department) और केरल के त्रिशूर के केरल स्थानीय प्रशासन संस्थान के सहयोग से किया जा रहा है।
    • राष्ट्रीय कार्यशाला ग्राम पंचायतों के लिए विचार-विमर्श संबंधित कार्रवाई और अनुभवजन्य सीख के लिए एक उपयुक्त मंच के रूप में काम करेगी; जो सहभागी और अन्वेषणपूर्ण एवं तीन गुना प्रक्रिया का अनुपालन करेगा|

    GK फैक्ट

    • संयुक्त राष्ट्र द्वारा अपनाए गए सतत विकास लक्ष्य 1 जनवरी, 2016 से प्रभावी हुए। भारत सरकार केलिए 'स्थानीय कार्रवाई' सुनिश्चित करने का दृष्टिकोण है।
    • इस दृष्टिकोण का उद्देश्य पीआरआई, विशेष रूप से ग्राम पंचायतों के माध्यम से 17 'लक्ष्यों' को '9 थीम' में शामिल कर ग्रामीण क्षेत्रों में एसडीजी का स्थानीयकरण करना है।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    पुणे और बैंकॉक के बीच सीधी उड़ान सेवा


    12 नवंबर, 2022 को केंद्रीय नागरिक उड्डयन और इस्पात मंत्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया ने पुणे से बैंकॉक के लिए सीधी उड़ान का उद्घाटन किया।

    महत्वपूर्ण बिंदु-

    • इस हवाई मार्ग पर विमान बोइंग-737 अपनी सेवाएं प्रदान करेगा और यह उड़ान सप्ताह में चार दिन मंगलवार, गुरुवार, शनिवार और रविवार को संचालित की जाएंगी |
    • पुणे और बैंकॉक के बीच यह हवाई संपर्क व्यापार, शिक्षा और निवेश के क्षेत्र में भारत और थाईलैंड के बीच द्विपक्षीय आदान-प्रदान को प्रोत्साहित करेगा।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप युद्धाभ्यास/सैन्य अभियान

    राष्ट्रव्यापी तटीय रक्षा अभ्यास ‘सी-विजिल-2022’


    15-16 नवंबर 2022 को रक्षा मंत्रालय के संचालन में गृह मंत्रालय, पत्तन, पोत परिवहन और जलमार्ग, पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस, मत्स्य पालन, पशुपालन एवं डेयरी, सीमा शुल्क, और केंद्र/राज्य की अन्य एजेंसियों के सहयोग से तटीय रक्षा अभ्यास 'सी विजिल-2022' का तीसरा संस्करण आयोजित किया गया।

    उद्देश्य- शीर्ष स्तर पर समुद्री सुरक्षा और तटीय रक्षा के क्षेत्र में तैयारियों का आकलन करने का अवसर है।

    महत्वपूर्ण बिंदु -

    • इस राष्ट्रीय स्तर के तटीय रक्षा अभ्यास की परिकल्पना 2018 में '26/11' के बाद से समुद्री सुरक्षा को पुख़्ता करने के लिए उठाए गए अनेक कदमों की पुष्टि करने के लिए की गई थी।
    • 'सी विजिल' की अवधारणा सम्पूर्ण भारत में तटीय सुरक्षा तंत्र को सक्रिय करना और व्यापक तटीय रक्षा तंत्र का आकलन करना है।
    • यह अभ्यास पूरे 7,516 किलोमीटर के समुद्र तट और भारत के विशेष आर्थिक क्षेत्र में किया जाएगा। इसमें मछली पकड़ने और तटीय समुदायों सहित अन्य समुद्री हितधारकों के साथ सभी तटीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को शामिल किया जाएगा।
    • यह अभ्यास भारतीय नौसेना द्वारा तटरक्षक बल और अन्य ऐसे मंत्रालयों के साथ मिलकर समन्वयपूर्वक किया जा रहा है।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

    ‘75 क्रिएटिव माइंड्स ऑफ टुमॉरो' - विजेता


    12 नवंबर, 2022 को सरकार की पहल 'भविष्य के 75 प्रतिभाशाली' (75 क्रिएटिव माइंड्स ऑफ टुमॉरो) के हिस्से के तौर पर 18 से 35 आयु वर्ग के 75 युवाओं को विशेष मेहमान के रूप में 53वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में भाग लेने वाले विजेताओं की सूची जारी किया गया है|

    महत्वपूर्ण बिंदु -

    • इस विजेता सूची में सिनेमाई प्रतिभाएं भारत के 19 विभिन्न राज्यों से हैं|
    • इन 75 युवाओं को फिल्म मेकिंग के विभिन्न क्षेत्रों जैसे निर्देशन, अभिनय, सिनेमैटोग्राफी, एडिटिंग, पटकथा लेखन, पार्श्व गायन, संगीत रचना, कॉस्ट्यूम और मेकअप, आर्ट डिजाइन और एनिमेशन, विजुअल इफेक्ट्स ऑगमेंटेड रिएलिटी (एआर) और वर्चुअल रिएलिटी में उनकी उत्कृष्टता के आधार पर चुना गया है।
    • इनमें से 15 लोग निर्देशन की श्रेणी से हैं, 13 नवोदित अभिनेता और 11 लोग एडिटिंग के क्षेत्र से हैं।
    • इनमें सबसे कम उम्र के विजेता हरियाणा के 18 वर्षीय नीतीश वर्मा और महाराष्ट्र के 18 वर्षीय तौफीक मंडल हैं। दोनों को संगीत रचना में उनकी प्रतिभा के लिए चुना गया है।
    • विजेताओं की अधिकतम संख्या महाराष्ट्र (23 कलाकार) से हैं, इसके बाद तमिलनाडु (9 विजेता) और दिल्ली (6 प्रतिभाशाली) का स्थान है।

    "75 क्रिएटिव माइंड्स ऑफ़ टुमॉरो" के दूसरे संस्करण में 4 नई श्रेणियां शामिल की गई हैं –

    क्रम
    दूसरे संस्करण में शामिल की गई 4 नई श्रेणियां
    1
    संगीत रचना
    2
    कॉस्ट्यूम और मेकअप
    3
    आर्ट डिजाइन
    4
    एनिमेशन/वीएफएक्स/एआर/वीआर।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप निधन

    रंगासामी लक्ष्मीनारायण कश्यप


    12 नवम्बर, 2022 को गणितज्ञ और पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित रंगासामी लक्ष्मीनारायण कश्यप (आर. एल. कश्यप) का निधन हो गया है|

    • आर. एल. कश्यप ने वैदिक अध्ययन के क्षेत्र में सबसे प्राचीन संग्रह जैसे ऋग्वेद संहिता, कृष्ण यजुर्वेद संहिता, सामवेद, अथर्ववेद का संस्कृत से अंग्रेजी में अनुवाद किया है। इसमें लगभग 25,000 छंद शामिल हैं।
    • आर. एल. कश्यप दुनिया के एकमात्र व्यक्ति हैं, जिन्होंने सभी 4 वेदों का अंग्रेजी में अनुवाद किया है, उनकी उपलब्धि को मान्यता देते हुए, उन्हें सरकार द्वारा सम्मानित किया गया था।
    • भारत के साहित्य और शिक्षा क्षेत्र के तहत 2021 में उन्हें पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित गया था।
    • ये इंस्टीट्यूट ऑफ इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियर्स, इंटरनेशनल एसोसिएशन फॉर पैटर्न रिकग्निशन और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इलेक्ट्रॉनिक एंड टेलीकम्युनिकेशन इंजीनियर्स के प्रोफेसर थे।
    • आर. एल. कश्यप ने हार्वर्ड प्रोफेसर यू-ची हो के साथ मिलकर ''the Ho-Kashyap Rule'' एल्गोरिदम विकसित किया था।
    • आर. एल. कश्यप ने 1982 में गणितीय उम्मीदवार मॉडल के एक सेट से सर्वश्रेष्ठ मॉडल के सलेक्शन के लिए Kashyap Information Criterion (KIC) पेश किया था। इन मापदंडों के मॉडल को डेटा के अनुकूल बनाने के लिए उपयोग किया जाता है।

    पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

    भारत और फिनलैंड समझौता


    14 नवंबर, 2022 को भारत और फिनलैंड द्वारा फ्यूचर आईसीटी, फ्यूचर मोबाइल प्रौद्योगिकी व डिजिटल शिक्षा में डिजिटल भागीदारी जैसे क्षेत्रों में साझेदारी बढ़ाने को लेकर अपनी सहमति व्यक्त की गई है|

    उद्देश्य- विज्ञान, प्रौद्योगिकी व नवाचार (एसटीआई) के क्षेत्र में दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय सहयोग को बढ़ाना है।

    महत्वपूर्ण बिंदु-

    • भारत और फिनलैंड द्विपक्षीय और वैश्विक हितों से संबंधित कई क्षेत्रों में आपसी सहभागिता को एक नए स्तर पर ले जाने पर सहमत हुए।
    • फिनलैंड के मंत्री होंकोनेन ने भारत को 5जी, 6जी, पर्यावरण व स्वच्छ प्रौद्योगिकी, जलवायु परिवर्तन जैसे क्षेत्रों में सहयोग करने का आश्वासन दिया|
    • इसके अलावा दोनों देशों ने आपसी हित के क्षेत्रों पर संयुक्त कार्य समूहों को संस्थागत बनाने पर भी जोर दिया है।

    राज्य समाचार बिहार

    राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजना


    14 नवंबर, 2022 को केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने बक्सर में 3,390 करोड़ रुपये की 2 राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का उद्घाटन किया।

    महत्वपूर्ण बिंदु-

    • NH-922 पर 1662 करोड़ रुपये की लागत से 44 किलोमीटर लंबा 4-लेन वाला कोइलवर से भोजपुर तक तैयार किया गया है।
    • NH-922 पर 48 किलोमीटर 4-लेन भोजपुर से बक्सर खंड 1,728 करोड़ रुपये की लागत से तैयार हुआ है।
    • इन दोनों के बनने से पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से कनेक्टिविटी के जरिये इससे बिहार से लखनऊ होते हुए दिल्ली पहुंचने में लगने वाला 15 घंटे का समय अब घटकर 10 घंटे हो जाएगा।

    राज्य समाचार बिहार

    भगवान राम की विश्व की सबसे बड़ी प्रतिमा


    हाल ही में बिहार के बक्सर में सनातन संस्कृति समागम में श्रीराम कथा के दौरान पद्मभूषण पूज्य जगद्गुरु रामानंदाचार्य श्री रामभद्राचार्य जी प्रभु की कर्मभूमि बक्सर में भगवान राम की विश्व की सबसे बड़ी प्रतिमा बनाने की घोषणा की ।

    महत्वपूर्ण बिंदु-

    • केन्द्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के संसदीय क्षेत्र के प्रत्येक परिवार से 9-9 रुपये की राशि इकट्ठा कर इसमें बक्सर की जनता की भागीदारी भी सुनिश्चित की जाएगी। स्वामी जी के अनुसार भगवान राम का जन्म नवमी के दिन हुआ था, इसलिए 9 रुपये की राशि पूर्ण है।
    • श्रीराम कर्मभूमि न्यास के तत्वावधान तथा केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के संयोजन तथा पूज्य स्वामी जी के सानिध्य में माता अहिल्या धाम, अहिरौली में श्री रामभद्राचार्य महाराज जी ने अपनी 1357वीं रामकथा के चौथे दिन बक्सर की अस्मिता को स्थापित करने के लिए श्रीराम कर्मभूमि को विश्वपटल पर पहचान दिलाने के लिए यह संकल्प लिया।

    सामयिक खबरें पर्यावरण

    सेना स्पेक्टैबिलिस : आक्रामक विदेशी प्रजाति


    हाल ही में मुदुमलाई टाइगर रिजर्व द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, सेना स्पेक्टाबिलिस (Senna spectabilis) नामक एक आक्रामक विदेशी प्रजाति का पेड़ मुदुमलाई टाइगर रिजर्व (Mudumalai Tiger Reserve) के बफर जोन में काफी तेजी से प्रसार कर रहा है|

    मुख्य बिंदु

    • यह पेड़ मुदुमलाई टाइगर रिजर्व (नीलगिरी पहाड़ी जिले) के 800 और 1,200 हेक्टेयर के भूमि पर विस्तारित हो चूका है।
    • मुदुमलाई टाइगर रिजर्व के बफर जोन में सिंगारा और मासीनागुडी वन पर्वतमाला क्षेत्र के साथ ही रिजर्व के कोर क्षेत्र में स्थित कारगुडी रेंज में भी इन पेड़ों की उपस्थिति है|
    • संरक्षणवादियों का कहना है कि इस आक्रामक पौधे का स्थानीय जैव विविधता पर नकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है और इससे वन्यजीवों के लिए भोजन की उपलब्धता सीमित हो गई है।
    • सेना स्पेक्टाबिलिस को दक्षिण और मध्य अमेरिका से एक सजावटी तथाजलाऊ लकड़ी के रूप में उपयोग करने के लिए लाया गया था|
    • मुदुमलाई टाइगर रिजर्व (एमटीआर) तमिलनाडु राज्य के नीलगिरी जिले में स्थित है। इस टाइगर रिजर्व की सीमा कर्नाटक और केरल से लगी है|

    आक्रामक विदेशी प्रजाति क्या है?

    • आक्रामक विदेशी प्रजाति एक ऐसी प्रजाति होती है जो किसी ख़ास विशिष्ट स्थान की मूल निवासी नहीं होती है और यह एक हद तक पर्यावरण, मानव अर्थव्यवस्था या मानव स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाती है। ऐसी प्रजातियां पौधे या जानवर हो सकते हैं।
    • आक्रामक विदेशी प्रजाति (invasive alien species - IAS)उस पारिस्थितिक तंत्र की संरचना में परिवर्तन का कारण बनती हैं।
    • विश्व में लोगों और वस्तुओं की आवाजाही के कारण आक्रामक प्रजातियों का प्रसार होता है।
    • आक्रामक प्रजातियों की समस्या का आइची जैव विविधता लक्ष्य-9 (Aichi Biodiversity Target - 9) और संयुक्त राष्ट्र सतत विकास लक्ष्य की धारा 15 में उल्लेख किया गया है।

    सामयिक खबरें राष्ट्रीय

    आचार्य जे.बी. कृपलानी की जयंती


    11 नवंबर, 2022 को आचार्य जे. बी. कृपलानी (11 नवंबर 1888 – 19 मार्च 1982) की जयंती के अवसर पर प्रधानमंत्री द्वारा इन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की गई।

    आचार्य कृपलानी (पूरा नाम- जीवटराम भगवानदास कृपलानी) का जन्म 11 नवंबर, 1888 को ब्रिटिश भारत काल में तात्कालिक बॉम्बे प्रेसीडेंसी के हैदराबाद शहर में हुआ था, जो वर्तमान में पाकिस्तान के सिंध प्रांत में स्थित है।

    संक्षिप्त परिचय

    • आचार्य कृपलानी भारत के प्रमुख भारतीय शिक्षक, सामाजिक कार्यकर्ता, पर्यावरणवादी और राजनीतिज्ञ थे।
    • वे महात्मा गांधी के करीबी सहयोगी और उनकी विचारधारा के लंबे समय से समर्थक थे।
    • गुजरात विद्यापीठ में पढ़ाने के दौरान उन्हें महात्मा गांधी द्वारा 'आचार्य' उपनाम प्रदान किया गया था।

    योगदान

    • बिहार में नील की खेती करने वाले किसानों की दशा सुधारने से संबंधित चंपारण सत्याग्रह में आचार्य कृपलानी ने गाँधी जी का साथ दिया था|
    • वे नमक सत्याग्रह और भारत छोड़ो आंदोलन में काफी सक्रियता से शामिल थे।
    • आचार्य कृपलानी ने भारत की अंतरिम सरकार (1946-1947) और भारत की संविधान सभा में प्रमुख जिम्मेदारी निभाई थी।
    • वे सन् 1947 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष रहे जब भारत को आजादी मिली। कृपलानी जी एक दशक से अधिक समय तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के शीर्ष पदों पर आसीन रहे|

    स्वतंत्रता के पश्चात

    • उन्होंने जवाहरलाल नेहरू की उन नीतियों का विरोध किया, जो उनके अनुसार गांधीवादी मूल्यों के खिलाफ थीं|
    • कृपलानी जी ने इंदिरा गांधी सरकार की विभिन्न नीतियों का भी विरोध किया।
    • आचार्य कृपलानी ने 1977 में जनता पार्टी की सरकार के गठन में अहम भूमिका निभायी। आचार्य कृपलानी गांधीवादी दर्शन के एक प्रमुख व्याख्याता थे और उन्होंने इस विषय पर अनेक पुस्तकें लिखीं।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    दुनिया का सबसे ऊंचा पोलिंग बूथ ताशीगंग


    हिमाचल प्रदेश के ताशीगंग दुनिया का सबसे ऊंचाई पर स्थित मतदान केंद्र बूथ है, यह 15,256 फीट की ऊंचाई पर स्थित है।

    मुख्य विन्दु

    • दुनिया के सबसे ऊंचे मतदान केंद्र बूथ पर करीब 98.08% मतदान दर्ज किया गया।
    • स्टेशन के 52 पंजीकृत मतदाताओं में से 51 ने मतदान किया।
    • किन्नौर ज़िले में स्थित एक गाँव है।
    • यह सतलुज नदी की घटी में स्थित है,

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    41वां भारत अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला


    14 नवंबर, 2022 को नई दिल्ली के प्रगति मैदान में 41वां भारत अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला (आईआईटीएफ) शुरू हुआ। यह मेला 27 नवंबर, 2022 तक चलेगा।

    महत्वपूर्ण तथ्य

    • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने मेले का उद्घाटन किया।
    • वर्ष 2022 के व्यापार मेले की थीम 'वोकल फॉर लोकल, लोकल टू ग्लोबल' है।
    • इस कार्यक्रम में 29 राज्य और केंद्र शासित प्रदेश भाग ले रहे हैं।
    • मेले में बिहार, झारखंड और महाराष्ट्र भागीदार राज्य हैं।
    • उत्तर प्रदेश और केरल फोकस राज्य के रूप में भाग ले रहे हैं।
    • अफगानिस्तान, बांग्लादेश, बहरीन, बेलारूस, ईरान, नेपाल, थाईलैंड, तुर्की, यूएई और यूके सहित 12 देश भाग ले रहे हैं।
    • यह एक वार्षिक मेला है, जो दिल्ली के प्रगति मैदान में भारत व्यापार संवर्धन संगठन (आईटीपीओ) द्वारा आयोजित किया जाता है।
    • यह मेला पहली बार दिल्ली में वर्ष 1980 में आयोजित किया गया था।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप सम्मलेन/बैठक

    16वें डायरिया रोग और पोषण पर एशियाई सम्मेलन (ASCODD)


    केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री डॉ. भारती प्रवीण पवार ने 11 नवम्बर, 2022 को कोलकाता में 16वें डायरिया (दस्त) रोग और पोषण पर एशियाई सम्मेलन (एएससीओडीडी) को संबोधित किया। सम्मेलन का आयोजन ICMR-नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ कॉलरा एंड एंटरिक डिजीज द्वारा किया गया था।

    महत्वपूर्ण तथ्य :

    • सम्मेलन का विषय "सामुदायिक भागीदारी के माध्यम से निम्न और मध्यम आय वाले देशों में हैजा, टाइफाइड और अन्य आंत्र रोगों की रोकथाम और नियंत्रण: SARS-CoV-2 महामारी से परे" था।
    • यह सम्मेलन 2030 तक हैजा को समाप्त करने के लिए रोडमैप सहित आंत्र संक्रमण, पोषण, नीति और प्रैक्टिस,हैजा के टीके का विकास, आंतों के जीवाणुओं के रोगाणुरोधी प्रतिरोध के समकालीन दृष्टिकोण आदि मुद्दों पर केंद्रित था।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप सम्मलेन/बैठक

    17वां पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन


    17वां पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन (ईएएस) का आयोजन कंबोडिया की मेजबानी में आयोजित किया गया। कंबोडिया वर्तमान में आसियान (एसोसिएशन ऑफ साउथ-ईस्ट एशियन नेशंस) का अध्यक्ष है।

    मुख्य विन्दु

    • उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने 13 नवंबर, 2022 को कंबोडियाई राजधानी नोम पेन्ह में आयोजित 17वीं पूर्वी एशिया शिखर में भाग लिया।
    • उपराष्ट्रपति द्वारा खाद्य और सुरक्षा पर भारत की चिंता पर प्रकाश डाला और मुक्त, खुले और नेविगेशन तथा ओवरफ्लाइट की स्वतंत्रता के साथ समावेशी इंडो-पैसिफिक को बढ़ावा देने में पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन (ईएएस) की भूमिका पर जोर दिया।
    • उपराष्ट्रपति 19वीं भारत-आसियान शिखर बैठक में भाग लेने के लिए तीन दिवसीय (11-13 नवंबर) कंबोडिया की यात्रा पर थे।
    • यह वर्ष भारतीय आसियान संबंधों के 30 वर्षों को चिह्नित करने के लिए स्मारक शिखर सम्मेलन के रूप में नामित किया गया है।
    • इस वर्ष को आसियान-भारत मैत्री वर्ष के रूप में भी मनाया जा रहा है।

    पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन समूह

    • पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन समूह में 18 देश शामिल हैं।
    • पूर्व एशिया समूह की अवधारणा को पहली बार 1991 में तत्कालीन मलेशियाई प्रधान मंत्री महाथिर बिन मोहम्मद द्वारा दिया गया था।
    • इसे 2005 में एशिया-प्रशांत क्षेत्र में आम क्षेत्रीय चिंता के राजनीतिक, सुरक्षा और आर्थिक मुद्दों पर रणनीतिक संवाद और सहयोग को बढ़ावा देने के लिए एक मंच के रूप में स्थापित किया गया था।

    पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

    स्लोवेनिया की पहली महिला राष्ट्रपति


    नतासा पिरक मुसर स्लोवेनिया की पहली महिला राष्ट्रपति के रूप में निर्वाचित हुई हैं। पिरक मुसर ने लगभग 54 प्रतिशत वोट हासिल किए, जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी श्री लोगर को 46 प्रतिशत वोट मिले थे।

    मुख्य बिन्दु :

    • नतासा पिरक मुसर एक पत्रकार और वकील हैं, उन्होंने कंजरवेटिव प्रतिद्वंद्वी पूर्व विदेश मंत्री एंज़े लोगर को हराया।
    • देश में 20 लाख की आबादी है और 49.9 प्रतिशत मतदान हुआ।
    • उन्होंने मानवाधिकारों, कानून के शासन और सामाजिक कल्याण के मुद्दों पर अभियान चलाया।
    • 1991 में यूगोस्लाविया के टूटने और स्लोवेनिया के स्वतंत्र होने के बाद 54 वर्षीय पिरक मुसर राष्ट्रपति के रूप में सेवा देने वाली पहली महिला होंगी।
    • वह राष्ट्रपति बोरुत पाहोर का स्थान लेंगी, जो एक मध्यमार्गी राजनीतिज्ञ हैं, जो पहले से ही राष्ट्रपति के रूप में दो कार्यकाल पूरा कर चुके हैं।

    वर्तमान में स्लोवानिया की प्रधानमंत्री रॉबर्ट गोलोबी हैं। इस देश की राजधानी जुब्लजाना तथा मुद्रा यूरो है।

    पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

    जी-7 “ग्लोबल शील्ड” क्लाइमेट फंडिंग प्राप्त करने वाले देश


    पाकिस्तान, घाना, बांग्लादेश, कोस्टा रिका, फिजी, फिलीपींस और सेनेगल जलवायु आपदाओं से पीड़ित देशों को वित्त पोषण प्रदान करने के लिए जी-7 “ग्लोबल शील्ड” पहल से धन प्राप्त करने वाले पहले कुछ देशों में शामिल होंगे।

    मुख्य बिन्दु :

    • जर्मनी द्वारा 14 नवंबर, 2022 को मिस्र में चल रहे सीओपी 27 शिखर सम्मेलन में इसकी घोषणा की गई थी।
    • ग्लोबल शील्ड क्लाइमेट फाइनेंस को जी-7 देशों (संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, जर्मनी, फ्रांस, इटली, यूनाइटेड किंगडम और जापान) द्वारा लॉन्च किया गया था।
    • ग्लोबल शील्ड का समन्वय जर्मनी द्वारा किया जाएगा और इसे 58 जलवायु संवेदनशील अर्थव्यवस्थाओं के 'वी20' समूह के सहयोग से विकसित किया जा रहा है।
    • इस कोष का उपयोग जलवायु प्रेरित आपदाओं से निपटने के लिए कम आय वाले और गरीब देशों की मदद के लिए किया जाएगा।
    • इसका उद्देश्य सामाजिक सुरक्षा योजनाओं और जलवायु जोखिम बीमा को मजबूत करना है, ताकि जब बाढ़ जैसी चरम मौसम की घटना हो तो प्रभावित देशों को जल्दी से सहायता पहुँचाया जा सके।
    • जर्मनी ने घोषणा की है कि वह फंड में 172 मिलियन अमरीकी डालर का योगदान देगा।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप रिपोर्ट एवं सूचकांक

    बेस्ट कंट्रीज रैंकिंग, 2022


    हाल ही में अमेरिका मीडिया कंपनी यूएस न्यूज एंड वर्ल्ड रिपोर्ट ने बेस्ट कंट्रीज रैंकिंग, 2022 जारी की। यह रिपोर्ट यूएस न्यूज एंड वर्ल्ड रिपोर्ट, बीएवी ग्रुप और यूनिवर्सिटी ऑफ पेनसिल्वेनिया के व्हार्टन स्कूल के संयुक्त प्रयास से जारी किया गया है।

    भारत का स्थान

    • वर्ष 2022 की रैंकिंग में भारत का स्थान 31 वां है।
    • वर्ष 2021 की रैंकिंग में भारत का स्थान 24 वां था।
    • ओपन टू बिजनस उपश्रेणी में भारत ने सबसे सस्ती विनिर्माण लागत में 100 % स्कोर किया है |

    शीर्ष तीन देश

    • स्विट्ज़रलैंड
    • जर्मनी
    • कनाडा

    निम्नतम तीन देश

    • बेलारूस
    • उज्बेकिस्तान
    • ईरान

    रैंकिंग हेतु 4 बेंचमार्क

    • उच्च जीडीपी वाले शीर्ष 100 देश
    • उच्च एफडीआई प्रवाह
    • 2016 और 2020 के बीच अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन आगमन
    • 2015 और 2019 के बीच संयुक्त राष्ट्र मानव विकास सूचकांक में शीर्ष 150 देश

    मुख्य विन्दु

    • इस रैंकिंग हेतु 73 विशेषताओं में 85 देशों का मूल्यांकन किया गया जिन्हें 10 उप-श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है, जिसमें साहसिक, चपलता, उद्यमिता, व्यवसाय के लिए खुला, सामाजिक उद्देश्य और जीवन की गुणवत्ता शामिल है।
    • यह रैंकिंग विशेषज्ञों, व्यापारिक नेताओं और वैश्विक नागरिकों के सर्वेक्षण पर आधारित है।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

    विश्व मधुमेह दिवस


    हर वर्ष 14 नवंबर को विश्व मधुमेह दिवस मनाया जाता है। यह वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य मुद्दे के रूप में मधुमेह के बारे में जागरूकता बढ़ाने और इसके निदान, रोकथाम और प्रबंधन के लिए आवश्यक प्रयासों के लिए अवसर प्रदान करता है।

    मुख्य बिन्दु :

    • इस वर्ष विश्व मधुमेह दिवस 2022 का विषय 'मधुमेह शिक्षा तक पहुंच' है और यह 'देखभाल तक पहुंच' के बहु-वर्षीय विषय को रेखांकित करता है।
    • विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, दुनिया भर में लगभग 422 मिलियन लोग मधुमेह से पीड़ित हैं और प्रत्येक वर्ष 1.5 मिलियन लोगों की मृत्यु मधुमेह के कारण होती है।
    • विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, भारत में मधुमेह के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, 20 और 70 वर्ष की आयु वर्ग में अनुमानित 8.7% आबादी मधुमेह से ग्रसित है।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप चर्चित दिवस

    विश्व दयालुता दिवस


    सम्पूर्ण विश्व में 13 नवंबर को विश्व दयालुता दिवस मनाया जाता है। यह दिवस मानव जाति के एक खास विशेषता अर्थात दयालुता का जश्न के रूप में याद किया जाता है।

    महत्वपूर्ण तथ्य

    • इस वर्ष यह दिवस 'बी काइंड एवरीव्हेयर पॉसिबल' (जब भी संभव हो, दयालु बनें) थीम के साथ मनाया जा रहा है।
    • विश्व दयालुता दिवस की शुरुआत वर्ष 1998 में वर्ल्ड काइंडनेस मूवमेंट संगठन द्वारा की गई थी, इसकी स्थापना 1997 के टोक्यो सम्मेलन में दुनिया भर के दयालु संगठनों द्वारा की गई थी।
    • यह कनाडा, जापान, ऑस्ट्रेलिया, नाइजीरिया और संयुक्त अरब अमीरात सहित कई देशों में मनाया जाता है।
    • वर्ष 1998 से यह दिवस वार्षिक रूप से मनाया जाने लगा। वर्ष 2009 में, सिंगापुर ने पहली बार इस दिवस को मनाया।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

    राष्ट्रीय खेल पुरस्कार 2022


    केंद्रीय युवा मामले और खेल मंत्रालय ने 14 नवंबर 2022 को राष्ट्रीय खेल पुरस्कार 2022 की घोषणा की। इसके तहत मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार , अर्जुन अवार्ड, द्रोणाचार्य पुरस्कार: रेगुलर कैटेगरी, द्रोणाचार्य पुरस्कार: लाइफटाइम कैटेगरी, खेल-कूद और गेम्स में लाइफटाइम अचीवमेंट के लिए ध्यानचंद पुरस्कार जैसे प्रसिद्ध पुरस्कारों की घोषणा की गई |

    मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार 2022

    • टेबल टेनिस खिलाड़ी शरत कमल अचंता को देश के सर्वोच्च खेल पुरस्कार मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार के लिए चुना गया है।
    • मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार (पूर्व में, राजीव गांधी खेल रत्न) भारत का सर्वोच्च खेल सम्मान है। यह 1991-92 से युवा कार्य और खेल मंत्रालय द्वारा प्रदान किया जाता है। इस अवार्ड के प्राप्तकर्ता का चयन मंत्रालय द्वारा गठित एक समिति द्वारा किया जाता है। इसमे ₹ 25 लाख का नकद पुरस्कार, पदक और प्रमाण पत्र दिया जाता है।
    • यह अवार्ड प्रथम बार शतरंज के दिग्गज खिलाड़ी विश्वनाथन आनंद को दिया गया था।
    • मेजर ध्यानचंद को हाकी का जादूगर कहा जाता है।उनके जन्म-दिन 29 अगस्त को राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है।

    अर्जुन पुरस्कार वर्ष 2022

    वर्ष 2022 के अर्जुन अवार्ड की भी घोषणा कर दी गयी है. इस बार विभिन्न खेलों के 25 खिलाड़ियों को अर्जुन अवार्ड से सम्मानित किया जायेगा. यह अवार्ड वर्ष 1961 में स्थापित किया गया था, यह पुरस्कार खेल के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए दिया जाता है.

    अर्जुन पुरस्कार विजेताओं की सूची निम्न हैं -

    खिलाड़ी का नाम

    खेल

    सीमा पुनिया

    एथलेटिक्स

    एल्धोस पॉल

    एथलेटिक्स

    अविनाश मुकुंद सबले

    एथलेटिक्स

    लक्ष्य सेन

    बैडमिंटन

    प्रणय एचएस

    बैडमिंटन

    निखत जरीन

    बॉक्सिंग

    अमित

    बॉक्सिंग

    आर. प्रज्ञानानंद

    शतरंज

    भक्ति प्रदीप कुलकर्णी

    शतरंज

    दीप ग्रेस एक्का

    हॉकी

    सुशीला देवी

    जूडो

    साक्षी कुमारी

    कबड्डी

    नयन मोनी सैकिया

    लॉन बॉल

    सागर कैलास ओवलकर

    मल्लखंभ

    ओमप्रकाश मिथरवाल

    शूटिंग

    एलावेनिल वलारिवान

    शूटिंग

    श्रीजा अकुला

    टेबल टेनिस

    विकास ठाकुर

    भारोत्तोलन

    अंशु

    रेसलिंग

    सरिता

    रेसलिंग

    परवीन

    वूशु

    मानसी गिरीशचंद्र जोशी

    पैरा बैडमिंटन

    तरुण ढिल्लो

    पैरा बैडमिंटन

    स्वप्निल संजय पाटिल

    पैरा बैडमिंटन

    जेरलिन अनिका जे.

    डैफ बैडमिंटन

    वर्ष 2022 के द्रोणाचार्य पुरस्कार: रेगुलर कैटेगरी

    कोच का नाम

    खेल

    जीवनजोत सिंह तेजा

    तीरंदाजी

    मोहम्मद अली क़मर

    बॉक्सिंग

    सूमा सिद्धार्थ शिरूर

    पैरा निशानेबाजी

    सुजीत मान

    कुश्ती

    वर्ष 2022 के द्रोणाचार्य पुरस्कार: लाइफटाइम कैटेगरी

    कोच का नाम

    खेल

    दिनेश जवाहर लाड

    क्रिकेट

    बिमल प्रफुल्ल घोष

    फुटबॉल

    राज सिंह

    कुश्ती

    खेल-कूद और गेम्स में लाइफटाइम अचीवमेंट के लिए 2022 के ध्यानचंद पुरस्कार

    खिलाड़ी का नाम

    खेल

    अश्विनी अकुंजी सी.

    एथलेटिक्स

    धर्मवीर सिंह

    हॉकी

    नीर बहादुर गुरुंग

    पैरा एथलेटिक्स

    बी.सी सुरेश

    कबड्डी

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

    गूगल ने गूगल फॉर डूडल 2022 प्रतियोगिता के विजेता की घोषणा की


    गूगल ने गूगल फॉर डूडल 2022 प्रतियोगिता के विजेता की घोषणा की है। इसके विजेता कोलकाता के श्लोक मुखर्जी हैं।

    महत्वपूर्ण तथ्य :

    • श्लोक मुखर्जी को उनके प्रेरक डूडल के लिए 'इंडिया ऑन द सेंटर स्टेज' शीर्षक से भारत के लिए विजेता घोषित किया गया है।
    • श्लोक का डूडल - 'इंडिया ऑन द सेंटर स्टेज' - आने वाले वर्षों में भारत की वैज्ञानिक प्रगति को और गति प्राप्त करने के लिए की आशा व्यक्त करता है।
    • डूडल फॉर गूगल कॉन्टेस्ट 2022 की थीम थी 'अगले 25 सालों में, मेरा भारत होगा...'।
    • अपने डूडल को साझा करते हुए श्लोक ने लिखा, "अगले 25 वर्षों में मानवता की बेहतरी के लिए भारत के वैज्ञानिक, स्वदेशी इको-फ्रेंडली रोबोट विकसित करने में सफलता हासिल करेंगे"।
    • इस वर्ष के डूडल फॉर गूगल जजिंग पैनल में अभिनेता, फिल्म निर्माता और टीवी कलाकार नीना गुप्ता शामिल थीं।

    खेल समाचार क्रिकेट

    अंडर-19 पुरुष टी-20 विश्व कप 2024 की मेजबानी श्रीलंका को


    13 नवंबर, 2022 को अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट शासी निकाय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने 2024 और 2027 के बीच अंडर-19 आयोजनों के लिए मेजबान देशों की घोषणा की।

    मुख्य बिन्दु :

    • आईसीसी अंडर-19 पुरुष क्रिकेट विश्व कप 2024 की मेजबानी श्रीलंका द्वारा की जाएगी।
    • 2026 संस्करण का आयोजन जिम्बाब्वे और नामीबिया में किया जाएगा।
    • आईसीसी अंडर-19 महिला टी-20 विश्व कप 2025 मलेशिया और थाईलैंड में आयोजित किया जाएगा।
    • 2027 का आयोजन बांग्लादेश और नेपाल द्वारा संयुक्त रूप से किया जाएगा।
    • पहला आईसीसी अंडर-19 महिला टी-20 विश्व कप जनवरी 2023 में दक्षिण अफ्रीका में आयोजित किया जाएगा।

    आईसीसी पुरुष विश्व कप वनडे 2027 की मेजबानी दक्षिण अफ्रीका, जिम्बाब्वे और नामीबिया द्वारा संयुक्त रूप से की जाएगी।

    खेल समाचार क्रिकेट

    8वें आईसीसी पुरुष टी-20 विश्व कप 2022 का विजेता बना इंग्लैंड


    13 नवंबर, 2022 को मेलबर्न क्रिकेट स्टेडियम में खेले गए फाइनल में पाकिस्तान को हराकर इंग्लैंड की पुरुष क्रिकेट टीम ने अपना दूसरा टी20 पुरुष क्रिकेट विश्व कप जीता। इससे पहले उसने 2010 में आईसीसी टी20 पुरुष क्रिकेट विश्व कप जीता था।

    मुख्य विन्दु

    • इंग्लैंड पहली पुरुष क्रिकेटटीम है, जो एक साथ 50 ओवर और 20 ओवर के दोनों विश्व कप विजेता टीमहैं।
    • फ़ाइनल के सर्वश्रेष्ठ खिलाडी : इंग्लैंड के सैम करन, जिसने 12 रन देकर 3 विकेट लिए ।
    • वर्ल्ड कपके सर्वश्रेष्ठ खिलाडी : इंग्लैंड के सैम करन जिसने टूर्नामेंट में 13 विकेट लिए।
    • 8वें आईसीसी पुरुष विश्व कप 2022 का आयोजन अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) द्वारा ऑस्ट्रेलिया में 16 अक्टूबर से 13 नवंबर, 2022 तक किया गया था। मूल रूप से इसे 2020 में आयोजित किया जाना था; लेकिन कोविड के कारण इसे 2022 तक के लिए स्थगित कर दिया गया था।
    • वेस्टइंडीज पहली बार टूर्नामेंट के सुपर 12 चरण के लिए क्वालीफाई करने में विफल रहा।
    • विराट कोहली छ: पारियों में 296 रन के साथ टूर्नामेंट में सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी रहे।

    आईसीसी टी20 पुरुष विश्व कप का इतिहास

    क्रम

    आयोजन का वर्ष

    मेज़बान देश

    विजेता

    उप-विजेता

    1

    2007

    दक्षिण अफ्रीका

    भारत

    पाकिस्तान

    2

    2009

    इंग्लैंड

    पाकिस्तान

    श्रीलंका

    3

    2010

    वेस्ट इंडीज

    इंग्लैंड

    ऑस्ट्रेलिया

    4

    2012

    श्रीलंका

    वेस्ट इंडीज

    श्रीलंका

    5

    2014

    बांग्लादेश

    श्रीलंका

    भारत

    6

    2016

    भारत

    वेस्ट इंडीज

    इंग्लैंड

    7

    2021

    संयुक्त अरब अमीरात, ओमान

    ऑस्ट्रेलिया

    न्यूजीलैंड

    8

    2022

    ऑस्ट्रेलिया

    इंग्लैंड

    पाकिस्तान

    9

    2024

    वेस्ट इंडीज, संयुक्त राज्य अमेरिका

    10

    2026

    भारत, श्रीलंका

    11

    2028

    ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड

    12

    2030

    इंग्लैंड, वेल्स, आयरलैंड, स्कॉटलैंड

    खेल समाचार टेनिस

    बिली जीन किंग कप


    महिला टेनिस प्रतियोगिता बिली जीन किंग कप का खिताब स्विट्जरलैंड ने ऑस्ट्रेलिया को हराकर जीत लिया है।

    मुख्य बिन्दु :

    • इसका आयोजन ब्रिटेन के ग्लासगो में किया गया था।
    • ओलंपिक की एकल स्वर्ण पदक विजेता बेनसिच ने ऑस्ट्रेलिया की अल्जा टोमलजानोविच को 6-2, 6-1 से हराकर स्विट्जरलैंड को 2-0 से अजेय बढ़त दिलाई।
    • बिली जीन किंग कप 1963 में अंतर्राष्ट्रीय टेनिस महासंघ की 50वीं वर्षगांठ मनाने के लिए शुरू की गई एक अंतर्राष्ट्रीय महिला टेनिस प्रतियोगिता है।
    • ऑस्ट्रेलिया ने सात बार यह टूर्नामेंट जीता है,
    • लेकिन उसे आखिरी खिताबी जीत 1974 में मिली थी। ऑस्ट्रेलिया इसके बाद 10 बार फाइनल में पहुंचा, लेकिन हर बार उसे हार का सामना करना पड़ा।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप नियुक्ति

    गौरव द्विवेदी को प्रसार भारती का सीईओ नियुक्त


    14 नवंबर, 2022 को वरिष्ठ आईएएस अधिकारी गौरव द्विवेदी को प्रसार भारती का मुख्य कार्यकारी अधिकारी नियुक्त किया गया। शशि शेखर वेम्पति 2017 से 2022 तक प्रसार भारती के सीईओ थे।

    महत्वपूर्ण तथ्य :

    • गौरव द्विवेदी 1995 बैच के छत्तीसगढ़ कैडर के अधिकारी हैं।
    • पदभार ग्रहण करने की तारीख से पांच साल का कार्यकाल होगा।
    • इससे पहले, द्विवेदी सरकार के नागरिक मंच MyGovIndia के मुख्य कार्यकारी अधिकारी थे।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप नियुक्ति

    ग्रेग बार्कले पुनः आईसीसी के अध्यक्ष चुने गए


    13 नवंबर, 2022 को ग्रेग बार्कले को सर्वसम्मति से दो साल के दूसरे कार्यकाल के लिए अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) के अध्यक्ष के रूप में पुनः चुना गया है।

    महत्वपूर्ण तथ्य :

    • इन्हें जिम्बाब्वे के तवेंगवा मुकुहलानी के नाम वापस लेने के पश्चात निर्विरोध चुना गया।
    • बार्कले को नवंबर 2020 में आईआईसीअध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था।
    • बीसीसीआई सचिव जय शाह को आइसीसी की वित्त एवं वाणिज्यिक मामलों की समिति का प्रमुख चुना गया।
    • अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) क्रिकेट के लिए वैश्विक शासी निकाय है। इसकी स्थापना 1909 में इंपीरियल क्रिकेट कॉन्फ्रेंस के रूप में इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के प्रतिनिधियों द्वारा की गई थी।
    • 1989 में इसका नाम बदलकर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) कर दिया गया।

    इसका मुख्यालय - दुबई, संयुक्त अरब अमीरात में है

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप विविध

    बांग्ला उत्सव


    मेघालय में तीन दिवसीय बांग्ला उत्सव समारोह का समापन 12 नवंबर, 2022 को हुआ।

    मुख्य बिन्दु :

    • इसे '100 ड्रम' के त्योहार के रूप में भी जाना जाता है, यह हर साल मेघालय में 'गारो जनजाति' द्वारा मनाया जाने वाला फसल उत्सव है।
    • यह ढोल और भैंस के सींगों से बनी आदिम बांसुरी पर बजाए जाने वाले लोक गीतों की धुन पर विभिन्न प्रकार के नृत्यों के साथ मनाया जाता है।
    • यह त्योहार सूर्य देव की आराधना में मनाया जाता है और लंबी फसल के मौसम के अंत का प्रतीक है।
    • गारो मेघालय की दूसरी सबसे बड़ी जनजाति है। खासी और जयंतिया जनजाति मेघालय की अन्य दो प्रमुख जनजातियां हैं।

    पीआईबी न्यूज आर्थिक

    पावर सिस्टम ऑपरेशन कॉर्पोरेशन लिमिटेड (POSOCO) का नाम परिवर्तित


    पावर सिस्टम ऑपरेशन कॉर्पोरेशन लिमिटेड का नाम परिवर्तित कर “ग्रिड कंट्रोलर ऑफ इंडिया लिमिटेड” कर दिया गया है |

    मुख्य विन्दु :

    • भारतीय विद्युत ग्रिड की अखंडता, विश्वसनीयता, मितव्ययिता, लचीलापन और इसके सतत संचालन को सुनिश्चित करने में ग्रिड संचालकों की महत्वपूर्ण भूमिका को दर्शाने के लिए इसके नाम में परिवर्तन किया गया है |
    • “ग्रिड कंट्रोलर ऑफ इंडिया लिमिटेड (ग्रिड-इंडिया)" नेशनल लोड डिस्पैच सेंटर (एनएलडीसी) के साथ और 5 क्षेत्रीय लोड डिस्पैच सेंटर (आरएलडीसी) को संचालित करता है।
    ग्रिड-इंडिया को ऊर्जा क्षेत्र में प्रमुख सुधारों के लिए नोडल एजेंसी के रूप में भी नामित किया गया है।

    पीआईबी न्यूज आर्थिक

    रिलायंस इंडस्ट्रीज द्वारा मल्टी-मॉडल लॉजिस्टिक्स पार्क का निर्माण


    रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) तमिलनाडु स्थित तिरुवल्लूर जिले के माप्पेडु में देश का पहला मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक पार्क (MMLP) का निर्माण करेगी।

    मुख्य विन्दु :

    • केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने RIL को चेन्नई के करीब भारत का पहला मल्टी-मॉडल लॉजिस्टिक्स पार्क (MMLP) स्थापित करने का अनुबंध दिया था।
    • 1,424 रुपये की इस परियोजना को पीएम गति शक्ति राष्ट्रीय मास्टर प्लान के तहत लागू किया जाएगा, जिसे अक्टूबर 2021 में लॉन्च किया गया था।
    • इस प्रोजेक्ट के लिए मॉडल कन्सेशन एग्रीमेंट डिजाइन, बिल्ड, फाइनेंस, ऑपरेट और ट्रांसफर (DBFOT) मॉडल पर है।
    • इस परियोजना के लिए कुल रियायत अवधि 45 वर्ष है।
    • MMLP को 783 करोड़ रुपये के अनुमानित डेवलपर निवेश के साथ 3 चरणों में विकसित किया जाएगा।
    • पहला चरण 2025 तक पूरा हो जाएगा।

    सामयिक खबरें पर्यावरण

    मृदा कार्बन पृथक्करण के जरिये जलवायु परिवर्तन का न्यूनीकरण


    हाल ही में, इंटरनेशनल क्रॉप्स रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर द सेमी-एरिड ट्रॉपिक्स (International Crops Research Institute for The Semi-Arid Tropics - ICRISAT) ने एक मॉडलिंग अध्ययन प्रकाशित किया है। इस मॉडलिंग अध्ययन के अनुसार, जलवायु परिवर्तन को कम करने में मृदा कार्बन पृथक्करण (Soil Carbon Sequestration) मदद कर सकता है।

    अध्ययन के मुख्य निष्कर्ष

    • इस मॉडलिंग अध्ययन में पाया गया कि उर्वरक, बायोचार (biochar) और सिंचाई का सही संयोजन मृदा कार्बन पृथक्करण (Soil Carbon Sequestration) को 300 प्रतिशत तक बढ़ा सकता है|
    • शोधकर्ताओं ने उर्वरकों के इष्टतम उपयोग से कार्बन में वृद्धि के साथ साथ उत्पादन में 30 प्रतिशत तक की वृद्धि दर्ज की गई है।
    • मॉडलिंग अध्ययन के तहत महाराष्ट्र के पांच जिलों (जालना, धुले, अहमदनगर, अमरावती और यवतमाल) और ओडिशा के आठ जिलों (अंगुल, बोलांगीर, देवगढ़, ढेंकेनाल, कालाहांडी, केंदुझार, नुआपाड़ा और सुंदेगढ़) को शामिल किया गया था।
    • दोनों राज्यों में मुख्य रूप से अर्ध-शुष्क जलवायु है जिसमें 600 मिलीमीटर और 1,100 मिमी के बीच वार्षिक वर्षा होती है।
    • इन क्षेत्र में कपास, ज्वार, सोयाबीन, चना, अरहर और बाजरा जैसी महत्वपूर्ण फसलों का अध्ययन किया गया।

    महत्व

    • संपूर्ण खाद्य प्रणाली द्वारा लगभग एक तिहाई ग्रीनहाउस गैस (जीएचजी) का उत्सर्जन होता है। इस मॉडलिंग अध्ययन के आधार पर कृषि क्षेत्र जलवायु संकट के विरुद्ध लड़ाई में सकारात्मक योगदान दे सकता है|
    • इस कृषि मॉडलिंग अध्ययन के आधार पर वायुमंडलीय कार्बन डाइऑक्साइड को पकड़ने (capture) और इसे मिट्टी में संग्रहीत (storing) किया जा सकता है।
    • इससे कृषि को जलवायु परिवर्तन के प्रमुख कारकों के स्थान पर एक समाधान बनाया जा सकता है।
    • मृदा में कार्बन सीक्वेस्टिंग (sequencing) किसानों के लिए आय का एक अतिरिक्त स्रोत प्रदान कर सकती है।
    • यह सतत विकास लक्ष्य 13 (एसडीजी 13: जलवायु कार्रवाई) के लक्ष्य के अनुरूप है जो जलवायु परिवर्तन और इसके प्रभावों से निपटने के लिए तत्काल कार्रवाई की मांग करता है।

    सामयिक खबरें राष्ट्रीय

    भारत के 50वें सीजेआई : न्यायमूर्ति डी.वाई. चंद्रचूड़


    9 नवंबर, 2022 को न्यायमूर्ति धनंजय वाई चंद्रचूड़ ने भारत के 50वें मुख्य न्यायाधीश (CJI) के रूप में शपथ ग्रहण किया। उन्हें उनकी पद की शपथ राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू द्वारा दिलाई गई।

    • न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ का अपेक्षाकृत दो वर्ष का लंबा कार्यकाल होगा और वे 10 नवंबर, 2024 को सेवानिवृत्त होंगे।
    • जस्टिस चंद्रचूड़ भारत के 16वें चीफ जस्टिस वाई. वी. चंद्रचूड़ के बेटे हैं। उनके पिता का बतौर सीजेआई करीब 7 वर्ष एवं 4 महीने का कार्यकाल रहा था। जो कि सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में किसी सीजेआई का अब तक सबसे लंबा कार्यकाल है।

    प्रधान न्यायाधीश की नियुक्ति की प्रक्रिया

    • भारतीय संविधान में प्रधान न्यायाधीश (CJI) की नियुक्ति के संबंध में किसी "प्रक्रिया" का उल्लेख नहीं किया गया है।
    • संविधान का अनुच्छेद 124 (1) केवल यह कहता है कि भारत का एक सर्वोच्च न्यायालय होगा, जो भारत के मुख्य न्यायाधीश तथा अन्य न्यायाधीशों से मिलकर बनेगा।
    • अनुच्छेद 124 का खंड (2) कहता है कि सर्वोच्च न्यायालय के प्रत्येक न्यायाधीश की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा की जाएगी।
    • इस प्रकार, नियुक्ति की प्रक्रिया से संबंधित स्पष्ट संवैधानिक प्रावधान के अभाव में, सीजेआई की नियुक्ति की प्रक्रिया परंपरा पर निर्भर करती है
    • यह एक प्रथा या परंपरा रही है कि निवर्तमान सीजेआई वरिष्ठता के आधार पर अपने उत्तराधिकारी की सिफारिश करते हैं। हालांकि, दो बार इस प्रथा का उल्लंघन भी हुआ है।

    राष्ट्रपति द्वारा नियुक्ति

    • अनुच्छेद 124 के खंड (2) के तहत भारत के मुख्य न्यायाधीश तथा सर्वोच्च न्यायालय के अन्य न्यायाधीशों की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा की जाती है।
    • इसी प्रकार अनुच्छेद 217 उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की नियुक्ति से संबंधित है, जो यह कहता है कि राष्ट्रपति, भारत के मुख्य न्यायाधीश, संबंधित उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश और राज्यपाल से परामर्श के पश्चात उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की नियुक्ति करेगा।
    • भारत के मुख्य न्यायाधीश का कार्यकाल 65 वर्ष की आयु प्राप्त करने तक होता है, जबकि उच्च न्यायालय के न्यायाधीश के संबंध में यह आयु सीमा 62 वर्ष है।

    न्यायाधीश के रूप में नियुक्त होने संबंधी योग्यताएं

    • अनुच्छेद 124 (3) के अनुसार सर्वोच्च न्यायालय में न्यायाधीश के रूप में नियुक्त होने के लिए व्यक्ति में निम्नलिखित योग्यताएं होनी चाहिए:
    • वह भारत का नागरिक हो तथा
    • किसी उच्च न्यायालय का या ऐसे दो या अधिक न्यायालयों का लगातार कम से कम 5 वर्ष तक न्यायाधीश रहा हो या
    • किसी उच्च न्यायालय का या ऐसे दो या अधिक न्यायालयों का लगातार कम से कम 10 वर्ष तक अधिवक्ता रहा हो; या
    • राष्ट्रपति की राय में पारंगत विधिवेत्ता हो।

    प्रधान न्यायाधीश (CJI) के कार्य

    • मामलों का आवंटन:
      • सर्वोच्च न्यायालय के प्रमुख के रूप में सीजेआई मामलों के आवंटन और संवैधानिक पीठों की नियुक्ति के लिए जिम्मेदार है जो कानून के महत्वपूर्ण मामलों से निपटती हैं।
      • संविधान के अनुच्छेद 145 और सुप्रीम कोर्ट के प्रक्रिया नियम 1966 के अनुसार, मुख्य न्यायाधीश अन्य न्यायाधीशों को सभी कार्य आवंटित करता है।
    • प्रशासनिक दायित्व: प्रशासनिक रूप से सीजेआई निम्नलिखित कार्य करता है:
      • रोस्टर का रखरखाव;
      • न्यायालय के अधिकारियों की नियुक्ति और
      • सर्वोच्च न्यायालय के पर्यवेक्षण और कामकाज से संबंधित सामान्य और विविध मामलों को देखना।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप पुरस्कार/सम्मान

    इंडिया एग्रीबिजनेस पुरस्‍कार-2022


    10 नवंबर, 2022 को मत्स्यपालन, पशुपालन और डेयरी राज्य मंत्री डॉ. संजीव के. बालयान ने राष्ट्रीय मात्स्यिकी विकास बोर्ड (National Fisheries Development Board ) को ‘इंडिया एग्रीबिजनेस पुरस्कार 2022’ प्रदान किया|

    किस लिए मिला - मत्स्य पालन के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य के लिए।

    महत्वपूर्ण बिंदु-

    • इंडियन चैम्बर ऑफ फूड एंड एग्रीकल्चर (आईसीएफए) द्वारा ‘एग्रो वर्ल्ड 2022’ - भारत अंतर्राष्ट्रीय कृषि व्यवसाय तथा प्रौद्योगिकी मेला-2022 का आयोजन 9 से 11 नवम्बर, 2022 तक नई दिल्ली के भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, पूसा परिसर में किया गया।
    • इस आयोजन के हिस्से के रूप में राष्ट्रीय मात्स्यिकी विकास बोर्ड को इंडिया एग्रीबिजनेस पुरस्कार-2022 प्रदान किया गया।

    सामयिक खबरें राष्ट्रीय

    गुरु नानक देव जी की 553वीं जयंती


    8 नवंबर, 2022 को विश्व भर में गुरु नानक देव जी की 553वीं जयंती मनाई गई। गुरु नानक जयंती को प्रकाश उत्सव या गुरु पूरब के नाम से भी जाना जाता है।

    • इसे प्रति वर्ष कार्तिक पूर्णिमा के दिन सिख संस्थापक गुरु नानक देव जी की जन्म वर्षगांठ के रूप में मनाया जाता है।
    • इस दिन दुनिया भर के सिख, गुरु नानक देव जी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं, जिनका जन्म 1469 ईस्वी में वर्तमान पाकिस्तान में लाहौर के निकट ननकाना साहिब में हुआ था। ननकाना साहिब को पहले 'राय-भोई-दी-तलवंडी' के नाम से जाना जाता था।

    गुरु नानक के बारे में

    • गुरु नानक देव जी, सिखों के 10 गुरुओं में से पहले हैं। उनके पिता का नाम मेहता कालू जी और माता का नाम तृप्ता था।
    • उनकी शिक्षाओं को सिखों की पवित्र पुस्तक ‘गुरु ग्रंथ साहिब’में संकलित किया गया है।
    • गुरु नानक ने ‘मानवता की एकता’(Oneness of Humanity) की शिक्षा दी। गुरु नानक ने कहा कि “अपने अंदर प्रभु के प्रकाश को पहचानो तथा सामाजिक वर्ग या स्थिति पर विचार मत करो क्योंकि दुनिया में कोई सामाजिक वर्ग या जाति नहीं है”।
    • गुरु नानक देव जी ने ईश्वर के एकता और पवित्रता के संदेश को फैलाने के लिए हजारों मील की यात्रा की थी। पंजाब के अपने जन्मस्थान से, गुरु नानक ने मध्य-पूर्व, यूरोप और पूर्वी एशिया के कई देशों तक पैदल यात्रा की थी।
    • अपने वफादार अनुयाई मर्दाना के साथ गुरु नानक मक्का, तिब्बत तथा तुर्की की यात्रा पर गए थे।
    • अलग-अलग संस्कृतियों में गुरु नानक देव को अलग-अलग नामों से संबोधित किया जाता है। अफगानिस्तान में उन्हें आमतौर पर नानक पीर, नेपाल में नानक ऋषि, इराक में बाबा नानक, श्रीलंका में नानक-चर्या और तिब्बत में नानक लामा के नाम से भी जाना जाता है।

    सिख धर्म

    • सिख धर्म ने सामाजिक पहचान पर आधारित विभाजन का विरोध किया तथा मानवता की एकता का संदेश दिया।
    • सिख धर्म ने भारत में लंगर प्रथा का प्रारंभ किया, जिसमें जाति, धर्म तथा नस्ल आधारित भेदभाव को अस्वीकार कर सभी को भोजन खिलाने की परंपरा की शुरुआत की गई, जो वर्तमान में पूरे विश्व में प्रचलित है।
    • सिख धर्म में अनुयायियों को किसी भी आपातकालीन स्थिति में लोगों को सेवा प्रदान करने की शिक्षा दी जाती है। इसी शिक्षा से प्रेरणा लेकर सिख धर्म के अनुयायी आपदा के दौरान दुनिया के प्रत्येक कोने में जाकर ‘स्वार्थरहित’(Selfless) सेवा प्रदान करते हैं।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    भारत गौरव काशी दर्शन


    11 नवंबर, 2022 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीने बेंगलुरु के क्रांतिवीर संगोली रायण्णा रेलवे स्टेशन पर ‘भारत गौरव काशी दर्शन’ ट्रेन को हरी झंडी दिखाई। इसके बाद देश की 5वींवंदे भारत एक्सप्रेस’ ट्रेन को भी हरी झंडी दिखाई।

    महत्वपूर्ण बिंदु -

    • ‘भारत गौरव काशी दर्शन’- रेलवे की ‘भारत गौरव’ ट्रेन नीति के तहत चलाई जाएगी। यह काशी की यात्रा करने को इच्छुक कई यात्रियों के सपने को पूरा करेगी।
    • इस ट्रेन में यात्रा के लिए 8 दिन का एक यात्रा पैकेज उपलब्ध होगा, जिसमें श्रद्धालुओं को विशेष छूट दी मिलेगी, जिसमें तीर्थयात्रियों को अतिरिक्त 5 हजार रुपये भी दिया जायेगा।
    • वन्दे भारत ट्रेन- यह ट्रेन बेंगलुरु के रास्ते मैसूर और चेन्नई के बीच चलेगी। यह दक्षिण भारत की पहली वन्देभारत ट्रेन है|
    • इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने नादप्रभु केम्पेगौड़ा की 108 फुट ऊंची कांस्य प्रतिमा का अनावरण भी किया।

    ‘नादप्रभु’ केम्पेगौड़ा की 108 फुट ऊंची कांस्य की प्रतिमा का अनावरण

    • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 11 नवम्बर, 2022 को बेंगलुरु के संस्थापक ‘नादप्रभु’ केम्पेगौड़ा की 108 फुट ऊंची कांस्य की प्रतिमा का अनावरण किया.
    • 220 टन वजनी यह प्रतिमा केम्पेगौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर स्थापित की गई है. इसमें लगी तलवार का वजन चार टन है.
    • इस प्रतिमा को ‘स्टैच्यू ऑफ प्रॉस्पेरिटी’ (समृद्धि की प्रतिमा) नाम प्रदान किया गया है.
    • यह प्रतिमा बेंगलुरु के विकास में शहर के संस्थापक केम्पेगौड़ा के योगदान की याद में बनाई गई है.

    मुख्य विन्दु

    • ‘नादप्रभु’ केम्पेगौड़ा की मूर्ति को जानेमाने मूर्तिकार और पद्म भूषण से सम्मानित राम वनजी सुतार ने तैयार किया है.
    • अनावरण से पहले ही केम्पेगौड़ा की 108 फुट ऊंची प्रतिमा को ‘वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स’ में जगह मिल गई थी.
    • वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स के अनुसार ‘स्टैच्यू ऑफ प्रॉस्पेरिटी’ किसी शहर के संस्थापक की पहली और सबसे ऊंची कांस्य प्रतिमा है.
    • नादप्रभु केम्पेगौड़ा विजयनगर साम्राज्य के एक शासक थे.
    • उन्हें 16वीं शताब्दी में बेंगलुरु के संस्थापक के रूप में भी जाना जाता है.
    • मोरासु गौड़ा वंश के वंशज, केम्पेगौड़ा को अपने समय के सबसे शिक्षित और सफल शासकों में से एक माना जाता है.
    • कैम्पेगौड़ा के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने लगभग 46 साल तक विजयनगर साम्राज्य पर शासन किया था.

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    भारत का पहला 'इंडियन बायोलॉजिकल डेटा सेंटर'


    10 नवंबर, 2022 को केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने फरीदाबाद (हरियाणा) में जीवन विज्ञान डेटा- 'इंडियन बायोलॉजिकल डेटा सेंटर' (आईबीडीसी) राष्ट्र को समर्पित किया; साथ ही भारत का पहला राष्ट्रीय भंडार कोष (रिपॉजिटरी) भी राष्ट्र को समर्पित किया।

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    'इंडियन बायोलॉजिकल डेटा सेंटर' (आईबीडीसी) :

    • 100 करोड़ रुपये की लागत से बनाये गए इस डाटा सेंटर में एक घंटे के अन्दर किसी भी बीमारी की जीनोम सेक्वेन्सिंग की जा सकेगी|
    • यह डाटा सेंटर उच्च क्षमता वाली ‘ब्रह्म’ सुपर कम्प्यूटर सुविधा से सुसज्जित है|
    • यह सेंटर बीमारियों से लेकर कृषि के पैटर्न और जीएम फसलों के विकास तक के कार्यों में प्रमुख भूमिका निभायेगा|
    • अभी तक इस प्रकार के डाटा बैंक की सुविधा यूरोप और अमेरिका में ही उपलब्ध थी|

    राष्ट्रीय भंडार कोष :

    • इसे राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र, भुबनेश्वर में डेटा 'आपदा रिकवरी' साइट के साथ क्षेत्रीय जैव प्रौद्योगिकी केंद्र, फरीदाबाद में जैव प्रौद्योगिकी विभाग के सहयोग से स्थापित किया गया है।
    • इसमें लगभग 4 पेटाबाइट की डेटा भंडारण क्षमता है, साथ ही इसमें 'ब्रह्म' उच्च प्रदर्शन कंप्यूटिंग (एचपीसी) सुविधा भी है।
    • आईबीडीसी ने देश भर में 50 से अधिक अनुसंधान प्रयोगशालाओं से 2,08,055 प्रस्तुतियों से 200 बिलियन से अधिक आधार एकत्रित किए हैं।
    • आईबीडीसी का डैशबोर्ड देश भर में अनुकूलित डेटा सबमिशन, एक्सेस, डेटा विश्लेषण सेवाएं और रीयल-टाइम सार्स सीओवी-2 प्रजाति की निगरानी मॉनिटरिंग प्रदान करता है।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    "वीरांगना सेवा केंद्र"


    10 नवंबर, 2022 को दिल्ली कैंट स्थित भारतीय सेना ने "टेकिंग केयर ऑफ योर ओन, नो मैटर व्हाट" के आदर्श वाक्य के साथ वीर नारियों के कल्याण और शिकायतों के निवारण के लिए "वीरांगना सेवा केंद्र" (वीएसके) नामक एकल खिड़की सुविधा शुरू की।

    महत्वपूर्ण बिंदु -

    • वीरांगना सेवा केंद्र (VSK) भारतीय सेना के वेटरन्स पोर्टल www.indianarmyveterans.gov.in पर सेवा के रूप में उपलब्ध होगा।
    • यह प्रणाली आवेदक को ट्रैकिंग, निगरानी और नियमित फीडबैक के साथ शिकायतें दर्ज करने की सुविधा प्रदान करती है।
    • वीर नारियों/निकटतम परिजन के पास टेलीफोन, एसएमएस, व्हाट्सएप, पोस्ट, ई-मेल और सहायता प्राप्त करने के लिए वॉक-इन के माध्यम से वीरांगना सेवा केंद्र से संपर्क करने के लिए कई साधन होंगे।

    पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

    बिम्सटेक कृषि मंत्रियों की दूसरी बैठक


    10 नवंबर, 2022 को बंगाल की खाड़ी बहुक्षेत्रीय तकनीकी एवं आर्थिक सहयोग उपक्रम (बिम्सटेक) की दूसरी कृषि मंत्री स्तरीय बैठक भारत की मेजबानी में केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की अध्यक्षता में हुई।

    • इस बैठक में भूटान, बांग्लादेश, नेपाल, म्यांमार, श्रीलंका व थाईलैंड के कृषि मंत्रियों ने भी हिसा लिया।
    • दूसरी बिम्सटेक कृषि मंत्री स्तरीय बैठक में बिम्सटेक कृषि सहयोग (2023-2027) को मजबूत करने के लिए कार्य योजना को स्वीकार किया गया|
    • बिम्सटेक सचिवालय व अंतरराष्ट्रीय खाद्य नीति अनुसंधान संस्थान (आईएफपीआरआई) के बीच समझौता ज्ञापन तथा मात्स्यिकी एवं पशुधन उप-क्षेत्रों को कृषि कार्य समूह के तहत लाने को मंजूरी दी गई।

    • बिम्सटेक- बिम्सटेक की स्थापना वर्ष 1997 में हुई थी।
    • इसमें दक्षिण एशिया के पांच देश- बांग्लादेश, भूटान, भारत, नेपाल, श्रीलंका तथा दक्षिण-पूर्व एशिया के दो देश- म्यांमार और थाईलैंड शामिल हैं।

    सामयिक खबरें राष्ट्रीय

    भारत के 22वें विधि आयोग का गठन


    7 नवंबर, 2022 को केंद्र सरकार ने कर्नाटक उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति रितु राज अवस्थी की अध्यक्षता में भारत के 22वें विधि आयोग का गठन किया। केंद्र सरकार द्वारा विधि आयोग के सदस्यों की भी नियुक्ति की गई।

    • उल्लेखनीय है कि केन्द्रीय मंत्रिमंडल द्वारा फरवरी 2020 में ही 22वें विधि आयोग के गठन को मंजूरी दी गई थी, परन्तु अभी तक इसके अध्यक्ष एवं सदस्यों की नियुक्ति नहीं की गई थी।

    भारत का विधि आयोग

    • भारत का विधि आयोग महत्वपूर्ण विधायी सुधारों की सिफारिश करने वाली सरकार की शीर्ष संस्था है तथा यह कार्यकारी निकाय भारत सरकार के एक आदेश के माध्यम से स्थापित किया जाता है।
    • मूल रूप से विधि आयोग का गठन 1955 में किया गया था तथा इसका हर तीन साल में पुनर्गठन किया जाता है। विधि आयोग द्वारा अब तक सरकार को 277 रिपोर्टें सौंपी जा चुकी हैं।
    • आयोग का कार्य कानूनी सुधारों पर भारत सरकार को शोध और सलाह प्रदान करना है। इसमें कानूनी विशेषज्ञ शामिल होते हैं तथा इसकी अध्यक्षता एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश द्वारा की जाती है। यह कानून और न्याय मंत्रालय के सलाहकार निकाय के रूप में काम करता है।

    22वें विधि आयोग के कार्य

    • यह ऐसे कानूनों की पहचान करना जिनकी अब कोई जरूरत नहीं है या वे अप्रासंगिक हैं और जिन्हें तुरन्त निरस्त किया जा सकता है।
    • राज्य नीति के निदेशक तत्वों के आलोक में मौजूदा कानूनों की जांच करना तथा सुधार के तरीकों के सुझाव देना।
    • नीति निदेशक तत्वों को लागू करने के लिए आवश्यक कानूनों के बारे में सुझाव देना तथा संविधान की प्रस्तावना में निर्धारित उद्देश्यों को प्राप्त करना।
    • सामान्य महत्व के केंद्रीय अधिनियमों को संशोधित करना ताकि उन्हें सरल बनाया जा सके और विसंगतियों, संदिग्धताओं और असमानताओं को दूर किया जा सके।
    • कानून और न्यायिक प्रशासन से संबंधित उस किसी भी विषय पर विचार करना और सरकार को अपने विचारों से अवगत कराना, जो इसे विधि और न्याय मंत्रालय के माध्यम से सरकार द्वारा विशेष रूप से अग्रेषित किया गया हो।
    • गरीब लोगों की सेवा में कानून और कानूनी प्रक्रिया का उपयोग करने के लिए आवश्यक सभी उपाय करना।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    जी-20 लोगो, थीम एवं वेबसाइट का अनावरण


    8 नवंबर, 2022 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत की जी20 की अध्यक्षता के लिए वर्चुअल माध्यम से लोगो, थीम और वेबसाइट का अनावरण किया।

    • जी20 का लोगो – यह लोगो भारत के राष्ट्रीय ध्वज के जीवंत रंगोंकेसरिया, सफेद और हरा तथा नीला से प्रेरित है । इसमें भारत के राष्ट्रीय फूल कमल के साथ पृथ्वी को जोड़ा गया है, जो चुनौतियों के बीच विकास को दर्शाता है।
    • पृथ्वी , जीवन के प्रति भारत के धरती के अनुकूल उस दृष्टिकोण को दर्शाती है, जो प्रकृति के साथ पूर्ण सामंजस्य को प्रतिबिंबित करता है।
    • G-20 लोगो के नीचे देवनागरी लिपि में “भारत” लिखा है।
    • थीम - “वसुधैव कुटुम्बकम” या “एक धरती, एक परिवार, एक भविष्य”-
    • यह महा उपनिषद से लिया गया है। आवश्यक रूप से यह विषय जीवन के सभी मूल्यों- मानव, पशु, पौधे एवं सूक्ष्मजीव तथा धरती पर और व्यापक ब्रह्मांड में उनके परस्पर संबंध की पुष्टि करता है।

    जी20 की वेबसाइट-

    प्रधानमंत्री द्वारा वेबसाइट www.g20.in का शुभारंभ किया गया।

    इस वेबसाइट में नागरिकों के लिए अपने सुझाव प्रस्तुत करने का एक अनुभाग शामिल है।

    जी20 का ऐप- एंड्रॉइड और आईओएस, दोनों प्लेटफॉर्म पर एक मोबाइल ऐप "जी20 इंडिया" को भी जारी किया गया है।

    • G-20- इसकी स्थापना 1999 में एशियाई वित्तीय संकट के बाद वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंक के गवर्नरों के लिए वैश्विक आर्थिक तथा वित्तीय मुद्दों पर चर्चा करने के लिए एक मंच के रूप में की गई थी।
    • यह ऐसे देशों का समूह है, जिनका आर्थिक सामर्थ्य विश्व की 85% जीडीपी तथा विश्व के 75% व्यापार का प्रतिनिधित्व करते हैं, जिसमें विश्व की दो-तिहाई जनसंख्या तथा 50% क्षेत्रफल समाहित है।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    व्यापार सेवा अधिकारियों का पहला सम्मेलन "मंथन 1.0"


    नवंबर 2022 में ‘भारतीय व्यापार सेवा’ अधिकारियों का पहला सम्मेलन "मंथन 1.0" गुजरात के केवड़िया में आयोजित किया गया।

    • यह सम्मेलन भविष्य की विदेश व्यापार नीति (एफटीपी) पर विचार-मंथन करने और भारत से निर्यात को बढ़ावा देने के लिए क्षेत्रवार और राज्यवार निर्यात रणनीति तैयार करने के लिए किया गया था।
    • भारतीय व्यापार सेवा के अधिकारियों को हाल ही में 10 क्षेत्र विशिष्ट समूहों में विभाजित किया गया है, जो उद्योग के विशिष्ट क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करते हैं, जिसमें माल, परियोजनाएं और सेवाएं शामिल हैं।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    भारत का पहला सॉवरेन ग्रीन बॉन्ड


    नवंबर 2022 में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भारत के पहले सॉवरेन ग्रीन बॉन्ड की रूपरेखा को मंजूरी प्रदान की है|

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • इस मंजूरी से पेरिस समझौते के तहत अपनाए गए अपने एनडीसी (राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान) लक्ष्यों के प्रति भारत की प्रतिबद्धता और भी अधिक मजबूत होगी, इसके साथ ही इससे पात्र हरित परियोजनाओं में वैश्विक एवं घरेलू निवेश को आकर्षित करने में मदद मिलेगी।
    • बॉन्ड से प्राप्त धनराशि को सार्वजनिक क्षेत्र की उन परियोजनाओं में लगाया जाएगा, जिनसे अर्थव्यवस्था की कार्बन तीव्रता को कम करने में मदद मिलती है।
    • वित्त वर्ष 2022-23 के केंद्रीय बजट में केंद्रीय वित्त मंत्री द्वारा हरित परियोजनाओं के लिए संसाधन जुटाने के लिए सॉवरेन ग्रीन बॉन्ड जारी करने की घोषणा की गई थी।

    ग्रीन बॉन्ड क्या है? : ग्रीन बॉन्ड दरअसल ऐसे वित्तीय प्रपत्र होते हैं, जो पर्यावरण की दृष्टि से टिकाऊ और जलवायु के अनुकूल परियोजनाओं में निवेश के लिए धनराशि सृजित करते हैं।

    • पर्यावरण की दृष्टि से टिकाऊ परियोजनाओं में ग्रीन बॉन्डों का झुकाव होने को देखते हुए नियमित बॉन्डों की तुलना में हरित बॉन्डों की पूंजी की लागत अपेक्षाकृत कम होती है और इसके मद्देनजर बॉन्ड जारी करने की प्रक्रिया से जुड़ी विश्वसनीयता एवं प्रतिबद्धता अत्यंत आवश्यक होती है।

    पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

    भारत और डेनमार्क समझौता


    हाल ही में, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में ‘जल संसाधन के विकास और प्रबंधन’ के क्षेत्र में सहयोग हेतु भारत और डेनमार्क के बीचसमझौता हस्ताक्षरित किया गया है|

    इस समझौते में शामिल क्षेत्र हैं-

    • डिजिटलीकरण और सूचना मिलने में आसानी, एकीकृत और स्मार्ट जल संसाधन विकास एवं प्रबंधन; जलभृत का मानचित्रण, भू-जल का प्रतिरूपण, निगरानी और पुनर्भरण; गैर-राजस्व जल और ऊर्जा खपत में कमी सहित घरों में बेहतरीन और सतत जल आपूर्ति|
    • जीवन यापन, सुदृढ़ता और आर्थिक विकास बढ़ाने के लिए नदियों एवं तालाबों का कायाकल्प; जल गुणवत्ता की निगरानी और प्रबंधन; अपशिष्ट जल के पुन: उपयोग/पुनर्चक्रण के लिए सर्कुलर इकोनॉमी सहित सीवेज/अपशिष्ट जल का शोधन, जिसमें व्यापक गाद प्रबंधन और जल आपूर्ति एवं स्वच्छता के क्षेत्र में नवीकरणीय ऊर्जा का अधिकतम उपयोग करना भी शामिल है|
    • जलवायु परिवर्तन में कमी और अनुकूलन, जिसमें प्रकृति आधारित समाधान भी शामिल हैं; नदी केंद्रित शहरी नियोजन, जिसमें शहरों में बाढ़ प्रबंधन भी शामिल है|
    • उपनगरीय और ग्रामीण क्षेत्रों के लिए प्रकृति आधारित तरल अपशिष्ट में कमी के लिए उपाय।

    पीआईबी न्यूज आर्थिक

    रबी सीजन 2022-23 के लिए सब्सिडी दरों की मंजूरी


    1 अक्टूबर, 2022 से 31 मार्च 2023 तक के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने रबी सीजन-2022-23 नाइट्रोजन (N), फॉस्फोरस (P), पोटाश (K), सल्फर (S) जैसे विभिन्न पोषक तत्वों से युक्त फॉस्फेट और पोटास (P&K) उर्वरकों के लिए पोषक तत्व आधारित सब्सिडी (Nutrient Based Subsidies: NBS) की प्रति किलोग्राम दरों से सम्बन्धित उर्वरक विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • इससे रबी 2022-23 के दौरान सभी फॉस्फेट और पोटास उर्वरक रियायती/किफायती कीमतों पर किसानों को आसानी से उपलब्ध होंगे और इससे कृषि क्षेत्र को सहायता मिलेगी।
    • उर्वरकों और कच्चे माल की अंतरराष्ट्रीय कीमतों में अस्थिरता के कारण हुई मूल्य-वृद्धि को मुख्य रूप से केंद्र सरकार द्वारा वहन किया गया है।

    GK फैक्ट

    • फॉस्फेट और पोटास उर्वरकों पर सब्सिडी, पोषक तत्व आधारित सब्सिडी (एनबीएस) योजना द्वारा 1 अप्रैल, 2010 से शासित की जा रही है।
    • अपने किसान हितैषी दृष्टिकोण के अनुरूप, सरकार किसानों को सस्ती कीमतों पर फॉस्फेट और पोटास उर्वरकों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप रिपोर्ट एवं सूचकांक

    ग्लोबल जेंडर वेल्थ इक्विटी रिपोर्ट 2022


    2 नवम्वर, 2022 को ग्लोबल जेंडर वेल्थ इक्विटी रिपोर्ट-2022 का प्रकाशन संयुक्त रूप से WTW और वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (WEF) द्वारा जारी किया गया|

    मुख्य विन्दु-

    • यह रिपोर्ट विश्व के 5 क्षेत्रों में लिंग आधारित धन अंतर की जांच करती है।
    • यह करियर, परिवार के समर्थन, जीवन की घटनाओं और वित्तीय साक्षरता के परस्पर प्रभाव के आधार पर असमानता के पीछे के कारणों का आकलन करती है|
    • यह सेवानिवृत्ति के समय महिलाओं और पुरुषों के बीच लैंगिक संपत्ति के अंतर को मापती है। एशिया-प्रशांत (APAC) देशोंमें, भारत की सबसे खराब लैंगिक संपत्ति अंतर (64%) था। इसका एक प्रमुख कारक भारत का लैंगिक आधारित वेतन अंतर है|
    • इस रिपोर्ट के मुताबिक, जब महिलाएं रिटायर होंगी, तो उनके पास पुरुषों की अपेक्षा जमा हुई संपत्ति का सिर्फ 74 फीसदी होगा।

    भारत की स्थिति-

    • एशिया-प्रशांत देशों में भारत में लैंगिक संपत्ति का सबसे खराब अंतर है।
    • भारत का लैंगिक आधारित वेतन अंतर वैश्विक औसत से अधिक है।
    • महिलाओं के लिए नेतृत्व की भूमिकाएं सीमित हैं; जबकि कार्यबल में 3% महिलाएं ही वरिष्ठ स्तर के पदों पर हैं।
    • महिलाएं कम उम्र में ही बच्चों की जिम्मेदारियां संभाल लेती हैं। लंबी अवधि के वित्तीय निर्णय आम तौर पर पुरुषों के हाथों में होते हैं|
    • कामकाजी महिलाओं के लिए वित्तीय साक्षरता भारत में कम होती है।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप रिपोर्ट एवं सूचकांक

    अनुकूलन गैप रिपोर्ट-2022


    नवंबर 2022 में संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) द्वारा ‘अनुकूलन गैप रिपोर्ट-2022’ (The Adaptation Gap Report-2022) जारी किया गया|

    शीर्षक- ”बहुत कम, बहुत धीमा-जलवायु अनुकूलन विफलता दुनिया को जोखिम में डालती है” (Too Little, Too Slow – Climate adaptation failure puts world at risk) ।

    मुख्य विन्दु-

    • यह रिपोर्ट 3 तत्वों में अनुकूलन प्रक्रिया की वैश्विक स्थिति और प्रगति पर एक अद्यतन प्रदान करती है: योजना, वित्तपोषण और कार्यान्वयन। यह संस्करण अनुकूलन की प्रभावशीलता पर भी ध्यान केंद्रित करता है और अनुकूलन-शमन सह-लाभों पर विचार करता है।
    • 2022 की रिपोर्ट में पाया गया कि UNFCCC (जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन) के कम से कम 84% दलों के पास अनुकूलन योजनाएँ, रणनीतियाँ, नीतियां और कानून हैं। पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष में 5% की वृद्धि हई है।
    • 10 में से 8 से अधिक देशों में कम से कम 1 राष्ट्रीय अनुकूलन योजना उपकरण है, जो सुधार कर रहा है और अधिक समावेशी हो रहा है।
    • दुनिया वर्तमान में 1850 से 1900 के पूर्व-औद्योगीकरण युग में प्राप्त औसत तापमान की तुलना में औसत वैश्विक तापमान में 2.8 डिग्री सेल्सियस वृद्धि की राह पर है।
    • शोधकर्ताओं के अनुसार, यदि ग्लोबल वार्मिंग 2 डिग्री सेल्सियस से ऊपर है, तो यह विनाशकारी जलवायु संकट का कारण बन सकता है।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप रिपोर्ट एवं सूचकांक

    सक्रिय भूमि जल संसाधन मूल्यांकन रिपोर्ट-2022


    9 नवंबर, 2022 को केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने वर्ष 2022 के लिये सम्पूर्ण देश की सक्रिय भूमि जल संसाधन मूल्यांकन रिपोर्ट (Dynamic Ground Water Resource Assessment Report) जारी की।

    रिपोर्ट संबंधी महत्वपूर्ण तथ्य-

    • मूल्यांकन भूमि जल री-चार्ज में बढ़ोतरी का संकेत देता है| वर्ष 2022 की इस मूल्यांकन रिपोर्ट के अनुसार, सम्पूर्ण देश के लिए कुल वार्षिक भूमि जल री-चार्ज 437.60 अरब घन मीटर है तथा सम्पूर्ण देश में वार्षिक रूप से 239.16 अरब घन मीटर भूमि जल निकाला गया।
    • रिपोर्ट के अनुसार देश में कुल 7,089 मूल्यांकन इकाइयों में से 1,006 इकाइयों को ‘अति-दोहन’ की श्रेणी में रखा गया है।
    • मूल्यांकन 2017, मूल्यांकन आंकड़ों की तुलना में देश में 909 मूल्यांकन इकाइयों में भूमि जल परिस्थिति में सुधार इंगित करता है|

    खेल समाचार विविध

    खेलो इंडिया महिला भारोत्तोलन टूर्नामेंट-2022


    2 नवंबर, 2022 को उत्तर प्रदेश के मोदीनगर में भारतीय भारोत्तोलन महासंघ (ईडब्ल्यूएलएफ) द्वारा आयोजित “खेलो इंडिया महिला भारोत्तोलन टूर्नामेंट सम्पन्न हुआ |

    विजेताओं की सूची

    • सीनियर महिला वर्ग- ‘रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड’ (आरएसपीबी)
    • जूनियर महिला और युवा लड़कियों की श्रेणी- महाराष्ट्र
    • अंक के आधार पर टूर्नामेंट में 3 सर्वश्रेष्ठ भारोत्तोलक हैं :
    1. कोमल जौहर (वरिष्ठ महिला),
    2. संजू देवी (जूनियर महिला),
    3. आकांक्षा व्यवहारे(युवा लड़कियां)।

    महत्वपूर्ण तथ्य

    • इस टूर्नामेंट में भारोत्तोलकों ने भागीदारी की, जो लक्ष्य ओलंपिक पोडियम योजना के साथ-साथ खेलो इंडिया छात्रवृत्ति योजना का हिस्सा है।
    • आकांक्षा व्यवहारे, भावना, मार्टिना देवी, योगिता खेड़कर और कल्पना यादव ने राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाए।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप युद्धाभ्यास/सैन्य अभियान

    युद्धाभ्यास गरुड़ VII


    नवंबर 2022 में भारतीय वायु सेना (आईएएफ) और फ्रांसीसी वायु एवं अंतरिक्ष बल (एफएएसएफ) के मध्य जारी युद्धाभ्यास गरुड़ VII का आयोजन वायुसेना स्टेशन जोधपुर में किया गया । दोनों ने संयुक्त प्रशिक्षण मिशन के अंतर्गत इस अभ्यास में भाग लिया ।

    • इस युद्धाभ्यास में एलसीए तेजस और हाल ही में शामिल एलसीएच प्रचंड ने अंतरराष्ट्रीय अभ्यास में पहली बार हिस्सा लिया।
    • इस अभ्यास में चार एफएएसएफ राफेल लड़ाकू विमान और एक ए-330 मल्टी रोल टैंकर ट्रांसपोर्ट (एमआरटीटी) विमानों ने हिस्सा लिया ।
    • यह अभ्यास 2003 से एक नियमित द्विपक्षीय अभ्यास के रूप में आयोजित किया जा रहा है।
    • जोधपुर में चल रही एक्सरसाइज द्विपक्षीय युद्धाभ्यास का 7वां संस्करण है।

    राज्य समाचार कर्नाटक

    ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट 'इन्वेस्ट कर्नाटक 2022'


    2 नवम्बर, 2022 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ‘ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट इनवेस्ट कर्नाटक-2022’ के उद्घाटन समारोह को संबोधित किया ।

    उद्देश्य- संभावित निवेशकों को आकर्षित करना और अगले दशक के लिए विकास एजेंडा स्थापित करना है।

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • यह आयोजन वैश्विक स्तर पर कर्नाटक को अपनी संस्कृति को दुनिया के सामने भी प्रदर्शित करने का अवसर देगा।
    • तीन दिवसीय इस कार्यक्रम में 80 से अधिक वक्ता सत्र हुए। वक्ताओं में प्रमुख रूप से कुमार मंगलम बिड़ला, सज्जन जिंदल, विक्रम किर्लोस्कर सहित उद्योग जगत के कुछ शीर्ष नेता शामिल हुए।
    • इसमें तीन सौ से अधिक प्रदर्शकों के साथ कई व्यावसायिक प्रदर्शनियाँ और देश के सत्र समानांतर रूप से चले।
    • सत्रों की मेजबानी अलग-अलग देशों- जर्मनी, नीदरलैंड, दक्षिण कोरिया, जापान और ऑस्ट्रेलिया ने किया; जो अपने-अपने देशों से उच्चस्तरीय मंत्रिस्तरीय और औद्योगिक प्रतिनिधिमंडल लाए गए थे ।

    सामयिक खबरें आर्थिकी

    इंडिया इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट डेवलपमेंट फंड योजना


    4 नवंबर, 2022 को केंद्र सरकार ने सार्वजनिक-निजी भागीदारी (Public Private Partnership) परियोजनाओं के विकास में लगे लेनदेन सलाहकारों की लागत को पूरा करने में वित्तीय सहायता प्रदान करने के उद्देश्य से इंडिया इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट डेवलपमेंट फंड योजना (India Infrastructure Project Development Fund Scheme) को नया रूप दिया और इसे विस्तृत किया।

    इंडिया इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट डेवलपमेंट फंड योजना के बारे

    • यह एक केंद्रीय क्षेत्र की योजना है, जो केंद्र एवं राज्य सरकारों में परियोजना प्रायोजक प्राधिकरणों (Project sponsoring authorities) को आवश्यक धन प्रदान करके गुणवत्तापूर्ण पीपीपी परियोजनाओं के विकास में सहायता करती है। इस योजना को 2007 में स्थापित किया गया था।
    • यह परियोजना विकास खर्च का 75% तक प्रायोजक प्राधिकरण को ब्याज मुक्त ऋण के रूप में योगदान करेगा, और शेष 25% प्रायोजक प्राधिकरण द्वारा सह-वित्त पोषित किया जाएगा।

    इसका महत्व

    • यह पीपीपी परियोजनाओं के विकास में लगे लेनदेन सलाहकारों की लागत को पूरा करने में वित्तीय सहायता प्रदान करके, केंद्र और राज्य दोनों सरकारों में परियोजना प्रायोजक प्राधिकरणों को आवश्यक सहायता प्रदान करेगा।
    • इसका उद्देश्य बुनियादी ढांचागत क्षेत्र में निजी क्षेत्र की भागीदारी को प्रोत्साहित करके देश में बुनियादी ढांचे के विकास की गुणवत्ता और गति में सुधार करना है।
    • यह देश के लिए आधुनिक बुनियादी ढांचे के दृष्टिकोण को प्राप्त कर सकता है।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    गंगा उत्सव - नदी महोत्सव


    4 नवंबर, 2022 को ‘राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन’ (National Mission for Clean Ganga: NMCG) द्वारा नई दिल्ली में ‘गंगा उत्सव-नदी महोत्सव -2022के छठे संस्करण का आयोजन दो सत्रों में किया गया।

    महत्वपूर्ण तथ्य -

    • गंगा उत्सव - नदी महोत्सव 2022 का मुख्य उद्देश्य भारत की सभी नदियों (नदी उत्सव) को मनाना है।
    • एनएमसीजी 2017 से हर साल 4 नवंबर को गंगा उत्सव मना रहा है, वर्ष 2008 में इसी दिन गंगा नदी को भारत की राष्ट्रीय नदी घोषित किया गया था।
    • गंगा उत्सव 2022 आजादी का अमृत महोत्सव को समर्पित है, जिसे भारतीय स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में मनाया जा रहा है। चूंकि गंगा उत्सव 2022 स्वतंत्रता के 75वें वर्ष में आयोजित किया जा रहा है, इसलिए अगस्त 2023 तक गंगा और इसकी सहायक नदी के बेसिन वाले शहरों और कस्बों में 75 अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित करने की योजना है।

    पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

    कॉप 27 में भारतीय मंडप का उद्घाटन


    6 नवंबर, 2022 को चले केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेंद्र यादव ने 6 से 18 नवंबर, 2022 तक चले मिस्र में संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन फ्रेमवर्क सम्मेलन की 27वीं बैठक (कॉप 27) में भारतीय मंडप का उद्घाटन किया।

    भारतीय मंडप का विषय है- ‘लाइफ-पर्यावरण के लिए जीवनशैली’

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • मंडप के डिजाइन में मार्गदर्शक विचार यह है कि सदियों से भारतीय सभ्यताओं ने स्थायी जीवन शैली का अभ्यास और नेतृत्व किया है। भारतीय संस्कृति में पर्यावरण के अनुकूल आदतें शामिल हैं।
    • मंडप के प्रतीक चिन्ह में हरे रंग का उपयोग किया गया है, यह हरा रंग हरी-भरी धरती का सूचक है। प्रतीक चिन्ह में हरे रंग को ग्रेडिएंट शेड्स के रूप में प्रयोग किया गया है।
    • परिधि पर मौजूद पत्ती, प्रकृति का प्रतिनिधित्व करती है और यह प्रतीक यह प्रदर्शित करता है कि भारत सरकार की विभिन्न पहलों के माध्यम से प्रकृति के साथ संतुलन और तालमेल कैसे बिठाया जा सकता है? प्रतीक चिन्ह का मध्य भाग सूर्य के साथ संतुलित प्रकृति का प्रतिनिधित्व करता है, जिसमें पेड़, पहाड़, पानी और जैव-विविधता शामिल है।
    • यह नारा जीवन के मूल संदेश सर्वे भवन्तु सुखिन:यानी सभी के सुख की कामना से प्रेरित है।

    पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

    वर्ल्ड ट्रैवल मार्केट 2022


    7 से 9 नवंबर, 2022 तक लंदन में वर्ल्ड ट्रैवल मार्केट (World Travel Market: WTM) 2022 में भारत सरकार का पर्यटन मंत्रालय सबसे बड़ी अंतरराष्ट्रीय यात्रा प्रदर्शनी में सहभागिता की|

    थीम - 'द फ्यूचर ऑफ ट्रैवल स्टार्ट नाउ' है।

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • लगभग 2 वर्षों के अंतराल के बाद देश के पर्यटन क्षेत्र को विदेशी पर्यटकों के लिए फिर से खोलने के साथ, इस वर्ष भारत की भागीदारी विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।
    • पर्यटन मंत्रालय का लक्ष्य विशेष रूप से कोविड महामारी के बाद पर्यटन क्षेत्र को नई ऊंचाइयों पर ले जाना और 2030 के सतत विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए बदलाव की गति में तेजी लाना है।

    फैक्ट फाइल

    • वर्ष 2019 के दौरान भारत की जीडीपी में यात्रा और पर्यटन क्षेत्र का योगदान कुल अर्थव्यवस्था का 5.19% था।
    • वर्ष 2019 में भारतीय पर्यटन क्षेत्र 79.86 मिलियन प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार के लिए उत्तरदायी रहा।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप चर्चित व्यक्ति

    बेंजामिन नेतन्याहू


    हाल ही में इजराइल के आम चुनाव में 73 साल के ‘लिकुड पार्टी’ के प्रमुख बेंजामिन नेतन्याहू ने अपने सेंटर लेफ्ट प्रतिद्विंद्वी यायर लेपिड को पराजित कर इजराइल के प्रधानमंत्री पद पर सबसे लंबे समय तक रहने वाले नेतन्याहू पांचवीं चुनाव जीतकर छठी बार पीएम बने हैं।

    • बेंजामिन नेतन्याहू का जन्म 1949 में इजराइल के मशहूर शहर तेल-अवीव में हुआ था। वे बीबीके नाम से प्रसिद्ध हैं।
    • पहली बार 29 मई, 1996 को शिमोन पेरेज़ के सामने लगभग 1 प्रतिशत के अंतर से इजराइल के प्रधानमंत्री चुने गए थे|
    • वहीं वर्ष 1996 में सरकार बनाने के बाद नेतन्याहू इजराइल के प्रधानमंत्री के रूप में सेवा करने वाले सबसे कम उम्र के व्यक्ति थे।
    • प्रधानमंत्री बनने से पहले देश की सेना का हिस्सा रहे और इस दौरान कमांडो और कैप्टन भी रहे।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप निधन

    श्री श्याम सरन नेगी


    5 नवंबर, 2022 को हिमाचल के गौरव और स्वतंत्र भारत के पहले मतदाता श्री श्याम सरन नेगी का 106 वर्ष की आयु में उनके पैतृक गांव हिमाचल प्रदेश के किन्नौर के कल्पा में निधन हो गया।

    • मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने हिमाचल के गौरव श्री श्याम सरन नेगी के निधन पर उनके पैतृक गांव कल्पा पहुंचे। उन्होंने शोक संतप्त परिवार से व्यक्तिगत रूप से मुलाकात की और दिवंगत नेगी को पुष्पांजलि अर्पित की।
    • हाल ही में चुनाव में इन्होंने 34वीं बार मताधिकार का प्रयोग किया था|

    सामयिक खबरें पर्यावरण

    राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान का हटाया जाना


    3 नवंबर, 2022 को केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (Central Pollution Control Board - CPCB) द्वारा ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (चरण-IV) को हटा लिया गया है| CPCB द्वारा यह निर्णय दिल्ली में परिवेशी वायु की गुणवत्ता में सुधार के कारण लिया गया है|

    ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान क्या है?

    • 2016 में सर्वोच्च न्यायालय के निर्देश पर, पर्यावरण प्रदूषण (रोकथाम एवं नियंत्रण) प्राधिकरण (EPCA) द्वारा राज्य सरकार के प्रतिनिधियों तथा विशेषज्ञों के साथ मिलकर ‘ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान’ योजना (GRAP) का प्रस्ताव दिया गया था।
    • ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान अर्थात जीआरपीए के अंतर्गत वायु प्रदूषण की गंभीरता के अनुसार प्रदूषण को रोकने के उपायों को सूचीबद्ध किया जाता है जो केवल आपातकालीन उपाय के रूप में काम करता है।
    • इस योजना के अंतर्गत अलग-अलग राज्य सरकारों द्वारा औद्योगिक प्रदूषण, वाहन एवं दहन उत्सर्जन से निपटने के लिए वर्ष भर की जाने वाली कार्रवाई को नहीं शामिल किया गया है।

    ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान की कार्यप्रणाली

    • ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान या GRAP आपातकालीन उपायों का एक सेट है जो एक निश्चित सीमा तक पहुंचने के बाद हवा की गुणवत्ता में और गिरावट को रोकने के लिए शुरू होता है। जीआरएपी का चरण 1 तब सक्रिय होता है जब एक्यूआई 'खराब' श्रेणी (201 से 300) में होता है।
    • दूसरा, तीसरा और चौथा चरण तब सक्रिय होगा जब एक्यूआई क्रमशः 'बहुत खराब' श्रेणी (301 से 400), 'गंभीर' श्रेणी (401 से 500) तक पहुंच जाएगा।

    GRAP को किस प्रकार लागू किया जाता है?

    • सीएक्यूएम ने जीआरएपी के संचालन के लिए एक उप-समिति का गठन किया है। जीआरएपी को लागू करने के आदेश जारी करने के लिए उप-समिति को बार-बार मिलना पड़ता है।
    • इस निकाय में सीएक्यूएम के अधिकारी, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान के प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सदस्य सचिव, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, आईएमडी के एक वैज्ञानिक और आईआईटीएम के एक वैज्ञानिक और स्वास्थ्य सलाहकार शामिल हैं।
    • केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा बनाए गए इस योजना को पहली बार 2017 में दिल्ली-एनसीआर में लागू किया गया था।

    पीआईबी न्यूज आर्थिक

    8 प्रमुख उद्योगों का संयुक्त सूचकांक


    हाल ही में जारी 8 प्रमुख उद्योगों का संयुक्त सूचकांक सितंबर 2021 के सूचकांक की तुलना में सितंबर 2022 में 7.9% बढ़ गया है|

    महत्वपूर्ण बिंदु-

    • 8 प्रमुख उद्योगों में उत्पादन के संयुक्त और व्यक्तिगत प्रदर्शन को मापता है, जिसमें कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, रिफाइनरी उत्पाद, उर्वरक, इस्पात, सीमेंट और बिजली आदि शामिल हैं।
    • इस सूचकांक में जून 2022 के लिए 8 प्रमुख उद्योगों के सूचकांक की अंतिम वृद्धि दर को इसके अनंतिम स्तर 12.7% से संशोधित कर 13.1% कर दिया गया है।
    • अप्रैल-सितंबर 2022-23 के दौरान आईसीआई की वृद्धि दर पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि की तुलना में 9.6% थी।

    प्रमुख उद्योगों के सूचकांक आंकड़े –

    आधार वर्ष : 2011-12=100

    • कोयला- कोयला उत्पादन सितंबर, 2022 में सितंबर, 2021 की तुलना में 12.0 प्रतिशत बढ़ा। इसका संचयी सूचकांक अप्रैल से सितंबर, 2022-23 के दौरान पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 21.0 प्रतिशत बढ़ा है।
    • कच्चे तेल- कच्चे तेल का उत्पादन (भारांक: 8.98 प्रतिशत) सितंबर, 2022 में सितंबर, 2021 की तुलना में 2.3 प्रतिशत कम हो गया। इसका संचयी सूचकांक अप्रैल से सितंबर, 2022-23 के दौरान पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 1.3 प्रतिशत कम हुआ।
    • प्राकृतिक गैस- प्राकृतिक गैस का उत्पादन (भारांक: 6.88 प्रतिशत) सितंबर, 2022 में सितंबर, 2021 की तुलना में 1.7 प्रतिशत घट गया। इसका संचयी सूचकांक अप्रैल से सितंबर, 2022-23 के दौरान पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 1.8 प्रतिशत बढ़ा है।
    • पेट्रोलियम रिफाइनरी उत्पाद- पेट्रोलियम रिफाइनरी उत्पादन (भारांक: 28.04 प्रतिशत) सितंबर, 2022 में सितंबर, 2021 की तुलना में 6.6 प्रतिशत बढ़ा। इसका संचयी सूचकांक अप्रैल से सितंबर, 2022-23 के दौरान पिछले की इसी अवधि की तुलना में 10.1 प्रतिशत बढ़ा है।
    • उर्वरक- उर्वरक उत्पादन (भारांक: 2.63 प्रतिशत) सितंबर, 2022 में सितंबर, 2021 की तुलना में 11.8 % बढ़ा। इसका संचयी सूचकांक अप्रैल से सितंबर, 2022-23 के दौरान पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 11.5% बढ़ा।
    • इस्पात -सितंबर, 2022 में इस्पात उत्पादन (भारांक: 17.92 प्रतिशत) सितंबर, 2021 की तुलना में 6.7 प्रतिशत बढ़ा। इसका संचयी सूचकांक अप्रैल से सितंबर, 2022-23 के दौरान पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 6.4 प्रतिशत बढ़ा।

    राज्य समाचार महाराष्ट्र

    पहले इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण क्लस्टर को मंजूरी


    हाल ही में इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय ने पुणे के पास रंजनगांव चरण-III में 492.85 करोड़ रुपये की परियोजना लागत के साथ ग्रीनफील्ड इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण क्लस्टर (ईएमसी) की स्थापना की मंजूरी प्रदान की है।

    उद्देश्य- भारत में इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण इकोसिस्टम को मजबूत करना |

    • भारत में नोएडा, तिरुपति, कर्नाटक और तमिलनाडु में पहले से ही ईएमसी हैं; जहां बहु-राष्ट्रीय कंपनियों और भारतीय स्टार्टअप दोनों ने अपनी इकाइयां स्थापित की हैं।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    राष्ट्रीय प्राकृतिक कृषि मिशन की संचालन समिति बैठक


    3 नवम्बर, 2022 को ‘राष्ट्रीय प्राकृतिक कृषि मिशन’ (National Mission for Natural Farming-NMNF) की राष्ट्रीय संचालन समिति (एनएससी) की पहली बैठक कृषि भवन, नई दिल्ली में केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की अध्यक्षता में हुई।

    महत्वपूर्ण बिंदु -

    • लोकार्पित पोर्टल (http://naturalfarming.dac.gov.in/) को केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा विकसित किया गया है।
    • इसमें मिशन, कार्यान्वयन रूपरेखा, संसाधन, कार्यान्वयन प्रगति, किसान पंजीकरण, ब्लॉग आदि के बारे में सभी जानकारी मिल सकेंगी| इस पोर्टल से देश में प्राकृतिक खेती को प्रोत्साहन मिलेगा।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप रिपोर्ट एवं सूचकांक

    राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों का प्रदर्शन श्रेणी सूचकांक


    3 नवम्बर, 2022 को स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग, शिक्षा मंत्रालय ने 2020-21 के लिए राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों का प्रदर्शन श्रेणी सूचकांक (पीजीआई) जारी किया, जो राज्य / केंद्रशासित प्रदेशों में स्कूली शिक्षा प्रणाली के साक्ष्य आधारित व्यापक विश्लेषण का एक विशिष्ट सूचकांक है।

    उद्देश्य- राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को बहु-आयामी हस्तक्षेप करने के लिए बढ़ावा देना|

    महत्वपूर्ण बिंदु -

    • भारतीय शिक्षा प्रणाली लगभग 14.9 लाख स्कूलों, 95 लाख शिक्षकों और विभिन्न सामाजिक-आर्थिक पृष्ठभूमि के लगभग 26.5 करोड़ छात्रों के साथ दुनिया की सबसे बड़ी शिक्षा प्रणालियों में से एक है।
    • यह रिपोर्ट स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग ने वर्ष 2017-18, 2018-19 और 2019-20 के लिए पीजीआई रिपोर्ट जारी की थी। वर्तमान रिपोर्ट वर्ष 2020-21 के लिए जारी की गई है।
    • पीजीआई संरचना के लिए 70 संकेतकों में 1000 अंक शामिल किये गये हैं, जिन्हें 2 श्रेणियों में बांटा गया है, परिणाम और शासन प्रबंधन
    • इन श्रेणियों को आगे 5 उप-श्रेणियों में बांटा गया है: सीखने के परिणाम (Learning Outcomes ); पहुँच; अवसंरचना व सुविधाएं (Infrastructure and Facilities); समानता और शासन प्रक्रिया (Equity and Governance Process).
    • नवगठित केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख ने 2020-21 में पीजीआई के सन्दर्भ में स्तर 8 से स्तर 4 हासिल करके महत्वपूर्ण सुधार किया है, अर्थात 2019-20 की तुलना में 2020-21 में अपने अंकों में 299 अंकों का सुधार किया है, जो एक वर्ष में अब तक का सबसे अधिक सुधार है।

    पीजीआई 2020-21 में श्रेणीवार राज्य-

    श्रेणी
    राज्य/ के.शा. प्रदेश
    कुल राज्य

    लेवल I

    कोई भी नहीं
    शून्य
    लेवल II
    आंध्र प्रदेश, चंडीगढ़, गुजरात, केरल, महाराष्ट्र, पंजाब, राजस्थान
    7
    ग्रेड I+ (स्तर III)
    अंडमान और निकोबार, दादरा नगर हवेली, दमन दीव, दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, लक्षद्वीप, ओडिशा, पुडुचेरी, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश (स्कोर-851), पश्चिम बंगाल
    12
    ग्रेड I
    असम, छत्तीसगढ़, जम्मू और कश्मीर, झारखंड, लद्दाख, त्रिपुरा
    6
    ग्रेड II
    बिहार, गोवा, मध्य प्रदेश, मिजोरम, सिक्किम, तेलंगाना
    6
    ग्रेड III
    मणिपुर, मेघालय, नागालैंड, उत्तराखंड
    4
    ग्रेड IV
    अरुणाचल प्रदेश
    1
    ग्रेड V
    --------
    -----

    पीजीआई 2020-21 में शीर्ष 5 अचीवर्स राज्य/ के.शा. प्रदेश

    क्रम
    राज्य/ के.शा. प्रदेश
    स्कोर
    1
    केरल
    928
    2
    महाराष्ट्र
    928
    3
    पंजाब
    928
    4
    चंडीगढ़
    927
    5
    गुजरात
    903

    राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए प्रदर्शन ग्रेडिंग इंडेक्स समग्र स्कोर 2019-20 और 2020-21

    राज्य/ के.शा. प्रदेश

    2019-20

    2020-21

    केरल

    901

    928

    महाराष्ट्र

    869

    928

    पंजाब

    929

    928

    चंडीगढ़

    912

    927

    गुजरात

    859

    903

    राजस्थान

    859

    903

    उत्तर प्रदेश

    804

    851

    बिहार

    747

    773

    मध्य प्रदेश

    748

    771

    अरुणाचल प्रदेश (अंतिम)

    698

    669

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप रिपोर्ट एवं सूचकांक

    शिक्षा में सकल नामांकन अनुपात रिपोर्ट-2021-22


    3 नवम्बर, 2022 को शिक्षा मंत्रालय द्वारा भारत की स्कूली शिक्षा पर एकीकृत जिला शिक्षा सूचना प्रणाली प्लस (यूडाइस+) 2021-22 की विस्तृत रिपोर्ट जारी कर दी गई है।

    रिपोर्ट संबंधी महत्वपूर्ण तथ्य -

    • उच्चतर माध्यमिक स्कूलों में वर्ष 2020-21 के 53.8% जीईआर में सुधार दर्ज किया गया तथा वर्ष 2021-22 में 57.6% हो गया।
    • वर्ष 2021-22 के दौरान स्कूली शिक्षा में 95.07 लाख शिक्षक संलग्न रहे, जिनमें से 51% से अधिक संख्या शिक्षिकाओं की थी। साथ ही, वर्ष 2021-22 में शिष्य-शिक्षक अनुपात (पीटीआर) प्राथमिक में 26, उच्च प्राथमिक में 19, माध्यमिक में 18 और उच्चतर माध्यमिक में 27 रहा। इस तरह वर्ष 2018-19 से इसमें लगातार सुधार आ रहा है; जबकि वर्ष 2018-19 के दौरान प्राथमिक 28, उच्च प्राथमिक 19, माध्यमिक 21 और उच्चतर माध्यमिक 30 शिष्य-शिक्षक अनुपात था।
    • स्कूलों के लिये सतत पर्यावरण पहलों के तहत किचन गार्डनः 27.7% है; जबकि वर्षा जल संचयनः 21% है|

    वर्ष 2021-22 के आधार पर स्कूलों में बुनियादी ढांचागत उपलब्ध सुविधाएं-

    बुनियादी ढांचा
    उपलब्धता
    बिजली कनेक्शन
    89.3%
    पेयजल
    89.3%
    लड़कियों के लिये शौचालय
    97.5%
    सीडब्ल्यूएसएन शौचालय
    27%
    हाथ धोने की सुविधा
    93.6%
    खेल का मैदान
    77%
    पुस्तकालय/पढ़ने का कक्ष/पढ़ने का स्थान

    87.3%

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    2 समुद्रतट ‘ब्लू बीच’ सूची में शामिल


    हाल ही में लक्षद्वीप के मिनिकॉय थुंडी और कदमत समुद्रतट को ब्लू बीचकी प्रतिष्ठित सूची में शामिल किया गया है, जो दुनिया के सर्वाधिक स्वच्छ समुद्र तटों को दिया जाने वाला एक ‘इको-लेबल’ है।

    उद्देश्य - पर्यावरणीय शिक्षा, पर्यावरणीय संरक्षण और अन्य चिरस्थायी विकास पद्धतियों के माध्यम से पर्यटन क्षेत्र में निरंतरता को बढ़ावा देना है।

    महत्वपूर्ण बिंदु-

    • ब्लू बीच की इस सूची में भारत के अब कुल 12 समुद्र तट हो गए हैं, जो इस प्रकार हैं-

    क्रम

    समुद्रतट

    संबंधित राज्य

    1

    ईडन

    पुडुचेरी

    2

    कोवलम

    तमिलनाडु

    3

    राधानगर

    अंडमान और निकोबार

    4

    गोल्डन

    ओडिशा

    5

    रुशिकोंडा

    आंध्र प्रदेश

    6

    कप्पड

    केरल

    7

    पादुबिद्री

    कर्नाटक

    8

    कासरकोड

    कर्नाटक

    9

    घोघला

    दीव

    10

    शिवराजपुर

    गुजरात

    11

    कदमत बीच

    लक्षद्वीप

    12

    मिनिकॉय थुंडी बीच

    लक्षद्वीप

    इको-लेबल-ब्लू फ्लैग-

    • डेनमार्क की फाउंडेशन फॉर एनवायरनमेंट एजुकेशन (एफईई) की ओर से वैश्विक स्तर पर मान्यता प्राप्त इको-लेबल-ब्लू फ्लैग प्रमाणन प्रदान किया जाता है।
    • इसे प्राप्त करने के लिए पर्यावरण, शैक्षिक, सुरक्षा-संबंधी और पहुंच-संबंधी मानदंडों की एक श्रृंखला को पूरा करना चाहिए और उन्हें बरकरार रखा जाना चाहिए।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    सरस फूड फेस्टिवल-2022


    28 अक्टूबर, 2022 को केंद्रीय ग्रामीण विकास राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने स्वाद और संस्कृति का संगम ‘सरस फूड फेस्टिवल-2022’ का नई दिल्ली में उद्घाटन किया, जो 10 नवंबर, 2022 तक चलेगा|

    महत्वपूर्ण तथ्य-

    • इस दौरान स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं द्वारा तैयार किए गए सरस उत्पादों के बेहतर एवं और अधिक प्रभावी विपणन के लिए ई-कॉमर्स पोर्टल www.esaras.in का भी शुभारंभ किया।
    • इस महोत्सव में आने वाले लोग 18 राज्यों के स्वादिष्ट व्यंजनों का स्वाद भी ले सकते हैं।
    • सरस फूड फेस्टिवल महिला सशक्तिकरण का एक अनूठा उदाहरण है। केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय के प्रमुख कार्यक्रम 'राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन' के तहत गठित स्वयं सहायता समूहों की महिलाएं इस उत्सव में भाग ले रही हैं। यह बड़े पैमाने पर महिलाओं को सशक्त बनाने के प्रयास के तहत केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय की एक पहल है।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    पहला आसियान-भारत स्टार्ट-अप महोत्सव


    27 अक्टूबर, 2022 को विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव डॉ. श्रीवरी चंद्रशेखर ने बोगोर, इंडोनेशिया में पहले ‘आसियान-भारत स्टार्ट-अप महोत्सव’ का उद्घाटन किया।

    महत्वपूर्ण बिंदु -

    • पहले आसियान-भारत स्टार्टअप महोत्सव के सफल आयोजन से स्टार्टअप अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए आसियान-भारत सहयोग को और मजबूत करने के अवसर सामने आये हैं।
    • यह महोत्सव आसियान देशों और भारत के बीच विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार में सहयोग को बढ़ावा देता है और इसे सशक्त बनाता है।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    गोवा समुद्री संगोष्ठी-2022


    31 अक्टूबर से 01 नवंबर, 2022 तक ‘गोवा समुद्री संगोष्ठी’ का चौथा द्विवार्षिकी संस्करण गोवा में नौसेना युद्ध कॉलेज (एनडब्ल्यूसी) द्वारा आयोजित किया गया।

    जीएमएस-2022 का विषय - "हिंद महासागर क्षेत्र में समुद्री सुरक्षा चुनौतियां: सामान्य समुद्री प्राथमिकताओं को सहयोगात्मक शमन ढांचे में परिवर्तित करना" है।

    महत्वपूर्ण बिंदु-

    • इस अभ्यास में भारत के अलावा बांग्लादेश, कोमोरोस, इंडोनेशिया, मेडागास्कर, मलेशिया, मालदीव, मॉरीशस, म्यांमार, सेशेल्स, सिंगापुर, श्रीलंका और थाईलैंड से सामुद्रिक बल शामिल हुए।
    • वर्ष 2016 में भारतीय नौसेना द्वारा संकल्पित और स्थापित, जीएमएस भारत और हिंद महासागर क्षेत्र (आईओआर) के प्रमुख समुद्री देशों के बीच सहयोगात्मक सोच, सहयोग और आपसी समझ को बढ़ावा देने के लिए एक मंच है।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    7वीं आसियान–भारत मंत्रिस्तरीय बैठक


    26 अक्टूबर, 2022 को ‘कृषि एवं वानिकी’ के संबंध में 7वीं आसियानभारत मंत्रिस्तरीय बैठक वर्चुअल रूप से आयोजित की गई। इस बैठक की सह अध्यक्षता केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने की।

    महत्वपूर्ण बिंदु-

    • इस बैठक में ब्रुनेई दारुस्सलाम, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओ पी डी आर, मलेशिया, म्यांमार, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड और वियतनाम के कृषि मंत्रियों ने हिस्सा लिया।
    • इस वर्ष आसियान–भारत संबंधों की यह 30वीं वर्षगांठ थी|
    • भारत ने इस बैठक में खाद्य सुरक्षा, पोषण, जलवायु परिवर्तन अनुकूलन, डिजिटल कृषि, प्रकृति-हितैषी कृषि, खाद्य प्रसंस्करण, वैल्यू चेन, कृषि विपणन व क्षमता निर्माण में आसियान के साथ भारत के सहयोग को बढ़ाने में प्रतिबद्धता जताई।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    राज्यों के गृह मंत्रियों का चिंतन शिविर


    27-28 अक्टूबर, 2022 को केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह ने हरियाणा के सूरजकुंड में राज्यों के 'गृह मंत्रियों के चिंतन शिविर' की अध्यक्षता की; जबकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चिंतन शिविर को संबोधित किया।

    उद्देश्य- "विजन 2047" और प्रधानमंत्री द्वारा स्वतंत्रता दिवस भाषण में घोषित ‘पंच प्राण’ के कार्यान्वयन के लिए कार्य योजना तैयार करना|

    महत्वपूर्ण बिंदु-

    • दो दिवसीय इस चिंतन शिविर में भाग लेने के लिए सभी राज्यों के गृह मंत्रियों और संघशासित प्रदेशों के उपराज्यपाल और प्रशासकों को आमंत्रित किया गया है। राज्यों के गृह सचिव, पुलिस महानिदेशक और केंद्रीय सशस्त्र पुलिसबलों और केंद्रीय पुलिस संगठनों के महानिदेशक भी चिंतन शिविर में हिस्सा लिया।
    • गृह मंत्रियों के चिंतन शिविर में साइबर अपराध प्रबंधन के लिए ईको-सिस्टम विकसित करने, पुलिस बलों के आधुनिकीकरण, आपराधिक न्याय प्रणाली में आई.टी. के बढ़ते उपयोग, भूमि सीमा प्रबंधन और तटीय सुरक्षा एवं अन्य आंतरिक सुरक्षा से संबंधित मुद्दों पर चिंतन किया गया।
    • चिंतन शिविर में देश में महिलाओं की सुरक्षा और उनके लिए सुरक्षित वातावरण बनाने पर विशेष बल दिया गया। वर्ष ‘2047 तक विकसित भारत' के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए नारी शक्ति की भूमिका महत्वपूर्ण है।

    पीआईबी न्यूज राष्ट्रीय

    ‘जल नायक : अपनी कहानी साझा करें’ प्रतियोगिता


    जल शक्ति मंत्रालय के जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण विभाग ने 'जल नायक : अपनी कहानी साझा करें' प्रतियोगिता का शुभारंभ किया है, जो हर महीने माईगव पोर्टल पर आयोजित की जायेगी।

    उद्देश्य- सामान्य रूप से जल के महत्व को प्रोत्साहन देना और जल संरक्षण तथा जल संसाधनों के सतत विकास पर देशव्यापी प्रयासों की सहायता करना|

    महत्वपूर्ण बिंदु-

    • अनामिका तिवारी को सितंबर 2022 के महीने की प्रतियोगिता के लिए विजेता घोषित किया गया है।
    • इन्हें 10,000/- रुपये का नकद पुरस्कार और एक प्रमाण पत्र प्रदान किया गया।
    • ये विद्यालय में शिक्षिका/प्रधानाचार्य के पद पर कार्यरत हैं और विद्यालय में नाटक की सहायता से विद्यार्थियों को जल संरक्षण के महत्व के बारे में सिखाने का प्रयास कर रही हैं।

    पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

    भारत और जर्मनी पर्यावरण समिति बैठक


    27 अक्टूबर, 2022 को केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेंद्र यादव ने इंदिरा पर्यावरण भवन, नई दिल्ली में हेराल्ड एबनेर की अध्यक्षता में जर्मन संघीय संसद की पर्यावरण समिति के साथ बैठक की।

    महत्वपूर्ण बिंदु-

    • इस बैठक में उन्होंने वैश्विक पर्यावरण, जलवायु परिवर्तन और अन्य संबंधित चुनौतियों का स्थायी समाधान खोजने के लिए जर्मनी और भारत द्वारा साथ मिलकर काम करने के उपायों के बारे में भी चर्चा की गई।

    पीआईबी न्यूज अंतरराष्ट्रीय

    जी20 देशों के स्वास्थ्य मंत्रियों की दूसरी बैठक


    27 अक्टूबर, 2022 केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया ने बाली (इंडोनेशिया) में हुई जी-20 देशों के स्वास्थ्य मंत्रियों की बैठक को संबोधित किया।

    उद्देश्य- स्वास्थ्य क्षेत्र की प्राथमिकताओं पर प्रगति और आगे बढ़ने के मार्ग पर चर्चा करना।

    महत्वपूर्ण बिंदु-

    • डॉ. मांडविया ने जी20 के सभी सदस्यों को लोगों और सामान की विश्वव्यापी निर्बाध आवाजाही सुनिश्चित करने के लिए प्रस्तावित ग्लोबल फेडरेटेड पब्लिक ट्रस्ट डायरेक्टरी में योगदान करने के लिए प्रोत्साहित किया।
    • भारत भविष्य के लिए तैयार और लचीली वैश्विक स्वास्थ्य व्यवस्था विकसित करने में पर्याप्त योगदान करने के लिए प्रतिबद्ध है।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप रिपोर्ट एवं सूचकांक

    वैश्विक टीबी रिपोर्ट-2022


    27 अक्टूबर, 2022 को डब्ल्यूएचओ द्वारा वैश्विक टीबी रिपोर्ट-2022 जारी की गई। इस रिपोर्ट में सम्पूर्ण विश्व में टीबी के निदान, उपचार और बीमारी के बोझ पर कोविड-19 महामारी के प्रभाव के बारे में बताया गया है।

    रिपोर्ट संबंधी महत्वपूर्ण निष्कर्ष-

    • भारत में 2021 में 21.4 लाख टीबी के मामले आए, जो वर्ष 2020 की तुलना में 18% अधिक मामले हैं।
    • इस रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2021 के लिए भारत में टीबी के मामले प्रति 1,00,000 जनसंख्या पर 210 हैं; 2015 के आधारभूत वर्ष की तुलना में (प्रति लाख जनसंख्या पर 256 थे) 18% की गिरावट आई है, जो वैश्विक औसत 11% से 7% अंक बेहतर है।
    • ये आंकड़े भी मामलों की दर के हिसाब से भारत 36वें स्थान पर है।
    • डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत एकमात्र ऐसा देश है, जिसने 2021 में इस तरह का सर्वेक्षण पूरा किया है। 2021 एक ऐसा वर्ष रहा, जिसमें "भारत में काफी सुधार" देखा गया।
    • डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट में सक्रिय टीबी रोग के उभार में एक सहायक कारक के रूप में अल्प पोषण का उल्लेख किया गया है और पोषण की महत्वपूर्ण भूमिका के बारे में भी बताया गया है। इस संबंध में टीबी कार्यक्रम की पोषण सहायता योजना- नि-क्षय पोषण योजना कमजोर लोगों के लिए महत्वपूर्ण साबित हुई है।

    संक्षिप्त खबरें सार-संक्षेप रिपोर्ट एवं सूचकांक

    भारत में पेरोल रिपोर्ट


    हाल ही में सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय के राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (National Statistics Office: NSO) ने देश में रोजगार परिदृश्य पर प्रेस नोट जारी किया है, जिसमें सितम्बर, 2017 से लेकर अगस्त 2022 तक की अवधि को शामिल किया गया है।

    उद्देश्य- कुछ विशेष आयामों में हुई प्रगति का आकलन करना।

    • यह रिपोर्ट चुनिंदा सरकारी एजेंसियों के पास उपलब्ध प्रशासनिक रिकॉर्डों पर आधारित है।

    सामयिक खबरें सामाजिक परिदृश्य

    वैश्विक बहुआयामी गरीबी सूचकांक-2022


    17 अक्टूबर, 2022 को संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (United Nations Development Programme-UNDP) और ऑक्सफोर्ड गरीबी एवं मानव विकास पहल (Oxford Poverty and Human Development Initiative-OPHI) द्वारा तैयार किए गए वैश्विक बहुआयामी गरीबी सूचकांक (Global Multidimensional Poverty Index-MPI) को जारी किया गया।

    • सूचकांक के अनुसार विश्व भर में लगभग 1.2 अरब लोग बहुआयामी गरीबी से पीड़ित हैं।
    • गरीब लोगों की संख्या सबसे अधिक उप सहारा अफ्रीका (579 मिलियन) में है, इसके पश्चात दक्षिण एशिया (385 मिलियन) का स्थान है। इन दोनों क्षेत्रों में कुल मिलाकर विश्व के लगभग 83% गरीब लोग निवास करते हैं।

    वैश्विक बहुआयामी गरीबी सूचकांक के संदर्भ में

    • सूचकांक को वैश्विक स्तर पर व्यापक महत्व प्राप्त है क्योंकि इसके द्वारा 100 से अधिक विकासशील देशों में बहुआयामी गरीबी का मापन किया जाता है।
    • इस सूचकांक को सर्वप्रथम वर्ष 2010 में ऑक्सफोर्ड गरीबी एवं मानव विकास पहल तथा संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के मानव विकास रिपोर्ट कार्यालय द्वारा जारी किया गया था।
    • आयाम एवं संकेतक: सूचकांक का मापन निम्नलिखित तीन आयामों तथा 10 संकेतकों के आधार पर किया जाता है। इन आयामों एवं संकेतकों का उपयोग करके व्यक्तियों के अभाव की स्थिति को मापा जाता है।
      • स्वास्थ्य (बाल मृत्यु दर, पोषण),
      • शिक्षा (स्कूली शिक्षा के वर्ष, नामांकन),
      • जीवन स्तर (आवास, जल, स्वच्छता, बिजली, खाना पकाने का ईंधन और संपत्ति)।

    भारत के संदर्भ में महत्वपूर्ण निष्कर्ष

    • दुनिया में सबसे ज्यादा गरीब भारत में: वर्ष 2020 के जनसंख्या के आंकड़ों को आधार बनाकर तैयार की गई इस रिपोर्ट के अनुसार विश्व में बहुआयामी गरीबी से पीड़ित सर्वाधिक लोग भारत (228.9 मिलियन) में हैं तथा इसके बाद नाइजीरिया (2020 में अनुमानित 96.7 मिलियन) का स्थान है।
      • भारत में लगभग 4.2 प्रतिशत आबादी चरम गरीबी (Extreme Poverty) के अंतर्गत आती है।
    • आयु वर्ग के अनुसार: भारत के सभी आयु वर्गों में वयस्कों की तुलना में बच्चों में अधिक गरीबी पाई जाती है।
      • देश में 5 में से लगभग 1 बच्चा (कुल 21.8 प्रतिशत बच्चे) गरीब है। दूसरी ओर, वयस्क जनसंख्या में यह अनुपात 7 व्यक्तियों में 1 (कुल 13.9 प्रतिशत) है। रिपोर्ट के अनुसार, भारत में करीब 9.7 करोड़ गरीब बच्चे हैं।
    • ग्रामीण तथा शहरी गरीबी: सूचकांक में यह पाया गया है कि भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में लगभग 21.2% लोग गरीब हैं जो कि शहरी क्षेत्रों (5.5%) की तुलना में अधिक है।
      • देश में कुल गरीबों में से लगभग 90 प्रतिशत गरीब, ग्रामीण क्षेत्रों में रहते हैं।
      • संख्या के हिसाब से भारत में पाए जाने वाले लगभग 229 मिलियन गरीब लोगों में से 205 मिलियन लोग ग्रामीण क्षेत्रों से संबंधित हैं।
    • महिला प्रधान परिवारों में गरीबी अधिक: वर्तमान सूचकांक के अनुसार देश में पुरुष प्रधान परिवारों (15.9%) की तुलना में महिला प्रधान परिवारों में रहने वाले लगभग 19.7% लोग गरीबी में रहते हैं।
    • राज्यवार स्थिति: वर्ष 2015-16 में बिहार सर्वाधिक गरीब राज्य था तथा वर्तमान में इसके बहुआयामी गरीबी सूचकांक मूल्य में निरपेक्ष रूप से सर्वाधिक कमी देखी गई है।
      • वर्ष 2015-2016 में 10 सर्वाधिक गरीब राज्यों में से केवल पश्चिम बंगाल ही वर्ष 2019-21 की सूची से बाहर निकलने में सफल रहा है।
      • वर्तमान सूची के अनुसार भारत के सर्वाधिक गरीब राज्यों में- बिहार, झारखंड, मेघालय, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, असम, ओडिशा, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के नाम देखने को मिल रहे हैं।
    • सापेक्षिक रूप से गरीबी में सर्वाधिक कमी प्रदर्शित करने वाले राज्यों में क्रमशः गोवा, जम्मू कश्मीर, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़ तथा राजस्थान के नाम शामिल हैं।